Connect with us
leaderboard image

WORLD

कोरोना वायरस के खौफ में अमेरिका, ट्रंप को लगानी पड़ी नेशनल इमरजेंसी

Santosh Chaudhary

Published

on

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस के खतरे को नेशनल इमरजेंसी घोषित कर दिया है. इसी के साथ ही ट्रंप प्रशासन ने इस खतरनाक संक्रमण से निपटने के लिए अभूतपूर्व आर्थिक और वैज्ञानिक उपायों का सहारा ले लिया है. अगले कुछ ही महीनों में चुनाव में उतरने जा रहे राष्ट्रपति ट्रंप कोरोना को लेकर किसी तरह की लापरवाही नहीं मोल लेना चाहते हैं.

ट्रंप ने कहा कि उनके इस एक्शन से कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने के लिए 50 अरब डॉलर का फंड मिल जाएगा. ट्रंप ने कहा कि अमेरिका की केंद्रीय, क्षेत्रीय और स्थानीय एजेंसियां कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए इस फंड का इस्तेमाल करेंगी. अमेरिका में अबतक कोरोना वायरस से लगभग 40 लोगों की मौत हो चुकी है.

37 खरब रुपये का भारी-भरकम पैकेज

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि नेशनल इमरजेंसी दो बहुत बड़े शब्द हैं. उन्होंने कहा कि उनके इस कदम से अमेरिकी सरकारी पूरी शक्ति का इस्तेमाल इस बीमारी से लड़ने में हो सकेगा. ट्रंप के इस कदम ने अमेरिकी प्रशासन के लिए मानो कुबेर का खजाना खोल दिया है. नेशनल इमरजेंसी लागू होने से कोरोना वायरस से लड़ने के लिए ट्रंप प्रशासन 50 अरब डॉलर यानी कि लगभग 37 खरब रुपये का इस्तेमाल कर सकेगा.

इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर होगा चालू

ट्रंप ने अमेरिकी राज्यों से कहा कि वे तत्काल अपने-अपने क्षेत्रों में आपातकाल ऑपरेशन सेंटर को प्रभावी रूप से चालू करें.

ट्रंप ने कहा कि उनकी सरकार का लक्ष्य है कि इस बीमारी का संक्रमण पूरी तरह से रोका जाए. उन्होंने कहा कि जो इस बीमारी से पीड़ित हैं उन्हें अच्छा से अच्छा इलाज दिया जाए. राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि आने वाले दिनों में हमें कुछ बदलाव करना पड़ेगा और त्याग करने पड़ेंगे, लेकिन कुछ समय का यह त्याग लंबे समय में लाभकारी साबित होगा. उन्होंने कहा कि अगल आठ सप्ताह कठिन हैं.

एक घंटे में चलेगा बीमारी का पता

समाचार एजेंसी ने एपी ने कहा है कि ट्रंप प्रशासन ने उन दो कंपनियों को 13 लाख डॉलर देने का ऐलान किया है जो एक ऐसा टेस्ट विकसित कर रही हैं जिससे मात्र एक घंटे में पता लगाया जा सकेगा कि क्या कोई शख्स कोरोना वायरस से पीड़ित है या नहीं.

 

20 साल बाद हेल्थ इमरजेंसी का ऐलान

अमेरिका की विपक्षी पार्टियां ट्रंप प्रशासन पर आरोप लगा रही है कि सरकार कोरोना से निपटने के लिए पर्याप्त इंतजाम नहीं कर रही है. इसके बाद ट्रंप ने कोरोना संक्रमण को 1988 के एक कानून के तहत राष्ट्रीय आपातकाल घोषित करने का फैसला किया है.

इस घोषणा के साथ फेडरल इमरजेंसी मैनेजमेंट एजेंसी नाम की संस्था राज्यों और स्थानीय सरकारों को आर्थिक मदद देने के लिए कानूनी रूप से सक्षम हो जाएगी. इसके साथ ही पूरे अमेरिका में सपोर्ट टीम की तैनाती भी की जाएगी. बता दें कि अमेरिकी सरकारें इस पावर का कम ही इस्तेमाल करती हैं. इससे पहले पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिटंन ने साल 2000 में वेस्ट नील वायरस के खतरे को देखते हुए ऐसी ही आपातकाल की घोषणा की थी.

 

WORLD

COVID-19 : पाकिस्तान में राशन सिर्फ मुस्लिमों को बांटा जा रहा, हिंदुओं से कहा- ये तुम्हारे लिए नहीं

Santosh Chaudhary

Published

on

इस्लामाबाद. पाकिस्तान में कोरोना महामारी के कारण हालात गंभीर हो गए हैं। रविवार तक यहां 1560 पॉजिटिव केस सामने आए और 14 लोगों की मौत हुई। इमरान खान सरकार प्रभावित इलाकों तक मदद पहुंचाने का प्रयास कर रही है, लेकिन सिंध प्रांत में रहने वाले अल्पसंख्यक हिंदुओं के साथ खासा भेदभाव किया जा रहा है। पिछले दिनों स्थानीय प्रशासन की ओर से कराची में लोगों को राशन और अन्य जरूरी सामान बांटा गया, लेकिन हिंदुओं को खाली हाथ लौटा दिया गया, उनसे कहा गया कि यह राहत उनके लिए नहीं बल्कि सिर्फ मुस्लिम समुदाय के लोगों के लिए है। सिंध में हिंदुओं की आबादी करीब 5 लाख है।

सिंध प्रांत में लॉकडाउन के दौरान फंसे मजदूरों और कामगारों के लिए राशन बांटने का जिम्मा सरकार ने प्रशासन और एनजीओ को दे रखा है। यहां करीब 3 हजार लोग मदद के लिए जुटे थे। इनकी स्वास्थ्य जांच और स्क्रीनिंग के भी कोई इंतजाम नहीं किए गए। इस लिहाल से अल्पसंख्यक आबादी में संक्रमण का खतरा बना हुआ।

मोदी से गुहार- राजस्थान के रास्ते मदद भेजें

राजनीतिक कार्यकर्ता डॉ. अमजद अयूब मिर्जा ने कहा है कि कराची शहर और सिंध प्रांत के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले हिंदुओं के सामने खाने-पीने के सामान का गंभीर संकट खड़ा हो चुका है। वे भारत सरकार से मदद की गुहार लगा रहे हैं। उनकी मांग है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजस्थान के रास्ते सिंध के हिंदुओं के लिए राशन और अन्य जरूरी सामान भेजें।

8 हजार से ज्यादा संदिग्ध मरीज क्वारैंटाइन सेंटर में

पाकिस्तान में कोरोना से निपटने के लिए 182 क्वारैंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। यहां 8066 संदिग्ध मरीजों का इलाज और कोरोना जांच की जा रही है। रविवार को महामारी से निपटने के लिए सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने देश के अंदरूनी इलाकों में सेना तैनात करने की मंजूरी दी। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, पंजाब प्रांत में 558, सिंध प्रांत में 481, खैबर पख्तूनख्वा में 188, बलूचिस्तान में 138, गिलगित बाल्टिस्तान में 116, इस्लामाबाद में 43 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 2 पॉजिटिव केस मिले हैं।

Input : Dainik Bhaskar

Continue Reading

WORLD

कोरोना वायरस महामारी से परेशान जर्मनी के मंत्री ने की आत्‍महत्‍या

Santosh Chaudhary

Published

on

नई दिल्‍ली. दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के कारण हजारों जानें जा चुकी हैं. इसके बाद भी मौतों को सिलसिला जारी है. कोरोना महामारी (Covid 19) की वजह से सभी देश चिंतित हैं. इसी बीच कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हो रहे आर्थिक नुकसान की भरपाई को लेकर बेहद चिंतित जर्मनी के हेसे राज्य के वित्त मंत्री थॉमस शाएफर (Thomas Schaefer) ने कथित रूप से आत्महत्या कर ली.

German State Finance Minister Found Dead | Zero Hedge

रेल पटरी पर मिला था शव

54 साल के शाएफर शनिवार को रेल पटरी पर मृत पाए गए थे. वीसबैडेन अभियोजक के कार्यालय ने मंत्री द्वारा आत्महत्या किए जाने की आशंका जताई है. हेसे के मुख्यमंत्री वॉल्कर बॉफियर ने एक बयान में कहा, ‘हम स्तब्ध हैं. हमें विश्वास नहीं हो रहा और हम अत्यंत दुखी हैं.’

मदद कर रहे थे शाएफर

हेसे में जर्मनी की वित्तीय राजधानी फ्रैंकफर्ट है जहां ड्यूश बैंक और कॉमर्जबैंक का मुख्यालय है. यूरोपीय सेंट्रल बैंक भी फ्रैंकफर्ट में ही है. राज्य के वित्त मंत्री की मौत की खबर से बेहद दुखी नजर आ रहे बॉफियर ने कहा कि शाएफर इस महामारी के कारण पैदा हुए आर्थिक संकट से उबरने में कंपनियों एवं कर्मियों की मदद करने के लिए दिन-रात काम कर रहे थे.

एंजेला मार्केल ने जताया दुख

चांसलर एंजेला मार्केल के निकट सहयोगी बॉफियर ने कहा, ‘आज हमें यह मानना होगा कि वह बेहद चिंतित थे. विशेषकर इस मुश्किल समय में हमें उनके जैसे ही व्यक्ति की आवश्यकता थी.’ शाएफर के परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं.

Input : News18

Continue Reading

WORLD

अमेरिका में एक दिन में सामने आए कोरोना के 19000 नए केस, ट्रंप का लॉकडाउन से इनकार

Santosh Chaudhary

Published

on

वाशिंगटन. अमेरिका (USA) बुरी तरह कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की चपेट में है और इसके केंद्र न्यूयॉर्क (New York) शहर है. अमेरिका में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,23,000 से ज्यादा हो गयी है जबकि इससे 2,200 से ज्यादा मौतें भी हो चुकी हैं. हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने न्यूयॉर्क, न्यू जर्सी और कनेक्टिकट में लॉकडाउन नहीं लागू करने की घोषणा से सभी को चौंका दिया है. ट्रंप ने पहले इसकी घोषणा की थी लेकिन शनिवार देर रात ट्वीट कर ये फैसला वापस ले लिया.

ट्रंप ने शनिवार देर रात ट्वीट कर कहा कि यात्रा परामर्श जारी करना बेहतर उपाय है. राज्य की सीमाएं सील करने की ट्रंप की टिप्पणी पर न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्र्यू कुओमो ने इसे अवैध और ‘युद्ध की संघीय घोषणा’ बताया था. यात्रा परामर्श में इन तीन राज्यों के निवासियों से अगले दो हफ्ते तक बहुत जरूरी न होने पर किसी भी तरह की यात्रा से बचने की अपील की गई है. इस बीच, कुओमो ने न्यूयॉर्क में होने वाली प्राइमरी (प्राथमिक चुनाव) को अप्रैल से टाल कर जून में कर दिया है. वहीं नर्सों ने और अधिक सुरक्षित उपकरण मुहैया कराने की अपील की है तथा अधिकारियों के उन दावों को गलत बताया कि आपूर्ति पर्याप्त है.

अमेरिका में कल कोरोना से हुईं 525 मौतें

विश्व में कोरोना वायरस से संक्रमित सबसे ज्यादा लोग फिलहाल अमेरिका में हैं और शनिवार को इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई. सिर्फ 24 घंटों में अमेरिका में 525 लोगों की मौत दर्ज की गई है. वैश्विक महामारी फैलने के बाद से यहां अब तक 2200 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. अमेरिका में कोरोना से मौत के मामले सिर्फ तीन दिन में बढ़कर दोगुने हो गए हैं. मृतकों में एक नवजात भी शामिल है. इलिनोइस राज्य के अधिकारियों ने बताया कि वैश्विक महामारी के कारण एक साल से भी कम उम्र के बच्चे की कोविड-19 से मौत का यह दुर्लभ मामला है.

ट्रंप ने 15 दिन का प्लान बताया था जो फेल हुआ

ट्रंप ने 16 मार्च को अपना प्लान बताया था जिसमें उन्होंने संक्रमण की गति को धीमा करने के उपायों पर काम करने की बात कही थी. हालांकि उस दिन के बाद से अब तक अमेरिका में दुनिया के सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज मौजूद हैं. अमेरिका में संक्रमण की गति पहले से कई गुना हो गयी है. हालांकि ट्रंप ने रेस्ट्रिक्शन लगाने की जगह पहले से जारी प्रतिबंधों में ढील देने की बात कही है. ट्रंप सरकार ने अर्थव्यवस्था को संभालने और कोरोना से निपटने के लिए 2 ट्रिलियन डॉलर के पैकेज की भी घोषणा की है.

Continue Reading
BIHAR4 hours ago

यूथ ब्रिगेड बिहार की अनोखी पहल, जनप्रतिनिधि से मिलकर खुद बना रहे मास्क

INDIA4 hours ago

धोनी का लक्ष्य क्रिकेट से 30 लाख रुपए कमाना और रांची में शांति से रहने का था: वसीम जाफर

WORLD5 hours ago

COVID-19 : पाकिस्तान में राशन सिर्फ मुस्लिमों को बांटा जा रहा, हिंदुओं से कहा- ये तुम्हारे लिए नहीं

INDIA7 hours ago

25,000 मजदूरों के लिए ‘फरिश्‍ता’ बने सलमान खान, पिता सलीम खान ने कही दिल जीतने वाली बात

INDIA9 hours ago

आइए आपका इंतजार था… लॉकडाउन में निकले बाहर तो पुलिस ने उतारी आरती, बरसाए फूल

INDIA9 hours ago

बड़ा खुलासा : विराट कोहली-अनुष्का शर्मा ने Coronavirus पीड़ितों की मदद के लिए दिए इतने करोड़ रुपये

MUZAFFARPUR11 hours ago

मुजफ्फरपुर में फिर से शुरू हुआ, मौत का तांडव! मौत के अस्पताल में AES से हुई पहली मौत

INDIA12 hours ago

Lockdown के दौरान युवक ने फोन करके कहा 4 समोसे भिजवा दो, डीएम ने भिजवाए 4 समोसे और साफ कराई नाली

INDIA12 hours ago

कार्तिक आर्यन की दरियादिली, कोरोना के खिलाफ 1 करोड़ का दान- फैंस बोले- असली हीरो

INDIA14 hours ago

क्या 21 दिन से आगे बढ़ेगा लॉकडाउन? मोदी सरकार ने दिया ये जवाब

BIHAR3 days ago

स्पाइसजेट का सरकार को प्रस्ताव, दिल्ली-मुंबई से बिहार के मजदूरों को ‘घर’ पहुंचाने के लिए हम तैयार

cheating-on-first-day-of-haryana-board-exam
INDIA4 weeks ago

बिहार तो बेवजह बदनाम है… हरियाणा बोर्ड परीक्षा में शिखर पर नकल

INDIA1 week ago

PM मोदी को पटना के बेटे ने दिए 100 करोड़ रुपये, कहा – और देंगे, थाली भी बजाई

INDIA4 days ago

पूरी हुई जनता की डिमांड, कल से दोबारा देख सकेंगे रामानंद सागर की ‘रामायण’

BIHAR2 weeks ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

BIHAR2 weeks ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

BIHAR4 weeks ago

बड़ी खुशखबरी: बिहार में घरेलू गैस की अब नहीं होगी किल्लत, बांका में नया प्लांट शुरू

BIHAR5 days ago

अब नहीं सचेत हुए बिहार वाले तो, अपनों की लाशें उठाने को रहें तैयार

INDIA4 weeks ago

आज होगी देश की सबसे महंगी शादी, 500 पंडित पढ़ेंगे मंत्र

BIHAR6 days ago

लॉकडाउन के बाद पैदल जयपुर से बिहार के लिए निकले 14 मजदूर, भूखे-प्यासे तीन दिन में जयपुर से आगरा पहुंचे

Trending