Connect with us

MUZAFFARPUR

एक बार फिर से मुज़फ़्फ़रपुर में तीन कोरोना संक्रमितों ने दी कोरोना को मात

Muzaffarpur Now

Published

on

12 मई को तीन कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए थे। जिनमें से दो बोचहां और एक पारू से संबंधित है। उक्त तीनों मरीजों को कोविड केयर सेंटर में आइसोलेट कर निर्धारित प्रोटोकॉल के तहत इलाज किया जा रहा था। तीनों मरीज कल प्रथम जांच के बाद नेगेटिव पाए गए थे। इसके पूर्व 09 और पुनः तीन कुल 12 मरीज स्वस्थ हो चुके है।

इस तरह कुल 12 कोरोना पॉजिटिव मरीजों ने कोरोना के विरुद्ध जंग में फतह हासिल की है। कल जिनके जांच नेगिटिव आये थे उन तीनों मरीजों को आज उनके घर होम कोरोनटाइन के लिए भेज दिया गया। इस तरह से जिले में कुल 12 मरीज अब तक स्वस्थ हो चुके हैं। जिलाधिकारी के निर्देश के आलोक में स्वास्थ्य विभाग की मेडिकल टीम द्वारा आइसोलेट किए गए मरीजों की चिकित्सा निर्धारित प्रोटोकॉल के तहत की जा रही है तथा आइसोलेशन केंद्र में भर्ती मरीजों के लिए सभी आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं। जिलाधिकारी स्वयं भी हालात पर नजर रखे हुए हैं एवं उनके द्वारा आवश्यक निर्देश भी दिए जा रहे है।

MUZAFFARPUR

जन्मदिन विशेष: रामधारी सिंह दिनकर ने अपनी कालजयी रश्मिरथी की रचना मुजफ्फरपुर में प्राध्यापक रहते हुए की थी

Ravi Pratap

Published

on

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर का इस शहर से खास लगाव रहा है। उन्होंने अपनी कालजयी रचना रश्मिरथी का लेखन एलएस कॉलेज में प्राध्यापक रहने के दौरान ही किया था। वर्ष 1950 में जब लंगट सिंह कॉलेज में स्नातकोत्तर में हिंदी की पढ़ाई शुरू हुई तो रामधारी सिंह दिनकर ने अध्यक्ष के रूप में इस विभाग में योगदान दिया। यहीं से उन्होंने रश्मिरथी की रचना की। यह रचना पूरे विश्व में प्रचलित हुई। 1952 तक वे इस कॉलेज में रहे। कवि दिनकर को आलोचक बनाने में इस शहर और खासकर एलएस कॉलेज का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। यहां अध्यापन के दौरान दिनकर की आलोचनात्मक प्रवृत्ति निखरी। उन्होंने अपनी रचना संस्कृति के चार अध्याय के कुछ अंश भी यहीं लिखे थे। यह पुस्तक दिनकर की लंबी कार्य साधना का प्रतिफल है। इसका प्रकाशन 1956 में हुआ था और इसके लिए उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया था। कॉलेज में दिनकर की स्मृतियों को संजोने के लिए पार्क का नाम उनके नाम पर रखा गया। इसमें उनकी प्रतिमा भी लगाई गई है। वहीं बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के पीजी हिंदी विभाग के पुस्तकालय का नाम दिनकर के नाम पर रखा गया है। यहां दिनकर की प्रतिमा और उद्यान का भी निर्माण प्रस्तावित है।

रश्मिरथी आज की आधुनिक गीता

बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ.सतीश कुमार राय कहते हैं कि दिनकर का बचपन अभाव में बीता और 1928 में उन्होंने पहली रचना विजयी संदेश लिखी थी। इसके बाद 1935 में रेणुका के प्रकाशन के बाद दिनकर सर्वमान्य हुए। मुजफ्फरपुर आने के बाद उन्होंने रश्मिरथी की रचना की। यह कर्ण के चरित्र को ध्यान में रखकर लिखा गया प्रबंध काव्य है। इसे मनुष्य की शक्ति, समतामूलक समाज और बंधुत्व को ध्यान में रखते हुए लिखा गया है। इसमें साधना, संकल्प और संघर्ष तीनों की अभिव्यक्ति है। रश्मिरथी को लोग आधुनिक गीता के रूप में स्वीकार करते हैं। यह मनुष्य के कर्मवाद को पोषित करनेवाला काव्य ग्रंथ है। इसकी पंक्ति मानव जब जोर लगाता है पत्थर पानी बन जाता है। इसमें मानव की शक्ति का दिनकर ने उद्घोष किया है। इस काव्य के माध्यम से उन्होंने न्याय, धर्म, मनुष्यता और मानव की शक्ति का रेखांकन किया है।

रश्मिरथी के बाद ही संस्कृति के चार अध्याय के लिए जुटाने लगे थे नोट्स

एलएस कॉलेज के हिंदी विभाग के वरीय प्राध्यापक प्रो.प्रमोद कुमार बताते हैं कि 1942 के आंदोलन के समय जब जेपी व अन्य क्रांतिकारी गिरफ्तार हुए इसके बाद जब वे जेल से निकले तो 1944 में पटना के गांधी मैदान में एक बड़ी सभा हुई। इसमें जेपी का नागरिक अभिनंदन किया गया। इसको लेकर दिनकर जी पहली बार साहित्यिक पटल पर प्रमुखता से उभरे, जिसमें उनका सामाजिक सरोकार भी दिखा। कहते हैं उसको जयप्रकाश जो नहीं मरण से डरता है… इससे उन्हें बाद में राष्ट्रीय कवि के रूप में स्वीकृति मिली। दिनकर ने अपनी डायरी में लिखा कि एक बार उन्हें पंडित जवाहर लाल नेहरू ने कहा कि तुम जेपी पर कविता लिखते हो पर मेरे पर नहीं। डायरी में उन्होंने लिखा कि उनके सामने कैसे कहता कि कविता लिखने की प्रेरणा हृदय से आती है। जेपी के साहसिक कर्म को देखकर प्रेरणा मिली तो मैंने कविता लिखी पर उनसे नहीं मिली इसीलिए नहीं लिखी। कहा कि इस बात को वे सार्वजनिक नहीं कह सकते थे। प्रो.प्रमोद ने यह भी बताया कि एलएस कॉलेज में रश्मिरथी के लेखन के बाद दिनकर ने संस्कृति के चार अध्याय लिखने की शुरुआत के लिए नोट््स जुटाने शुरू कर दिए थे। इसके बाद वे राज्यसभा चले गए थे।

Continue Reading

MUZAFFARPUR

आज जवाहरलाल रोड आर्य समाज मंदिर के समीप पांच घंटे तक नहीं रहेगी बिजली, आपके मोहल्ले में रहने वाला है यह हाल

Ravi Pratap

Published

on

भिखनपुरा पावर सब स्टेशन के रामदयालु सेक्शन में आनंद मार्ग आश्रम मोहल्ले में बुधवार को मेंटेनेंस को लेकर सुबह 10 से शाम चार बजे तक बिजली बंद रहेगी। भिखनुपरा टाउन-1 फीडर में दोपहर 12 से दो बजे तक, पताही फीडर में सुबह 10 से शाम चार बजे तक, अलकापुरी मोहल्ले में सुबह 9 से शाम छह बजे तक, सिकंदरपुर में लीची गाछी रोड में सुबह 11 से दोपहर तीन बजे तक, माड़ीपुर 11 केवीए फीडर में सुबह 10 से दोपहर एक बजे तक, नयाटोला इलाके में जवाहरलाल रोड आर्य समाज मंदिर के समीप सुबह 11 से शाम चार बजे तक, एमआइटी इलाके में सुबह 10 से शाम पांच बजे तक, चंदवारा जुम्मा मस्जिद और मालीघाट इलाके में सुबह 10 से शाम पांच बजे तक विद्युत आपूर्ति बाधित रहेगी।

तेज हवा व बारिश से जिले के कई इलाकों की

तेज हवा व बारिश से सोमवार की रात से ही जिले के कई इलाकों में बिजली आपूर्ति चरमरा गई। बीबीगंज इलाके में घंटों बिजली ठप रहने से पानी के लिए हाहाकार मचा रहा। पानी नहीं मिलने से महिलाएं किचन में सही से काम भी नहीं कर पाईं। बीबीगंज के मनीष कुमार ने कहा कि पूरी रात बिजली नहीं मिली और दिन में भी आती-जाती रही। वहीं मार्कन फीडर में सोमवार को आधी रात ब्रेकडाउन से आठ घंटे तक रघुनाथपुर सभापुर से लेकर तरौरा गांव तक की बिजली बंद रही। जदयू नेता महमूद आलम ने बताया कि मार्कन और रोहुआ फीडर में आएदिन तार टूटने की घटना हो रही है। बड़ा फीडर होने से प्रतिदिन कुछ न कुछ समस्या आ रही है। बिजली नहीं मिलने से उपभोक्ता परेशान हैं। महंत मनियारी इलाके का भी कुछ ऐसा ही हाल रहा। साहेबगंज के मोरहर गांव में प्रतिदिन बिजली कट रही है। समाजसेवी अमरेश कुमार ने बताया कि दिन के एक बजे कटी बिजली देर रात तक नहीं आई।

Input: Dainik Jagran

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर में बाढ़ राहत के नाम पर खूब हुआ खेल, एक ही परिवार के 14 लोगों को बांटी गई राशि

Ravi Pratap

Published

on

जिले में इस बार बाढ़ ने जिस अनुपात में तबाही मचाई उसी अनुपात में बाढ़ राहत के नाम पर लूट हुई। इसका एक उदाहरण बंदरा में देखने को मिला। जब एक ही परिवार के नौ ताे कहीं एक ही परिवार के 14 लोगों को राहत राशि दे दी गई। इसको लेकर जब मुखिया संघ ने आमरण अनशन किया तो इसके बाद जांच की प्रक्रिया आरंभ की गई है।

अनशन समाप्त होने के बाद इससे संबंधित सात सूत्री मांगों पर कार्रवाई करते हुए प्रशासनिक अधिकारियों ने बाढ़ राहत राशि वितरण में अनियमितता को लेकर प्रखंड मुख्यालय के सभागार में सूची की जांच शुरू की। सीओ रमेश कुमार ने बताया कि मुखिया संघ द्वारा बाढ़ राहत राशि वितरण में अनियमितता की जांच की मांग पर जांच हत्था पंचायत से शुरू की गई। सूची जांच के लिए प्रखंड के शिक्षक को प्रतिनियुक्त किया गया है। जांच पूरी होने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। वहीं, पटसारा पंचायत के शत्रुध्न सहनी ने सीओ को आवेदन देकर पंचायत के वार्ड नंबर 10 में एक परिवार में नौ तथा एक परिवार में 14 लोगों को बाढ़ राहत राशि देने की शिकायत की। वहीं, दूसरेे प्रखंड और अन्य पंचायत के लोगों का नाम समेत 90 लोगों को चिह्नित कर जांच की मांग की गई।

बाढ़ राहत राशि को लेकर अनशन पर बैठे पीडि़त

साहेबगंज प्रखंड परिसर में वासुदेवपुर सराय पंचायत के दिनेश कुमार, चिंता देवी,सुनीता देवी, संतोष कुमार, बुधिया देवी तथा हेमंती देवी ने बाढ़ राहत राशि से वंचित लोगों का नाम सूची में जोडऩे को लेकर अनशन प्रारंभ किया। उनका कहना है कि बाढ़ राहत सहायता राशि की सूची में छूटे बाढ़ पीडि़तों का नाम अविलंब शामिल किया जाए, जिन बाढ़ पीडि़तों का डाटा इंट्री कर दिया गया है उन्हें अविलंब भुगतान किया जाए, बाढ़ राहत राशि के नाम पर वसूली पर रोक लगाई जाए, पंचायत के बाहर के लोगों के नाम पर पैसा भेजकर बाढ़ राहत राशि की लूट की जांच कराई जाए। सीओ राकेश कुमार ने बताया कि प्रखंड में 27 हजार 635 लाभुकों का नाम इंट्री किया गया जहां 25 हजार 284 लोगों की अर्जी को स्वीकृति प्रदान करते हुए भुगतान खाते में भेज दी गई। शेष लाभुकों की स्वीकृति आना बाकी है। स्वीकृति मिलते ही भुगतान कर दिया जाएगा।

Continue Reading
BIHAR8 mins ago

गृह विभाग की साईट से गायब हुई गुप्तेश्वर पांडे के VRS की अधिसूचना

BIHAR25 mins ago

खाकी छोड़ खादी पहनेंगे पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय

MUZAFFARPUR36 mins ago

जन्मदिन विशेष: रामधारी सिंह दिनकर ने अपनी कालजयी रश्मिरथी की रचना मुजफ्फरपुर में प्राध्यापक रहते हुए की थी

MUZAFFARPUR58 mins ago

आज जवाहरलाल रोड आर्य समाज मंदिर के समीप पांच घंटे तक नहीं रहेगी बिजली, आपके मोहल्ले में रहने वाला है यह हाल

BIHAR1 hour ago

जानिए VRS के नियमों के बारे में, जिसकी सहायता से गुप्तेश्वर पांडे हुए पूर्व डीजीपी

INDIA3 hours ago

24 सितंबर से खुलेंगे गुवाहाटी के कामाख्या मंदिर के दरवाजे, 15 मिनट से ज्यादा कोई नहीं रह पाएगा मंदिर के अंदर

BIHAR3 hours ago

बिहार में 27 सितंबर तक भारी बारिश के आसार, आपदा प्रबंधन विभाग ने जारी किया अलर्ट

dgp-gupteshwar-pandey
BIHAR10 hours ago

पुर्व DGP आगे की रणनीति कल शाम 6 बजे करेंगे सार्वजनिक, बताएँगे कहाँ से लडेंगे चुनाव!

BIHAR11 hours ago

चुनाव से पहले बिहार के DGP गुप्तेश्वर पांडेय ने लिया VRS, नीतीश सरकार ने किया मंजूर

INDIA12 hours ago

पहली बार जंगी जहाज पर दो महिला ऑफिसर्स की तैनाती, जानिए कौन हैं सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्‍यागी

BIHAR1 week ago

KBC जीत करोड़पति बने थे सुशील कुमार, सेलेब्रिटी बनने के बाद देखा सबसे बुरा समय

BOLLYWOOD6 days ago

कंगना रनौत का जया बच्चन को जवाब- हीरो के साथ सोने के बाद मिलता था 2 मिनट का रोल

BIHAR1 week ago

जाते जाते भी लोगो के लिए मांग रखकर, रुला गए ब्रह्म बाबा..

JOBS3 weeks ago

Amazon दे रहा पैसा कमाने का मौका! सिर्फ 4 घंटे में कमा सकते हैं 60000-70000 रु

BIHAR2 weeks ago

बारिश में भीगकर ट्रैफिक कंट्रोल कर रहा था कांस्टेबल, रास्ते से गुजर रहे DIG ने गाड़ी रोक किया सम्मानित

MUZAFFARPUR2 weeks ago

पिता जदयू में और मां लोजपा में, बेटी कोमल सिंह लड़ेगी मुजफ्फरपुर के गायघाट से चुनाव!

BIHAR4 weeks ago

बिहार में बड़ी संख्या में निकलने वाली है कंप्यूटर ऑपरेटर्स की भर्ती, कर लें तैयारी

INDIA3 weeks ago

एलपीजी सिलिंडर बुकिंग पर मिल रहा है 500 रुपये तक का कैशबैक, करें बस यह छोटा सा काम

INDIA7 days ago

ज्यादा खर्च करने पर पति ने टोका, पत्नी ने दौड़ा-दौड़ाकर वाइपर से की पिटाई

BIHAR1 week ago

बिहार: राजधानी पटना समेत कई जिलों में भूकंप के झटके

Trending