Connect with us
leaderboard image

BIHAR

बिहार में कोरोना के तीन पॉजिटिव केस मिले, एक की मौत; पटना सहित देश के 75 जिले लॉक डाउन

Muzaffarpur Now

Published

on

बिहार में कोरोना ने दस्‍तक दे दी है। मिली जानकारी के अनुसार तीन कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। देर रात पटना के राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इंस्‍टीच्‍यूट (RMRI) में दो मरीजों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। इसमें एक की मौत भी हो गई है। इसके बाद एहतियातन पटना सहित उन सभी शहरों को 31 मार्च तक लॉक-डाउन कर दिया गया है, जहां कोरोना का संक्रमण मिला है। देश में अभी तक कोरोना संक्रमण के 330 मामले मिले हैं, जिनमें से पांच की मौत हो चुकी है। यह वायरस दुनिया के 170 से अधिक देशों के 3,05,046 लोगों को संक्रमित कर चुका है, जिनमें से 13,029 की मौत हो चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव जिस मरीज की मौत हुई है, वह पटना के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान (AIIMS) में किडनी का इलाज करा रहा था। वह मुंगेर जिला का रहने वाला था तथा हाल ही में कतर से लौटा था। हालांकि, इस मामले में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री, स्‍वास्‍थ्‍य सचिव व आरएमआरआइ के निदेशक के बयान अलग-अलग हैं।

देर रात तक 114 सैंपल की जांच, तीन की रिपोर्ट पॉजिटिव

पटना के आरएमआरआइ के निदेशक डॉ. प्रदीप दास ने बताया कि देर रात जांच में दो कोरोना पॉजिटव मामले मिले हैं। उन्‍होंने बताया कि देर रात तक 114 नमूनों की जांच हुई थी, जिनमें शाम तक सौ सैंपल की जांच पूरी हो चुकी थी। उनमें कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं मिला। लेकिन देर रात तक शेष 14 सैंपल की जांच के दौरान दो की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। उन्‍होंने बताया कि इसकी जानकारी दिल्‍ली में भारतीय चिकित्‍सा अनुसंधान परिषद (ICMR) और राज्‍य के स्वास्थ्य मंत्री व प्रधान सचिव को दी गई है। मुख्य सचिव ने एम्स में भर्ती एक और महिला के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि की है।

मौत के बाद आई जांच रिपोर्ट

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव मृतक मुंगेर का निवासी था तथा वह हाल ही में कतर से लौटा था। वह किडनी का मरीज था। पटना एम्स में उसे पहले जेनरल, फिर आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था। पटना एम्स के निदेशक डॉ. प्रभात कुमार सिंह ने कहा कि शनिवार को दिन में कोरोना संक्रमित सैफ की मौत हुई, जबकि शनिवार देर रात उसके कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट आई। एक और कोरोना का मरीज नालंदा मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल में भर्ती है। वह स्‍कॉटलैंड में कम्‍प्‍युटर इंजीनियरिंग का छात्र है। इस बीच मुख्य सचिव ने एम्स में भर्ती एक और महिला के कोरोना संक्रमित होने की जानकारी दी है।

गया में कोरोना के संदिग्‍ध की नहीं हुई जांच, मौत

इस बीच बोधगया में एक वाहन चालक की संदिग्ध मौत हो गई। बताया जाता है कि पांच दिन पहले उसमें कोरोना संक्रमण के लक्षण पाए गए। उसे एक निजी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, जहां स्थिति बिगड़ने पर उसे शनिवार की रात 11:25 बजे मेडिकल कॉलेज अस्‍पताल में भर्ती कराया गया। वहां देर रात उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि कोरोना के लक्षण पाए जाने के बाद भी निजी अस्‍पताल ने उसकी जांच की पहल हीं की।

31 मार्च तक लॉक डाउन किए गए 75 जिले

इस बीच केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए जहां भी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं, उन जिलों को लॉक डाउन कर दिया है। पटना भी उनमें शामिल है। न्‍यूज एजेंसी एएनआइ ने इसकी जानकारी देते हुए बताया है कि 31 मार्च तक सभी ट्रेनों का परिचालन रोक दिया गया है। मेट्रो, अंतरराज्‍यीय बसें भी नहीं चलेंगी।

अस्‍पतालों में सर्विलांस पर रखे गए 550 से अधिक लोग

बिहार में कोरोना वायरस से संक्रमित देशों से लौटे करीब 550 यात्रियों को विभिन्‍न अस्‍पतालों में सर्विलांस पर रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक बिहार-नेपाल सीमा के 49 आवागमन केंद्रों पर भी अभी तक कुल 253089 यात्रियों की स्क्रीनिंग की गई। पटना और गया एयरपोर्ट्स पर भी 20235 यात्रियों की जांच की गई है।

देश में 329 पॉजिटिव मामले, पांच की मौत

देश की बात करे तो अभी तक कोरोना वायरस संक्रमण के 329 मामले मिल चुके हैं। इनमें 300 का इलाज विभिन्‍न अस्पतालों में चल रहा है। जबकि, 23 स्‍वस्‍थ होकर घर जा चुके हैं। आज सुबह पटना का मामला जोड़ दें तो देश में अब तक पांच कोरोना संक्रमित लोगों की मौत हो चुकी है।

दुनिया के 170 देश प्रभावित, 13 हजार से अधिक मौत

इस बीच पूरी दुनिया के 170 से अधिक देशेां में कोरोना संक्रमण के 3,05,046 मामले सामने आ चुके हैं। इससे अब तक 13,029 लोगों की मौत हो चुकी है।

Input : Dainik Jagran

MUZAFFARPUR

लॉकडाउन से प्रदूषण पर कसा शिकंजा, सांस लेने लायक बनी सभी शहरों की हवा

Ravi Pratap

Published

on

कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए उठाए गए कदमों ने जानलेवा प्रदूषण पर काफी हद तक शिकंजा कस दिया है। रविवार को देशभर के शहरों की हवा सांस लेने लायक रही। ऐसा पहली बार हुआ है कि जब देश के तमाम शहरों का वायु गुणवत्ता सूचकांक 200 से कम रहा हो। लॉकडाउन के चलते सड़कों पर न के बराबर वाहन उतर रहे हैं। वहीं, होटलों-रेस्टोरेंटों में खान-पान, निर्माण कार्यों जैसी तमाम गतिविधियों पर भी पाबंदी लगी हुई है। पश्चिमी विक्षोभ के चलते बूंदाबांदी का क्रम भी जारी है। इन वजहों से प्रदूषण में कमी आ गई है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, रविवार को भारत के किसी भी शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक 200 अंक से ऊपर नहीं रहा। जान लें कि शून्य से पचास तक के सूचकांक को अच्छा, 51 से 100 तक के सूचकांक को संतोषजनक और 101 से 200 तक के सूचकांक को मध्यम श्रेणी में रखा जाता है। 201 से 300 तक सूचकांक को खराब, 301 से 400 तक के सूचकांक को बेहद खराब और 401 से 500 तक के सूचकांक को गंभीर श्रेणी में रखा जाता है।

इस तरह हैं हालात : रविवार को दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 62, गाजियाबाद का 48 , आगरा का 52, अहमदाबाद का 74, अंबाला का 39, बेंगलुरु का 63, चंडीगढ़ का 36, चेन्नई का 46, कानपुर का 48, लखनऊ का 58, पटना का सूचकांक 69 अंक पर रहा। गुवाहाटी का सूचकांक सबसे ज्यादा 174 अंक पर और मुजफ्फरपुर का सूचकांक 153 अंक पर रहा।

आज हल्के बादल छाए रहेंगे

राजधानी में सोमवार को हल्के बादल छाए रहने की उम्मीद है। दिल्ली के ज्यादातर हिस्सों में रविवार को सुबह से ही तेज धूप खिली रही। सफदरजंग स्थित मौसम केन्द्र में दिन का अधिकतम तापमान 30.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, जो कि सामान्य से एक डिग्री कम है। वहीं, न्यूनतम तापमान 16.6 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विभाग का अनुमान है कि सोमवार को हल्के बादल छाए रह सकते हैं। इस दौरान हवा की रफ्तार 15 से 25 किलोमीटर प्रति घंटे तक रहने का अनुमान है।

Continue Reading

MUZAFFARPUR

पूर्व राज्य मंत्री अजित कुमार ने डीएम से अपने आवास को अस्थाई अस्पताल के रूप में उपयोग की पेशकश की

Ravi Pratap

Published

on

राज्य के पूर्व मंत्री अजित कुमार ने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर जिले में कोरोना वायरस व बच्चों को होने वाले एईएस जैसे जानलेवा बीमारी के रोकथाम के लिए अपना कांटी स्थित निजी कार्यालय को अस्थाई अस्पताल के रूप में उपयोग करने की पेशकश की है। उन्होंने डीएम को लिखे पत्र में कहा है कि कांटी वार्ड नंबर 3 स्थित उनका छह कमरे एवं एक बड़ा हॉलयुक्त निजी कार्यालय है। एक बड़ा कैंपस भी है।

पीड़ित मानवता की सेवा

उन्होंने कहा कि विपदा की घड़ी में मैं इस मकान को निशुल्क अस्थाई अस्पताल के रूप में खोलकर पीड़ित मानवता की सेवा के लिए देने को तैयार हूं। उन्होंने पत्र में लिखा है कि जिला प्रशासन इसे आइसीयू अथवा आइसोलेशन वार्ड के रूप में प्रयोग कर सकता है। उन्होंने कहा है कि जैसे ही जिला प्रशासन मुझे सूचित करेगा, मैं यह मकान उनके हवाले कर दूंगा। ताकि कांटी मड़वन क्षेत्र के लोगों को कोरोना वायरस एवं बच्चों को होने वाले एईएस जैसी जानलेवा बीमारी का इलाज स्थानीय स्तर पर ही संभव हो सकेगा। विदित हो कि यह मकान कांटी एनएच 28 दक्षिणी लेन में अवस्थित है।

Continue Reading

MUZAFFARPUR

एईएस के लक्षण दिखते ही लाएं अस्पताल

Santosh Chaudhary

Published

on

मुजफ्फरपुर : एईएस का लक्षण दिखते ही समय पर बच्चे को अस्पताल लेकर पहुंचे। इसमें किसी तरह की कोताही नहीं बरते। अगर आप समय से बच्चे को अस्पताल लेकर पहुंच जाएंगे तो उसकी जान बच जाएगी। उक्त बातें प्रेस वार्ता में जिलाधिकारी डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने कही। उन्होंने कहा कि सभी पीएचसी में एईएस वार्ड बनाया गया है। ग्रामीण इलाके के बच्चे की तबीयत बिगड़ते ही समय के अंदर पीएचसी पर पहुंचे। वहां पर डॉक्टरों के साथ पूरी दवाई उपलब्ध करा दी गई है। निजी क्लीनिक व ग्रामीण डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं है। एईएस को लेकर सारी सुविधाएं पीएचसी में बहाल कर दी गई है। वाहन किराया के बारे में भी सोचने की जरूरत नहीं है। सरकार की तरफ से एईएस बच्चे के इलाज के लिए वाहन किराया के मद में चार सौ रुपये भी दिए जाएंगे। डीएम ने कहा कि शनिवार को एसकेएमसीएच का निरीक्षण किया था। वहां पर एईएस पीड़ित एक बच्चा भर्ती है। उसकी हालत में सुधार है।

बच्चे को रात में भूखा न सोने दें : डीएम ने कहा कि सभी अभिभावकों से अपील है कि वे बच्चे को रात में भूखे नहीं सोने दें। बच्चे को रात में भर पेट खाना खिलाकर ही सुलाएं। कटे गिरे हुए फल बच्चे को नहीं खाने दें। रात में सोने के बाद सुबह में बच्चे के शरीर में ग्लुकोज की मात्र कम जाती है। इसके वजह से तबीयत खराब होने लगती है। इसलिए इन सभी बातों को ध्यान रखने की जरूरत है।

  • एईएस पीड़ित बच्चे को अस्पताल लाने के लिए चार सौ रुपये वाहन किराया के रूप में मिलेंगे
  • जिलाधिकारी ने कहा – एईएस से निपटने को लेकर डॉक्टरों की पूरी टीम तैनात

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
MUZAFFARPUR7 mins ago

लॉकडाउन से प्रदूषण पर कसा शिकंजा, सांस लेने लायक बनी सभी शहरों की हवा

MUZAFFARPUR18 mins ago

पूर्व राज्य मंत्री अजित कुमार ने डीएम से अपने आवास को अस्थाई अस्पताल के रूप में उपयोग की पेशकश की

SPORTS46 mins ago

टीम इंडिया को वर्ल्ड कप जिताने वाला ‘DSP’ निकला सड़कों पर, ऐसे कराया शहर Lockdown

MUZAFFARPUR2 hours ago

एईएस के लक्षण दिखते ही लाएं अस्पताल

BIHAR2 hours ago

चैती छठ : पर्व के दूसरे दिन व्रतियों ने किया खरना अस्ताचलगामी सूर्य को सांध्यकालीन अर्घ्य आज

MUZAFFARPUR12 hours ago

मुजफ्फरपुर में एईएस से एक बच्चे की मौत, दो दिनों से था वेंटिलेटर पर, अब तक मिले दो मामले…

MUZAFFARPUR12 hours ago

मुजफ्फरपुर में एईएस से एक बच्चे की मौत, दो दिनों से था वेंटिलेटर पर, अब तक मिले दो मामले…

Uncategorized12 hours ago

टी-सीरीज चेयरमैन भूषण कुमार ने पीएम केयर्स फंड में डोनेट किए 11 करोड़

INDIA12 hours ago

RBI गवर्नर ने जारी किया वीडियो, कहा- कोरोना से बचाव के लिए डिजिटल पेमेंट करें

WORLD13 hours ago

कोरोना वायरस महामारी से परेशान जर्मनी के मंत्री ने की आत्‍महत्‍या

BIHAR3 days ago

स्पाइसजेट का सरकार को प्रस्ताव, दिल्ली-मुंबई से बिहार के मजदूरों को ‘घर’ पहुंचाने के लिए हम तैयार

cheating-on-first-day-of-haryana-board-exam
INDIA3 weeks ago

बिहार तो बेवजह बदनाम है… हरियाणा बोर्ड परीक्षा में शिखर पर नकल

INDIA1 week ago

PM मोदी को पटना के बेटे ने दिए 100 करोड़ रुपये, कहा – और देंगे, थाली भी बजाई

INDIA3 days ago

पूरी हुई जनता की डिमांड, कल से दोबारा देख सकेंगे रामानंद सागर की ‘रामायण’

BIHAR2 weeks ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

BIHAR2 weeks ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

BIHAR4 weeks ago

बड़ी खुशखबरी: बिहार में घरेलू गैस की अब नहीं होगी किल्लत, बांका में नया प्लांट शुरू

BIHAR5 days ago

अब नहीं सचेत हुए बिहार वाले तो, अपनों की लाशें उठाने को रहें तैयार

INDIA4 weeks ago

आज होगी देश की सबसे महंगी शादी, 500 पंडित पढ़ेंगे मंत्र

BIHAR5 days ago

लॉकडाउन के बाद पैदल जयपुर से बिहार के लिए निकले 14 मजदूर, भूखे-प्यासे तीन दिन में जयपुर से आगरा पहुंचे

Trending