मुजफ्फरपुर में इस बार लेट निकलेगा लीची का मंजर
Spread the love

तापमान में निरंतर हो रही गिरावट लीची की फसल के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। बढ़ती ठंड से जहां एक ओर लीची के बगीचे में नमी की कमी हो रही है, वहीं दूसरी ओर समय से मंजर आने पर भी खतरा मंडराने लगा है। अमूमन 15 जनवरी के बाद से लीची में मंजर आने लगता है। लेकिन इस बार जो स्थिति बनती दिख रही है उस आधार पर विशेषज्ञों का मानना है कि लीची में मंजर में 15-20 दिनों तक बिलंब हो सकता है।

Muzaffarpur, Sahi, Litchi, Bihar

राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र के वरीय वैज्ञानिक एसडी पांडेय के अनुसार जबतक दिन का तापमान 23 डिग्री और रात का तापमाम 11 डिग्री तक नहीं पहुंचेगा। तबतक लीची में मंजर आने में समस्या होगी। लीची की फसल में तापमान के उतार चढ़ाव की बड़ी भूमिका होती है। मंजर निकलने से लेकर दाना आने तक अधिकतम तापमान 20 डिग्री से ऊपर रहने पर अच्छी क्वालिटी की लीची होती है।

लीची के बगीचे में नहीं करे सिंचाई

लीची अनुसंधान केंद्र की ओर से किसानों को सलाह दी गई है कि ठंड अधिक होने पर बगीचे में नमी की मात्रा में कमी देखी जा सकती है। ऐसे में किसान को घबराने की आवश्यकता नहीं है। वह बगीचे में सिंचाई नहीं करे, क्योंकि जैसे ही तापमान में बढ़ोतरी होगी लीची के पेड़ को नुकसान पहुंचाएगा। लीची के बगीचा में मिट्टी कटाई या इस प्रकार की कोई अन्य गतिविधि नहीं करने की सलाह दी गई है।

Source : Hindustan

 

यह भी पढ़ें -» बिहार की इस बेटी ने मॉस्को में लहराया तिरंगाबनीं ‘राइजनिंग स्टार

यह भी पढ़ें -» यह भी पढ़ें -» पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिरजानिए क्यों है इतनाखास

यह भी पढ़ें :ट्रेन के लास्ट डिब्बे पर क्यों होता है ये निशानकभी सोचा है आपने ?

यह भी पढ़ें -» गांधी सेतु पर ओवरटेक किया तो देना पड़ेगा 600 रुपये जुर्माना

यह भी पढ़ें -» अब बिहार के बदमाशों से निपटेगी सांसद आरसीपी सिंह की बेटी IPS लिपि सिंह

यह भी पढ़ें -» बिहार के लिए खुशखबरी : मुजफ्फरपुर में अगले वर्ष से हवाई सेवा

 

(मुज़फ़्फ़रपुर नाउ के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहांक्लिक कर सकते हैंआपहमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Total 0 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?

News Reporter