Connect with us

BIHAR

कोरोना महामारी: बुरे वक्त में ही इस नेता में ‘देवदूत’ क्यों देखते हैं लोग?

Published

on

जन अधिकार पार्टी के संयोजक राजेश रंजन उर्प पप्पू यादव अक्सर सुर्खियों में रहते हैं. अलग-अलग वक्त पर कारण भी अलग रहते हैं. कभी वे जरायम पेशे (अपराध) की दुनिया का बड़ा नाम रहे तो कभी कोसी और पूर्णिया इलाके में उनकी छवि किसी रॉबिनहुड से कम नहीं रही है. किसी आपदा के वक्त वे लोगों के साथ हरदम खड़े नजर आते हैं. आज जब कोरोना काल के घने अंधेरे में हर तरफ अफरा-तफरी है. लोग परेशानी में जूझ रहे हैं, वहीं पप्पू यादव मुसीबत में घिरे लोगों के लिए हर वक्त घने अंधेरे के बीच रोशनी के रूप में खड़े नजर आ रहे हैं.

हाल में ही गंभीर बीमारी को देखते हुए पप्पू यादव का ऑपरेशन हुआ था. डॉक्टरों ने उन्हें रेस्ट की सलाह दी है, लेकिन वे कभी पटना के पीएमसीएच तो अगले ही पल एनएमसीएच में नजर आते हैं. दानापुर से दीदारगंज तक करीब 25-30 किमी के दायरे में आने वाले हर जगह, जहां भी उनकी जरूरत होती है वे एक कॉल में पहुंच जाते हैं. डॉक्टरों से मिलते हैं, लोगों की मुश्किलों का निदान करते हैं और अगर सामान्य तरीके से मदद न मिल रही हो तो वे अपने अंदाज में हड़काते हुए नजर आते हैं.

पप्पू यादव के बारे में वरिष्ठ पत्रकार सुनील सिन्हा कहते हैं कि हाल में ही उनकी पत्नी की मृत्यु हो गई, लेकिन उनकी मौत से पहले जब उन्हें ऑक्सीजन की जरूरत थी तो सरकार के स्तर पर उन्हें कई कोई सहायता नहीं मिली. अंत में पप्पू यादव के पटना में मंदिरी स्थित आवास से उन्हें ऑक्सीजन सिलिंडर मुहैया करवाई गई थी. पत्नी की मौत के बाद भी वे पप्पू यादव की इस मदद के लिए वे खुद को ऋणी बताते हैं.

अस्पतालों की कार्यशैली से नाराज हैं पप्पू

एक ओर जहां बड़े राजनीतिक दलों के बड़े-बड़े नेता जमीन पर नजर नहीं आ रहे हैं वहीं, जन अधिकार पार्टी के संयोजक लागतार अस्पतालों का जायजा लेते दिख रहे हैं. आए दिन उन्हें राजधानी पटना के सरकारी अस्पतालों में देखा जाता है. जिस दौरान वो अस्पतालों में मरीजों को होने वाली परेशानी को उनके परिजनों के द्वारा सुनते हैं और अस्पताल की कार्यशैली को लेकर सवाल उठाते रहते हैं.

सेना के हवाले करना चाहते हैं बिहार के अस्पताल

कोरोना संकट के बीच खुद अस्पतालों के निरीक्षण के लिए निकलते हैं. इस दौरान कुव्यवस्था को वो लोगों के बीच रखते हैं और सरकार पर हमला बोलते हैं. वे जरूरतमंदों की यथासंभव मदद करते हैं और  इस बात की भी वकालत करते हैं कि सरकार अगर बिहार में कोरोना के चेन को तोड़ना चाहती है तो सभी कोविड अस्पतालों को सेना के हवाले कर देना चाहिए तभी बिहार से कोरोना का खात्मा हो पाएगा.

जब डूब रहा था पटना

बता दें कि पप्पू यादव की सक्रियता तब भी इसी तरह थी जब 2 साल पहले जब पटना डूब गया था. तब भी इन्होंने इसी तरह से किया था. उस समय भी जब सब नेता भागे चल रहे थे ये फरिश्ता बन कर आए थे. पटना की सड़कों पर गले भर पानी में डूब-डूबकर दिन रात मदद कर रहे थे. जरूरतमंदों तक पीने का पानी और राशन पहुंचा रहे थे. रेस्क्यू कर रहे थे. तब कहा गया था कि पप्पू यादव नाटक कर रहे हैं. लेकिन मदद करना क्या नाटक हो सकता है? इस बार भी कुछ लोग ऐसा ही कह रहे हैं कि वे एक बार फिर नाटक कर रहे हैं. पर सवाल यह है कि कोविड संक्रमण के खतरों के बीच सीधे कोविड वार्ड में दाखिल हो जाना क्या नाटक है? बिना जाति-धर्म पूछे लोगों की मदद को हर स्तर पर आगे रहना क्या ढोंग है? क्या मीडिया में रहने के लिए कोई अपनी ही जान को जोखिम में डालेगा?

नहीं मिला राजनीतिक लाभ

हालांकि कई लोग कहते हैं कि उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षाएं हैं. जाहिर है इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि ऐसा हो सकता है. यह बात तब सही होती दिखी थी जब वर्ष 2020 में उन्होंने अपने कैंडिडेट उतारे थे. लेकिन हकीकत भी यह है कि कुम्हरार से इनके कैंडिडेट को कितना वोट मिला था? पानी में डूबे पटना में इस इलाके में इन्होंने शायद ही कोई घर हो जिसको उस विपदा में मदद न की होगी, लेकिन उनके कैंडिडेट की बुरी हार हुई थी.

तब कहां थे बड़े नेता?

बहरहाल हकीकत भी यही है कि हमारे यहां ऐसे सेवा भाव वाले को वोट नहीं मिलता. वोट तो जाति और धर्म पर मिलता है. जब पूरा पटना बाढ़ में डूब रहा था उस समय मदद करने न बीजेपी वाले आये थे न राजद वाले. लोग आज भी तत्कालीन डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी का वह हाफ पैंट पहने हुए रेस्क्यू वाला दृश्य नहीं भूले हैं. कैसे वे कई दिनों तक अपने घर में घिरे थे. तेजस्वी यादव दिल्ली में थे और नीतीश कुमार भी लंबे वक्त के बाद ही पटना का जायजा लेने निकले थे.  तब यह सच्चाई थी कि पप्पू यादव लगातार पानी में डूब-डूबकर लोगों की मदद कर रहे थे.

गौरतलब है कि पप्पू यादव ने तब अधिक सुर्खियां हासिल की थीं जब वर्ष 2015 में वे लालू-नीतीश की जोड़ी के खिलाफ खड़े थे और एनडीए द्वारा फंडेड बताए जाते थे. हालांकि तब यह प्रयोग फेल रहा था. इसके बाद 2019 के लोकसभा चुनाव में भी इनपर वोटकटवा होने का आरोप लगा. लेकिन हर मुसीबत के समय लोगों की सेवाभाव में इन्होंने कोई कमी नहीं की. पप्पू यादव जहां कोरोना के मरीजों को दवाइयां और ऑक्सीजन पहुंचाने में लगे हैं, वहीं कई लोग इसे फिर ‘नाटक’ कह रहे हैं. हालांकि कुछ लोग कहते हैं कि मुसीबत के समय खड़ा होने वाला शख्स अगर नाटक भी कर रहा है, तो यह सभी को करना चाहिए. लेकिन आपातकाल में घरों में छिपने वाला नेता नहीं चाहिए.

Input: News18

MUZAFFARPUR

गायघाट में राजद विधायक ने किया नदी के कटाव स्थल का निरीक्षण, ग्रामीणों ने कहां इस बार नदी में समाएगा ‘पूरा गांव

Published

on

गायघाट । प्रखंड के जमालपुर कोदई पंचायत अंतर्गत गोसाईटोल गांव में बागमती नदी सुरक्षा तटबंध के कटाव स्थल का विधायक निरंजन राय ने निरीक्षण किया। विधायक ने कटाव स्थल पर जाकर स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान ग्रामीणों ने शीघ्र कटाव रोकने को लेकर निर्माण करवाने व क्षतिग्रस्त तटबंध की मरम्मति कराने के लिए विधायक से आग्रह किया।

ग्रामीणों ने कहा कि गोसाईटोल गांव में तटबंध पूरी तरह से क्षतिग्रस्त है। अगर तटबंध की मरम्मति नहीं कराया गया हो इस बार के बाढ़ में पूरा गांव नदी में समां जाएगा। इसे देखते हुए उक्त जगह पर कटाव की मरम्मत बनाने की बहुत आवश्यकता है। अन्यथा आने वाले समय मे गांव पूरी तरह तबाह होकर नदी में समां जाएगा। ग्रामीणों ने कहा कि बागमती नदी का तटबंध कई जगहों पर क्षतिग्रस्त है।

वहीं विधायक निरंजन राय ने कहा कि ग्रामीणों की शिकायत पर वे बाढ़ की पूर्व तैयारी के तहत बागमती नदी के तटबंध का निरीक्षण किया है। आने वाले समय मे स्थिति भयावह हो सकती है।

इसलिए तटबंध की मरम्मति बहुत ही आवश्यक है।ग्रामीणों ने इसको लेकर जल संसाधन विभाग के मंत्री संजय झा व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ध्यान आकृष्ट कराने का मांग विधायक से की है। मौके पर राजद के प्रखंड अध्यक्ष सुनील कुमार राय, अरविंद राय, स्थानीय मुखिया समेत अन्य लोग भी मौजूद थे

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर : 5 अपराधकर्मी गिरफ्तार ; हथियार, स्मैक व चोरी की ट्रक हुआ बरामद

Published

on

मुजफ्फरपुर पुलिस ने ट्रक चोरी गिरोह के दो सक्रिय सदस्य को ट्रक समेत गिरफ्तार किया है.पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि कुछ अपराधकर्मी मोतिहारी जाने वाली NH पर एक चोरी की ट्रक लेकर भाग रहे है.सूचना के आलोक पर पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में एक टीम गठित किया गया.टीम के द्वारा अहियापुर थाना क्षेत्र के बखरी पेट्रोल पंप के पास उक्त चोरी की गई ट्रक के साथ 2 अपराधियो को गिरफ्तार कर लिया.वही एक अपराधी मौके से भाग निकला.गिरफ्तार अपराधियो की पहचान इंद्रजीत सहनी व शाहनवाज अंसारी के रूप में हुई है.जिनके पास से एक देशी कट्टा,एक गोली व ट्रक जप्त किया गया है.

पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार को गुप्त सूचना मिली कि दादर पुल के समीप कुछ अपराध कर्मी किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए एकत्रित हुए है.सूचना के आलोक पर टीम गठित कर छापेमारी की गई.जहाँ से सोमन सहनी, रवीश सहनी और पप्पू कुमार को गिरफ्तार किया गया.उनके पास से एक पिस्तौल,2 गोली और 15 पुड़िया स्मैक बरामद किया गया है.

सभी अपराधियो को जेल भेजा जा रहा है.

उक्त जानकारी सिटी एसपी राजेश कुमार ने प्रेस वार्ता कर जानकारी दी है.

Continue Reading

BIHAR

कोरोना की रिपोर्ट आई निगेटिव, हॉस्पिटल ने बताया पॉजिटिव, शरीर में कई जगह चीड़ फाड़ से भड़के परिजन, अंग निकालने का आरोप

Published

on

पटना के मेडिवर्सल हॉस्पिटल में भर्ती कंकड़बाग के एक मरीज की संदिग्ध मौत के बाद परिजनों ने जमकर बवाल किया। परिजनों ने आरोप लगाया है कि मरीज की रिपोर्ट कोरोना निगेटिव आई इसके बाद भी अस्पताल पॉजिटिव बताकर इलाज किया। रविवार को मौत घोषित कर दिया गया। परिजनों का आरोप है कि मरीज के शरीर पर कई जगह चीड़ फाड़ किया गया है। आशंका है कि मरीज के आर्गन निकाल लिए गए हैं। पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुटी है।

कंकड़बाग के रहने वाले 54 साल के उदय शंकर को सांस में तकलीफ हाेने पर घर वालों 9 जून को मेडिवर्सल हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। उदय के रिश्तेदार महेंद्र ने बताया कि मरीज को भर्ती कराने के बाद पहले डॉक्टरों ने बताया कि कोरोना नहीं है। जांच की रिपोर्ट भी मोबाइल पर आई कि कोरोना नहीं है। इसके बाद डॉक्टरों ने कह दिया कि कोरोना है और कोरोना का इलाज किया जा रहा है। परिजनों का आरोप है कि इस दौरान उनकी हालत ठीक थी लेकिन इलाज के दौरान लगातार हालत बिगड़ती गई। घर वालों का कहना है कि जब सेहत में सुधार नहीं होने पर वह उसे लेकर दूसरे हॉस्पिटल में ले जाना चाहते थे लेकिन इस बीच रविवार को मरीज की मौत घोषित कर दी गई।

कोरोना के इलाज में क्यों किया गया चीड़फाड़

मरीज के घर वालों का कहना है कि रविवार को बताया गया कि मरीज की मौत हो गई है। आरोप है कि मरीज के शरीर में कई जगह चीड़ फाड़ कर दिया गया है। इससे घर वालों ने आर्गन निकालने की आशंका जताई है। परिजनों का कहना है कि जब कोरोना का इलाज चल रहा था तो उसमें ऑपरेशन किस बात का किया गया है। ऑपरेशन किया गया है तो घर वालों को इसकी जानकारी क्यों नहीं दी गई है। इसे लेकर हॉस्पिटल पर तरह तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं।

पुलिस से मुकदमा दर्ज कर जांच कराने की मांग

कंकड़बाग थाना को दिए गए आवेदन में मरीज के परिजनों ने आरोप लगाया है कि मेडिवर्सल हॉस्पिटल में मरीज की ठीक तरह से इलाज नहीं किया गया है। आरोप यह लगाया गया है कि दूसरे चीज का इलाज किया गया है। परिवार के अमरनाथ ने पुलिस से मुकदमा दर्ज कर जांच कराने की मांग की है। परिजनों की मांग है कि इस मामले में पोस्टमार्टम कराया जाए और यह पता लगाया जाए कि ऑपरेशन किस चीज का किया गया है और जब कोरोना का इलाज किया जा रहा था तो ऑपरेशन क्यों किया जा रहा है।

परिजनों का आरोप है कि मरीज के शरीर में पेट से लेकर कई जगह चीड़ फाड़ किया गया है जो संदेह पैदा कर रहा है। घर वालों की शिकायत पर पुलिस मामले की जांच कर रही है। मरीज के परीजन अस्पताल के बाहर बवाल मचाए हैं। वह पोस्टमार्टम की मांग कर रहे हैं।

Input: dainik bhaskar

Continue Reading
MUZAFFARPUR8 hours ago

गायघाट में राजद विधायक ने किया नदी के कटाव स्थल का निरीक्षण, ग्रामीणों ने कहां इस बार नदी में समाएगा ‘पूरा गांव

VIRAL8 hours ago

देखते ही देखते जमीन में समां गई कार, मानसून से पहले ही भयानक है मुंबई की तस्वीर

WORLD9 hours ago

चीन फिर लाया चमगादड़ थ्योरी, वैज्ञानिकों ने 24 तरह के नए नोवेल कोरोना वायरस मिलने का किया दावा

MUZAFFARPUR12 hours ago

मुजफ्फरपुर : 5 अपराधकर्मी गिरफ्तार ; हथियार, स्मैक व चोरी की ट्रक हुआ बरामद

BIHAR12 hours ago

कोरोना की रिपोर्ट आई निगेटिव, हॉस्पिटल ने बताया पॉजिटिव, शरीर में कई जगह चीड़ फाड़ से भड़के परिजन, अंग निकालने का आरोप

OMG13 hours ago

दुनिया का सबसे महंगा आम, जो दुकान पर नहीं मिलता, लगती है बोली

BIHAR16 hours ago

वीडियो: पवन सिंह का गाना बजते ही बेकाबू हुए मुखिया पति, बार बालाओं संग लगाए ठुमके

BIHAR16 hours ago

साथ काम करने वाली एक भी औरत को नहीं छोड़ा, यह अधिकारी इंसान है या…सीतामढ़ी बाल संरक्षण इकाई का मामला

BIHAR16 hours ago

शादी करना चाह रहे लोगों के लिए अच्छी खबर, जून-जुलाई में 23 लग्न; फिर करना होगा चार महीने इंतजार

BIHAR16 hours ago

बिहार में जुलाई से अनलॉक हो सकते हैं शिक्षण संस्‍थान, पटरी पर आएगी शिक्षा व्‍यवस्‍था!

BIHAR2 weeks ago

23 बैंकों के विलय की तैयारी, रिजर्व बैंक ने दी सहमति तो बिहार में पूरी तरह बदल जाएगी व्‍यवस्‍था

INDIA6 days ago

‘बाबा का ढाबा’ के मालिक वापस उसी जगह पर आए जहां से मिलीं थीं सुर्खियां, बंद हुआ नया रेस्टोरेंट

BIHAR6 days ago

बचपन में नीतीश के कार्यक्रम में दिया था भाषण, अब BPSC परीक्षा में मारी बाजी

INDIA4 days ago

आज साल का पहला सूर्य ग्रहण, जानिए किन शहरों में दिखेगा ये नज़ारा

BIHAR4 weeks ago

बिहार में आज से लागू हुई लॉकडाउन की नई गाइडलाइन, देखें पाबंदियों और सहूलियतों की सूची

BIHAR5 days ago

पांच बेटियों के पिता के पास ब्याह के लिए नहीं थे पैसे, बेटे ने किडनी बेचने की कर ली तैयारी

BIHAR1 week ago

बिहार : इन 5 जिलों में भारी वज्रपात के आसार, घरों से नहीं निकलने की चेतावनी जारी

INDIA3 weeks ago

IAS बनने के लिए HR की नौकरी छोड़ी, दो बार असफल होने के बाद डिप्रेशन में बन गई ‘कूड़ा बीनने वाली’

BIHAR2 weeks ago

बिहार में लॉकडाउन-4, यहां देखें लिस्ट 2 जून से क्या खुलेंगे और क्या रहेगा बंद

INDIA2 weeks ago

11वीं के छात्र संग फरार हुई महिला टीचर, घर पर रोज 4 घंटे पढ़ाती थी ट्यूशन

Trending