Connect with us

INDIA

औरतों के लिए खुला है आसमान, न डरें, न झिझकें, इन टिप्स को ध्यान में रखकर आगे बढ़ती चलें

Muzaffarpur Now

Published

on

आजकल के दौर में लड़के हों या लड़कियां कोई किसी से कम नहीं है. वक्त के साथ महिलाएं जिस तरह आसमान को छू रही हैं, ठीक उसी तरह उनके प्रति होने वाले अपराधों का ग्राफ भी तेजी से बढ़ रहा है. आज के समय में महिलाओं के साथ लूट, छीना-झपटी, छेड़छाड़, अपहरण, रेप जैसी घटनाएं बढ़ती ही जा रही हैं. सड़क, ऑफिस, कार तो क्या महिलाएं आज अपने घर में भी सुरक्षित नहीं हैं. चाहे कॉलेज स्टूडेंट हों, नौकरीपेशा महिला हो या हाउसवाइफ हो, हर जगह उन्हें अपनी सुरक्षा का खतरा बना ही रहता है. किसके साथ कब क्‍या हो जाए किसी को नहीं पता?

बाजार में, ट्रेन या बस में यात्रा करते वक्त, लिफ्ट में या गली मोहल्ले में बदमाश लड़कों का छेड़छाड़ करना, उन पर अश्लील कमेंट करना, इशारे करना जैसे रोज की ही बात हो गई है. कई बार ऐसी घटनाओं से परेशान होकर लड़कियां घर से निकलना बंद कर देती हैं या रास्तों को बदल लेती हैं. ऐसा करने से इस तरह के लोगों का हौसला और भी बढ़ जाता है. हालांकि हर जगह हर बात पर हर किसी से उलझना या बहस करना भी ठीक नहीं है और कुछ बातों को इग्नोर करना ही सही होता है लेकिन अगर पानी सिर से ऊपर चढ़ने लगे तो फिर सबक सिखाना भी जरूरी हो जाता है.

महिलाओं की सुरक्षा के लिए कई तरह के कानून है, लेकिन कानून तब तक कुछ नहीं कर सकता जब तक एक नारी खुद अपने लिए आवाज़ को बुलंद नहीं करती है. जब एक नारी अपने अधिकारों के लिए आवाज़ को बुलंद करती है तभी उसे न्याय मिलता है. न्याय के लिए दरवाजा भी तो नारी तभी खटखटाएगी जब उसे अपने अधिकारों और स्वयं की रक्षा कैसे की जाए इसके बारे में पूरी तरह से जानकारी होगी. रास्ते पर चलते वक्त, ऑफिस में निकलते समय, बस, ट्रेन या फ्लाइट में कैसे करें खुद की सुरक्षा आइए जानते हैं.

ऐसे करें खुद की सुरक्षा

– किसी भी चीज की शुरुआत घर से ही होती है, इसलिए जरूरी है कि जब आप ऑफिस, कॉलेज, किसी पार्टी या दोस्तों से मिलने के लिए जाएं तो घर पर पापा, मां, भाई या बहन को जानकारी अवश्य दें. अगर, आपको रास्ते में किसी तरह की कोई समस्या होती है तो मदद लेने में आसानी होगी.

– अगर, आप रात को ट्रैवल कर रही हैं तो गाड़ी और ड्राइवर का नंबर अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ जरूर शेयर करें.

– आजकल के वक्त में स्मार्टफोन काफी एडवांस हो गए हैं. ऐसे में अगर आप अकेले सफर कर रही हैं या कहीं जाती हैं तो व्हाट्सऐप लोकेशन ट्रैक को ऑन रखिए. इस फीचर के जरिए आपके दोस्त या जानने वाले लोग आप इस वक्त कहां इसके बारे में आसानी से जान पाएंगे.- बाजार में महिलाओं के लिए कई तरह के सेफ्टी स्प्रे मौजूद है. जिन्हें आप आसानी से कैरी कर सकती हैं और वक्त आने पर छेड़खानी करने वालों को सबक सिखा सकती हैं.

– खुद की सुरक्षा के लिए आपको थोड़ा सा फिजिकली एक्टिव रहने की जरूरत है. फिजिकली एक्टिव रहने और सुरक्षा के लिहाज हर महिला को सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग लेनी चाहिए.

हर बार इग्नोर करना सही नहीं

– अमूमन छेड़खानी करने वाले लड़कों को महिलाएं नजरअंदाज कर जाती है. एक बार तो नजरअंदाज करना सही है, लेकिन हर बार ऐसा करना गलत है. सड़क पर चलते वक्त कोई लड़का आपके साथ गलत व्यवहार करता है या अपशब्द बोलता है तो जोर से चिल्लाइए.

– फोर्क या नुकीली चीज़ साथ में रखिए- जैसे आपको फील हो कि आपके साथ कुछ गलत हो रहा है, उस समय आप किसी नुकीली चीज़ फोर्क, चाकू या फिर हेयर पिन से वार करके वहां से भाग निकलिए.

– प्राइवेट पार्ट पर ही करें वार- रास्ते में चलते वक्त जैसे ही कोई आपके शरीर को गलत इरादों से टच करने की कोशिश करता है या आपके साथ जबरदस्ती बनाने पर उतारू होता है तो इस स्थिति में उसके प्राइवेट पार्ट पर जोर से वार कीजिए. प्राइवेट पार्ट पर वार करते ही वहां से भाग जाइए और पुलिस को फोन करिए.

– खुद पर रखें भरोसा- देर रात अकेले सफर करते वक्त या सड़क पर चलते वक्त कोई आपका पीछा करता है, तो घबराने की नहीं बल्कि खुद पर भरोसा रखने की जरूरत है. ऐसे वक्त में बिना पीछे देखे सीधा चलते रहिए और आसपास कोई एटीएम, दुकान गार्ड या गेटकीपर को देखिए. जैसे ही आपको इनमें से कोई एक भी ऑप्शन मिलता है तो उन्हें इस बात की जानकारी दीजिए.

अगर, रास्ते में यह सब आपको नहीं दिखता है तो एटीएम में जाकर दो पल के लिए खड़े हो जाइए, वहां पर लगे कैमरे में उसकी पहचान सामने आने के डर से वह वहां से भाग जाएगा.

गैजेट्स बन सकते हैं हथियार

– बाजार में कई सारे ऐसे प्रोडक्ट्स मौजूद है जो आपकी मदद कर सकते हैं. ऐसे में आप की-चेन के तौर पर एक पर्सनल आलर्म कैरी कर सकती हैं. इससे जब भी आप परेशानी में हो इस अलार्म चेन के ट्रिगर को खींच सकती हैं, जिससे बहुत जोर की आवाज निकलेगी. जिससे आप पर हमला करने वाला शख्स भाग निकलेगा.

– गले में लॉकेट या हाथों में ब्रैसलेट जैसा दिखने वाला जीपीएस ट्रैकर भी एक कमाल का डिवाइस है. इस डिवाइस से आपको मुसीबत के वक्त मोबाइल फोन ढूढने की जरूरत नहीं पड़ेगी. इस ट्रैकर में आपको सिम कार्ड डालकर मोबाइल में AIBEILE एप्लीकेशन को इनस्टॉल करना होगा. इसके बाद बॉक्स पर आपके सामने कुछ पासवर्ड आएंगे, जिन्हें सेट करने के बाद इमरजेंसी नम्बर सेट कीजिए. मुसीबत के वक्त जैसे ही आप इसे प्रेस करेंगी तो यह आपके इमरजेंसी कॉन्टैक्ट के पास मैसेज पहुंचाएगा. साथ ही उस वक्त आप कहां पर मौजूद हैं इसके बारे में भी पूरी जानकारी ऑटोमेटिक पहुंचा देगा.

– आज बाजार में कई ऐसी टॉर्च मौजूद हैं जो हमलावर पर दिखाते ही उसे बिजली के करंट का झटका देती हैं. ये टॉर्च उन महिलाओं के लिए बेस्ट हैं जो ऑफिस में लेट नाइट वर्क करती हैं.

बच्चों को भी दें ट्रेनिंग

– आज के वक्त में छोटे बच्चों के साथ भी अपराध का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि उन्हें भी अपराध की बेसिक जानकारी दी जाए. कोई शख्स आपको किस नीयत से छू रहा है, वह किस जगह, किस तरीके से छू रहा है वो सही या गलत इसके बारे में बच्चों को जानकारी देना बहुत ज्यादा जरूरी है.

– बच्चा 3 से 4 साल का हो गया जाए, तो उसे यह बताना शुरू कर दीजिए कि कोई अनजान उसे खाने दो या साथ चलने को कहे तो इनकार कर दें.

– बच्चों को प्राइवेट पार्ट्स के बारे में जानकारी दें. उन्हें बताएं कि इन पार्ट्स को माता-पिता के अलावा कोई छूता है तो यह गलत व्यवहार है. इस दौरान उसे चिल्लाना है, आसपास के लोगों को बुलाना है.

– बच्चे को बताएं कि उसे किसी भी अनजान के ज्यादा नजदीक जाने की जरूरत नहीं है. अगर, कोई उसे गोद में बैठाने की कोशिश करता है या उसके शरीर के किसी हिस्से को चूमता है तो उसे मना करना है.

कार्यक्षेत्र पर जानिए अपने अधिकारों के बारे में

जैसा कि ऊपर भी लिखा गया है कि जब हमें अधिकारों की जानकारी होगी, तभी आवाज को बुलंदी मिलेगी. इसलिए हर महिला के लिए जरूरी है अपने अधिकारों के बारे में जानना. हालही में कार्यस्थल पर महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न एक बड़ी समस्या बनकर सामने आई है. इस दौरान आपके साथ एक ही कार्यालय में काम करने वाला शख्स, शारीरिक संपर्क और उसके आगे जाना, या यौन संबंधों की मांग या अनुरोध, यौन से संबंधित टिप्पणियां, किसी भी तरह की अश्लीलता दिखाने की कोशिश करता है. इस तरह के मामले में आप अपने सीनियर्स या एडमिन डिपार्टमेंट में शिकायत दर्ज करवाते हुए कार्रवाई की मांग कर सकती हैं. कार्यस्थल पर होने वाले यौन-उत्पीड़न के ख़िलाफ़ वर्ष 1997 में सर्वोच्च न्यायालय ने कुछ निर्देश जारी किए थे. सर्वोच्च न्यायालय के इन निर्देशों को ‘विशाखा गाइडलाइन्स’ के रूप में जाना जाता है.

Input : News18

INDIA

चुनावी रैली में बोलीं ममता बनर्जी- बीजेपी की वजह से पश्चिम बंगाल में बढ़े कोरोना केस

Ravi Pratap

Published

on

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की वजह से राज्य में कोरोना के केस बढ़ रहे हैं। ममता बनर्जी ने कहा कि बीजेपी चुनाव में प्रचार के लिए बाहरी लोगों को ला रही है और इस वजह से संक्रमण फैला है। राज्य में विधानसभा चुनाव के चार चरण हो चुके हैं और चार चरणों की वोटिंग अब भी बाकी है और संक्रमण की रफ्तार बढ़ने के बावजूद सभी पार्टियां बड़ी-बड़ी रैलियां कर रही हैं, जिनमें कोरोना नियमों का जमकर उल्लंघन होता दिख रहा।

जलपाईगुड़ी एक चुनावी रैली में ममता ने कहा, “वे लोग (भाजपा नेता) चुनाव प्रचार के लिए बाहरी लोगों को लेकर आए हैं जिससे कोविड मामलों में वृद्धि हुई। हमने कोविड स्थिति पर काबू पा लिया था लेकिन उन्होंने इसे जटिल बना दिया।” ममता बनर्जी ने यह भी आरोप लगाया कि बीजेपी की अगुआई वाली केंद्र सरकार राज्यों की इस अपील को नजरअंदाज कर रही है कि सभी लोगों को कोरोना का टीका दिया जाए, जिससे बीमारी को फैलने से रोका जा सकता है।

निर्वाचन आयोग द्वारा 24 घंटे के लिए चुनाव प्रचार पर रोक लगाए जाने के फैसले के संबंध में उन्होंने कहा, “क्या हिंदुओं, मुस्लिमों और अन्य लोगों को एक साथ वोट देने के लिए कहना गलती है? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में क्या कहना है जो हर चुनावी बैठक में मेरा मजाक उड़ा रहे हैं? उन्हें चुनाव प्रचार करने से क्यों नहीं रोका गया?”

प्रधानमंत्री मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर चुनावी रैलियों में झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता ने कहा, “केंद्र ने एनआरसी और एनपीआर विधेयकों को जीवित रखा है, लेकिन गृह मंत्री ने एक सभा में दावा किया था कि राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर को लागू करने की उनकी कोई योजना नहीं है।”

ममता ने कहा, ”उन पर विश्वास मत करो। अगर वे सत्ता में आए तो आपको भी असम में 14 लाख बंगालियों (पूर्वोत्तर राज्य में अंतिम एनआरसी के संदर्भ में) जैसा अनुभव हो सकता है। भाजपा एक खतरनाक पार्टी है जो बंगाल को विभाजित करने का प्रयास कर रही है।”

Input: Live Hindustan

Continue Reading

INDIA

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ कोरोना पॉजिटिव, बोले- वर्चुअली कर रहा हूं काम

Ravi Pratap

Published

on

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मुख्यमंत्री योगी ने खुद ट्वीट कर जानकारी दी है कि शुरुआती लक्षण दिखने पर मैंने कोविड की जांच कराई और मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मैं सेल्फ आइसोलेशन में हूं और डाॅक्टरों की सलाह का पूर्णतः पालन कर रहा हूं। सभी कार्य वर्चुअली संपादित कर रहा हूं।

सीएम योगी ने ट्वीट कर बताया है कि प्रदेश सरकार की सभी गतिविधियां सामान्य रूप से संचालित हो रही हैं। इस बीच जो लोग भी मेरे संपर्क में आएं हैं वह अपनी जांच अवश्य करा लें और एहतियात बरतें। बता दें कि इससे पहले आज सुबह ही पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके अलावा योगी सरकार में मंत्री आशुतोष टंडन की भी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

शुरुआती लक्षण दिखने पर मैंने कोविड की जांच कराई और मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। कल से ही आइसोलेट हैं सीएम :

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद को मंगलवार से ही आइसोलेट कर लिया था। वह अपना सारा कामकाज अपने आवास से वर्चुअली कर रहे थे। कोरोना स्थिति पर रोजाना होने वाली टीम 11 की बैठक उन्होने मंगलवार को वर्चुअली ही संबोधित किया था। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को ट्वीट करके बताया था कि उनके कार्यालय के कुछ अधिकारी कोरोना से संक्रमित हुए हैं। यह अधिकारी उनके संपर्क में रहे हैं, अतः उन्होंने एहतियातन अपने को आइसोलेट कर लिया है एवं सभी कार्य वर्चुअली कर रहे हैं। आज सीएम की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आ गई है।

Input: Live Hindustan

Continue Reading

INDIA

अस्पताल के फ्रीजर में नहीं शव रखने की जगह? खुले में पड़े शवों का वीडियो वायरल

Ravi Pratap

Published

on

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के सबसे बड़े अस्पताल भीमराव अंबेडकर में कोरोना का खौफनाक मंजर देखने को मिल रहा है। इस अस्पताल का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है जिसमें अब तक की कोरोना की सबसे खतरनाक तस्वीर देखने को मिल रही है। वीडियो में धूप में स्ट्रचैर पर रखे शव साफ देखे जा सकते हैं। वीडियो के मुताबिक अस्पताल में शवों को रखने के लिए जगह नहीं है, फ्रीजर भर चुके हैं। जिसके कारण कई शवों को स्ट्रैचर पर धूप में रखा गया है और कुछ को तो जमीन पर ही रख दिया है।

इस वीडियो को देखने के बाद पता चल रहा है कि कोरोना वायरस ने हेल्थ केयर सिस्टम को तोड़ने का काम शुरू कर दिया है। लाशों को इस तरह रखा गया है जैसे वो शरीर नहीं मानों कोई सामान हो जिनको स्टॉक करके रखा जा रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि कोरोना मरीजों के शवों को अंतिम संस्कार के लिए भेजने और उनके परिवारों को देने में देर हो रही है जिसके कारण शव गृह भर गया है। शवों को रखने के लिए जगह ही नहीं बची है।

कोरोना ने अस्पतालों का बुरा हाल कर दिया है। अस्पतालों में जिन मरीजों की कोरोना से मौत हो रही है उन्हें शव गृहों में भेजा जा रहा है। अस्पतालों में हालत यह है कि आईसीयू और ऑक्सीजन वाले बेड भी भर चुके हैं। अस्पताल में कोई भी बेड खाली नहीं है। कोरोना के खिलाफ लड़ी जा रही इस लड़ाई में कुछ अस्पताल घुटने टेकने पर मजबूर हो गए हैं।

एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के मुताबिक रायपुर की चीफ मेडिकल हेल्थ ऑफिसर मीरा बघेल कहती है, “कोई भी अंदाजा नहीं लगा सकता कि इतनी ज्यादा संख्या में मौतें होंगी। हमारे पास सामान्य स्थिति के हिसाब से पर्याप्त फ्रीजर हैं लेकिन अगर हम 10 से 20 के लिए तैयारी कर रहे हैं तो 50 से 60 लोगों की मौत हो रही है। एक साथ इतने अधिक फ्रीचर की व्यवस्था हम कैसे कर सकते हैं?”

Input: Live Hindustan

Continue Reading
BIHAR3 hours ago

साउथ फिल्मों के सुपरस्टार अल्लू अर्जुन के साथ नजर आएंगी बिहारी गर्ल संचिता बसु, टिकटॉक ने दिलाई थी पहचान

BIHAR5 hours ago

इन राज्यों से बिहार आने वाले यात्री ध्यान दें, आपको 72 घंटे पूर्व देनी होगी कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट

MUZAFFARPUR6 hours ago

गायघाट के शिवदाहा अग्निकांड में पीड़ितों को अबतक नहीं मिला है कोई सरकारी सहायता, लाखों की हुई थी क्षति

BIHAR6 hours ago

नीतीश के पुराने दोस्त ने कोरोना संकट पर लिखा सीएम को पत्र, कहा- काले अक्षरों में लिखा जाएगा आपका नाम

INDIA6 hours ago

चुनावी रैली में बोलीं ममता बनर्जी- बीजेपी की वजह से पश्चिम बंगाल में बढ़े कोरोना केस

MUZAFFARPUR8 hours ago

दुष्कर्म का आरोपी निकला कोरोना पॉजिटिव, जांच के बाद पुलिस महकमे में मचा हड़कंप

BIHAR10 hours ago

बिहार के इस मंत्री का फेसबुक एकाउंट हैक, फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर मांग रहे पैसे

BIHAR10 hours ago

पटना AIIMS के 150 बेड समेत ICU फुल फिर भी इलाज के लिए पहुंच रहे मरीज

sadar-thana-police-station
MUZAFFARPUR11 hours ago

मुजफ्फरपुर में रिटायर्ड दारोगा का परिवार बहू को कर रहा प्रताडि़त, घर से निकाला, केस दर्ज

MUZAFFARPUR11 hours ago

दो दिन बाद मुजफ्फरपुर समेत पूरे उत्तर बिहार में कई स्थानों पर होगी हल्की बारिश

BIHAR3 weeks ago

अलर्ट! बिहार में वैक्सीन लेने के बावजूद आंगनबाड़ी सेविका कोरोना पीड़ित, पटना एम्स में तोड़ा दम

VIRAL4 weeks ago

पबजी खेलते हुआ था प्यार, हिमाचल से वाराणसी पहुंची महिला, युवक निकला कक्षा 2 का छात्र

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर में नौ जगहों पर बनेगा माइक्रो कंटेनमेंट जोन, इसमें कहीं आपका इलाका तो नहीं

INDIA4 weeks ago

SBI, HDFC बैंक में हैं खाता तो हो जाएं सावधान! चेतावनी जारी की गई

HEALTH4 days ago

ये 5 लक्षण मुंह पर दिखें तो तुरंत करवा लें जांच, हो सकता है कोरोना

BIHAR3 weeks ago

दरभंगा एयरपोर्ट पर जादूगर का साया, एक व‍िमान फ‍िर गायब

INDIA3 weeks ago

ये 4 बैंक जल्द ही सरकारी से प्राइवेट हो सकते हैं! करोड़ों ग्राहकों पर क्या होगा असर?

INDIA3 weeks ago

होली पर अपने घर जाने वाले यात्रियों को बड़ा झटका, रेलवे ने कैंसिल कर दी कई ट्रेनें

TRENDING3 weeks ago

मिट्टी का तेल सिर पर छिड़ककर बाल सीधे करने के प्रयास में लड़के की मौत

BIHAR4 weeks ago

बिहार में 24 घंटे में दोगुना हुए कोरोना केस, हाई अलर्ट पर स्वास्थ्य महकमा

Trending