Connect with us

INDIA

अगले महीने इनके खातों में 2000 रुपये डालेगी मोदी सरकार, लिस्ट में ऐसे चेक करें अपना नाम

Ravi Pratap

Published

on

प्रधानमंत्री किसान सम्मानिधि योजना के तहत मोदी सरकार किसानों को सलाना 6000 रुपये तीन किस्तों में दे रही है। इस समय गेहूं की बुवाई का सीजन है और किसानों को खाद-बीज की खरीदारी भी करनी है। ऐसे में इस समय किसानों को 2000 रुपये की किस्त की सबसे ज्यादा जरूरत है। तो परेशान मत होइए। सरकार आपके खाते में जल्द ही 2000 रुपये की सातवीं किस्त डालने जा रही है। अगर आपने योजना के तहत अपना नाम रजिस्टर करा चुके हैं तो घर बैठे पीएम किसान सम्मान निधि की ताजा लिस्ट में अपना नाम चेक कर सकते हैं। लिस्ट में नाम चेक करने का तरीका बहुत आसान हैं।

लिस्ट में ऑनलाइन देखने के लिए आसान स्टेप

  • वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाएं।
  • होम पेज पर मेन्यू बार देखें और यहां ‘फार्मर कार्नर’ पर जाएं।
  • यहां ‘लाभार्थी सूची’ के लिंक पर क्लिक करें।
  • इसके बाद अपना राज्य, जिला, उप-जिला, ब्लॉक और गांव विवरण दर्ज करें
  • इतना भरने के बाद Get Report पर क्लिक करें और पाएं पूरी लिस्ट

ऐसे जानें आपको अबतक कितनी किस्त मिली

  • पहले पीएम किसान (PM Kisan) की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाएं।
  • यहां आपको राइट साइड पर ‘Farmers Corner’ का विकल्प मिलेगा
  • यहां ‘Beneficiary Status’ के ऑप्शन पर क्लिक करें। यहां नया पेज खुल जाएगा।
  • नए पेज पर आधार नंबर, बैंक खाता संख्या या मोबाइल नंबर में से किसी एक विकल्प को चुनिए।
  • आपने जिस विकल्प का चुनाव किया है, उसका नंबर भरिए। इसके बाद ‘Get Data’ पर क्लिक करें।
  • यहां क्लिक करने के बाद आपको सभी ट्रांजेक्शन की जानकारी मिल जाएगी। यानी कौनसी किश्त कब आपके खाते में आई और किस बैंक अकाउंट में क्रेडिट हुई।
  • सातवीं किस्त से जुड़ी जानकारी भी आपको यहां मिल जाएगी।
  • यदि आपको ‘FTO is generated and Payment confirmation is pending’ लिखा हुआ दिख रहा है तो इसका मतलब है कि फंड ट्रांसफर की प्रक्रिया शुरू हो गई है। ये किस्त कुछ ही दिनों में आपके खाते में ट्रांसफर हो जाएगी।

जानिए कब-कब आती है किस्त

पीएमम किसान सम्मान निधि स्कीम मोदी सरकार ने 24 फरवरी 2019 को शुरू किया था और यह एक दिसंबर 2018 से ही प्रभावित हो गया था। इस स्कीम के तहत सरकार छोटे किसानों को हर साल 6000 रुपये तीन किस्तों में देती है।  पहली किस्त एक दिसंबर से 31 मार्च के बीच आती है। दूसरी किस्त एक अप्रैल से 31 जुलाई और तीसरी किस्त एक अगस्त से 30 नवंबर तक किसानों के खाते में डायरेक्ट ट्रांसफर कर दी जाती है।

Input: Live Hindustan

INDIA

राजस्थान छोड़कर जम्मू-कश्मीर जाना चाहते हैं IAS टीना डाबी के पति अतहर, लगाई तबादले की अर्जी

Muzaffarpur Now

Published

on

यूपीएससी परीक्षा टॉप करने वाली 2015 बैच की आईएएस अधिकारी टीना डाबी से तलाक लेने के लिए जयपुर के फैमिली कोर्ट अर्जी लगाने वाले आईएएस अधिकारी अतहर खान ने जम्मू-कश्मीर में डेपुटेशन पर जाने के लिए आवेदन किया है। उनका आवेदन अभी केंद्रीय गृह मंत्रालय में लंबित पड़ा है। अतहर खान भी 2015 बैच के आईएएस है।

Kashmiri bahu ias topper Tina Dabi husband Athar Aamir divorce कश्मीरी बहू  टीना डाबी पति अतहर आमिर से होंगी अलग, तलाक की अर्जी में कहा- अब साथ रहना  मुश्किल

आईएएस दंपत्ति के बीच आई दरार को लेकर सोशल मीडिया से लेकर ब्यूरोक्रेसी में कई तरह की कहानियां चल रही हैं। सूत्रों का कहना है कि गृह राज्य जाने के लिए अतहर खान के आवेदन करने के बाद ही दोनों के बीच दरारें और बढ़ गई। दो दिन से टीना डाबी और अतहर खान सुर्खियों में हैं। दो साल पहले जब दोनों ने शादी की थी तब सुर्खियों में थे और अब जब तलाक ले रहे हैं तो भी सुर्खियों में छाए हुए हैं। दिलचस्प यह है कि कई मुस्लिम देशों में दोनों गूगल में सर्च किए जा रहे हैं। शुक्रवार को तो राजस्थान कैडर के ये आईएएस दंपत्ति सोशल मीडिया पर ट्रेंड होते रहे।

आवास के लिए अलग-अलग आवेदन किए

हाउसिंग बोर्ड की ओर से आईएएस अफसरों के लिए एक सोसाइटी बनाई गई हैं, जिसमें प्लाट लेने के लिए दोनों ही अफसरों ने अलग-अलग आवेदन किया था। तभी से ही यह अंदाजा लगाया जा रहा था कि दोनों के बीच सब कुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा है।

2015 IAS batch toppers Tina Dabi, Athar Khan file for divorce in Jaipur's  family court

दो दिन पहले ही टीना का हुआ था तबादला, जिस पर लगी रोक

दो दिन पहले ही टीना डाबी का तबादला श्रीगंगानगर से सचिवालय में वित्त विभाग में हुआ था, जिस पर राज्य निर्वाचन आयोग ने रोक लगा दी है। यह भी चर्चा है कि दोनों के बीच हुए विवाद की शिकायत सरकार तक भी पहले ही पहुंच चुकी थी, जिसके बाद ही दोनों को जुलाई में भीलवाड़ा से तबादला हुआ था।

अलग-अलग जिलों में किया गया था डेपुटेशन

सेंट्रल डेपुटेशन पर जाने के लिए 9 साल, किसी दूसरे केंद्र शासित प्रदेश में जाने के लिए 7 साल, जबकि जम्मू-कश्मीर में जाने के लिए केवल 5 साल का ही अनुभव चाहिए। अतहर का 5 साल का अनुभव दिसंबर में पूरा हो जाएगा।

Source : Hindustan

Continue Reading

INDIA

निजीकरण के विरोध में इन बैंकों में रहेगी हड़ताल, जानिए कब से कब तक कार्य रहेगा प्रभावित

Ravi Pratap

Published

on

सेंट्रल ट्रेड यूनियन के आह्वान पर 26 नवंबर को बैंकों में हड़ताल रहेगी। सभी व्यावसायिक और ग्रामीण बैंकों में काम ठप रहेगा। हालांकि भारतीय स्टेट बैंक ने खुद को हड़ताल से अलग रखा है। ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन के संयुक्त सचिव डीएन त्रिवेदी ने कहा कि ऑल इंडिया बैंक इंपलाइज एसोसिएशन, ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन, बैंक इंपलाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया और यूनाइटेड फोरम ऑफ ग्रामीण बैंक यूनियन के बैंक प्रबंधन आंदोलन में शामिल होंगे।

स्टेट बैंक का यूनियन एनसीबीई और भारतीय मजदूर संघ का बैंक यूनियन नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक ऑफिसर्स ने भी हड़ताल का नैतिक समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि सेंट्रल ट्रेड यूनियन की सामान्य मांगों के अतिरिक्त बैंक यूनियनों ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण का प्रस्ताव वापस लेने, बैंकों में जमा राशि पर ब्याज बढ़ाने, कॉरपोरेट घरानों से एनपीए ऋण की वसूली के लिए सख्त कार्रवाई करने, अस्थायी कर्मियों का नियमितीकरण, आउटसोर्सिंग पर प्रतिबंध, खाली पदों पर अविलंब नियुक्ति, 31 मार्च 2010 के बाद योगदान करने वाले बैंककर्मियों के लिए एनपीएस के बजाय पुरानी पेंशन योजना का कार्यान्वयन और ग्रामीण बैंकों में प्रायोजक व्यावसायिक बैंकों के साथ ही 11वें द्विपक्षीय वेतन समझौता को एक नवंबर 2017 के प्रभाव से लागू करने संबंधी 10 सूत्री मांगों को लेकर बैंककर्मी 26 नवंबर को हड़ताल करेंगे।

26 को ट्रेड यूनियन की हड़ताल

केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के संयुक्त आह्वान पर 26 नवंबर को प्रस्तावित हड़ताल की तैयारी को लेकर हरिसभा चौक स्थित कार्यालय में भाकपा माले की बैठक हुई। जिला सचिव कृष्णमोहन ने कहा कि सरकार देश की संपत्ति कॉरपोरेट घरानों को दे रही है। मजदूर, कर्मचारियों, कम आय के लोगों पर हमले कर रही है और उनके अधिकार खत्म कर देना चाहती है। बैठक में एक्टू के जिला संयोजक मनोज कुमार यादव, रसोइया संघ के जिला सचिव परशुराम पाठक, वीरेंद्र चौधरी, मो. करीम, आमोद पासवान, सुरेश राम, सुलेखा देवी, चंदेश्वर भगत, राजेश राम, उमेश दास आदि शामिल थे।

Input: Dainik Jagran

Continue Reading

INDIA

कांग्रेस नेता अहमद पटेल का निधन, कोरोना पॉजिटिव होने के बाद एक महीने से थे अस्पतला में भर्ती

Ravi Pratap

Published

on

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल का निधन हो गया है. अहमद पटेल एक महीना पहले कोरोना से संक्रमित हुए थे. इसके बाद उनका इलाज चल रहा था. अहमद पटेल के बेटे फैजल पटेल ने ट्वीट कर कहा कि उनके पिता अहमद पटेल का आज सुबह 3 बजकर 30 मिनट पर निधन हो गया है. जानकारी के मुताबिक अहमद पटेल का गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में इलाज चल रहा था. इसी अस्पताल में उनका निधन हुआ है.

फैजल पटेल ने ट्वीट कर कहा कि वे बेहद दुख के साथ अपने पिता अहमद पटेल की दुखद और असामयिक मृत्यु की घोषणा कर रहे हैं. फैजल पटेल ने कहा कि 25 तारीख को सुबह 3.30 पर उनके पिता का निधन हो गया. फैसल पटेल ने कहा कि लगभग एक महीना पहले उनके पिता कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इलाज के दौरान उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया और वे मल्टी ऑर्गन फेल्यिोर के शिकार हो गए. फैजल पटेल ने कहा कि गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने आखिरी सांस ली.

फैजल पटेल ने लोगों से अपील की है कि सभी लोग कोरोना से जुड़े प्रोटोकॉल का पालन करें और भीड़ भाड़ में जाने से बचें.

गुजरात से राज्यसभा सांसद और कांग्रेस पार्टी के कोषाध्यक्ष रहे अहमद पटेल को 15 नवंबर को मेदांता अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था.

एक अक्टूबर को अहमद पटेल ने एक ट्वीट कर खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी थी. तब दिग्गज कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा था कि ‘मैं कोरोना पॉजिटिव हुआ हूं, मैं निवेदन करता हूं कि जो मेरे नजदीकी संपर्क में आएं है वे खुद को आइसोलेट कर लें.”

71 साल के अहमद पटेल तीन बार लोकसभा के सदस्य रहे हैं और 5 बार राज्यसभा के सांसद रहे हैं. अगस्त 2018 में उन्हें कांग्रेस पार्टी का कोषाध्याक्ष नियुक्त किया गया था. पहली बार 1977 में 26 साल की उम्र में भरूच से लोकसभा का चुनाव जीतकर अहमद पटेल संसद पहुंचे थे. हमेशा पर्दे के पीछे से राजनीति करने वाले अहमद पटेल कांग्रेस परिवार के विश्वस्त नेताओं में गिने जाते थे. वे 1993 से राज्यसभा सांसद थे.

Input: Aaj Tak

Continue Reading
BIHAR29 seconds ago

जेल से विधानसभा पहुंचे बाहुबली विधायक अनंत सिंह, स्पीकर की वोटिंग में होंगे शामिल

BIHAR3 mins ago

बिहार में CM नीतीश की महत्वाकांक्षी नल-जल योजना में अब 24 घंटे में दूर होंगी शिकायतें

INDIA9 mins ago

राजस्थान छोड़कर जम्मू-कश्मीर जाना चाहते हैं IAS टीना डाबी के पति अतहर, लगाई तबादले की अर्जी

JHARKHAND12 mins ago

रिटायरमेंट के बाद एमएस धोनी दे रहे फार्मिंग पर ध्‍यान, टमाटर और दूध का चल रहा बिजनेस

BIHAR51 mins ago

मतदान से आज होगा नए विधानसभा अध्यक्ष का फैसला, NDA से विजय सिन्हा तो महागठबंधन से अवध बिहारी हैं उम्मीदवार

BIHAR2 hours ago

बिहार में 48 घंटे के दौरान कोरोना से 12 लोगों की मौत

MUZAFFARPUR2 hours ago

मुजफ्फरपुर रेवा रोड में वायु सेना कर्मी से लूटपाट

INDIA3 hours ago

निजीकरण के विरोध में इन बैंकों में रहेगी हड़ताल, जानिए कब से कब तक कार्य रहेगा प्रभावित

BIHAR3 hours ago

मोबाइल नंबर शेयर कर सुशील मोदी ने लगाया आरोप, विधायकों को फोन कर एनडीए तोड़ने की कोशिश कर रहे लालू

BIHAR4 hours ago

मास्क नहीं पहनने पर दिल्ली, यूपी और गुजरात के बाद अब बिहार में भी देना होगा जुर्माना

BIHAR6 days ago

सात समंदर पार रूस से छठ करने पहुंची विदेशी बहू

WORLD1 week ago

संयुक्त राष्ट्र की शाखा ने चेताया- 2020 से भी ज्यादा खराब होगा साल 2021, दुनिया भर में पड़ेगा भीषण अकाल

INDIA4 weeks ago

JEE MAINS का टॉपर गिरफ्तार, परीक्षा में दूसरे को बैठाकर पाए थे 99.8 % अंक

BIHAR6 days ago

एम्स से दीघा तक एलिवेटेड रोड पर आज से परिचालन शुरू, कोइलवर पुल पर आज ट्रायल रन

INDIA1 week ago

मिट्टी से भरी ट्रॉली खाली करते वक्त अचानक गिरने लगे सोने-चांदी के सिक्के, लूटकर भागे लोग

BIHAR2 days ago

खाक से फलक तक : 18 साल की उम्र में घर से भागे, मजदूरी की, और अब हैं बिहार के मंत्री

TRENDING2 weeks ago

ठंड से ठिठुर रहा था भिखारी, DSP ने गाड़ी रोकी तो निकला उन्हीं के बैच का ऑफिसर

TRENDING3 days ago

यात्री नहीं मिलने से पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्‍सप्रेस हो जाएगी बंद

BIHAR2 weeks ago

जीत की खुशी में पटाखा जलाने पर BJP नेता के बेटे की पीट-पीटकर हत्या, शव पेड़ पर लटकाया

BIHAR4 weeks ago

झूठा साबित हुआ लिपि सिंह का आरोप, भीड़ ने नहीं पुलिस ने की थी फायरिंग, CISF की रिपोर्ट से खुलासा

Trending