आधार नियम संशोधन विधेयक को कैबिनेट की मंजूरी, अब संसद में होगा पेश
Connect with us
leaderboard image

INDIA

आधार नियम संशोधन विधेयक को कैबिनेट की मंजूरी, अब संसद में होगा पेश

Santosh Chaudhary

Published

on

मंत्रिमंडल ने बैंक खाता खोलने तथा मोबाइल फोन कनेक्शन लेने के लिये आधार के स्वैच्छिक उपयोग की अनुमति देने को लेकर बुधवार को एक संशोधन विधेयक को मंजूरी दे दी। इस संशोधन के बाद किसी अन्य कानून की बाध्यता नहीं होने पर व्‍यक्ति को अपनी पहचान साबित करने के लिये आधार देने के लिए बाध्‍य नहीं किया जा सकेगा।
आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक में ‘आधार तथा अन्य कानूनों में (संशोधन) के विधेयक, 2019’ को मंजूरी दी गयी। इसमें नियमों के उल्लंघन पर कड़ा जुर्माना लगाने का प्रावधान किया गया है।

इस संशोधन विधेयक को संसद के 17 जून से शुरू सत्र में पेश किया जाएगा

यह विधेयक आधार कानून 2016 तथा अन्य कानून में संशोधन के रूप में होगा और मार्च 2019 में जारी अध्यादेश का स्थान लेगा। इस संशोधन विधेयक को संसद के 17 जून से शुरू सत्र में पेश किया जाएगा। संशोधन में आधार कानून के प्रावधानों के उल्लंघन को लेकर इकाइयों पर एक करोड़ रुपये तक का दिवानी जुर्माना लगाने का प्रस्ताव किया गया है। अगर लगातार नियमों का अनुपालन नहीं किया जाता है तो प्रतिदिन 10 लाख रुपए तक के अतिरिक्त जुर्माना लगाया जाएगा। आधार के लिए अनुरोध करने वाली इकाइयों या भौतिक रूप से सत्यापन के मामले में आधार का अनाधिकृत उपयोग दंडनीय है। इसके लिये 10,000 रुपए तक के जुर्माने के साथ तीन साल तक कारावास का प्रावधान है। कंपनी के मामले में यह र्जुमाना 1 लाख रुपये तक है। अनाधिकृत तरीके से सेंट्रल आइडेन्टिटीज डोटा रिपोजिटीरी’ तक पहुंच के साथ डाटा से छोड़छाड़ के लिये मौजूदा तीन साल से 10-10 साल की सजा का प्रावधान है।

आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, ‘‘इस निर्णय से यूआईडीएआई (भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण) लोगों के हितों के अनुरूप एक मजबूत प्रणाली बनाने में सक्षम होगा और इससे आधार के दुरुपयोग को कम करने में सहायता मिलेगी। इस संशोधन के बाद यदि संसद द्वारा पारित किसी कानून की बाध्‍यता न हो तो किसी व्‍यक्ति को अपनी पहचान साबित करने हेतु आधार नम्‍बर प्रस्‍तुत करने के लिए बाध्‍य नहीं किया जा सकेगा।’’ इसमें कहा गया है, ‘‘प्रस्‍तावित संशोधन लोगों की सुविधा के लिये बैंक खाते खुलवाने में आधार के उपयोग को मान्‍यता देता है परंतु बैंक को आधार नम्‍बर देना स्‍वैच्छिक होगा। टे‍लीग्राफ अधिनियम, 1885 तथा धन शोधन निवारण अधिनियम, 2002 के त‍हत बैंक इसे केवाईसी दस्‍तावेज के रूप में स्‍वीकार कर सकते हैं।’’ इसका मतलब है कि इसमें बैंक खाता खोलने तथा मोबाइल फोन कनेक्शन लेने के लिये सत्यापन और पहचान पत्र के रूप में आधार के स्वैच्छिक उपयोग की अनुमति होगी।

केवल संस्‍थानों को सत्‍यापन करने की अनुमति दी गयी है

विज्ञप्ति के अनुसार इस निर्णय से आधार, लोगों के लिए अधिक सुविधाजनक और उपयोगी सिद्ध होगा। प्रस्‍तावित संशोधन राष्‍ट्रपति द्वारा 2 मार्च, 2019 को घोषित अध्‍यादेश के प्रावधानों के अनुरूप है। प्रस्तावित बदलाव के तहत व्‍यक्ति स्‍वेच्‍छा से प्रमाणन या सत्‍यापन के लिए भौतिक रूप से अथवा इलेक्‍ट्रानिक रूप में आधार नम्‍बर का उपयोग कर सकता है। इसमें आधार के वैकल्पिक वर्चुअल पहचान के उपयोग की सुविधा दी गयी है ताकि व्‍यक्ति के वास्‍तविक आधार नम्‍बर को गुप्‍त रखा जा सके।

विज्ञप्ति के अनुसार इसमें केवल संस्‍थानों को सत्‍यापन करने की अनुमति दी गयी है बशर्ते वे प्राधिकरण द्वारा निर्दिष्‍ट निजता और सुरक्षा के मानकों का अनुपालत करते है। इसके तहत किसी व्यक्ति को अपनी पहचान के लिए अपने पास आधार नंबर होने का प्रमाण देने या उस काम के लिए आधार सत्यापन की प्रक्रिया पूरी करने लिए विवश नहीं किया जा सकता जब तक कि संसद द्वारा पारित किसी कानून में ऐसा कोई प्रावधान हो। संशोधन विधेयक में निजी संस्‍थानों द्वारा आधार के उपयोग से संबंधित आधार अधिनियम की धारा 57 को हटाने का प्रस्‍ताव है। यदि आधार नम्‍बर का सत्‍यापन नहीं हो पाता है तो ऐसी स्थिति में भी किसी व्‍यक्ति को सेवा से वंचित नहीं किया जा सकता। साथ ही इसमें· भारतीय विशिष्‍ट पहचान प्राधिकरण कोष स्‍थापित करने का प्रस्‍ताव है।

INDIA

पानी में हैरतअंगेज कारनामा, हाथ-मुंह में जिंदा मछलियां पकड़ लेता है शख्स

Santosh Chaudhary

Published

on

catching-fish-by-dipping-in-water-with-hands-and-mouth

बॉलीवुड के सुपर स्टार ऋतिक रोशन की फिल्म ‘कृष’ फिल्म का ‘कृष्णा’ तो याद होगा ही जो पानी में हाथ डाल कर जिंदा मछली पकड़ लेता था. ऐसा ही एक शख्स उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में देखने को मिला जो यमुना नदी में छलांग लगाता है और नदी के अंदर से दोनों हाथों में जिंदा मछलियां पकड़ कर निकाल लाता है. सिर्फ दोनों हाथों में ही नहीं बल्कि मुंह में दबाकर भी जिंदा मछली पकड़ कर लाता है.

पानी में हैरतअंगेज कारनामा, हाथ-मुंह में जिंदा मछलियां पकड़ लेता है शख्स

यह अनोखा शख्स है सुगर निषाद. सुगर, फिल्मी अंदाज में कैमरे के सामने यमुना नदी में छलांग लगा कर पानी के अंदर से दोनों हाथों से जिंदा मछलियों को पकड़ कर निकालता है. सुगर ने नदी के पानी में डुबकी लगाई और जब पानी से बाहर निकला तो दोनों हाथों में एक-एक मछ्ली और एक मछली मुंह में दबाए दिखाई दिया.

पानी में हैरतअंगेज कारनामा, हाथ-मुंह में जिंदा मछलियां पकड़ लेता है शख्स

हाथों से मछलियां पकड़ कर लोगों को दांतों तले उंगलियां दबाने पर मजबूर करने वाले इस शख्स का मछलियां पकड़ना शौक बन गया है. यह लोगों की फरमाइश पर उनकी पसंद की मछलियों को नदी से निकाल लाता है.

पानी में हैरतअंगेज कारनामा, हाथ-मुंह में जिंदा मछलियां पकड़ लेता है शख्स

यमुना और बेतवा नदियों के बीच बसा हमीरपुर जिला मुख्यालय के मेरापुर मोहल्ले का रहने वाला 24 साल का सुगर निषाद बचपन से ही नदियों में तैरते हुए बड़ा हुआ.

पानी में हैरतअंगेज कारनामा, हाथ-मुंह में जिंदा मछलियां पकड़ लेता है शख्स

सुगर ने जवान होते-होते उसने नदी के पानी के भीतर से बिना जाल और कांटे के अपने हाथों से मछलियां पकड़ने की कला सीख ली थी. आज वह दुनिया का ऐसा अजूबा शख्स है जो नदी के पानी के भीतर से दोनों हाथों और मुंह से जिंदा मछलियां पकड़ कर निकाल लेता है.

पानी में हैरतअंगेज कारनामा, हाथ-मुंह में जिंदा मछलियां पकड़ लेता है शख्स

सुगर निषाद जब नदी के गहरे पानी से मछलियां निकालता है तब नदी के किनारे खड़े उसके दोस्त अपनी-अपनी फरमाइश की मछलियों को पकड़ने की मांग करते हैं. सुगर उनकी फरमाइश पूरी करने के लिए नदी के पानी से मछलियां पकड़ कर दे देता है. मुफ्त की मछलियों को पाकर लोग खुश हो जाते हैं.

पानी में हैरतअंगेज कारनामा, हाथ-मुंह में जिंदा मछलियां पकड़ लेता है शख्स

सुगर निषाद नदी के पानी के भीतर से अपने हाथों से जो मछलियां पकड़ कर ले आता है. ऐसे सीन सिर्फ फिल्मों में ही देखने को मिलते हैं मगर सुगर ने यह कारनामा कर सबको चौंका दिया.

Input : Aaj Tak

Continue Reading

INDIA

Paytm KYC को लेकर चल रहा बड़ा स्कैम, कंपनी के फाउंडर ने बताए टिप्स

Santosh Chaudhary

Published

on

अगर आप Paytm यूज करते हैं तो आपको अब और भी सावधानी बरतने की जरूरत है. Paytm के फाउंडर विजय शेखर शर्मा ने एक ट्वीट किया है. उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि किसी भी ऐसे मैसेज पर ट्रस्ट न करें जो पेटीएम अकाउंट ब्लॉक करने को कहता है. अकाउंट को लेकर फ्रॉड चल रहा है और इसी तरह लोगों को बेवकूफ बनाया जा रहा है.

Paytm KYC को लेकर इससे पहले भी हमने आपको बताया है कि किस तरह से फ्रॉड KYC के नाम पर पेटीएम अकाउंट में सेंध लगा रहे हैं. पेटीएम KYC के लिए फ्रॉड कॉल्स भी आती हैं और आपसे कार्ड की डीटेल्स तक मांगी जाती है.

Paytm ने कहा है कि KYC से जुड़े स्कैम मैसेज बड़े पैमाने पर फैलाए जा रहा हैं. कंपनी अपने यूजर को कोई भी ऐसा मैसेज नहीं करती है जिसमें किसी तरह के KYC ऐप डाउनलोड करने की बात कही गई है.

Paytm के मुताबिक KYC सिर्फ ऑथराइज्ड KYC प्वाइंड पर ही कराया जा सकता है. इसके अलावा दूसरा ऑप्शन ये है कि आपके घर पर पेटीएम के तरफ से स्टाफ आएंगे और इनके जरिए आप KYC करा सकते हैं.

Paytm KYC को लेकर अलग अलग तरीके के फ्रॉड मैसेज किए जाते हैं. इनमें ये लिखा होता है कि अगर आपने KYC नहीं कराया तो आप पेटीएम अकाउंट यूज नहीं कर पाएंगे. इतना ही नहीं कई फ्रॉड मैसेज में ये भी लिखा होता है कि KYC किए जाने तक आपके पेटीएम अकाउंट से कुछ पैसे होल्ड पर रहेंगे.

Paytm का ऐप ओपन करने पर यूजर्स को एक पॉप अप मैसेज दिया जा रहा है जहां इस तरह के फ्रॉड के बारे में बताया जा रहा है.

इस तरह के फ्रॉड मैजेज को पहचानना आसान है. लेकिन आपको इसकी भी जरूरत नहीं है. क्योंकि पेटीएम ने ये साफ कर दिया है कि कंपनी इस तरह के मैसेज करती ही नहीं है, तो आपको पेटीएम KYC से जुड़े हर तरह के मैसेज को इग्नोर करना चाहिए. अगर पेटीएम KYC को लेकर कॉल आए तो भी आप सावधान रहें और इसकी शिकायत कंपनी को करें. भूल कर भी अपने एटीएम कार्ड या पेटीएम अकाउंट की जानकारी किसी फ्रॉड कॉल को न दें.

Input : Ajj Tak

Continue Reading

INDIA

आंसुओं को बहने दो, ये तुम्हें मजबूत बनाएंगे: इंटरनेशनल मेंस वीक पर सचिन की पोस्ट

Santosh Chaudhary

Published

on

sachin tendulkar

भारत रत्न मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने अपने 1.8 करोड़ प्रशंसकाें को एक भावुक खत लिखा है। ‘इंटरनेशनल मेंस वीक’ के मौके पर बुधवार को इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में उन्होंने कहा कि पुरुषों को अपनी भावनाएं छिपानी नहीं चाहिए। मुश्किल पलों में यदि आप भावुक हो जाएं तो अपने आंसुओं को बहने दें। ये बहते हुए आंसू आपको और मजबूत बनाएंगे। सचिन ने अपने अंतरराष्ट्रीय कॅरिअर से 16 नवंबर 2013 को संन्यास लिया था। उन्होंने इस पत्र में अपनी भावनाओं का जिक्र करते हुए लिखा- ‘‘यह ठीक है कि पुरुष रोएं। यह संदेश इसलिए है कि अपनी भावनाएं जताने के बावजूद एक पुरुष की पौरुषता कम नहीं होती।’’ सचिन का पुरुषों को लिखा पत्र…

Image result for sachin tendulkar"

सोचता था रोने से आदमी कमजोर होते हैं, लेकिन मैं गलत था

सचिन ने कहा, ‘‘आप जल्द ही पति, पिता, भाई, दोस्त, मेंटर और अध्यापक बनेंगे। आपको उदाहरण तय करने होंगे। आपको मजबूत और साहसी बनना होगा लेकिन आपके जीवन में ऐसे पल भी आएंगे, जब आपको डर, संदेह और परेशानियों का अनुभव होगा। वह समय भी आएगा जब आप विफल होंगे और आपको रोने का मन करेगा। लेकिन यकीनन ऐसे समय में आप अपने आंसुओं को रोक लेंगे और मजबूत दिखने का प्रयास करेंगे, क्येंकि पुरुष ऐसा ही करते हैं।’’

View this post on Instagram

To the Men of Today, and Tomorrow! #shavingstereotypes

A post shared by Sachin Tendulkar (@sachintendulkar) on

‘‘पुरुषों को इसी तरह बड़ा किया जाता है कि वे कभी रोते नहीं। रोने से आदमी कमजोर होते हैं। मैं भी इसी तरह बड़ा हुआ हूं लेकिन मैं गलत था। दर्द और संघर्ष ने ही मुझे इतना मजबूत और सफल बनाया है। मैं अपने जीवन में कभी भी 16 नवंबर 2013 की तारीख को भूल नहीं सकता। मेरे लिए उस दिन आखिरी बार पवेलियन लौटना बहुत मुश्किल था और दिमाग में बहुत कुछ चल रहा था। मेरा गला रुंध गया था लेकिन फिर अचानक मेरे आंसू दुनिया के सामने बह निकले और हैरानी की बात है कि उसके बाद मैं शांति महसूस करने लगा था।’’

‘‘रोने और आंसू बहाने में कोई शर्म नहीं है। यह जीवन का हिस्सा है और इससे आप मजबूत बनते हैं। अपना दर्द जताने के लिए काफी हिम्मत की जरूरत होती है। लेकिन यह बात पक्की है कि इस सबसे आप अधिक मजबूत और बेहतर इंसान बनेंगे। मैं आपको यही कहूंगा कि पुरुषों को क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए इस रुढ़िवाद से आगे बढ़िए।’’

Input : Dainik Bhaskar

Continue Reading
Advertisement
BIHAR1 hour ago

मुज़फ़्फ़रपुर : नाबालिग से सामू’हिक दु’ष्कर्म के बाद आरो’पी घूम रहे खुलेआम ; पु’लिस पर लगे गंभीर आरोप

MUZAFFARPUR1 hour ago

मुजफ्फरपुर: प्रेम प्रसंग को लेकर रण क्षेत्र में तब्दील हुआ शहर का एक प्रतिष्ठित मैनेजमेंट कॉलेज

BIHAR1 hour ago

मुजफ्फरपुर के मुशहरी मे जल-नल योजना की राशि का गबन

RELIGION3 hours ago

मुसलमानों का ऐलान..राम मंदिर निर्माण के लिए देंगे 5 लाख रुपए

RELIGION3 hours ago

अयोध्या से जनकपुर तक निकाली जाएगी राम बारात..PM मोदी और योगी हो सकते हैं शामिल

BIHAR4 hours ago

गजब! अधिकारी दो साल से जे’ल में बंद और उनके हस्ताक्षर से बैंक से निकली राशि

TRENDING4 hours ago

फीस जमा करने के लिए पापा ने बेच दी गांव की जमीन, बेटे ने IPS बनकर नाम कर द‍िया ऊंचा

EDUCATION4 hours ago

गुड न्यूज! इंजीनियरिंग MTec और PhD के स्टूडेंट्स की स्कॉलरशिप बढ़ी

RELIGION4 hours ago

ज्वाला देवी : यहां गिरी थी सती की जी’भ, बिना घी और तेल डाले जलती हैं 9 ज्वालाएं

HEALTH4 hours ago

आपका बच्चा डॉक्टर, इंजीनियर या फिर बनेगा सामान्य इंसान, अब DNA से ही हो जाएगा क्लीयर

MUZAFFARPUR5 days ago

मुजफ्फरपुर का थानेदार नामी गुं’डा के साथ मनाता है जन्मदिन! केक काटते हुए सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल…खाक होगा क्रा’इम कंट्रोल?

INDIA5 days ago

आ गया ‘मिर्ज़ापुर 2’ का टीजर, पंकज त्रिपाठी ने इंस्टाग्राम पर किया शेयर

BIHAR4 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

tharki-proffesor
MUZAFFARPUR6 days ago

खुलासा: कोचिंग आने वाली हर छात्रा को आजमाता था मुजफ्फरपुर का ‘पा’पी प्रोफेसर’, भेजा गया जे’ल

BIHAR3 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

JOBS4 days ago

भर्ती : 12वीं पास के लिए CISF में नौकरी, 300 जीडी हेड कांस्टेबल पदों के लिए करें आवेदन

BIHAR3 days ago

जिसकी मौ’त में 23 लोग जेल में, वह जिंदा लौटा

MUZAFFARPUR4 days ago

कुंवारी मां बनी कटरा की पी’ड़िता से दु’ष्क’र्म का आ’रोपी माैलवी गि’रफ्तार

BIHAR2 days ago

तो क्या बंद हो जाएगा ‘कौन बनेगा करोड़पति’, पटना HC में शो पर रोक के लिए दर्ज हुई है याचिका

BIHAR12 hours ago

18 प्रश्नों पर कैंडिडेट्स ने जताई थी आपत्ति, BPSC रद कर सकता है 10 प्रश्न, जानिए

Trending

0Shares