खुशखबरी : पंजाब के बाद अब गारमेंट हब बनेगा बिहार
Spread the love

निजी निवेश आकर्षित करने के लिए हाल में आरंभ हुई मुहिम रंग दिखाने लगी है। लुधियाना के 20 बड़े निवेशकों की बिहार में उद्योग लगाने की रूचि से इस मुहिम को बल मिला है। इन निवेशकों ने 1,000 करोड़ के निवेश का प्रस्ताव दिया है, जबकि पिछले साल करीब 5,020 करोड़ के 539 प्रस्तावों को मंजूरी दी गई जिनमें से करीब 995 करोड़ का निवेश हो चुका है।

नई उद्योग नीति के तहत उद्योग विभाग ने 2016 के अंत में उद्यमियों के लिए विशेष रियायतों की घोषणा की, जिसके 2017 में बेहतर नतीजे सामने आए। सस्ते दर पर लीज पर जमीन देने, इंटरेस्ट सब्सिडी, बिजली बिल में रियायत जैसे कई कदम उठाए गए। प्रस्तावों को मंजूरी देने के लिए सिंगल विंडो सिस्टम को सुदृढ़ किया गया।

 

पिछले वर्ष निवेश के 604 प्रस्ताव आए थे, जिनमें से 539 को रिकार्ड कम समय में मंजूरी दी गई। अब नया साल आरंभ होते ही लुधियाना से अच्छी खबर आई है। वहां के 20 बड़े निवेशक प्रदेश के डेहरी आनसोन में करीब 1,000 करोड़ का निवेश कर गारमेंट्स की फैक्ट्री लगाने को तैयार हैं।

 

डेहरी आनसोन का चयन उन्होंने इस कारण किया है क्योंकि यह दिल्ली-कोलकाता स्वर्णिम चतुर्भुज मार्ग पर अवस्थित है, और भविष्य में इसके निकट एयरपोर्ट बनाने की योजना है।

 

दरअसल, ये बड़े निवेशक पिछले सप्ताह लुधियाना के निटवेयर एंड एपैरल एक्सपोर्ट्स आर्गनाइजेशन के अध्यक्ष हरिश दुआ के साथ प्रदेश के दौरे पर आए थे। इस प्रतिनिधिमंडल ने उद्योग विभाग के प्रधान सचिव डा. एस. सिद्धार्थ के अलावा बिहार चैंबर आफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष पीके अग्रवाल के साथ बैठक की थी।

Cambridge Montessori, School, Muzaffarpur

 

प्रतिनिधिमंडल बिहार में उद्योग स्थापित करने वालों को दी जाने वाली विशेष रियायत से बहुत प्रभावित था। इसने बिहटा और डेहरी आनसोन का भ्रमण भी किया था। उद्योग विभाग ने इन्हें डेहरी आनसोन में 70 एकड़ भूमि उपलब्ध कराने का भरोसा दिलाया है।

 

निवेश के पिछले साल जो प्रस्ताव आए थे उनमें वैशाली में 3611.20 करोड़ की लागत से 500 मेगावाट का सोलर पावर जेनरेशन प्लांट, कैमूर में 111.67 करोड़ की लागत से सीमेंट फैक्ट्री लगाने के प्रस्ताव शामिल हैं। इनके अलावा खाद्य प्रसंस्करण की  262 इकाइयों को भी मंजूरी प्रदान की गई है जिससे 1310.13 करोड़ का निवेश होगा।

 

पिछले वर्ष जिन प्रस्तावों को मिली स्वीकृति 

सेक्टर      प्रस्तावों की संख्या    प्रस्तावित निवेश(करोड़ में)

खाद्य प्रसंस्करण — 262 –1310.13 करोड़

विनिर्माण  — 61  — 251.10

ऊर्जा   — 7      — 381.55

लघु यंत्र — 7  — 7

प्लास्टिक एंड रबर — 52 — 121.56

टेक्सटाइल   — 8 — 43.88

सूचना प्रौद्योगिकी — 6 — 23.64

पर्यटन  — 10 — 276.45

शिक्षण संस्थान — 7 — 41.03

हेल्थ केयर   — 10 — 113.77

प्राइवेट इंडस्ट्रियल पार्क — 1 — 652

सीमेंट         — 3 — 1002.60

चीनी मिल विस्तार — 2 — 95.15

अन्य      — 103 — 700.87

कुल     — 539    —5020.13


Source : Dainik Jagran

 

यह भी पढ़ें -» बिहार की इस बेटी ने मॉस्को में लहराया तिरंगाबनीं ‘राइजनिंग स्टार

यह भी पढ़ें -» यह भी पढ़ें -» पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिरजानिए क्यों है इतनाखास

यह भी पढ़ें :ट्रेन के लास्ट डिब्बे पर क्यों होता है ये निशानकभी सोचा है आपने ?

यह भी पढ़ें -» गांधी सेतु पर ओवरटेक किया तो देना पड़ेगा 600 रुपये जुर्माना

यह भी पढ़ें -» अब बिहार के बदमाशों से निपटेगी सांसद आरसीपी सिंह की बेटी IPS लिपि सिंह

यह भी पढ़ें -» बिहार के लिए खुशखबरी : मुजफ्फरपुर में अगले वर्ष से हवाई सेवा

 

(मुज़फ़्फ़रपुर नाउ के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहांक्लिक कर सकते हैंआपहमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

Total 0 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?

News Reporter