गोशाला रोड तक पहुंचा पानी, खादी भंडार इलाके पर खतरा

0
2177

 

जिले में बूढ़ी गंडक का रौद्र रूप जारी है। अब तक 10 लाख आबादी बाढ़ की चपेट में आ गई है। 16 में से 12 प्रखंड प्रभावित हो चुके हैं। इसमें शहरी क्षेत्र की करीब एक लाख की आबादी प्रभावित है। इन इलाकों में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। गुरुवार को बूढ़ी गंडक के जलस्तर में चार सेमी की कमी आई। हालांकि अब भी खतरे के निशान से 1.18 मीटर ऊपर है। शहरी क्षेत्र के कई इलाके जलमग्न हो गए हैं। इसमें बीएमपी-6, शास्त्रीनगर, कन्हौली, रामबाग चौरी, अमरूद बगान, फैज कॉलोनी व सर सैयद कॉलोनी शामिल हैं। यहां के कई मोहल्लों में चार से पांच फीट तक पानी है।

वहीं गोशाला रोड पर पानी चढ़ने लगा है। इससे खादी भंडार इलाका, मिठनपुरा और बेला पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। इन इलाकों में कभी भी बाढ़ का पानी प्रवेश कर सकता है। वहीं देर रात को नाला के सहारे चर्च रोड तक बाढ़ का पानी पहुंच गया है। धीरनपट्टी इलाके में भी पानी घुसने लगा है। डीएम धर्मेद्र सिंह ने प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों को रात में निकालने के लिए ड्रैगन लाइट के इस्तेमाल के निर्देश दिए हैं। साथ ही महामारी से बचाने के पानी निकालने व ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव करने को कहा है। शहरी क्षेत्र में राहत शिविर बढ़ाने की बात भी कही है।

मुशहरी प्रखंड की स्थिति भयावह

मुशहरी प्रखंड में बाढ़ की स्थिति भयावह हो गई है। प्रखंड कार्यालय, पीएचसी व थाने में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। सहला जलालपुर, द्वारिका नगर, लक्ष्मी चौक व दरधा का संपर्क प्रखंड मुख्यालय से भंग हो गया है। मुजफ्फरपुर-पूसा रोड में नरौली के पास साढ़े पांच फीट पानी का तेज बहाव हो रहा है। वहीं नरौली, बिंदा, जलालपुर, सलहा, बैकठपुर, माधवपुर व द्वारिका नगर पूरी तरह से जलमग्न हो गए हैं। रजवाड़ा भगवान, मणिका विशनपुर चांद, डुमरी, मुशहरी राधानगर, रोहुआ, प्रहलादपुर, छपरा, मणिका हरिकेश, कन्हौली विशुनदत्त, तथा तरौरा गोपालपुर पंचायतें बाढ़ से पूरी तरह से घिरी हुई हैं। नरौली में तिरहुत नहर पर बनी पुलिया खोलने को लेकर दो गांवों के लोगों में जमकर पत्थरबाजी हुई। फाय¨रग की भी चर्चा है।

मुरौल प्रखंड में भी घुसा बाढ़ का पानी

मुरौल व सकरा प्रखंड की कई पंचायतों पर भी बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। मुरौल प्रखंड के मोहम्मदपुर बादल व विशुनपुर श्रीराम पंचायत के छह गांवों में बूढ़ी गंडक का पानी प्रवेश कर गया है। ढोली-पूसा रोड में दरधा व दरधा-सिहो रोड पर तीन फीट पानी का बहाव हो रहा है। इस मार्ग पर आवागमन बंद हो गया है। वहीं मीनापुर प्रखंड में बूढ़ी गंडक के जलस्तर में चार-पांच इंच की गिरावट आई है। बाढ़ का पानी नए इलाके टेंगरा चौर, झपहां बांध व जमालाबाद में प्रवेश कर गया है। बोचहां प्रखंड के कई इलाकों में धीरे-धीरे बाढ़ का पानी बढ़ रहा है। दरभंगा-हसना सड़क पर ढाई फीट पानी का बहाव हो रहा है। इस मार्ग पर भी आवागमन बाधित हो गया है।

इधर, गायघाट प्रखंड में बखरी-बहादुरपुर में बूढ़ी गंडक के बांध का धसना गिर गया। हालांकि मरम्मत कार्य किया जा रहा है। वहीं बखरी में तीन जगहों पर स्लूस गेट से रिसाव जारी है। मोतीपुर में भी एक इंच जलस्तर घटा है।

Source : Dainik Jagran