Connect with us

BIHAR

कोरोना महामारी: बुरे वक्त में ही इस नेता में ‘देवदूत’ क्यों देखते हैं लोग?

Published

on

जन अधिकार पार्टी के संयोजक राजेश रंजन उर्प पप्पू यादव अक्सर सुर्खियों में रहते हैं. अलग-अलग वक्त पर कारण भी अलग रहते हैं. कभी वे जरायम पेशे (अपराध) की दुनिया का बड़ा नाम रहे तो कभी कोसी और पूर्णिया इलाके में उनकी छवि किसी रॉबिनहुड से कम नहीं रही है. किसी आपदा के वक्त वे लोगों के साथ हरदम खड़े नजर आते हैं. आज जब कोरोना काल के घने अंधेरे में हर तरफ अफरा-तफरी है. लोग परेशानी में जूझ रहे हैं, वहीं पप्पू यादव मुसीबत में घिरे लोगों के लिए हर वक्त घने अंधेरे के बीच रोशनी के रूप में खड़े नजर आ रहे हैं.

हाल में ही गंभीर बीमारी को देखते हुए पप्पू यादव का ऑपरेशन हुआ था. डॉक्टरों ने उन्हें रेस्ट की सलाह दी है, लेकिन वे कभी पटना के पीएमसीएच तो अगले ही पल एनएमसीएच में नजर आते हैं. दानापुर से दीदारगंज तक करीब 25-30 किमी के दायरे में आने वाले हर जगह, जहां भी उनकी जरूरत होती है वे एक कॉल में पहुंच जाते हैं. डॉक्टरों से मिलते हैं, लोगों की मुश्किलों का निदान करते हैं और अगर सामान्य तरीके से मदद न मिल रही हो तो वे अपने अंदाज में हड़काते हुए नजर आते हैं.

पप्पू यादव के बारे में वरिष्ठ पत्रकार सुनील सिन्हा कहते हैं कि हाल में ही उनकी पत्नी की मृत्यु हो गई, लेकिन उनकी मौत से पहले जब उन्हें ऑक्सीजन की जरूरत थी तो सरकार के स्तर पर उन्हें कई कोई सहायता नहीं मिली. अंत में पप्पू यादव के पटना में मंदिरी स्थित आवास से उन्हें ऑक्सीजन सिलिंडर मुहैया करवाई गई थी. पत्नी की मौत के बाद भी वे पप्पू यादव की इस मदद के लिए वे खुद को ऋणी बताते हैं.

अस्पतालों की कार्यशैली से नाराज हैं पप्पू

एक ओर जहां बड़े राजनीतिक दलों के बड़े-बड़े नेता जमीन पर नजर नहीं आ रहे हैं वहीं, जन अधिकार पार्टी के संयोजक लागतार अस्पतालों का जायजा लेते दिख रहे हैं. आए दिन उन्हें राजधानी पटना के सरकारी अस्पतालों में देखा जाता है. जिस दौरान वो अस्पतालों में मरीजों को होने वाली परेशानी को उनके परिजनों के द्वारा सुनते हैं और अस्पताल की कार्यशैली को लेकर सवाल उठाते रहते हैं.

सेना के हवाले करना चाहते हैं बिहार के अस्पताल

कोरोना संकट के बीच खुद अस्पतालों के निरीक्षण के लिए निकलते हैं. इस दौरान कुव्यवस्था को वो लोगों के बीच रखते हैं और सरकार पर हमला बोलते हैं. वे जरूरतमंदों की यथासंभव मदद करते हैं और  इस बात की भी वकालत करते हैं कि सरकार अगर बिहार में कोरोना के चेन को तोड़ना चाहती है तो सभी कोविड अस्पतालों को सेना के हवाले कर देना चाहिए तभी बिहार से कोरोना का खात्मा हो पाएगा.

जब डूब रहा था पटना

बता दें कि पप्पू यादव की सक्रियता तब भी इसी तरह थी जब 2 साल पहले जब पटना डूब गया था. तब भी इन्होंने इसी तरह से किया था. उस समय भी जब सब नेता भागे चल रहे थे ये फरिश्ता बन कर आए थे. पटना की सड़कों पर गले भर पानी में डूब-डूबकर दिन रात मदद कर रहे थे. जरूरतमंदों तक पीने का पानी और राशन पहुंचा रहे थे. रेस्क्यू कर रहे थे. तब कहा गया था कि पप्पू यादव नाटक कर रहे हैं. लेकिन मदद करना क्या नाटक हो सकता है? इस बार भी कुछ लोग ऐसा ही कह रहे हैं कि वे एक बार फिर नाटक कर रहे हैं. पर सवाल यह है कि कोविड संक्रमण के खतरों के बीच सीधे कोविड वार्ड में दाखिल हो जाना क्या नाटक है? बिना जाति-धर्म पूछे लोगों की मदद को हर स्तर पर आगे रहना क्या ढोंग है? क्या मीडिया में रहने के लिए कोई अपनी ही जान को जोखिम में डालेगा?

नहीं मिला राजनीतिक लाभ

हालांकि कई लोग कहते हैं कि उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षाएं हैं. जाहिर है इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि ऐसा हो सकता है. यह बात तब सही होती दिखी थी जब वर्ष 2020 में उन्होंने अपने कैंडिडेट उतारे थे. लेकिन हकीकत भी यह है कि कुम्हरार से इनके कैंडिडेट को कितना वोट मिला था? पानी में डूबे पटना में इस इलाके में इन्होंने शायद ही कोई घर हो जिसको उस विपदा में मदद न की होगी, लेकिन उनके कैंडिडेट की बुरी हार हुई थी.

तब कहां थे बड़े नेता?

बहरहाल हकीकत भी यही है कि हमारे यहां ऐसे सेवा भाव वाले को वोट नहीं मिलता. वोट तो जाति और धर्म पर मिलता है. जब पूरा पटना बाढ़ में डूब रहा था उस समय मदद करने न बीजेपी वाले आये थे न राजद वाले. लोग आज भी तत्कालीन डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी का वह हाफ पैंट पहने हुए रेस्क्यू वाला दृश्य नहीं भूले हैं. कैसे वे कई दिनों तक अपने घर में घिरे थे. तेजस्वी यादव दिल्ली में थे और नीतीश कुमार भी लंबे वक्त के बाद ही पटना का जायजा लेने निकले थे.  तब यह सच्चाई थी कि पप्पू यादव लगातार पानी में डूब-डूबकर लोगों की मदद कर रहे थे.

गौरतलब है कि पप्पू यादव ने तब अधिक सुर्खियां हासिल की थीं जब वर्ष 2015 में वे लालू-नीतीश की जोड़ी के खिलाफ खड़े थे और एनडीए द्वारा फंडेड बताए जाते थे. हालांकि तब यह प्रयोग फेल रहा था. इसके बाद 2019 के लोकसभा चुनाव में भी इनपर वोटकटवा होने का आरोप लगा. लेकिन हर मुसीबत के समय लोगों की सेवाभाव में इन्होंने कोई कमी नहीं की. पप्पू यादव जहां कोरोना के मरीजों को दवाइयां और ऑक्सीजन पहुंचाने में लगे हैं, वहीं कई लोग इसे फिर ‘नाटक’ कह रहे हैं. हालांकि कुछ लोग कहते हैं कि मुसीबत के समय खड़ा होने वाला शख्स अगर नाटक भी कर रहा है, तो यह सभी को करना चाहिए. लेकिन आपातकाल में घरों में छिपने वाला नेता नहीं चाहिए.

Input: News18

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर के पताही से विमान सेवा शुरू करने की कोशिश तेज

Published

on

मुजफ्फरपुर के पताही अथवा माेतीपुर में हवाई अड्डे की जमीन के लिए अगले सप्ताह केंद्रीय उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया सीएम नीतीश कुमार से बात करेंगे। केंद्रीय मंत्री ने सांसद अजय निषाद काे आश्वासन  दिया है कि जल्द ही वे राज्य सरकार से जमीन की मांग करेंगे।

गुरुवार काे दिल्ली में केन्द्रीय मंत्री से मिलकर लाैटने के बाद सांसद अजय निषाद ने शनिवार काे बताया कि जमीन अधिग्रहण नहीं हाेने से मुजफ्फरपुर में हवाई सेवा चालू नहीं हाे पा रही है। केंद्रीय मंत्री 2-4 दिन में सीएम से बात करेंगे। सांसद ने केंद्रीय मंत्री काे बताया कि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) का मुजफ्फरपुर स्थित हवाई अड्डा एक गैर-प्रचालनिक हवाई अड्डा है।

इसका मौजूदा विमानपट्टी एवं टर्मिनल भवन जीर्ण-शीर्ण हाल में है। इसका मसौदा मास्टरप्लान बनाकर राज्य सरकार को भेजा गया है। प्रस्तावित विकास योजना के तहत हवाई अड्डे के लिए कुल 475 एकड़ भूमि की दरकार है। बताया कि मुजफ्फरपुर उत्तर बिहार का व्यावसायिक केंद्र है। यह बुद्ध सर्किट से जुड़ा है। प्रजातंत्र की जननी, आम्रपाली की रंगभूमि, महात्मा बुद्ध की कर्मभूमि व भगवान महावीर की जन्मभूमि वैशाली यहां से मात्र 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। नेपाल सीमा क्षेत्र भी काफी नजदीक है।

Source : Dainik Bhaskar

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Continue Reading

BIHAR

हाेटल पनाश में एंकर से सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज, आरोपी फरार

Published

on

काेलकाता की इवेंट एंकर के साथ पटना स्थित हाेटल पनाश में गैंग रेप हुआ। यह घटना 2 जुलाई की देर रात की हाेटल के कमरा नंबर 512 में हुई। गैंग रेप करने का आरोप मुजफ्फरपुर के हर्ष रंजन और उसके सहयाेगी विक्रांत केजरीवाल पर है। दाेनाें पर यह भी आरोप है कि दाेनाें ने 3 जुलाई काे हाेटल से पटना जंक्शन छाेड़ने के दाैरान कार में जबरन गर्भनिराेधक गाेलियां भी खिलाईं। उसने 4 जुलाई काे जाधवपुर थाना में इन दाेनाें के खिलाफ रेप का केस दर्ज करा दिया। बंगाल पुलिस ने जीराे FIR करने के बाद इसे गांधी मैदान थाना काे भेज दिया। 29 जुलाई काे पटना पहुंची पीड़िता का 164 के तहत काेर्ट में बयान दर्ज किया गया। इधर, गांधी मैदान थानेदार रंजीत वत्स ने बताया कि आरोपितों  काे गिरफ्तार करने के लिए पुलिस मुजफ्फरपुर गई थी। दाेनाें फरार है। दोनों के मोबाइल बंद हैं।

पेमेंट के बहाने आया  फिर गलत काम किया

पीड़िता के अनुसार, हर्ष किंग मीडिया इंटरटेंमेंट नाम से संस्था चलाता है। इससे पहले हर्ष के लिए दाे बार काम कर चुकी हूं। उसने इस साल हमसे संपर्क किया और  कहा कि 30 जून से 2 जुलाई तक काम करना है। प्राेग्राम हाेटल पनाश में हुआ था पर मुझे इस हाेटल से कुछ किलाेमीटर दूर हाेटल के- स्क्वाॅयर में ठहराया गया था। मुझे 2 जुलाई की रात काे हाेटल पनाश में शिफ्ट कर दिया गया। 2 जुलाई की रात काे हर्ष मेरे कमरे में पेमेंट देेने के बहाने आया। उसने कहा मेरी पत्नी प्रेगनेंट है। मुझे संतुष्ट कर दाे। मैंने इनकार किया तो हर्ष ने मेरे साथ रूम में रेप किया। फिर विक्रांत ने भी संबंध बनाए।

Source : Dainik Bhaskar

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Continue Reading

BIHAR

राजद सरकार में मंत्री रहे ददन पहलवान की 68 लाख की संपत्ति जब्त

Published

on

नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय ने बिहार सरकार के पूर्व मंत्री और मौजूदा विधायक ददन सिंह यादव  उर्फ ददन पहलवान  के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. केंद्रीय जांच एजेंसी ने ददन पहलवान और उनके परिवार से जुड़े कई लोगों की लगभग 68 लाख रुपये की संपत्तियों को अटैच कर ली है. ददन सिंह की पहचान बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश में बाहुबली नेता की है. ईडी द्वारा यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत की गई है. यानी अवैध तौर पर कमाई गई संपत्तियों को प्रॉपर्टी में निवेश कर के ब्लैक मनी को सफेद बनाने की कोशिश की गई थी. इसके तहत सात स्थानों पर जमीन, सात लग्जरी गाड़ियां सहित कई संपत्तियों को अटैच किया है. जांच एजेंसी के मुताबिक ददन सिंह यादव उर्फ ददन पहलवान के खिलाफ बिहार और उत्तर प्रदेश में वर्ष 2004 में कई मामले दर्ज हुए थे. उन्हीं मामलों में कार्रवाई करते हुए ईडी की टीम द्वारा इन संपत्तियों को अटैच किया गया है.

बाहुबली ददन यादव के खिलाफ फर्जीवाड़ा करने का आरोप, हथियार व गोला-बारूद रखने और इसके लेन-देन का आरोप, कई प्रॉपर्टी पर अवैध कब्जा, हत्या का प्रयास, आपराधिक साजिश रचने जैसे कई संगीन मामलों में बिहार और उत्तर प्रदेश में केस दर्ज है. इन मामलों को आधार बनाते हुए ईडी ने PMLA यानी मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था.

बिहार के डुमरांव इलाके से विधायक रहे ददन यादव को बागी तेवर अपनाने के आरोप में जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) से वर्ष 2020 में बाहर कर दिया गया था. राबड़ी देवी की सरकार में मंत्री रहे ददन पूर्व में बैंक डिफाल्टर बनकर काफी सुर्खियों में रहे थे. उनके खिलाफ दिल्ली और पंजाब के कोर्ट में कई मामलों की सुनवाई चल रही है. वर्ष 2017 में बैंक द्वारा डिफाल्टर घोषित होने के बाद ददन पहलवान के राइस मिल और पटना के सगुना मोड़ स्थित करीब डेढ़ कट्ठा जमीन को बैंक द्वारा अपनी संपत्ति घोषित कर दी गई थी, जिसका विज्ञापन भी अखबारों में प्रकाशित किया गया था.

ददन यादव की पत्नी और बेटे पर भी संगीन आरोप

ददन यादव के खिलाफ पहले दर्ज कुछ मामलों में सह-आरोपी के तौर पर उनकी पत्नी उषा देवी और बेटे करतार सिंह यादव का भी नाम दर्ज है. ईडी की तफ्तीश में यह भी सामने आया है कि ददन पहलवान ने अपने परिजनों के नाम पर कई कंपनियों के मार्फत पैसों का लेनदेन किया है, जबकि उस इनकम (आय) के सोर्स के बारे में तफ्तीश करने पर पाया गया कि फर्जीवाड़ा के तहत वो उससे संबंधित कारोबार नहीं करते थे. लेकिन कागजों पर कारोबार का नाम और उससे धन अर्जित करने का जिक्र करते रहे हैं. वहीं, ददन पहलवान के बेटे करतार सिंह ने सत्यवीर एग्रो कंपनी के नाम पर बैंक से लोन लिया था. यह राशि बढ़कर उस वक्त एक करोड़ 52 लाख से ज्यादा हो गई थी. लेकिन ददन पहलवान और उनके बेटे के द्वारा इसे नहीं चुकाया गया था. जिससे बैंक के द्वारा उनका नाम लोन डिफॉल्टर के नाम के रूप में घोषित किया गया था.

जांच एजेंसी के मुताबिक ददन पहलवान की पत्नी उषा देवी पर भी एक होम लोन की अदायगी नहीं करने का आरोप लगा था. ददन पहलवान के खिलाफ बक्सर की लोक अदालत में ओरिएंटल बैंक द्वारा दाखिल किया गया मुकदमा चल रहा है. बहरहाल जिस तरह से प्रवर्तन निदेशालय कार्रवाई कर रही है, कहा जा सकता है कि आने वाले समय में ददन पहलवान की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं.

Source : News18

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Continue Reading
DHARM37 mins ago

पितृ पक्ष कल से, श्रद्ध कर्म से पूरे होते मनोरथ

MUZAFFARPUR52 mins ago

मुजफ्फरपुर के पताही से विमान सेवा शुरू करने की कोशिश तेज

BIHAR59 mins ago

हाेटल पनाश में एंकर से सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज, आरोपी फरार

BIHAR11 hours ago

राजद सरकार में मंत्री रहे ददन पहलवान की 68 लाख की संपत्ति जब्त

BIHAR13 hours ago

विवादों में बिहार का वैक्सीनेशन रिकॉर्ड, मृतक के नाम सर्टिफिकेट जारी करने का दावा

BIHAR15 hours ago

बिहार में फिर से चलाने जा रही 12 जोड़ी पैसेंजर ट्रेन, देखिए यहां लिस्ट

BIHAR15 hours ago

PM मोदी भगवान का दूसरा रूप, वे ही भारत के ‘भाग्य विधाता’ : केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस

BIHAR15 hours ago

पटना में बेखौफ बदमाश, जिम ट्रेनर को मारी गोली, हथियार लहराते अपराधी फरार

INDIA18 hours ago

टीएमसी के ‘बाबुल’ प्यारे हुए : संन्यास की घोषणा करने वाले भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो तृणमूल कांग्रेस में हुए शामिल

INDIA19 hours ago

सोनू सूद की बढ़ीं मुश्किलें, IT विभाग ने किया 20 करोड़ की टैक्स चोरी और फर्जी लेनदेन का दावा

INDIA2 weeks ago

सिद्धार्थ शुक्ला पंचतत्व में विलीन, कांपते हाथों से मां ने दी जिगर के टुकड़े को मुखाग्नि

TRENDING4 weeks ago

सूप बनाने के लिए काटा था कोबरा, 20 मिनट बाद कटे फन ने डसा, शेफ की मौत

BIHAR4 weeks ago

बिहार : 12 साल की बुआ को 13 साल के भतीजे से हुआ प्यार, छह साल इंतजार के बाद मंदिर में रचाई शादी

VIRAL3 weeks ago

जिधर देखो उधर 500-2000 रुपये… रेलवे ट्रैक पर मिले नोटों के बंडल

BIHAR4 weeks ago

बिहार; बेटी से इश्क करने पर प्रेमी को काट कर बोरे में भरा, परिजनों ने अपनी लड़की को भी नहीं छोड़ा

BIHAR1 day ago

बिहार : भांजी पर आया मामा का दिल, पत्नी और बेटे को छोड़कर हुआ फरार, दो सालों से चल रहा था प्रेम प्रसंग

TRENDING4 weeks ago

सेक्स के दौरान युवक ने प्राइवेट पार्ट पर लगाया फेविक्विक, हुई मौत

BIHAR3 weeks ago

SMA बीमारी से जूझ रहे अयांश के मामले में नया मोड़, पिता आलोक सिंह पहुंचे सलाखों के पीछे

INDIA4 days ago

अगर इन 3 बैंकों में है आपका भी अकाउंट तो 1 अक्टूबर से नहीं चलेगी पुरानी चेकबुक

INDIA4 days ago

रिवॉल्वर लेकर वीडियो बनाने वाली लेडी कांस्टेबल को विभाग को देने होंगे 1.82 लाख रुपए

Trending