मालीघाट, शास्त्रीनगर में घुसा पानी
Spread the love

 

बाढ़ का फैलाव शहर की ओर तेजी से हो रहा है। नए इलाकों वार्ड-45, 46, 47, 48 और 49 में पानी घुसने का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। कन्हौली-कोठिया इलाके में बाढ़ ने मंगलवार को और विकराल रूप धारण कर लिया। कन्हौली पंचायत के 22 टोले बाढ़ से घिरे हुए हैं।

दुर्गापुरी, सर सैयद कॉलोनी, डीएवी स्कूल और आसपास के कई इलाकों के साथ बीएमपी-6 के पीछे का इलाका पानी में डूबने लगा है। खेत-खलिहान और मोहल्ले जलमग्न हो चुके हैं। तकरीबन 50 हजार की आबादी बाढ़ से घिरी है। मंगलवार शाम से पानी शास्त्रीनगर मोहल्ले में प्रवेश करने लगा। बीएमपी-6 के पीछे तबाही मचाते हुए बूढ़ी गंडक का पानी दुर्गापुरी होकर शहर में प्रवेश कर रहा है। इससे रामबाग चौरी, गोशाला रोड, खादी भंडार, अमर सिनेमा, पक्की सराय पर दबाव बढ़ने लगा है। बालूघाट, झीलनगर, सिकंदरपुर, अखाड़ाघाट, लकड़ीढाई, कर्पूरीनगर, आश्रमघाट, सैनिक कॉलोनी, चंदवारा आदि पहले ही बाढ़ की तबाही झेल रहे हैं।

डॉल्फिन स्कूल डूबा, डीएवी में घुसा पानी, स्कूलों में छुट्टी

बाढ़ के फैलाव को देखते हुए 11 बजते-बजते स्कूलों में छुट्टियां कर दी गईं। डॉल्फिन पब्लिक स्कूल डूब चला है। यहां सड़क पर तीन फीट से अधिक पानी का बहाव हो रहा है। रोड पर तड़के चार बजे पानी उफान मारने लगा। मालीघाट डीएवी के कैंपस में पानी प्रवेश कर गया है। इन स्कूलों के साथ खतरे को देखते हुए सेक्रेड हर्ट स्कूल में भी छुट्टी कर दी गई।

उल्टा बहने लगा शहर का मुख्य आउटलेट

शहर का मुख्य आउटलेट, जिससे होकर पानी नदी और मन में जाकर गिरता था, अब वह अब उल्टा बहने लगा है। नदी का पानी तेजी से इस रास्ते शहर में प्रवेश कर रहा है। बाढ़ की तबाही देखने लोगों का भारी हुजूम इन इलाकों में दिनभर उमड़ा रहा। भागो-भागो, बचाओ-बचाओ की चीख-पुकार हर तरफ सुनाई पड़ रही थी। ये डूबा, वो डूबा, इधर भी डूबा, उधर भी डूबा कहते हुए लोग हाय-तौबा मचा रहे थे।

बीएमपी-6 के पास 9.30 बजते-बजते तेज हुआ पानी

बीएमपी-6 के पास दुर्गापुरी में बाढ़ से पूरी तरह घिर चुके अधिवक्ता अमित कुमार ने कहा कि सुबह 9.30 बजे उनके इलाके में पानी तेजी से प्रवेश करने लगा। इसके बाद उन लोगों ने घर खाली कर दिया। अभी उनके घर में तीन फीट से अधिक पानी बह रहा है। शहर से सटे कन्हौली विशुनदत्त और कोठिया इलाके में सोमवार रात बाढ़ का पानी तेजी से घुस आया। लोग खा-पीकर सोने की तैयारी कर रहे थे, तभी बूढ़ी गंडक का पानी इन इलाकों में पहुंचा। कन्हौली और कोठिया में पुलिया बहने के कारण सड़क संपर्क पहले ही भंग हो चुका है। इस कारण भी घरों से निकलना मुश्किल हो गया है।

Source : Dainik Jagran

Total 6 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?

News Reporter