Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवरूणा कांड में जेल भेजे गए वार्ड-23 के पार्षद राकेश सिन्हा पप्पू के खिलाफ 90 दिन के अंदर सीबीआई के जांच अधिकारी रौनक कुमार ने चार्जशीट दाखिल नहीं की। इससे सोमवार को पप्पू को विशेष सीबीआई अदालत से जमानत मिल गई। मंगलवार को वार्ड पार्षद जेल से छूटेंगे। सीबीआई ने बीते 4 सितंबर को पूछताछ के लिए पप्पू को पटना बुलाया और गिरफ्तार कर लिया। 5 सितंबर को मुजफ्फरपुर में विशेष सीबीआई अदालत में पेशी कराने के बाद न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया था। नियम के अनुसार 10 वर्ष से अधिक कारावास की सजा वाली धाराओं में जेल भेजे गए आरोपी पर 90 दिन के अंदर चार्जशीट दाखिल कर देना होता है। लेकिन चार्जशीट दाखिल नहीं की जा सकी। गिरफ्तारी के बाद पप्पू का सीबीआई के प्रति तेवर काफी सख्त था। एक माह तक जेल में रहने के बाद वार्ड पार्षद की जब पेशी हुई तो उनका नजरिया सीबीआई के प्रति काफी बदल चुका था। उन्होंने कहा था कि सीबीआई सही जांच करेगी और उन्हें न्याय मिलने की उम्मीद है।

छोटी के सहारे बड़ी मछली फांसने के लिए सीबीआई चलती है ऐसी चाल!

सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में नवरूणा कांड की जांच कर रही सर्वोच्च जांच एजेंसी सीबीआई क्या इतनी बड़ी गलती करेगी? आरोपित को 90 दिनों तक जेल में रखने के बाद सीबीआई उसके विरुद्ध कोई साक्ष्य नहीं लाएगी? ऐसी भूल तो आमतौर पर जिला पुलिस भी नहीं करती? शहर में ये सवाल सोमवार को जोर-शोर से उठते रहे। इन सवालों पर कानून के जानकार कई संभावनाएं जता रहे हैं। सीबीआई के कई अहम मामलों में बचाव पक्ष के वकील रहे अधिवक्ता शरद सिन्हा कहते हैं कि छोटी मछली के सहारे बड़ी मछली को फांसने के लिए सीबीआई ऐसी ही चाल चलती है। सीबीआई ने निश्चित रूप से राकेश सिन्हा पप्पू के बयान को किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति के विरुद्ध साक्ष्य बनाया होगा तभी उन पर जांच लंबित रखते हुए चार्जशीट दाखिल नहीं की है। इनके बयान के आधार पर किसी अहम शख्स पर शीघ्र कार्रवाई कर सकती है।

पत्रकार हत्या में 2 पर नहीं की थी चार्जशीट 

सिवान के पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में सीबीआई ने मो. कैफ मो. जावेद को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। लेकिन, दोनों पर 90 दिनों के अंदर चार्जशीट दाखिल नहीं की थी। जब दोनों को जमानत मिल गई तब कुछ दिन बाद ही सीबीआई ने सिवान के पूर्व सांसद डॉ. मो. शहाबुद्दीन और अन्य आरोपितों पर चार्जशीट दाखिल कर दी थी।

Source : Dainik Bhaskar

यह भी पढ़ें -» बिहार की इस बेटी ने मॉस्को में लहराया तिरंगा, बनीं ‘राइजनिंग स्टार’

यह भी पढ़ें -» यह भी पढ़ें -» पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिर, जानिए क्यों है इतना खास

यह भी पढ़ें :ट्रेन के लास्ट डिब्बे पर क्यों होता है ये निशान, कभी सोचा है आपने ?

यह भी पढ़ें -» गांधी सेतु पर ओवरटेक किया तो देना पड़ेगा 600 रुपये जुर्माना

यह भी पढ़ें -» अब बिहार के बदमाशों से निपटेगी सांसद आरसीपी सिंह की बेटी IPS लिपि सिंह

यह भी पढ़ें -» बिहार के लिए खुशखबरी : मुजफ्फरपुर में अगले वर्ष से हवाई सेवा

 

                                                                                      

(मुज़फ़्फ़रपुर नाउ के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •