बिहार में ठंड से अभी नहीं मिलेगी राहत

0
33
Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बिहार में ठंड व शीतलहर का प्रकोप जारी है। उत्तराखंड, जम्मू में लगातार बर्फबारी से बिहार के गंगा किनारे व हिमालय के किनारे के मैदानी भाग में घने कोहरे के साथ शीतलहर अगले तीन दिनों तक रहने की आशंका है। बिहार में उत्तरी-पश्चिमी हवा एवं पश्चिमी हवा के कारण गया, औरंगाबाद को छोड़ दें, तो पूरा बिहार शीतलहर की चपेट में है।

मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक 2005 के जनवरी में अधिकतम तापमान लगभग 11 डिग्री तक पहुंचा था। इसके बाद दोबारा से 2018 में पटना का अधिकतम पारा 11.7 डिग्री तक पहुंचा है। फिलहाल पटना सहित बाकी जिलों में अभी कोहरा व कोल्ड डे रहेगा।

पटना का अधिकतम पारा सामान्य से 10 डिग्री कम रहेगा। अधिकतम व न्यूनतम पारे में अंतर कम होने से सुबह में कोहरा रहेगा और जब तक तेज हवा या हल्की बूंदा-बांदी नहीं होगी। पटना का मौसम ऐसा ही रहेगा। बिहार के आसपास या दूर तक ऐसा कोई मौसमी सिस्टम नहीं बन रहा है, जो पटना के मौसम को बदल सके।

पटना सहित कई जिलों में अधिकतम व न्यूनतम पारे का अंतर कम होने से लोग ठंड से परेशान रहे। पटना का अधिकतम पारा 11.7 व न्यूनतम 5 डिग्री रहा, सबौर 8.2 व 7.2 डिग्री, छपरा 9.3 व 5.2 डिग्री, मुजफ्फरपुर 11.2 व 9.2 डिग्री, भागलपुर 14.6 व 5.6 डिग्री, पूर्णिया 14.6 व 6.1 डिग्री रहा।

इसके अलावा सुपौल का न्यूनतम पारा 6.8 डिग्री, फारबिसगंज 9.2 डिग्री, दरभंगा 5 डिग्री, डेहरी 5.2 डिग्री तक गया है। इस कारण पटना में बुधवार की देर रात से कोहरा तेज हो गया और सुबह आठ बजे तक ओस की बूंदें जमीन पर गिरती रहीं।

 

यह भी पढ़ें -» बिहार की इस बेटी ने मॉस्को में लहराया तिरंगाबनीं ‘राइजनिंग स्टार

यह भी पढ़ें -» यह भी पढ़ें -» पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिरजानिए क्यों है इतनाखास

यह भी पढ़ें :ट्रेन के लास्ट डिब्बे पर क्यों होता है ये निशानकभी सोचा है आपने ?

यह भी पढ़ें -» गांधी सेतु पर ओवरटेक किया तो देना पड़ेगा 600 रुपये जुर्माना

यह भी पढ़ें -» अब बिहार के बदमाशों से निपटेगी सांसद आरसीपी सिंह की बेटी IPS लिपि सिंह

यह भी पढ़ें -» बिहार के लिए खुशखबरी : मुजफ्फरपुर में अगले वर्ष से हवाई सेवा

 

(मुज़फ़्फ़रपुर नाउ के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहांक्लिक कर सकते हैंआपहमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •