एक ऐसा सांसद जिनके पास है मिट्टी का घर और बांस की छत, मोदी सरकार में बने राज्यमंत्री
Connect with us
leaderboard image

STORY

एक ऐसा सांसद जिनके पास है मिट्टी का घर और बांस की छत, मोदी सरकार में बने राज्यमंत्री

Ravi Pratap

Published

on

ओडिशा से सांसद चुनकर आए प्रताप सारंगी को मोदी कैबिनेट में राज्‍यमंत्री का पद मिला है। लोकसभा चुनाव 2019 में भाजपा और खासतौर पर नरेंद्र मोदी को पूरे देश में जबरदस्त जन समर्थन मिला।

कई ऐसे नेता सांसद चुनकर आए हैं, जो वास्तव में जमीन से जुड़े हैं और बेहद सादगी के साथ जनता के बीच रह कर काम कर रहे हैं। ऐसे ही एक सांसद हैं ओडिशा की बालासोर सीट से जीते प्रताप चंद्र सारंगी। सारंगी को ‘ओडिशा का मोदी’ कहा जाता है।

उन्होंने बीजू जनता दल (BJD) के रविंद्र कुमार जैना को एक लाख से ज्यादा वोटों से हराया। 2014 में जैना ने सारंगी को हराया था, लेकिन इस बार यह शख्स संसद पहुंचने में कायमाब रहा। सारंगी के सांसद चुने जाने के बाद सोशल मीडिया पर उनकी जबरदस्त चर्चा है। खासतौर पर ट्विटर पर उनकी तस्वीरें वायरल हो रही हैं।

प्रताप चंद्र सारंगी का जन्म ओडिशा के एक बेहद गरीब परिवार में हुआ। वे शुरू से धार्मिक प्रवृत्ति के थे और साधु बनना चाहते थे। नीलगिरी के फकीर मोहन कॉलेज से ग्रेजुएशन करने के बाद वे साधु बनने के लिए रामकृष्ण मठ चले गए। वहां लोगों को पता चला कि उनकी मां विधवा हैं और परिवार में कोई नहीं है तो सलाह दी कि वे घर जाएं और मां की सेवा करें।

सारंगी ने शादी नहीं की और अपना पूरा जीवन जनसेवा में लगा दिया है। ये एक छोटे से घर में रहते हैं और साइकिल पर चलते हैं। इनके पास सम्पत्ति के नाम पर कुछ नहीं है। परिवार में माताजी थीं, जिनका बीते साल निधन हो चुका है।

संसदीय क्षेत्र में सारंगी की पहचान ऐसे शख्स के रूप में हैं, जो धर्म और आस्था से जुड़ा है और निःस्वार्थ भाव से लोगों की भलाई के लिए काम करता है। ये बच्चों को पढ़ाते हैं और उन्हें जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा देते हैं।

Input : Mnaiduniya

BIHAR

बिहार के दरभंगा ज़िले के रहने वाले सातवीं पास जमील शाह के जूते की नोक पर नाचता है हॉलीवुड बॉलीवुड

Ravi Pratap

Published

on

बिहार के दरभंगा जिले के रहने वाले सातवीं पास जमील शाह का बस एक ही सपना था मुंबई में रहने वाले बडे-बडे फिल्मी सितारों को एक नजर देखने का, उनसे मिलने का। उनके इसी जूनून ने इन्हें डांसिंग शूज का मास्टर बना दिया। अब तो ये आलम यह है कि कटरीना कैफ, प्रियंका चोपडा से लेकर आमिर खान, सलमान खान, ऋतिक रोशन जैसे कई बडे कलाकार इनके बनाए जूतों के कायल हैं।

जमील शाह बिहार से दिल्ली, बेंगलुरू और फिर सपनों के शहर मुंबई पहुंचे। वे बैकग्राउंड डांसर बनकर बडे-बडे कलाकारों के साथ डांस करना चाहते थे लेकिन यह आसान नहीं था। उनके पास इतने भी पैसे नहीं थे कि वह किसी डांसिंग स्कूल में भर्ती हो सकें। इसलिए उन्हें कई साल तक चौकीदारी करनी पडी। उनके डांस की काबलियत को सबसे पहले देखा जाने-माने डांसिंग गुरु संदीप सोपारकर ने।

जमील शाह की प्रतिभा को देखते हुए संदीप ने उनसे फीस के तौर पर एक रुपया भी नहीं लिया। लेकिन डांस के जूते बेहद महंगे होते हैं। इनकी शुरुआत ही 10 हजार से होती है और इनकी कीमत 2 लाख तक जाती है। फिर भारत में इनका मिलना मुश्किल होता है इसलिए इन्हें कई बडे डांस गुरु इंग्लैंड से एक साथ ऑर्डर देकर मंगवाते हैं।

अब जमील के लिए तो यह संभव नहीं था इसलिए उन्होंने अपने साथ काम करने वाले डांसरों के जूतों को देखकर वैसे ही जूते बनाए और गुरु दक्षिणा के तौर पर उन्हें संदीप सोपारकर को भेंट किया। जूते सबको बेहद पसंद आए और 2007 में वहां से शुरू हुआ डांसिंग जूते बनाने का सिलसिला।

30 साल के जमील शाह का ये सफर धारावी से शुरू हुआ था और ऐसा नहीं कि इसमें मुश्किलें नहीं आईं। वह कहते हैं, ‘मैंने बेहद गरीबी देखी, मुझे अपने गांव वालों और पडोसियों के ताने सुनने पडे। लोग मुझे हीरोइनों के जूते साफ करने वाले और मुजरा करने वाला कहते थे। लेकिन मेरी कामयाबी ने सबको मुंह बंद कर दिया आज वही लोग मेरी तारीफ करते हैं।’

जमील कहते हैं, ‘भारत में ज्यादातर लोग समझते हैं कि आम जूते और डांस में इस्तेमाल किए जाने वाले जूते में कोई फर्क नहीं होता जबकि डांस में इस्तेमाल किए जाने वाले जूते दूसरे जूतों के मुकाबले बेहद अलग होते हैं।’

‘इन जूतों को बनाते वक्त उनके आरामदेह होने, उनके आकार, उनकी कोमलता और वजन का काफी ध्यान रखना पडता है। फिर हर डांस स्टाइल के लिए अलग-अलग जूतों का इस्तेमाल किया जाता है जैसे सालसा, जैज, टैप, बेली, हिपहॉप, लैटिन, साम्बा, जाम्बा, तुम्बा, मॉडर्न, टैंगो और फ्लेमेंको डांस। इन सभी के जूतों में जमीन आसमान का फर्क है।’

धूम 3 में अभिनेता आमिर खान ने जो टैप डांस किया है उसके जूते अलग होते हैं। वो जूते थोडे भारी होते हैं उन जूतों के नीचे एल्युमीनियम की परत लगाई जाती है जिससे डांस करते वक्त इन जूतों से थपथपाहट की जोरदार आवाज आ सके।

इसी तरह फ्लेमेंको डांस के लिए भी जूते के एडी और पंजो को बहुत सख्त बनाया जाता हैं लेकिन फर्क बस इतना होता है कि उनमें एल्युमीनियम के बजाए कीलें ठोकी जाती हैं, जिससे उन जूतों से आवाज थोडी धीमी आए। सालसा डांस वाले जूते बेहद कोमल होते हैं क्यूंकि सालसा डांस करते वक्त पैरों के पंजे पर ज्यादा जोर दिया जाता है इसलिए जूतों का पंजा थोडा चौडा होता हैं और एडी की नोक पतली और लंबी होती।

कुछ जूते तो ऐसे भी होते हैं जिनका वजन और मोजों का वजन और लचीलापन एक सामान होना चाहिए। जैज डांस के जूते तो इतने हलके होते हैं कि उन्हें आप जेब में भी रख सकते हैं। वह मोजे जितने हलके होते हैं उन्हें जैसे चाहे मोड सकते हैं, निचोड सकते हैं। लैटिन बॉल डांस के लिए जो जूते होते हैं वह क्यूबन हील यानी घनाकार वाली हील होते हैं। उन्हें पहनकर एकदम सीधे खडा होना होता है। इन्हें लडके और लडकी दोनों ही पहन सकते हैं।’

जमील कहते हैं, ‘बॉलीवुड के फिल्मी सितारों में सबसे पहले मैंने डिनो मोरया के लिए जूते बनाए थे। फिर प्रियंका चोपडा के लिए फिल्म सात खून माफ के लिए टैंगो डांस के जूते बनाए। धूम 3 में आमिर खान के लिए टैप डांसिंग शूज बनाए। जिंदगी न मिलेगी दोबारा में सेनोरिटा गाने के लिए ऋतिक के लिए सालसा जूते बनाए।’

‘इनके अलावा आलिया भट्ट, काजोल, अजय देवगन, सलमान खान, रणबीर कपूर, कटरीना कैफ, श्रीदेवी जैसे कई सितारों के लिए एक दो जोडी नहीं बल्कि 10 जोडियां तक बनाई हैं।

Input : BBC 

Continue Reading

STORY

PUBG खेलने से रोकने पर बेटे ने का’ट दिया पिता का ग’ला, ला’श के टुक’ड़े-टुक’ड़े किए

Ravi Pratap

Published

on

पबजी (PUBG) की लत कई लोगों में खत’रनाक रूप लेती जा रही है. पबजी को लेकर ऐसा ही एक मा’मला कर्नाटक के बेलागवी जिले में सामने आया है. यहां 25 साल के एक शख्स ने अपने पिता (Father) की इसलिए ह’त्या कर दी, क्योंकि वो उसे पबजी खेलने से मना कर रहे थे।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, रघुवीर कुंभार की कथित तौर पर पबजी खेलने को लेकर अपने पिता के साथ लड़ाई हुई थी. उनके पिता की पहचान 65 साल के शंकरप्पा कुंभार के रूप में हुई, जो एक रिटायर्ड पुलिसकर्मी थे. रविवार को दोनों के बीच गेम खेलने को लेकर बहस हुई और फिर उसके बाद रघुवीर ने अपने पिता पर हम’ला किया. उसने ये हम’ला उनके सिर और पैर पर किया और उनके शरी’र के टु’कड़े-टु’कड़े कर दिए. जिसमें उनकी जा’न चली गई. ये सब उसने इसलिए किया ताकि वो शांति से अपने मोबाइल फोन पर पबजी गेम खेल सके.

बेलागवी पुलिस ने मीडिया को बताया, ‘रघुवीर का फोन छीनने पर और पबजी गेम ना खेलने देने पर उसकी अपने पिता से बुरी तरह से झड़प हो गई थी. इसी दौरान उसने अपने पिता शंकर की ह’त्या कर दी.’ पुलिस के आगे बताया, ‘जब रघुवीर ने अपने पिता पर हमला किया, उस समय शंकर घर में बैठा हुआ था. उसने परिवार के दूसरे सदस्यों को एक कमरे में बंद कर दिया था. उसने अपने पिता को टुक’ड़ों में काट दिया.’

पबजी की लत से हो रहा युवाओं का कॅरियर बर्बाद

पुलिस ने बेटे को गिरफ्तार कर लिया है. आगे की जांच चल रही है. मृ’तक शंकर इस घटना से तीन महीने पहले ही पुलिस विभाग से रिटायर हुए थे. ये घटना सिद्धेश्वर नगर काकटी की है. इस घटना को सुबह 5 बजे अंजाम दिया गया. पबजी की लत में फंस कर युवा अपना कॅरियर बर्बाद कर रहे हैं. ऐसे कई मामले आए दिन सामने आते रहते हैं.

Input : News18

Continue Reading

STORY

सीख : कभी भी अशांत मन से कोई निर्णय नहीं लेना चाहिए, मन शांत होने की प्रतिक्षा करें

Santosh Chaudhary

Published

on

गौतम बुद्ध के जीवन के कई ऐसे प्रसंग हैं, जिनमें छिपी सीख को जीवन में उतार लिया जाए तो हम कई समस्याओं को दूर कर सकते हैं। यहां जानिए ऐसा ही एक प्रसंग…

gautam buddha, motivational story, inspirational story, mahatma buddha story, prerak prasang

  • चर्चित प्रसंग के अनुसार एक व्यक्ति का वैवाहिक जीवन सही नहीं चल रहा था। बार-बार उसका पत्नी से झगड़ा होता था। एक दिन तंग आकर वह जंगल में चला गया। जंगल में उसे महात्मा बुद्ध अपने शिष्यों के साथ दिखाई दिए। बुद्ध शिष्यों के साथ उसी जंगल में रुके हुए थे। दुखी व्यक्ति भी बुद्ध के साथ रहने लगा और उनका शिष्य बन गया।
  • कुछ दिन बाद बुद्ध ने उस व्यक्ति से कहा कि मुझे प्यास लगी है, पास की नदी से पानी ले आओ। गुरु की आज्ञा मानकर वह पानी लेने नदी किनारे गया। नदी पहुंचकर उसने देखा कि जंगली जानकरों की उछल-कूद की वजह से पानी गंदा हो गया है। नीचे जमी हुई मिट्टी ऊपर आ गई है। व्यक्ति गंदा पानी देखकर वापस आ गया।
  • उसने तथागत को पूरी बात बता दी। कुछ देर बाद बुद्ध ने फिर से उसे पानी लाने के लिए भेजा। वह फिर से नदी की ओर चल दिया। जब वह नदी किनारे पहुंचा तो उसने देखा कि पानी एकदम साफ था, नदी की गंदगी नीचे बैठ चुकी थी। ये देखकर वह हैरान हो गया।
  • पानी लेकर वह बुद्ध के पास पहुंचा। उसने पूछा कि तथागत आपको कैसे मालूम हुआ कि अब पानी साफ मिलेगा। बुद्ध ने उसे समझाया कि जानवर पानी में उछल-कूद कर रहे थे, इस वजह से पानी गंदा हो गया था। लेकिन कुछ देर जब सभी जानवर वहां से चले गए तो नदी का पानी शांत हो गया, धीरे-धीरे पूरी गंदगी नीचे बैठ गई।
  • बुद्ध ने कहा कि जब हमारे जीवन में बहुत सी परेशानियां आ जाती हैं तो हमारे मन में उथल-पुथल होने लगती है, शांति भंग हो जाती है। ऐसी स्थिति में ही हम गलत निर्णय ले लेते हैं। हमें मन की उथल-पुथल शांत होने का इंतजार करना चाहिए। धैर्य बनाकर रखना चाहिए। शांत मन से कोई निर्णय लेते हैं तो हम सही निर्णय ले पाते हैं।
  • उस व्यक्ति को समझ आ गया कि उसने घर छोड़ने का निर्णय अशांत मन से लिया था, जो कि गलत है। उसने बुद्ध से घर लौटने की आज्ञा ली और वह अपनी पत्नी के पास चला गया।
Continue Reading
Advertisement
MUZAFFARPUR12 mins ago

मुज़फ़्फ़रपुर में फिनांसकर्मी से पि’स्टल के ब’ल पर लू’ट

MUZAFFARPUR1 hour ago

संतान की दीर्घायु, आरोग्यता व कल्याण के लिए माताएं करेंगी जीवित्पुत्रिका व्रत

MUZAFFARPUR1 hour ago

मुजफ्फरपुर के लाल साहिल बनें अमेरिकन टीवी शो ‘वर्ल्ड ऑफ डांस’ के उपविजेता

INDIA2 hours ago

तेलुगु स्टार नागार्जुन ने पी वी सिंधु को गिफ्ट की 73 लाख की BMW X5 SUV

BIHAR2 hours ago

जिस तेजस विमान से रक्षा मंत्री ने रचा इतिहास उसे उड़ा रहा था बिहार का लाल

INDIA2 hours ago

आयुष्मान भारत योजना के तहत अब रेलवे अस्पताल में भी इलाज

BIHAR3 hours ago

समस्तीपुर की बेटी अंजलि की नई उड़ान, रूस में बनीं सैन्य राजनयिक

MUZAFFARPUR3 hours ago

मुज़फ़्फ़रपुर में एक ही गांव के 43 लोगो को फ़ूड पॉइजनिंग ; अस्पताल में चल रहा इलाज़

MUZAFFARPUR4 hours ago

ठेकेदार के घर से चो’री करते पकड़ी गई छात्र

INDIA5 hours ago

मोदी सरकार का ऐलान- कैंप लगाकर 200 जिलों में बांटे जाएंगे लोन, गवाह बनेंगे सांसद

INDIA2 weeks ago

New MV Act के भारी चालान से बचा सकता है आपका स्मार्ट फोन, जानिए- कैसे

BIHAR2 weeks ago

ट्रैफिक फाइन-DL व RC नहीं दिखाने पर तत्काल नहीं कट सकता चालान, जानिए नियम

BIHAR1 week ago

UP-दिल्ली-बिहार समेत देश भर के लोगों को DL-RC में अपडेट करनी होगी ये जानकारी

Uncategorized2 weeks ago

Jio Fiber Plans हुए लॉन्च, जानें कैसे आपकी जिंदगी और घर खर्च पर पड़ेगा इसका असर

BIHAR1 week ago

KBC सीजन 11 का पहला करोड़पति बना बिहार का लाल, जहानाबाद के सनोज राज ने रचा इतिहास

BIHAR2 weeks ago

बिहार पु’लिस का आदेश – चप्पल पहनकर बाइक चलाई तो एक हजार जु’र्माना

OMG1 week ago

दिल्ली में कटा ‘भगवान राम’ का 1.41 लाख का चालान, कोर्ट में जाकर भरा

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर में पु’लिस पर ह’मला: ASI समेत 3 पुलिसकर्मी हुए ज’ख्मी

BIHAR3 weeks ago

370 इफ़ेक्ट: बिहारी लड़कों ने कश्मीरी लड़कियों से रचाई शादी, सुपौल लाते ही लग गया थाने का चक्कर

BIHAR2 weeks ago

10 दिन पहले 56 हजार में खरीदी थी स्कूटी, 42 हजार का आया चा’लान

Trending