Connect with us

RELIGION

अयोध्या में होने जा रही राम रसोई की शुरुआत, बिहार के इस स्पेशल चावल से बनेगा रामलला का भोग

Muzaffarpur Now

Published

on

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले पर अपना फैसला सुनाते हुए विवादित जमीन को रामजन्मभूमि न्यास को सौंप दिया. इसके बाद अब यहां रामलला रसोई की शुरुआत होने जा रही है. इसके लिए बिहार राज्य के कैमूर जिले के प्रसिद्ध गोविंद भोग और कतरनी चावल से भोग बनेगा. भगवान राम के प्रसाद अलावा राम भक्तों के लिए भोजन भी इसी चावल से बनेगा.

बिहार के प्रसिद्ध महावीर मंदिर न्यास के मुखिया आचार्य किशोर कुणाल ने बताया कि अयोध्या में राम रसोई की शुरुआत होने वाली है. इसके लिए 60 क्विंटल गोविंद भोग और कतरनी चावल यहां से अयोध्या भेजा गया है. उन्होंने कहा कि चावल कैमूर के मोकरी गांव से मंगवाया गया है. अयोध्या में भगवान राम की रसोई और भोग की सेवा अब लगातार चलती रहेगी. इसके लिए अयोध्या के मुख्य पुजारी से बात हो चुकी है.

मुख्य पुजारी ने बताया कि बिहार के सीतामढ़ी में पहले ही सीता रसोई चल रही है. दिन में यहां 500 लोग भोजन करते हैं और रात में 200 लोगों को मुफ्त भोजन कराया जाता है. ऐसे ही अयोध्या में भी राम रसोई की शुरूआत होगी. शुरुआती दौर में यहां प्रतिदिन एक हजार लोगों के भोजन कराने की व्यवस्था की जाएगी. जैसे-जैसे राम भक्तों की संख्या बढ़ती जाएगी, उसके आधार पर ज्यादा से ज्यादा लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था की जाएगी.

पुजारी ने बताया कि राम रसोई में प्रसाद बनाने के लिए तिरुपति के विशेषज्ञ कारीगर रखे जाएंगे. पटना के महावीर मंदिर में भी तिरुपति के ही कारीगर प्रसाद वाला खास लड्डू बनाते हैं. कैमूर के मोकरी गांव में मुंडेश्वरी माता के मंदिर के समीप के गांवों का ही चावल राम रसोई के लिए भेजा गया है.

यहां मान्यता है कि पहाड़ पर स्थित माता मुंडेश्वरी के मंदिर से हर साल बारिश का पानी मोकरी गांव के खेतों में गिरता है. इस पानी से पूरे गांव के खेत सिंचित होते हैं. मोकरी में पैदा होने वाला माता के प्रभाव के कारण ज्यादा खुशबूदार होता है.

Input : Catch News

RELIGION

जन्माष्टमी आज और कल, बन रहा है विशेष संयोग, यह है पूजा का शुभ चौघड़िया मुहूर्त

Ravi Pratap

Published

on

श्री कृष्ण का जन्मोत्सव के लिए तैयारियां तेज हो गई हैं। हालांकि इस बार कोरोना वायरस महामारी के कारण मंदिरों में बड़े आयोजन नहीं होगे।11 अगस्त और 12 अगस्त दोनों दिन जन्माष्टमी मनाई जा रही है। हिंदू धर्म मान्यताओं के अनुसार, भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को ही श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। जन्माष्टमी के दिन लोग भगवान श्रीकृष्ण का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए उपवास रखने के साथ ही भजन-कीर्तन और विधि-विधान से पूजा करते हैं।  ज्योतिषियों के भगवान श्री कृष्ण के जन्म के समय  रात 12 बजे अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र था।

इसलिए इसी नक्षत्र और तिथि में जन्माष्टमी मनाई जाती है। इस बार 11 अगस्त को जन्माष्टमी तिथि सुबह लग जाएगी, जो 12 अगस्त को सुबह 11 बजे रहेगी, वहीं रोहिणी नक्षत्र 13 अगस्त को लग रहा है। ऐसे में सभी कंफ्यूज हैं कि 11 को पूजा औऱ व्रत करें या फिर 12 को। कई ज्योतिषियों ने इसके लिए बताया कि जब उदया तिथि हो यानी जिस तिथि में सूर्योदय हो रहा हो, उस तिथि को ही जन्माष्टमी मनाई जाती है। इसलिए इस बार ज्योतिषियों के अनुसार जन्माष्टमी का दान 11 अगस्त को और 12 अगस्त को पूजा और व्रत रखा जा सकता है।

12 अगस्त को पूजा का शुभ समय रात 12 बजकर 5 मिनट से लेकर 12 बजकर 47 मिनट तक है। पूजा की अवधि 43 मिनट तक रहेगी। जन्माष्टमी पर इस बार वृद्धि संयोग बन रहा है, जो अति उत्तम हैं। भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव के त्योहार के बाद भगवना का छठी पूजन कार्यक्रम भी धूमधाम से होता है। इस दिन कान्हा जी की छठी मनाई जाती हैऔर मंदिरों में प्रसाद वितरण किया जाता है।

Continue Reading

RELIGION

16 अगस्त से खुलेगा वैष्णो देवी मंदिर, जल्द जारी होगी गाइडलाइन; 19 मार्च से बंद है यात्रा

Ravi Pratap

Published

on

देश में कोरोना वायरस के कारण लगे पाबंदियों के लंबे समय बाद माता के भक्तों के लिए खुशखबरी आई है। अब भक्त माता वैष्णो देवी के दर्शन कर पाएंगे। पिछले 5 महीनों से बंद माता वैष्णो देवी की यात्रा अब शुरू होने जा रही है। 16 अगस्त को फिर से माता वैष्णो देवी की यात्रा खुल जाएगी। साथ ही प्रदेश के बाकी धार्मिक स्थलों को भी खोल दिया जाएगा, जिसमें बाबे मंदिर, रघुनाथ मंदिर, शिव खोड़ी  सहित बाकी देवी देवताओं के मंदिर भी खोलने की घोषणा कर दी गई है।

17 मार्च को करीब 14 हजार 816 भक्त गए थे भवन
धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने की जानकारी सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल की ओर से दी गई है। रोहित कंसल ने कहा है कि सभी देवा स्थानों को 16 अगस्त से खोल दिया जाएगा। जिसमें सभी को एसओपी का पालन करना होगा।

बता दे कि अंभक्तों को अंतिम बार 17 मार्च को माता के भवन भेजा गया था, 17 मार्च को करीब 14 हजार 816 भक्तों को माता के भवन के लिए रवाना किया गया था जिसके बाद से ही लॉकडाउन के कारण यात्रा को बंद कर दिया गया था।

बाहरी यात्रियों के लिए कोरोना वायरस टेस्ट अनिवार्य होगा
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार फिलहाल यात्रा को प्रदेश के लोगों के लिए ही खोला गया है, क्योंकि अभी बाहर से यात्रियों को आने में खतरा है और बाहर से यात्रियों को आने नहीं दिया जा रहा है। वहीं बाहर से आने वाले यात्रियों के लिए कोरोना वायरस टेस्ट होना अनिवार्य है। जिसके लिए श्राइन बोर्ड की तरफ से पूरी तैयारी की जा रही है।

कितने भक्तों को यहां यात्रा के लिए अनुमति दी जाएगी इस पर विचार किया जा रहा है। इसके साथ ही प्रतिदिन की भक्तों की गिनती पर भी फैसला किया जाएगा। जिसकी जानकारी बोर्ड दो-तीन दिन में देगी।

माता के भवन आने वाले भक्तों की घटी संख्या
दरअसल इस साल की शुरुआती 2 महीनों में भक्तों की गिनती को देखते हुए ऐसा अनुमान लगाया गया था कि इस साल यात्रा पिछले साल का रिकॉर्ड तोड़ देगी। लेकिन कोरोना महामारी के चलते लगे लॉकडाउन के कारण भक्तों की गिनती कई सालों से कम हो जाएगी। आंकड़ों के मुताबिक इस साल जनवरी में 5 लाख से ज्यादा  भक्त माता के दरबार में पहुंचे थे। वहीं फरवरी में तीन लाख 96 हजार भक्त माता के दरबार आए। वहीं 2019 की बात की जाए तो जनवरी में 5 लाख के करीब और फरवरी में 2 लाख से ज्यादा वक्त आए थे।

Continue Reading

INDIA

राममंदिर भूमिपूजन के लिए मां कामाख्या की पवित्र रज जाएगी अयोध्या

Muzaffarpur Now

Published

on

गुवाहाटी : श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। आगामी 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों मंदिर निर्माण के लिए विधिवत भूमि पूजन होना है। मंदिर की नींव में डालने के लिए देशभर की कई नदियों काजल और पवित्र स्थानों की मिट्टी को अयोध्या भेजने का क्रम भी जारी है।

इसी कड़ी में मंगलवार को मां कामाख्या मंदिर से रज कलश अयोध्या भेजा गया। कामाख्या मंदिर के प्रमुख तथा पुजारियों के मंत्रोच्चार तथा पूजा के साथ विश्व परिषद के नेताओं ने माता के मंदिर से रज कलश ग्रहण किया। इस मौके पर विश्व हिंदू परिषद पूर्वोत्तर, गुवाहाटी क्षेत्र संगठन मंत्री दिनेश तिवारी, विश्व हिंदू परिषद गोशक्षा के केंद्रीय मंत्री उमेश चंद्र पोरवाल, प्रांतीय मंत्री विश्व हिंदू परिषद पल्‍लव पाराशर, उमापति तथा महानगर मंत्री चंदन राभा उपस्थित थे।

Image may contain: one or more people and outdoor, text that says "KAMAKHYA TEMPLE"

आपको बता दें कि अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर के भूमिपूजन की तैयारियां अंतिम चरण में हैं।  पांच अगस्त को होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम की मेजबानी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे।  इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई हस्तियां मौजूद रहेंगी।  हालांकि, सीएम योगी को छोड़कर और किसी भी प्रदेश के मुख्यमंत्री को बुलाया नहीं गया है।

भूमिपूजन के दौरान 50-50 लोगों के अलग-अलग ब्लॉक में करीब 200 लोग मौजूद होंगे।  50 की संख्या में देश के बड़े साधु-संत मौजूद रहेंगे, 50 की संख्या में देश के बड़े नेता और आंदोलन से जुड़े लोग रहेंगे।  इनमें लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती और कल्याण सिंह के साथ साध्वी ऋतंभरा और विनय कटियार भी कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे।

Continue Reading
INDIA42 mins ago

74वां स्वतंत्रता दिवस आज, लाल किले की प्राचीर से PM नरेंद्र मोदी करेंगे देश को संबोधित

INDIA9 hours ago

सुशांत सिंह ने अंकिता के लिए खरीदा था 4.5 करोड़ का फ्लैट, खुद भर रहे थे EMI

BIHAR9 hours ago

BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात के बाद भी नहीं बदले हैं चिराग पासवान के सुर, कल पटना में बुलायी पार्टी की आपात बैठक

INDIA9 hours ago

प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के लिए अमेरिका से आ रहा नया विमान एयर इंडिया वन

INDIA9 hours ago

सुशांत के परिवार पर विवादित बयान के बाद शिवसेना सांसद संजय राउत का यू-टर्न

MUZAFFARPUR9 hours ago

नाले के अवरोधों को साफ़ कर किसी भी सूरत में जलनिकासी सुनिश्चित करें निगम – मंत्रीसुरेश शर्मा

MUZAFFARPUR9 hours ago

मुजफ्फरपुर का युवक निकला साइबर क्रिमिनल पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के नाम पर करता था फर्जीवाड़ा

BIHAR10 hours ago

फोन कर माफी मांग रहा नेपाल, भारतीयों को पीटने वाले पुलिस के दो जवान हटाए गए

BIHAR10 hours ago

बिहार पुलिस में निकली बंपर वैकेंसी, दारोगा व सार्जेंट नियुक्ति के लिए आवेदन 16 अगस्त से

BIHAR11 hours ago

गांव की गलियों में खेलने वाला बिहार का लाल आकाशदीप अब खेलेगा IPL

BIHAR1 week ago

भोजपुरी एक्ट्रेस अनुपमा पाठक ने की खुदकुशी, मरने से पहले किया फेसबुक लाइव

INDIA4 days ago

बाइक पर पत्नी के अलावा अन्य को बैठाया तो कार्रवाई: हाई कोर्ट

INDIA3 weeks ago

वाहनों में अतिरिक्त टायर या स्टेपनी रखने की जरूरत नहीं: सरकार

INDIA4 days ago

सुप्रीम कोर्ट का फैसला – पिता की प्रॉपर्टी में बेटी का हर हाल में आधा हिस्सा होगा

BIHAR2 weeks ago

UPSC में छाए बिहार के लाल, जानिए कितने बच्चों का हुआ चयन

BIHAR4 weeks ago

बिहार लॉकडाउन: इमरजेंसी हो तभी निकलें घर से बाहर, नहीं तो जब्त हो जाएगी गाड़ी

MUZAFFARPUR1 week ago

उत्तर बिहार में भीषण बिजली संकट, कांटी थर्मल पावर ठप्प

BIHAR2 weeks ago

पप्पू यादव का खतरनाक स्टंट: नियमों की धज्जियां उड़ा रेल पुल पर ट्रैक के बीच चलाई बुलेट, देखें VIDEO

BIHAR5 days ago

IPS विनय तिवारी शामिल हो सकते है, सुशांत केस की CBI जांच टीम में…

MUZAFFARPUR1 week ago

बिहार के प्रमुख शक्तिपीठों में प्रशिद्ध राज-राजेश्वरी देवी मंदिर की स्थापना 1941 में हुई थी

Trending