रंजीत ने मारी थी गोली, मिली थी एक-एक लाख की सुपारी

0
100

स्वर्ण आभूषण व्यवसायी रोहित कुमार पर रंजीत पासवान ने गोली चलायी थी. इस वारदात को अंजाम देने की साजिश लकड़ीढाही के मनोज सहनी ने रची थी. घटना के पूर्व इसके लिए बनायी जा रही रणनीति में शूटर रंजीत पासवान, मोनू पटेल, लाइनर विक्की सहित एक अन्य अपराधी शामिल था. लाइनर का काम करने के लिए विक्की को पचास हजार देने का प्रलोभन दिया गया था. दोनों शूटरों को एक-एक लाख देने की बात तय हुई थी. गिरफ्तार मोनू पटेल और बैद्यनाथ पासवान ने इस घटना में संलिप्तता स्वीकारते हुए स्वर्ण व्यवसाय से जुड़े एक व्यक्ति के इशारे पर इस घटना को अंजाम देने का खुलासा किया है. घटना के बाद से लाइनर, शूटर रंजीत पासवान और सेटर मनोज सहनी तीनों फरार है. एसआइटी टीम उसके गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी कर रही है.

घटना के तीन दिन पहले बनी थी योजना : विगत बुधवार को रोहित हत्याकांड के तीन दिन पूर्व मनोज सहनी ने इस वारदात की साजिश बांध रोड पानीकल चौक के पास एक ताड़ी दुकान में रची थी. उक्त दुकान में मनोज के बुलाने पर मोनू पटेल, बैद्यनाथ पासवान, विक्की और रंजीत पासवान पहुंचा था. वहां मनोज ने सभी को कहा कि एक आभूषण व्यवसायी के हत्या की सुपारी मिली है. शूटर को एक-एक लाख रुपये. लाइनर और सहयोग करनेवाले को पचास-पचास हजार रुपये मिलेगा. रंजीत और मोनू इस घटना में शूटर की भूमिका निभाने के लिए तैयार हो गया. इसके बाद विक्की उक्त घटना में लाइनर की जिम्मेवारी संभाल ली. वहीं सेटर मनोज और बैद्यनाथ सहयोगी की भूमिका में वहां मौजूद रहने की बात कहीं.

लाइनर गिरफ्तार, शूटर और सेटर की तलाश कांड को अंजाम देने के बाद से शूटर रंजीत और सेटर मनोज सहनी फरार है. देर शाम लाइनर विक्की को पुलिस ने गिरफ्तार कर िलया. गठित एसआइटी टीम उसकी गिरफ्तारी के लिए माेनू और बैद्यनाथ की निशानदेही पर लगातार छापेमारी कर रही है. मनोज सहनी के गिरफ्तारी के बाद इस रोहित हत्याकांड के मास्टरमाइंड का खुलासा हो पायेगा. इस मामले में पुलिस अन्य कई बिंदुओं पर भी छानबीन कर  रही है.

Source : Prabhat Khabar