महिला आरक्षी की संदिग्ध स्थिति में खिड़की से लटकी मिली लाश
Spread the love

अहियापुर थाना क्षेत्र के बैरिया स्थित पुलिस केंद्र के बैरक में महिला आरक्षी चंदा रानी (23) की लाश संदिग्ध अवस्था में खिड़की से लटकी पाई गई। वह नालंदा जिले के इस्लामपुर थाने के रतनपुर गांव की रहने वाली थी। खिड़की के रॉड में उसके दुपट्टे से फांसी लगाई गई है। वह पुलिस केंद्र में राइटर के रूप में तैनात थी। महिला आरक्षियों की ड्यटी बांटती थी। घटना शनिवार को दिन के लगभग 11.15 से 12 बजे के बीच की है। उस समय कमरे में कोई नहीं था। सभी महिला आरक्षी ड्यूटी पर गई थीं। घटना के कारणों का पता नहीं चला है। कमरे से किसी तरह का सुसाइड नोट नहीं मिला। उक्त महिला जवान अविवाहित थी।

21 नवंबर को शामिल हुई थी जिला महिला पुलिस बल में : प्रशिक्षण पूरा होने के बाद पिछले साल 21 नवंबर को आयोजित पारण परेड में उसे जिला महिला पुलिस बल में शामिल किया गया था। तब पांच दिनों की छुट्टी के बाद 27 नवंबर से वह ड्यूटी कर रही थी। उसके पिता-माता व भाई दिल्ली में रहते हैं। सूचना पर वरीय पुलिस अधीक्षक विवेक कुमार, सिटी एसपी उपेंद्रनाथ वर्मा डीएसपी नगर आशीष आनंद, डीएसपी पूर्वी गौरव पांडेय व डीएसपी पश्चिमी कृष्ण मुरारी प्रसाद घटना स्थल पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। एफएसएल की टीम ने कमरे की जांच की, फिंगर प्रिंट व नमूनों का संग्रह किया। मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में एफएसएल की टीम ने जांच की और लाश का पंचनामा तैयार किया गया। परिजनों के पहुंचने पर पोस्टमार्टम के लिए लाश एसकेएमसीएच भेजा गया। जिलाधिकारी के आदेश से मेडिकल बोर्ड ने रात में उसका पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट का फिलहाल खुलासा नहीं हो सका है।

ड्यूटी से जल्द लौटी दो महिला आरक्षी तो हुआ खुलासा : घटना का खुलासा शायद शाम में ही होता। इस कमरे में रहने वाली अन्य महिला आरक्षी की ड्यूटी दिन भर के लिए लगी थी। वे चली भी गईं थीं। इनमें महिला आरक्षी मुन्नी व एक अन्य महिला आरक्षी की ड्यूटी शहर में अतिक्रमण हटाओ अभियान में लगी थी। संयोग से यह अभियान रद हो गया और वे दोनों लगभग 12 बजे कमरे पर लौट आईं। कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था। पहले तो उन्होंने आवाज दी। जब अंदर से कोई हरकत नहीं हुई तो जोर से दरवाजा खटखटाया कि शायद वह गहरी नींद में सोई हो। इस पर भी जब अंदर से कोई हलचल नहीं हुई तो वे किसी अनहोनी की आशंका से आशंकित हो उठीं। मुन्नी छत पर जाकर इस कमरे में रहने वाली महिला आरक्षी सुनीता कुमारी को मोबाइल से कॉल करना चाही, लेकिन कॉल नहीं लगा। इसके बाद वह आरक्षी केंद्र जाकर उसे बुला लाई। उसने भी दरवाजा खोलवाने का प्रयास किया, लेकिन असफल होने पर भवन के नीचले तल में मौजूद सार्जेट मेजर व अन्य पुलिस कर्मियों को इसकी जानकारी दी। उनके आने के बाद एक बार फिर कोशिश की गई। थक हार कर दरवाजा तोड़ा गया। जब अंदर गए तो वहां का नजारा देखकर सब अचंभित रह गए। इसकी सूचना वरीय पुलिस अधिकारी को दी गई।

घटना से पहले खाया खाना व छोड़ दिया जूठा बर्तन : चंदा रानी शनिवार को सभी महिला आरक्षियों को ड्यूटी बांटी। लगभग 10.30 बजे स्नान किया। इसके बाद वह एक बार अपने कमरे से नीचे भी आई। उसके कमरे में रहने वाली महिला आरक्षी सुनीता कुमारी सबसे अंत में लगभग 11.15 बजे ड्यूटी पर निकली। इसके बाद उसने खाना खाया और बर्तन जूठा छोड़कर फांसी लगा ली।

एसएसपी विवेक कुमार ने कहा कि घटना दुखद है। मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में एफएसएल की टीम घटना की जांच कर साक्ष्य एकत्र की। मामले को लेकर कई बिंदुओं पर जांच की जा रही है।’

Source : Dainik Jagran

यह भी पढ़ें -» बिहार की इस बेटी ने मॉस्को में लहराया तिरंगाबनीं ‘राइजनिंग स्टार

यह भी पढ़ें -» यह भी पढ़ें -» पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिरजानिए क्यों है इतनाखास

यह भी पढ़ें :ट्रेन के लास्ट डिब्बे पर क्यों होता है ये निशानकभी सोचा है आपने ?

यह भी पढ़ें -» गांधी सेतु पर ओवरटेक किया तो देना पड़ेगा 600 रुपये जुर्माना

यह भी पढ़ें -» अब बिहार के बदमाशों से निपटेगी सांसद आरसीपी सिंह की बेटी IPS लिपि सिंह

यह भी पढ़ें -» बिहार के लिए खुशखबरी : मुजफ्फरपुर में अगले वर्ष से हवाई सेवा

 

(मुज़फ़्फ़रपुर नाउ के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहांक्लिक कर सकते हैंआपहमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Total 0 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?

News Reporter