Connect with us
leaderboard image

MUZAFFARPUR

कोरोना से लड़ाई: बिहार के सभी मॉल, जिम व स्वीमिंग पुल 31 मार्च तक बंद

Ravi Pratap

Published

on

स्वास्थ्य विभाग बिहार के सभी जिलों में शॉपिंग मॉल, व्यायामशाला (जिम्नेजियम), स्विमिंग पुल और स्पा सेंटर को 31 मार्च तक बंद करने का आदेश जारी किया। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए यह बड़ा फैसला लिया गया।

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने कोरोना के महामारी घोषित होने व इस संबंध में राज्य सरकार द्वारा अधिनियम लागू होने के बाद मिले अधिकार का पहली बार प्रयोग करते हुए यह निर्देश जारी किया। बुधवार को जारी जारी निर्देश के अनुसार शादी-विवाह के कार्यक्रमों को छोड़कर किसी भी स्थान पर 50 से अधिक लोगों के एकत्र होने पर भी तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गयी है। राज्य के सभी थियेटर को भी 31 मार्च तक बंद करने का आदेश दिया गया है।

संजय कुमार द्वारा जारी आदेश के अनुसार सभी प्रमुख दुकानों, रेस्टुरेंटों को असंक्रमित नियमित रुप से किया जाए और प्रवेश द्वारों पर आमलोगों के लिए सेनेटाइजर उपलब्ध कराया जाए। एक बार में दस व्यक्तियों को ही प्रवेश की अनुमति दी जाए। बिना हाथ को धोए प्रवेश करने पर रोक लगायी जाए। कुमार ने सभी निजी अस्पतालों को निर्देश दिया कि वे कोरोना के संदिग्ध मरीज की सूचना तीन घंटे के अंदर संबंधित जिले के सिविल सर्जन को दें।

गौरतलब है कि बिहार में सरकार की ओर से पहले ही कई बड़े फैसले लिए गए है। इन फैसलों में बिहार में स्कूल, कालेज, सिनेमा घर, पार्क, चिड़ियाघर और म्यूजियम को 31 मार्च तक के लिए पूरी तरह से बंद किया जा चुका है। राज्य के सभी सरकारी और प्राइवेट हॉस्टलों को बंद कर दिया गया है। शिक्षा विभाग ने सभी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को 31 मार्च तक बंद रखने का आदेश जारी किया था। इसके बाद सभी सरकारी और प्राइवेट हॉस्टल 31 मार्च तक बंद करने का आदेश दिया गया।

MUZAFFARPUR

एईएस के लक्षण दिखते ही लाएं अस्पताल

Santosh Chaudhary

Published

on

मुजफ्फरपुर : एईएस का लक्षण दिखते ही समय पर बच्चे को अस्पताल लेकर पहुंचे। इसमें किसी तरह की कोताही नहीं बरते। अगर आप समय से बच्चे को अस्पताल लेकर पहुंच जाएंगे तो उसकी जान बच जाएगी। उक्त बातें प्रेस वार्ता में जिलाधिकारी डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने कही। उन्होंने कहा कि सभी पीएचसी में एईएस वार्ड बनाया गया है। ग्रामीण इलाके के बच्चे की तबीयत बिगड़ते ही समय के अंदर पीएचसी पर पहुंचे। वहां पर डॉक्टरों के साथ पूरी दवाई उपलब्ध करा दी गई है। निजी क्लीनिक व ग्रामीण डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं है। एईएस को लेकर सारी सुविधाएं पीएचसी में बहाल कर दी गई है। वाहन किराया के बारे में भी सोचने की जरूरत नहीं है। सरकार की तरफ से एईएस बच्चे के इलाज के लिए वाहन किराया के मद में चार सौ रुपये भी दिए जाएंगे। डीएम ने कहा कि शनिवार को एसकेएमसीएच का निरीक्षण किया था। वहां पर एईएस पीड़ित एक बच्चा भर्ती है। उसकी हालत में सुधार है।

बच्चे को रात में भूखा न सोने दें : डीएम ने कहा कि सभी अभिभावकों से अपील है कि वे बच्चे को रात में भूखे नहीं सोने दें। बच्चे को रात में भर पेट खाना खिलाकर ही सुलाएं। कटे गिरे हुए फल बच्चे को नहीं खाने दें। रात में सोने के बाद सुबह में बच्चे के शरीर में ग्लुकोज की मात्र कम जाती है। इसके वजह से तबीयत खराब होने लगती है। इसलिए इन सभी बातों को ध्यान रखने की जरूरत है।

  • एईएस पीड़ित बच्चे को अस्पताल लाने के लिए चार सौ रुपये वाहन किराया के रूप में मिलेंगे
  • जिलाधिकारी ने कहा – एईएस से निपटने को लेकर डॉक्टरों की पूरी टीम तैनात

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर में एईएस से एक बच्चे की मौत, दो दिनों से था वेंटिलेटर पर, अब तक मिले दो मामले…

Santosh Chaudhary

Published

on

गर्मी की धमक के साथ ही एईएस (एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम) ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। इससे पीडि़त एसकेएमसीएच के पीआइसीयू वार्ड संख्या दो में भर्ती सकरा प्रखंड के बाजी बुजुर्ग निवासी मुन्ना राम के पुत्र आदित्य कुमार (तीन वर्ष) की रविवार की शाम पांच बजे मौत हो गई। स्थिति गंभीर होने पर उसे शुक्रवार की देर रात से वेंटिलेटर पर रखा गया था। वहीं भर्ती पूर्वी चंपारण जिले के चिरैया निवासी रूपन सहनी की पुत्री सपना कुमारी (पांच वर्ष) की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है।

इस साल की पहली मौत

इस बीमारी से सीजन में पहली मौत है। शिशु विभागाध्यक्ष डॉ. गोपाल शंकर साहनी ने बताया कि दो बच्चों को भर्ती किया गया था। इसमें एक बच्चे की मौत हो गई, जबकि दूसरे की स्थिति में सुधार हो रहा है। अस्पताल अधीक्षक डॉ. सुनील कुमार शाही ने बताया कि एईएस को लेकर सभी को अलर्ट कर दिया गया है। अस्पताल में बच्चों की इलाज की बेहतर व्यवस्था की गई है। मालूम हो कि एईएस से बीते वर्ष 431 बच्चे बीमार होकर भर्ती हुए थे। 111 बच्चे मौत के मुंह में चले गए थे। वहीं, 320 बच्चे क्योर होकर अस्पताल से लौटे थे।

दो दिनों पहले किया गया था भर्ती

आदित्य की मां सोनामती देवी ने बताया कि गुरुवार को बच्चे को सर्दी हुई थी। गांव के ही एक चिकित्सक से दवा लेकर रात में दिया गया। शुक्रवार की सुबह पांच बजे वह अचानक कांपने लगा। फिर उसे चमकी आने लगी। इसके बाद उसे गांव के ही चिकित्सक के पास ले गया, जहां उसे दो इंजेक्शन दिया गया, लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। उसे सकरा पीएचसी ले गए। जहां से कुछ दवा देकर एसकेएमसीएच भेज दिया गया।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर में एईएस से एक बच्चे की मौत, दो दिनों से था वेंटिलेटर पर, अब तक मिले दो मामले…

Ravi Pratap

Published

on

गर्मी की धमक के साथ ही एईएस (एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम) ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। इससे पीडि़त एसकेएमसीएच के पीआइसीयू वार्ड संख्या दो में भर्ती सकरा प्रखंड के बाजी बुजुर्ग निवासी मुन्ना राम के पुत्र आदित्य कुमार (तीन वर्ष) की रविवार की शाम पांच बजे मौत हो गई। स्थिति गंभीर होने पर उसे शुक्रवार की देर रात से वेंटिलेटर पर रखा गया था। वहीं भर्ती पूर्वी चंपारण जिले के चिरैया निवासी रूपन सहनी की पुत्री सपना कुमारी (पांच वर्ष) की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है।

इस साल की पहली मौत

इस बीमारी से सीजन में पहली मौत है। शिशु विभागाध्यक्ष डॉ. गोपाल शंकर साहनी ने बताया कि दो बच्चों को भर्ती किया गया था। इसमें एक बच्चे की मौत हो गई, जबकि दूसरे की स्थिति में सुधार हो रहा है। अस्पताल अधीक्षक डॉ. सुनील कुमार शाही ने बताया कि एईएस को लेकर सभी को अलर्ट कर दिया गया है। अस्पताल में बच्चों की इलाज की बेहतर व्यवस्था की गई है। मालूम हो कि एईएस से बीते वर्ष 431 बच्चे बीमार होकर भर्ती हुए थे। 111 बच्चे मौत के मुंह में चले गए थे। वहीं, 320 बच्चे क्योर होकर अस्पताल से लौटे थे।

दो दिनों पहले किया गया था भर्ती

आदित्य की मां सोनामती देवी ने बताया कि गुरुवार को बच्चे को सर्दी हुई थी। गांव के ही एक चिकित्सक से दवा लेकर रात में दिया गया। शुक्रवार की सुबह पांच बजे वह अचानक कांपने लगा। फिर उसे चमकी आने लगी। इसके बाद उसे गांव के ही चिकित्सक के पास ले गया, जहां उसे दो इंजेक्शन दिया गया, लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। उसे सकरा पीएचसी ले गए। जहां से कुछ दवा देकर एसकेएमसीएच भेज दिया गया।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
MUZAFFARPUR45 mins ago

एईएस के लक्षण दिखते ही लाएं अस्पताल

BIHAR58 mins ago

चैती छठ : पर्व के दूसरे दिन व्रतियों ने किया खरना अस्ताचलगामी सूर्य को सांध्यकालीन अर्घ्य आज

MUZAFFARPUR11 hours ago

मुजफ्फरपुर में एईएस से एक बच्चे की मौत, दो दिनों से था वेंटिलेटर पर, अब तक मिले दो मामले…

MUZAFFARPUR11 hours ago

मुजफ्फरपुर में एईएस से एक बच्चे की मौत, दो दिनों से था वेंटिलेटर पर, अब तक मिले दो मामले…

Uncategorized11 hours ago

टी-सीरीज चेयरमैन भूषण कुमार ने पीएम केयर्स फंड में डोनेट किए 11 करोड़

INDIA12 hours ago

RBI गवर्नर ने जारी किया वीडियो, कहा- कोरोना से बचाव के लिए डिजिटल पेमेंट करें

WORLD12 hours ago

कोरोना वायरस महामारी से परेशान जर्मनी के मंत्री ने की आत्‍महत्‍या

INDIA13 hours ago

कोरोना गांव की कहानी, ग्रामीणों ने बयां किया दर्द; बोले- गांव का नाम सुनते ही हमसे दूरी बना लेते हैं लोग

INDIA13 hours ago

CM केजरीवाल ने की प्रवासी कामगारों से अपील, दिल्ली में ही रहें, सरकार देगी घर का किराया

INDIA13 hours ago

राहुल गांधी की PM मोदी को चिट्ठी- संकट के इस दौर में कांग्रेस के लाखों कार्यकर्ता आपके साथ खड़े हैं

BIHAR2 days ago

स्पाइसजेट का सरकार को प्रस्ताव, दिल्ली-मुंबई से बिहार के मजदूरों को ‘घर’ पहुंचाने के लिए हम तैयार

cheating-on-first-day-of-haryana-board-exam
INDIA3 weeks ago

बिहार तो बेवजह बदनाम है… हरियाणा बोर्ड परीक्षा में शिखर पर नकल

INDIA1 week ago

PM मोदी को पटना के बेटे ने दिए 100 करोड़ रुपये, कहा – और देंगे, थाली भी बजाई

INDIA3 days ago

पूरी हुई जनता की डिमांड, कल से दोबारा देख सकेंगे रामानंद सागर की ‘रामायण’

BIHAR2 weeks ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

BIHAR2 weeks ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

BIHAR4 weeks ago

बड़ी खुशखबरी: बिहार में घरेलू गैस की अब नहीं होगी किल्लत, बांका में नया प्लांट शुरू

BIHAR5 days ago

अब नहीं सचेत हुए बिहार वाले तो, अपनों की लाशें उठाने को रहें तैयार

INDIA4 weeks ago

आज होगी देश की सबसे महंगी शादी, 500 पंडित पढ़ेंगे मंत्र

BIHAR5 days ago

लॉकडाउन के बाद पैदल जयपुर से बिहार के लिए निकले 14 मजदूर, भूखे-प्यासे तीन दिन में जयपुर से आगरा पहुंचे

Trending