ठंड का बुजुर्गों पर कहर, शहर में 12 दिनों में 72 की मौत

0
90

ठंड के लगातार जारी रहने से सर्वाधिक कठिनाई बुजुर्गों को हो रही है। कड़ाके की ठंड की मार झेलना उनके लिए मुश्किल हो रहा है। ये ऐसी ठंड है जिसमें पर्याप्त गर्म कपड़े पहनने के बाद भी उन्हें कनकनी से राहत नहीं मिल पा रही है। बल्कि, ठंड उनके लिए कहर साबित हो रही है। हर दिन कहीं कहीं से बुजुर्ग अौर बच्चे की मौत की खबर रही है। गिरते तापमान बढ़ती ठंड के कारण जिले में इस वर्ष अब तक शहर में 126 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें नए साल के महज 3 दिनों में 18 लोगों की मृत्यु हो गई। इसके पहले 29 से 31 दिसंबर तक 24, बाइस से 28 दिसंबर तक 36 1 से 21 दिसंबर तक 48 लोग दम तोड़ दिए। मौत का औसत दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। गिरते तापमान बदलते मौसम से जिले में कड़ाके की ठंड पड़ रही हैै। सिकंदरपुर मुक्तिधाम प्रभारी अशोक कुमार ने बताया कि मुक्तिधाम (श्मशान घाट) में भी सामान्य दिनों की तुलना में काफी अधिक संख्या में शव को जलाने के लिए लाया जा रहा है।

इसलिए बुजुर्ग तोड़ रहे हैं दम 

चिकित्सकों का कहना है कि बढ़ती उम्र के अनुसार बुजुर्गों को मौसम के अनुकूल होने में समय लगता है। बीमारियों से जूझ रहे बुजुर्गों का स्वास्थ्य बिगड़ जाता है। ब्लड प्रेशर, हृदय रोग, लकवा, निमोनिया आदि का खतरा बढ़ जाता है। थोड़ी सी भी असावधानी अथवा विपरीत स्थिति होने पर मौत होने का खतरा बना रहता है।

Source : Dainik Bhaskar

यह भी पढ़ेंबिहार की इस बेटी ने मॉस्को में लहराया तिरंगा, बनींराइजनिंग स्टार

यह भी पढ़ें -» यह भी पढ़ें -» पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिर, जानिए क्यों है इतना खास

यह भी पढ़ें :ट्रेन के लास्ट डिब्बे पर क्यों होता है ये निशान, कभी सोचा है आपने ?

यह भी पढ़ें -» गांधी सेतु पर ओवरटेक किया तो देना पड़ेगा 600 रुपये जुर्माना

यह भी पढ़ें -» अब बिहार के बदमाशों से निपटेगी सांसद आरसीपी सिंह की बेटी IPS लिपि सिंह

यह भी पढ़ें -» बिहार के लिए खुशखबरी : मुजफ्फरपुर में अगले वर्ष से हवाई सेवा

 

(मुज़फ़्फ़रपुर नाउ के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैंआपहमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)