Connect with us

WORLD

कोरोना वैक्सीन के इंजेक्शन से अब घबराने की जरूरत नहीं, कोविड-19 टैबलेट पर रिसर्च शुरू

Muzaffarpur Now

Published

on

कोरोना वायरस की वैक्सीन के लिए लोगों को अब जल्द ही इंजेक्शन की जगह टैबलेट दिया जा सकता है. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक इस पर काम कर रहे हैं. ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की चीफ डेवलपर सारा गिल्बर्ट ने बताया कि उन्होंने अपनी टीम के साथ इंजेक्शन फ्री टीके पर काम शुरू कर दिया है. ब्रिटिश अखबार ‘डेली मेल’ में यह खबर प्रकाशित हुई है.

रिसर्च के बारे में ‘हाउस ऑफ कॉमन्स साइंस एंड टेक्नोलॉजी कमेटी’ को बताते हुए प्रोफेसर गिल्बर्ट ने कहा, ‘नेजल स्प्रे के जरिए कई फ्लू वैक्सीन दी जाती हैं और हम इसी की तरह काम करने वाला कोरोना वैक्सीन तैयार करने में जुटे.’ उन्होंने बताया कि मुंह के जरिए वैक्सीनेशन पर भी विचार चल रहा है और जिन्हें भी इंजेक्शन से परेशानी है वो टैबलेट के जरिएटीका ले सकते हैं.

दरअसल वैज्ञानिक कोविड-19 के खिलाफ ऐसे टीके की खोज में जुटे हैं जो कि बच्चों को बुखार में दिए जाने वाले नेजल स्प्रे या फिर पोलियो टीकाकरण के दौरान दिए जाने वाले टैबलेट की तरह हो. हालांकि प्रोफेसर गिल्बर्ट ने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ इस तरह के वैक्सीन को बनने में थोड़ा समय लग सकता है क्योंकि सुरक्षा और असर से जुड़े परीक्षण करने होंगे. खबर के मुताबिक, टैबलेट का क्लिनिकल अमेरिका में शुरू किया जा चुका है, जबकि ब्रिटेन में नेजल स्प्रे का ट्रायल चल रहा है.

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में बच्चों के लिए सुरक्षित वैक्सीन पर शोध शुरू

दूसरी ओर, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने ब्रिटेन में इस महीने होने वाले टीकाकरण से पहले बच्चों और युवाओं को अपनी कोविड-19 वैक्सीन सुरक्षा देने और उनमें प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं का आकलन करने के लिए शोध शुरू किया है. इस शोध में आकलन किया जाएगा कि चैडॉक्स1 एनकोवी-19 वैक्सीन ने 6 से 17 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों और युवा वयस्कों में अच्छी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया विकसित करती है या नहीं.

ऑक्सफोर्ड टीका परीक्षण के मुख्य अन्वेषक प्रो.एंड्रयू मर्ड ने एक बयान में कहा, ‘हालांकि अधिकांश बच्चे अपेक्षाकृत कोरोनोवायरस से अप्रभावित हैं और संक्रमण से उनके अस्वस्थ होने की संभावना नहीं है, फिर भी बच्चों और युवाओं में वैक्सीन की सुरक्षा और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया की स्थापन महत्वपूर्ण है, क्योंकि कुछ बच्चों को टीकाकरण से लाभ हो सकता है.’

Source : News18

INDIA

इंग्लैंड में भी है एक पटना, बिहार की राजधानी से भी जुड़ा है इसका नाता

Muzaffarpur Now

Published

on

आपको जानकर हैरानी होगी कि बिहार (Bihar) की राजधानी पटना (Patna) के नाम पर इंग्लैंड के स्कॉटलैंड में एक गांव बसा है. इससे भी ज्यादा हैरान आप तब हो जाएंगे जब आपको इस बात की जानकारी मिलेगी कि इस पटना का बिहार की राजधानी पटना से कनेक्शन भी है. स्कॉटलैंड (Scotland) में स्थित यह पटना बिहार की राजधानी पटना की तरह गंगा नदी के तट पर ही एक नदी के तट पर स्थित है. इस नदी का नाम है दून नदी है, जिसके दोनों किनारों पर यह गांव स्थित है. गांव के बीच से ही दून नदी निकलती है. बिहार के लोग भले ही स्कॉटलैंड के पटना गांव को नहीं जानते लेकिन पटना गांव के लोग बिहार और पटना से बखूबी परिचित हैं.

दरअसल, पटना गांव के प्राइमरी स्कूल के बच्चों को उनके गांव के इतिहास से जब अवगत कराया जाता है तब उसमें बिहार की राजधानी पटना की चर्चा होती है. इस पटना गांव के लोग बिहार के पटना को बखूबी जानते हैं. स्कॉटलैंड का यह पटना बिहार की राजधानी पटना से 10 हज़ार किलोमीटर दूर है. यह पटना गांव ग्लास्गो के पास इस्ट ईयर शायर काउंसिल में और इंग्लैंड की राजधानी लंदन से करीब 650 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. क्षेत्रफल के हिसाब से यह गांव छोटा है जिसकी ख्याति शांत और स्वच्छ वातावरण के लिए अधिक है. बिहार की राजधानी पटना की आबादी लाखों में हो है लेकिन स्कॉटलैंड वाले पटना की आबादी काफी कम है.

फुलटीन परिवार ब्रिटेन वापस लौट गया

दरअसल, इस गांव का नाम पटना ऐसे ही नहीं पड़ा है. बिहार की राजधानी पटना से इसका कनेक्शन भी जुड़ा है. 1745 में एक ब्रिटिश कारोबारी विलियम इन ब्रिटिश इंडिया कंपनी के साथ बिहार पहुंचा था. बिहार से ब्रिटेन में यह कारोबारी भारी मात्रा में चावल का निर्यात करता था. इसके बाद कारोबारी के भाई जॉन फुलटीन ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना में मेजर जनरल के पद पर पटना में पदस्थापित हुआ. 1774 में पटना में हीं मेजर जनरल को एक बेटा हुआ जिसका नाम रखा गया विलियम फुलटीन. इस बच्चे का बचपन पटना में ही बीता था. जॉनफुल टीन की मौत के बाद फुलटीन परिवार ब्रिटेन वापस लौट गया.

नौकरी के लिए पलायन करते हैं लेकिन इस दौरान भारत में यह परिवार आर्थिक रूप से काफी संपन्न हो चुका था, जिसने लौटने के बाद स्कॉटलैंड में खादान का धंधा शुरू किया. साल 1802 में विलियम फुलटन ने यही अपनी जन्मस्थली पटना के नाम पर गांव बसाया जिसमें कोयला खदान में काम करने वाले मजदूर रहा करते थे. अभी यह खदान बंद हो चुका है लेकिन इस गांव में पटना नाम से एक रेलवे स्टेशन भी था जो 1964 के बाद अस्तित्व में नहीं रहा. कभी साधन संपन्न रहें इस गांव में रोजगार की कमी की वजह से लोग बाहर दूसरी जगह पर नौकरी के लिए पलायन करते हैं.

Source : News18

Continue Reading

WORLD

चीन का दौरा करने वाली WHO की टीम ने पेश की रिपोर्ट, बताया दुनिया में कैसे फैला कोरोना

Muzaffarpur Now

Published

on

सार्स-कोव-2 वायरस यानी कोरोना वायरस के किसी प्रयोगशाला से लीक होने की आशंका न के बराबर है। यह वायरस संभवत: चमगादड़ से अन्य जंतुओं के जरिये मनुष्यों में फैला होगा। कोविड-19 की उत्पत्ति का रहस्य खंगालने के लिए चीन का दौरा करने वाली विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की टीम की मसौदा रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।

रिपोर्ट में कई अनसुलझे सवालों के जवाब नहीं दिए गए हैं। डब्ल्यूएचओ टीम ने वायरस के प्रयोगशाला से लीक होने के मामले को छोड़कर अन्य सभी पहलुओं पर आगे जांच करने का प्रस्ताव रखा है। रिपोर्ट को जारी किए जाने में लगातार देरी हो रही है, जिससे सवाल उठ रहे हैं कि कहीं चीनी पक्ष जांच के निष्कर्ष को प्रभावित करने का प्रयास तो नहीं कर रहा, ताकि बीजिंग पर कोविड-19 महामारी फैलने का दोष न मढ़ा जाए।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने हाल ही में सीएनएन को दिए एक साक्षात्कार में कहा था, हमारी चिंता इस रिपोर्ट की कार्यप्रणाली और प्रक्रिया को लेकर है। यह भी एक तथ्य है कि चीनी सरकार ने इस रिपोर्ट को तैयार करने में मदद की है। वहीं, चीन ने सोमवार को ब्लिंकन की इस आलोचना को खारिज कर दिया। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि अमेरिका रिपोर्ट के संबंध में जो कुछ बोल रहा है, उसके जरिये क्या वह डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों पर राजनीतिक दबाव डालने का प्रयास नहीं कर रहा?

एक जांच एजेंसी को सोमवार को जेनेवा में डब्ल्यूएचओ के सदस्य देश के राजनयिक से जांच टीम की रिपोर्ट मिली है। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं हो पाया गया है कि रिपोर्ट को जारी करने से पहले उसमें बदलाव किया जाएगा या नहीं। वहीं, राजनयिक का कहना है कि यह रिपोर्ट का अंतिम संस्करण है।

इस बीच, डब्ल्यूएचओ प्रमुख टेड्रोस अदानोम गेब्रेयसस ने स्वीकार किया कि उन्हें सप्ताहांत में रिपोर्ट प्राप्त हो गई थी। इसे मंगलवार को औपचारिक तौर पर पेश किया जाएगा। विशेषज्ञों ने सार्स-कोव-2 वायरस की उत्पत्ति की चार परिस्थितियां बताई हैं। इनमें चमगादड़ों से अन्य जंतुओं में इसका प्रसार मुख्य है।

Input: Live Hindustan

Continue Reading

WORLD

12 साल के लड़के को मिठाई देकर खेत में ले गई 38 साल की महिला, फिर की गंदी हरकत

Muzaffarpur Now

Published

on

ब्रिटेन में एक 38 साल की महिला 12 साल के बच्चे का यौन शोषण करने की दोषी पाई गई है। करीब दो सप्ताह तक सुनवाई के बाद महिला दोषी करार दी गई है। महिला बच्चे को मिठाई और खाने-पीने का अन्य सामान देकर खेत में ले गई और उसके साथ गंदी हरकतें कीं।

लंदन के डर्बी में 38 वर्षीय डेबोरा येट्स ने बच्चे को फोन और पैसों का भी लालच दिया और उसे स्कूल बंक करने पर तैयार किया। महिला पर तीन अपराध साबित हुए हैं। इसमें 13 साल से कम उम्र के बच्चे का यौन शोषण और अपहरण शामिल है। दोषी पाई गई महिला 3 बच्चों की मां है।

अभियोजक एंड्र्यू वोउट ने 2017 में हुए इस अपराध के बारे में बताया कि महिला ने बच्चे को लालच देकर तैयार किया। स्कूल के पास एक खेत में ले जाकर उसने बच्चे को किस किया और उसके साथ छेड़छाड़ की। बच्चा जब स्कूल से अक्सर गायब रहने लगा तो टीचर चिंतित हो गए थे। इस बीच एक दिन टीचर ने उसे महिला के साथ झाड़ियों में देख लिया। इसके बाद महिला को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

Input: Live Hindustan

Continue Reading
BIHAR2 hours ago

साउथ फिल्मों के सुपरस्टार अल्लू अर्जुन के साथ नजर आएंगी बिहारी गर्ल संचिता बसु, टिकटॉक ने दिलाई थी पहचान

BIHAR4 hours ago

इन राज्यों से बिहार आने वाले यात्री ध्यान दें, आपको 72 घंटे पूर्व देनी होगी कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट

MUZAFFARPUR5 hours ago

गायघाट के शिवदाहा अग्निकांड में पीड़ितों को अबतक नहीं मिला है कोई सरकारी सहायता, लाखों की हुई थी क्षति

BIHAR6 hours ago

नीतीश के पुराने दोस्त ने कोरोना संकट पर लिखा सीएम को पत्र, कहा- काले अक्षरों में लिखा जाएगा आपका नाम

INDIA6 hours ago

चुनावी रैली में बोलीं ममता बनर्जी- बीजेपी की वजह से पश्चिम बंगाल में बढ़े कोरोना केस

MUZAFFARPUR7 hours ago

दुष्कर्म का आरोपी निकला कोरोना पॉजिटिव, जांच के बाद पुलिस महकमे में मचा हड़कंप

BIHAR9 hours ago

बिहार के इस मंत्री का फेसबुक एकाउंट हैक, फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर मांग रहे पैसे

BIHAR9 hours ago

पटना AIIMS के 150 बेड समेत ICU फुल फिर भी इलाज के लिए पहुंच रहे मरीज

sadar-thana-police-station
MUZAFFARPUR10 hours ago

मुजफ्फरपुर में रिटायर्ड दारोगा का परिवार बहू को कर रहा प्रताडि़त, घर से निकाला, केस दर्ज

MUZAFFARPUR10 hours ago

दो दिन बाद मुजफ्फरपुर समेत पूरे उत्तर बिहार में कई स्थानों पर होगी हल्की बारिश

BIHAR3 weeks ago

अलर्ट! बिहार में वैक्सीन लेने के बावजूद आंगनबाड़ी सेविका कोरोना पीड़ित, पटना एम्स में तोड़ा दम

VIRAL4 weeks ago

पबजी खेलते हुआ था प्यार, हिमाचल से वाराणसी पहुंची महिला, युवक निकला कक्षा 2 का छात्र

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर में नौ जगहों पर बनेगा माइक्रो कंटेनमेंट जोन, इसमें कहीं आपका इलाका तो नहीं

INDIA4 weeks ago

SBI, HDFC बैंक में हैं खाता तो हो जाएं सावधान! चेतावनी जारी की गई

HEALTH4 days ago

ये 5 लक्षण मुंह पर दिखें तो तुरंत करवा लें जांच, हो सकता है कोरोना

BIHAR3 weeks ago

दरभंगा एयरपोर्ट पर जादूगर का साया, एक व‍िमान फ‍िर गायब

INDIA3 weeks ago

ये 4 बैंक जल्द ही सरकारी से प्राइवेट हो सकते हैं! करोड़ों ग्राहकों पर क्या होगा असर?

INDIA3 weeks ago

होली पर अपने घर जाने वाले यात्रियों को बड़ा झटका, रेलवे ने कैंसिल कर दी कई ट्रेनें

TRENDING3 weeks ago

मिट्टी का तेल सिर पर छिड़ककर बाल सीधे करने के प्रयास में लड़के की मौत

BIHAR4 weeks ago

बिहार में 24 घंटे में दोगुना हुए कोरोना केस, हाई अलर्ट पर स्वास्थ्य महकमा

Trending