उत्तर प्रदेश में अपनी ड्यूटी करते हुए शहीद हुए दरोगा मनोज मिश्रा का परिवार आज बेहाल है। 4 साल हो गए इस परिवार को आज तक न्याय नहीं मिला। अखिलेश के राज में गौतस्करों द्वारा गो’ली मारे जाने की वजह वो शहीद हुए। भाजपा ने उस समय इस मुद्दे को खूब भुनाया लेकिन आज सब इनको भूल गए। आज सोशल मीडिया पर इस परिवार की मदद करने की अपील की जा रही है।

इसस पहले दिसंबर में दरोगा मनोज मिश्रा ह’त्याकांड का मुद्दा फिर से उठाया गया। दरोगा के परिजनों ने अन्य संगठनों के साथ धरना दिया। साथ ही श्रद्धांजलि सभा के बाद ह’त्याकांड की सीबीआई जांच की मांग फिर उठाई गई। हरदासपुर गांव के रहने वाले दरोगा मनोज मिश्रा की बरेली के फरीदपुर में पशु तस्करों ने वर्ष 2015 में गोली मारकर ह’त्या कर दी थी। पुलिस ने दावा किया किया था कि दरोगा मनोज मिश्रा की मौ’त मुठभे’ड़ में हुई थी। पुलिस ने इस मामले में फरीदपुर के पशु तस्कर गिरोह को गिरफ्तार भी किया था, लेकिन भाजपा और दरोगा का परिवार पुलिस खुलासे से संतुष्ट नहीं था। ह’त्याकांड की सीबीआई जांच की मांग उठती रही।

भाजपा ने इसे मुद्दा बनाकर लड़ाई भी लड़ी। तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी से लेकर सांसद वरुण गांधी तक ने इस ह’त्याकांड की सही जांच की मांग उठाई। परिजन इससे पहले इस मांग को लेकर तत्कालीन सीएम अखिलेश यादव से भी मिले थे, लेकिन उन्होंने सीबीआई जांच की मांग पर यकीन नहीं जताया। तो दोस्तों आप क्या कहते हैं इनके साथ भी तो न्याय होना ही चाहिए ना…

Input : Live Bavaal

Total 0 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?