लालू ने किया एलान- 8 नवंबर को पूरे बिहार में करेंगे रैली, नोटबंदी का मांगेंगे हिसाब
Spread the love

केंद्र की एनडीए सरकार और उसकी नोटबंदी सहित गलत नीतियोंं के विरोध में राजद सुप्रीमो लालू यादव ने आठ नवंबर को पटना सहित पूरे बिहार में रैली करने का एलान किया है। इस बारे में लालू यादव ने दैनिक जागरण की संवाददाता काजल से विशेष बातचीत की, प्रस्तुत हैं प्रमुख अंश….

 

प्रश्न:-राजद की इस रैली का मुख्य उद्देश्य क्या है?

 

उत्तर:-आठ नवंबर को ही पूरे देश में केंद्र सरकार ने नोटबंदी का एलान किया था और अब एक साल पूरा हो रहा है, हम पूरे बिहार में रैली करेंगे और उसके माध्यम से एनडीए वालों से पूछना चाहते हैं कि इससे क्या फायदा हुआ? इस तानाशाही फैसले से जनता को जो परेशानी हुई है, उन सबका जवाब देना होगा।

 

नोटबंदी की वजह से छोटे-छोटे व्यापारी परेशान हुए हैं, उद्योग-धंधे चौपट हो गए हैं। बिहार में कई छोटे-छोटे दुकानदारों ने अपनी दुकान बंद कर दी है। गरीब लोगों की परेशानी से इन्हें कोई मतलब नहीं है, ये अमीर लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए काम करते हैं और कहते हैं अर्थव्यवस्था सुधर गई।

 

प्रश्न:- केंद्रीय जांच एजेंसियां लगातार पूछताछ करने बुला रहीं, क्या असर पड़ रहा?

उत्तर:- सभी जानते हैं कि केंद्र सरकार के खिलाफ कोई आवाज बुलंद कर सकता है तो वो है लालू यादव। हंसकर…देख लीजिए, देश की तमाम जांच एजेंसियों को लालू यादव के पीछे लगा दिया गया है। खुलासे पर खुलासे कर रहे हैं बिहार में बैठे लोग। लेकिन इन सबकी गीदड़ भभकी से लालू यादव ना कभी डरा था और ना डरेगा।

 

जांच एजेंसियां भी क्या करेंगी? जो सत्ता में बैठे लोग कहते हैं, एजेंसियां भी अपना काम कर रही हैं। इन्हें पता है कि लालू यादव को हरा नहीं सकते तो उसका मनोबल तोड़ो, उसे बदनाम करो। पूरे परिवार के पीछे पड़ा है सब। लेकिन होने वाला कुछ नहीं है।

 

इन्हें पता है कि लालू यादव समझौता करने वाला नहीं है, इसीलिए परेशान करने में लगे हैं, देखते हैं कितना परेशान करते हैं?

 

प्रश्न :- देश के वर्तमान माहौल पर क्या कहना चाहेंगे?

उत्तर:- देश का माहौल इन लोगों ने बिगाड़ दिया है। राम-रहीम को मुद्दा बनाते हैं तो कभी अयोध्या के मसले पर लोगों को भड़काते हैं। देश में प्रेम सौहाद्र्र, भाईचारा खत्म कर धर्म के नाम पर राजनीति हो रही है। देश की शांति इनलोगों ने खत्म कर दी है।

 

हमारा देश शांतिप्रिय देश है, अतिथि को देवता समझते हैं हमलोग, लेकिन जब से केंद्र में ये सरकार बनी है तब से पूरी व्यवस्था खराब हो गई है। ये लोग एक भाई को दूसरे से लड़वाने की ही राजनीति करते आए हैं और यही इनका मुख्य उद्देश्य है। लेकिन लालू यादव इनलोगों से आखिरी दम तक लड़ता रहेगा, एक बार आडवाणी का रथ रोके थे और अब जबतक मोदी की सरकार का रथ रोक नहीं देते चैन से नहीं बैठेंगे।

 

हम इनके बुने मकडज़ाल को उधेड़ेंगे और इनकी नीतियों का पर्दाफाश करने के लिए सीना तान के इनका सफाया करने के लिए कमिटेड हैं। लालू यादव ने कभी दूसरे लोगों की तरह इसकी चिंता नहीं कि राज रहेगा या जाएगा।

प्रश्न:-महागठबंधन टूटने के बाद राजद का प्लान क्या है?

उत्तर :- बिहार में महागठबंंधन टूटा कहां है? जदयू शरद यादव जी का है और वो हमारे साथ हैं और रहेंगे। कांग्र्रेस हमारे साथ थी और है, बाद बाकी तो सब बीजेपी है और जो भी छोटी-मोदी राज्य में पार्टियां थीं उनका बीजेपी में विलय हो गया, वो बीजेपी हो गईं।

 

बिहार में महागठबंधन और मजबूती से काम करेगा और जुमले की सरकार और पलटूराम के खिलाफ अब सभी एकजुट हैं और अब इनकी सत्ता जाने वाली है, इसीलिए ये सब डरे-सहमे हैं। जनता को धोखा देने वाले इन सभी लोगों  को अब जनता सबक सिखाएगी।

Total 1 Votes
1

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?

News Reporter