जेल में बंद गायघाट के अंचलाधिकारी होंगे निलंबित
Spread the love

बीते 20 जनवरी की रात शराब के नशे में चूर गिरफ्तार किए गए गायघाट (मुजफ्फरपुर) के अंचलाधिकारी नीशीकांत के निलंबित किए जाने की अनुशंसा मुजफ्फरपुर के जिलाधिकारी धर्मेन्द्र सिंह ने कर दी है। गौरतलब है कि गिरफ्तार किए गए सीओ के बारे में संगीन हुई राज्य सरकार ने इस बाबत डीएम और उत्पाद विभाग से रिपोर्ट तलब किया था।

शराबबंदी के बाद राज्य में यह पहली घटना है कि बिहार प्रशासनिक सेवा के किसी अधिकारी को शराब के नशे में पाते हुए उन्हें गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार सीओ फिलवक्त मुजफ्फरपुर के खुदीराम बोस कारागार में बंद हैं।

मुजफ्फरपुर के डीएम धर्मेन्द्र कुमार ने ‘खबर मंथन’ से बातचीत में इस बात की पुष्टि की है कि गिरफतार सीओं को निलंबित करने औश्र उनपर विभागीय कार्रवाइ्र की अनुशंसा कर दी गई है। संभव है कि विभागीय कार्यवाई के बाद सीओ को सेवा से बर्खास्त भी कर दिया जाए।

उत्पाद विभाग को शनिवार को देर रात यह सूचना मिली कि अंचलाधिकारी निशीकांत अपने कुछ मित्रों के साथ शराब का सेवन कर रहे हैं। इस सूचना के बाद उत्पाद विभाग की टीम ने उक्त स्थल पर छापेमारी की तबतक सीओ साहब वहां से निकल चुके थे। उसके बाद उत्पाद विभाग की टीम ने एक नीजी आवास से शराब के नशे में चूर अंचलाधिकारी को गिरफ्तार कर रात में ही उनका मेडिकल टेस्ट कराया था जिसमें उनके द्वारा भारी मात्रा में शराब पीने की पुष्टि हुई थी।

महत्वपूर्ण ओहदे पर बैठे एक सरकारी अधिकारी द्वारा शराब के सेवन ने सरकार के शराबबंदी मुहिम की पोल खोल दी थी। गिरफ्तार अंचलाधिकारी शराब के साथ शवाब के भी शौकीन बताए जाते हैं। उनकी इसी लत से क्षुब्ध होकर बीते वर्ष एक महिला ने अंचल कार्यालय परिसर में कर्मचारियों और आम लोगों के सामने ही उनकी जमकर धुनाई कर दी थी तब यह मामला काफी सुख्रियों में था।

Source : Khabar Manthan

Total 0 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?

News Reporter