जयंत सिन्हा : छह माह में दरभंगा से तीन शहरों के लिए उड़ान
Spread the love

हवाई सेवा करने वाले बिहार के यात्रियों को निकट भविष्य में अच्छी सौगात मिलने वाली है। पटना में विश्वस्तरीय नया एयरपोर्ट टर्मिनल बनेगा तो दरभंगा से देश के तीन शहरों के लिए छह महीने में सीधी उड़ान शुरू हो जाएगी। बिहटा हवाई अड्डा ग्रीनफील्ड टर्मिनल बनेगा।

बिहार दौरे पर आए केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने राज्य की प्रस्तावित हवाई सेवाओं व परियोजनाओं के बारे में जानकारी दी। भाजपा प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि चार साल पहले पटना से 10 लाख यात्रियों ने हवाई सफर किया था। इस साल यह आंकड़ा 30 लाख हो जाएगा। यात्रियों की संख्या को देखते हुए केंद्र सरकार पटना एयरपोर्ट पर मौजूदा सेवाओं का विस्तार कर रहा है। विश्वस्तरीय एक नया टर्मिनल बनाने का निर्णय लिया गया है। तीन-चार वर्षों में बनने वाले इस टर्मिनल को बिहार के इतिहास व संस्कृति के हिसाब से तैयार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि दरभंगा से छह महीने में हवाई सेवा शुरू हो जाएगी। फिलहाल यहां से बेंगलुरु, मुंबई व दिल्ली के लिए उड़ान सेवा होगी। बाद में अन्य शहरों के लिए भी यहां से हवाई सेवा मिलेगी, जिसका लाभ उत्तर बिहार के यात्रियों को होगा।

गया एयरपोर्ट पर यात्री सुविधाओं का विस्तार होगा : गया एयरपोर्ट पर भी यात्री सुविधाओं का विस्तार किया जाएगा। कुछ और शहरों के लिए नई उड़ान सेवा शुरू करने की योजना पर काम चल रहा है। राज्य सरकार की सहायता से बिहटा एयरपोर्ट को ग्रीनफील्ड टर्मिनल बनाने की योजना पर काम जारी है।

चार साल में अर्थव्यवस्था में क्रांतिकारी सुधार हुए : केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा है कि केंद्रीय बजट पर विपक्ष भ्रम फैला रहा है। चार साल में मौजूदा सरकार ने अर्थव्यवस्था में क्रांतिकारी सुधार किए हैं। इसे अगले 50-100 साल तक देश याद रखेगा। सोमवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय में पार्टी प्रवक्ताओं, प्रदेश व मीडिया प्रभारियों को केंद्रीय बजट की विशेषताओं के बारे में बताया। बजट पर हुई बैठक में संगठन महामंत्री नागेंद्र, प्रवक्ता राजीव रंजन, संजय टाइगर व सुरेश रूंगटा, मीडिया प्रभारी पंकज सिंह, अशोक भट्ट व राकेश सिंह मौजूद थे।

बयान को तोड़ा-मरोड़ा गया : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के सेना वाले बयान पर केंद्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष इसे तोड़-मरोड़कर पेश कर रहा है। हम सेना का पूरा सम्मान करते हैं। संघ प्रमुख का बयान सेना का मनोबल तोड़ना नहीं है। देश के लिए जिस तरह से सैनिक मुस्तैद रहते हैं, उसी तरह स्वयंसेवक भी देशसेवा के लिए तत्पर होते हैं।

Input : Live Hindustan

Total 0 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?

News Reporter