नवरुणा मामले में गिरफ्तार वार्ड पार्षद राकेश को भेजा गया जेल
Spread the love

 

नवरुणा मामले में गिरफ्तार वार्ड पार्षद राकेश कुमार सिन्हा उर्फ पप्पू को मंगलवार को विशेष सीबीआइ कोर्ट के प्रभारी न्यायिक दंडाधिकारी एके दीक्षित के समक्ष पेश किया गया। कोर्ट ने उन्हें 15 सितंबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। सीबीआइ की ओर से उनके विरुद्ध केस डायरी व उनके स्वीकारोक्ति बयान पेश किए गए। कोर्ट के समक्ष पार्षद ने बताया कि वे अस्वस्थ हैं। कोर्ट ने काराधीक्षक को उनका समुचित इलाज कराने का आदेश दिया।

 

चार दिनों की रिमांड पर देने की अर्जी :

सीबीआइ की ओर से विशेष कोर्ट के समक्ष एक अर्जी दाखिल की गई। इसमें राकेश कुमार सिन्हा उर्फ पप्पू को पूछताछ के लिए चार दिनों की रिमांड पर देने की प्रार्थना की गई है। अर्जी पर बुधवार को सुनवाई होगी।

 

समर्थकों ने किया हंगामा :

कोर्ट में पेशी को लाए गए वार्ड पार्षद को कुछ देर के लिए कोर्ट की नई बिल्डिंग में रखा गया। कचहरी परिसर में उस समय बड़ी संख्या में उनके समर्थक मौजूद थे। समर्थकों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। नारेबाजी भी की गई।

 

विरोध की सूचना पर सीबीआइ ने बदली रणनीति :

सुबह 10 बजे से ही पार्षद के समर्थक कचहरी परिसर में जुटने लगे थे। 12 बजे तक इनकी संख्या काफी हो गई। इसकी भनक सीबीआइ को लग गई। तब तक जूरन छपरा तक पहुंची सीबीआइ टीम कचहरी परिसर नहीं पहुंच कर सीधे नगर थाने पहुंच गई। वहां से नगर थानाध्यक्ष केपी सिंह के नेतृत्व में बड़ी संख्या में पुलिस जवानों ने अपनी अभिरक्षा में लेकर सीबीआइ टीम को कचहरी परिसर पहुंचाया। बाद में पार्षद के समर्थकों के तेवर व तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए कई थानाध्यक्षों व पुलिस लाइन से जवानों को बुलाया गया। इसमें महिला पुलिस भी शामिल थी। पुलिस की घेराबंदी में सीबीआइ की टीम को कोर्ट फिर जेल तक पहुंचाया गया।

 

आइओ ने कहा-शक के आधार पर गिरफ्तारी : नवरुणा मामले के आइओ कुमार रौनक ने बताया कि शक के आधार पर पार्षद की गिरफ्तारी की गई है। उनके विरुद्ध साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। पार्षद की गिरफ्तारी नाला सफाई में उनकी भूमिका व घटना को लेकर मिले साक्ष्य के आधार पर की गई है। उनके विरुद्ध पर्याप्त साक्ष्य मिलने की संभावना है।

 

उधर, सीबीआइ के विशेष लोक अभियोजक एएच खान ने कहा कि अनुसंधान चल रहा है। जब तक यह पूरा नहीं होता, तब तक विशेष कुछ नहीं कहा जा सकता। इससे अनुसंधान प्रभावित हो सकता है।

 

पार्षद ने कहा- कोर्ट पर पूरा भरोसा : जेल ले जाने के क्रम में सीबीआइ की गाड़ी में बैठने से पहले पार्षद राकेश उर्फ पप्पू ने चिल्लाकर कहा कि उन्हें कोर्ट पर भरोसा है। उन्होंने पार्षदों को नसीहत भी दी कि कोई नाला मत साफ कराना, नहीं तो उन्हें भी हत्या के झूठे मुकदमे में फंसाकर जेल भेज दिया जाएगा।

 

Source : Dainik Jagran

Total 1 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?

News Reporter