Connect with us

TECH

क्या है फेसबुक का $650 मिलियन का केस जिसके तहत 16 लाख यूज़र्स को मिल सक’ते हैं $345?

Muzaffarpur Now

Published

on

एक संघीय न्यायाधीश ने शुक्रवार को अपने उपयोगकर्ताओं की अनुमति के बिना फोटो फेस-टैगिंग और अन्य बायोमेट्रिक डेटा का उपयोग करने के लिए फेसबुक के खिलाफ गोपनीयता के मुकदमे के निपटारे के लिए $ 650 मिलियन (लगभग 4,780 करोड़ रुपये) की मंजूरी दी।

यूएस डिस्ट्रिक्ट जज जेम्स डोनाटो ने 2015 में इलिनोइस में दायर एक क्लास-एक्शन के मुकदमे को मंजूरी दी थी। लगभग 1.6 मिलियन फेसबुक इलिनोइस में दावा प्रस्तुत करने वाले उपयोगकर्ता प्रभावित होंगे।

डोनाटो ने इसे गोपनीयता के उल्लंघन के लिए अब तक की सबसे बड़ी बस्तियों में से एक कहा।

“यह कम से कम $ 345 (लगभग 25,400 रुपये) को हर वर्ग के सदस्य के हाथों में डाल दिया जाएगा, जिसकी भरपाई की जा रही है,” उन्होंने लिखा है, “इसे डिजिटल गोपनीयता के हॉट कंटेट क्षेत्र में उपभोक्ताओं के लिए एक बड़ी जीत है।”

मुकदमा दायर करने वाले शिकागो के वकील जे एडेल्सन ने शिकागो ट्रिब्यून को बताया कि जांच दो महीने के भीतर मेल में हो सकती है जब तक कि शासन अपील नहीं करता है।

फेसबुक ने एक बयान में कहा, “हम एक बस्ती में पहुंचकर खुश हैं, इसलिए हम इस मामले को आगे बढ़ा सकते हैं, जो हमारे समुदाय और हमारे शेयरधारकों के हित में है।”

मुकदमे ने सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी पर आरोप लगाया कि वह इलिनोइस गोपनीयता कानून का उल्लंघन कर रही है, ताकि उपयोगकर्ताओं द्वारा अपलोड की गई तस्वीरों को स्कैन करने और डिजिटल रूप से स्टोर करने के लिए अपलोड की गई तस्वीरों को स्कैन करने के लिए चेहरे की पहचान तकनीक का उपयोग करने से पहले सहमति प्राप्त करने में विफल हो।

राज्य के बॉयोमीट्रिक सूचना गोपनीयता अधिनियम ने उपभोक्ताओं को उन कंपनियों पर मुकदमा चलाने की अनुमति दी, जिन्हें चेहरे और उंगलियों के निशान जैसे डेटा की कटाई से पहले अनुमति नहीं मिली थी।

मामला अंततः कैलिफोर्निया में एक वर्ग-कार्रवाई मुकदमा के रूप में सामने आया।

फेसबुक ने तब से अपना फोटो-टैगिंग सिस्टम बदल दिया है।

Input: NDTV

TECH

EMI पर स्मार्टफोन खरीदने वाले हो जाएं सावधान, उठाने पड़ सकते हैं ये बड़े नुकसान

Muzaffarpur Now

Published

on

भारत समेत दुनियाभर में EMI पर स्मार्टफोन खरीदा जाता है। इसमें कुछ नया नहीं है, क्योंकि हर गुजरने वाले दिन के साथ फ्लैगशिप स्मार्टफोन की कीमत में इजाफा हो रहा है। स्मार्टफोन निर्माता कंपनियां बैंकों के साथ मिलकर EMI पर स्मार्टफोन खरीदने का ऑप्शन दे रही है। लेकिन EMI पर स्मार्टफोन खरीदना यूजर के लिए मसुीबत पैदा कर सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत जैसे शहरों की मेट्रो सिटी और छोटे शहरों के कस्टमर के पास क्रेडिट हिस्ट्री होती है, जिससे EMI इस्टॉलमेंट को क्रेडिट कार्ड से हासिल किया जा सकता है। लेकिन बाकी कस्टमर के पास क्रेडिट हिस्ट्री नहीं होती है। ऐसे लोगों के लिए EMI ऑप्शन पर स्मार्टफोन खऱीदना काफी परेशानी खड़ी कर सकता है।

EMI पर स्मार्टफोन खरीदने पर होगी ये मुसीबत

Rest of World की रिपोर्ट के मुताबिक बिना क्रेडिट हिस्ट्री वाले लोगों से फोन की इस्टॉलमेंट वसूलने के लिए बैकों कई तरह के हथकंडे अपनाते हैं। बैंक फोन की इंस्टॉलेमेंट के लिए EMI पर खऱीदे गये फोन को ट्रैक करने के लिए एक ऐप इंस्टॉल कर देते हैं। यह ऐप कस्टमर को लोकेशन को ट्रैक करता है और EMI इंस्टॉलमेंट न देने पर फोन को लॉक कर देता है।

लोन वसूलने के लिए ऐप इंस्टॉल करना जरूरी

रिपोर्ट के मुताबिक EMI पर स्मार्टफोन उपलब्ध कराने वाली कंपनियां बिना क्रेडिट हिस्ट्री वाले लोगों की वित्तीय हालत के आधार पर लोन मुहैया कराती है। ऐसे कस्टमर को अपने फोन में एक ऐप इंस्टॉल करना अनिवार्य होता है। इसे यूजर अनइंस्टॉल नहीं कर सकता है। यह ऐप यूजर के डेटा को एक्सेस करता है। इसमें टेक्स्ट मैसेज, फोटो और लोकेशन शामिल है। यह पूरी तरह लोन अदा करने की स्थिति तक जारी रहता है। कस्टमर की तरफ से इंस्टॉलमेंट की देरी पर ऑडियो विजुअल नोटिफिकेशन भेजा जाता है, जो लोकल लैग्वेज में होता है। साथ ही वॉलपेपर को जबरदस्ती बदल दिया जाता है। इसके अलावा कैमरा और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को फोन में ब्लॉक कर दिया जाता है, जब तक पमेंट पूरा नहीं हो जाता है।

Continue Reading

TECH

तुरंत बदल लीजिए अपनी WhatsApp सेटिंग, नहीं तो हैक हो सकता है आपका अकाउंट!

Muzaffarpur Now

Published

on

अगर आप भी चाहते हैं कि कोई आपके व्हाट्सएप अकाउंट को हैक ना कर ले, तो तुंरत अपनी सेटिंग्स में जरूरी बदलाव कर लीजिए। इन दिनों हैकर्स ने व्हाट्सएप अकाउंट का एक्सेस पाने का नया तरीका खोज लिया है। साइबर सिक्यॉरिटी एक्सपर्ट Zak Doffman की मानें तो इस तरीके से हैकर्स अपने डिवाइस में आपका व्हाट्सएप लॉगिन कर लेंगे। साइबर एक्सपर्ट ने इस तरीके को विस्तार से समझाया है।

किस तरह काम करता है यह ‘खतरनाक’ तरीका

दरअसल जब भी आप किसी नए डिवाइस में व्हाट्सएप अकाउंट लॉगिन करते हैं, तब व्हाट्सएप आपके रजिस्टर्ड फोन नंबर पर एक वेरिफिकेशन एसएमएस भेजता है। गलती से अगर किसी जालसाज के हाथ में आपका फोन है और आपने एसएमएस का Preview लॉक स्क्रीन पर भी दिखाने की सेटिंग रखी हुई है तो आप बड़े खतरे में पड़ सकते हैं।

किस तरह काम करता है यह ‘खतरनाक’ तरीका
दरअसल जब भी आप किसी नए डिवाइस में व्हाट्सएप अकाउंट लॉगिन करते हैं, तब व्हाट्सएप आपके रजिस्टर्ड फोन नंबर पर एक वेरिफिकेशन एसएमएस भेजता है। गलती से अगर किसी जालसाज के हाथ में आपका फोन है और आपने एसएमएस का Preview लॉक स्क्रीन पर भी दिखाने की सेटिंग रखी हुई है तो आप बड़े खतरे में पड़ सकते हैं।

इतना ही नहीं, इन दिनों ऐसे कई मैलवेयर आ गए हैं, जिनके जरिए हैकर्स दूर बैठकर भी आपके फोन पर आने वाला यह 6 डिजिट का कोड हासिल कर सकते हैं। यह कोड डालते ही आपका व्हाट्सएप अकाउंट उनके डिवाइस पर लॉगिन हो जाएगा। आपके अकाउंट का इस्तेमाल करके जालसाज आपके करीबी लोगों से पैसे तक मांग सकते हैं। इस स्कैम का खुलासा Express.co.uk ने पिछले साल अपनी रिपोर्ट में भी किया था। हालांकि पिछले कुछ दिनों में इस तरह की वारदात काफी बढ़ गई हैं। हालांकि एक व्हाट्सएप सेटिंग के जरिए आप इस खतरे से बच सकते हैं।

बड़े काम की यह WhatsApp Settings

व्हाट्सएप में यूजर्स को टू-स्टेप वेरिफिकेशन (Two-Step Verification) नाम का एक फीचर दिया जाता है। इसमें आपको एक 6 डिजिट का कोड सेट करना होता है। इस फीचर का फायदा यह है कि जब भी आप किसी नए डिवाइस पर अपना व्हाट्सएप अकाउंट लॉगिन करते हैं तो आपसे यह कोड मांगा जाएगा। इतना ही नहीं, यह कोड आपसे बीच में भी कभी पूछा जा सकता है।

ऐसे एक्टिवेट करें यह सेटिंग

टू-स्टेप वेरिफिकेशन एक्टिवेट करने के लिए आपको अपना व्हाट्सएप ओपन करना होगा।
इसके बाद Settings और फिर Account में जाएं।
यहां आपको Two-Step Verification नाम का विकल्प दिखाई देगा।
Enable का ऑप्शन चुनने के बाद अपनी पसंद का एक कोड सेट कर लें।

Input: Live Hindustan

Continue Reading

TECH

स्मार्टफोन के चोरी या गुम हो जाने पर Google Map करेगा फोन को ढूंढने में आपकी मदद, जानिए कैसे करेगा काम

Muzaffarpur Now

Published

on

आज स्मार्टफोन (Smartphone) हम सब की जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुका है। ज्यादातर लोग अपना सबसे ज्यादा समय अपने फ़ोन के साथ बिता रहे हैं। लेकिन ऐसे में अगर आपका स्मार्टफोन खो जाएं या चोरी हो जाए तो काफी परेशानी हो जाती है। फोन चोरी या खोने जाने पर यूजर्स को अक्सर अपने डेटा की चिंता रहती है। ऐसे आज हम आपको एक ऐसे ट्रिक के बारे में बता रहे हैं जिसकी मदद से आप खोए हुए या चोरी हुए स्मार्टफोन को आसानी से ढूंढ सकते हैं।

Google Maps से ऐसे खोजें अपना स्मार्टफोन

अगर आप एंड्राइड यूजर हैं तो के पास Find My Device फीचर मौजुद होता है। ये फीचर्स उन जगहों और लोकेशन को ट्रेक करता है जहां आप गए होते हैं। वहीं एप्पल यूजर्स के पास यह फीचर Find My Phone के नाम से मौजुद होता है।

गूगल मैप की मदद से गुम हुए स्मार्टफोन के ढूंढने के लिए पहले आपके पास फोन या लैपटॉप होना चाहिए जिसमें इंटरनेट कनैक्ट हो। इसके साथ ही आपको अपने Gmail अकाउंट  का पासवर्ड और ID याद होनी चाहिए।

सबसे पहले गूगल पर www.googlemaps.google.co.in टाइप करें। इसके बाद आपके पास गूगल मैप्स ओपन हो जाएगा। यहां आपको वो Google ID डालनी होगी, जो आपके गुम हुए स्मार्टफोन से लिंक्ड थी। आईडी साइन इन (Sign-In) होने के बाद ऊपर राइट साइड में 3 डॉट दिखाई देंगे।

उन पर क्लिक करने के बाद आपको Your Timeline ऑप्शन नजर आएगा। Your TimeLine ऑप्शन को चुनने के बाद आपको साल, महिना और दिन डालना होगा जिस दिन की आप लोकेशन हिस्ट्री (Location History) जानना चाहतें हैं। सभी जानकारी को भरने के बाद आपकी Location History आपको दिखाई देने लगेगी। आप चाहें तो इस फीचर को किसी भी एंड्रॉयड फोन में मौजूद गूगल मैप्स में इस्तेमाल कर सकते हैं। गूगल मैप्स में वहीं ID साइन इन करें जो आपके मोबाइल से लिंक थी। इस फीचर को हैंडसेट में इस्तेमाल करने का तरीका भी एक सामान है।

ये फीचर तभी ठीक तरह से काम करेगा जब आपका मोबाइल और उसमें मौजूद लोकेशन सर्विस फीचर ओन हो।

Input: Live Hindustan

Continue Reading
BIHAR3 hours ago

साउथ फिल्मों के सुपरस्टार अल्लू अर्जुन के साथ नजर आएंगी बिहारी गर्ल संचिता बसु, टिकटॉक ने दिलाई थी पहचान

BIHAR5 hours ago

इन राज्यों से बिहार आने वाले यात्री ध्यान दें, आपको 72 घंटे पूर्व देनी होगी कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट

MUZAFFARPUR6 hours ago

गायघाट के शिवदाहा अग्निकांड में पीड़ितों को अबतक नहीं मिला है कोई सरकारी सहायता, लाखों की हुई थी क्षति

BIHAR6 hours ago

नीतीश के पुराने दोस्त ने कोरोना संकट पर लिखा सीएम को पत्र, कहा- काले अक्षरों में लिखा जाएगा आपका नाम

INDIA6 hours ago

चुनावी रैली में बोलीं ममता बनर्जी- बीजेपी की वजह से पश्चिम बंगाल में बढ़े कोरोना केस

MUZAFFARPUR8 hours ago

दुष्कर्म का आरोपी निकला कोरोना पॉजिटिव, जांच के बाद पुलिस महकमे में मचा हड़कंप

BIHAR9 hours ago

बिहार के इस मंत्री का फेसबुक एकाउंट हैक, फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर मांग रहे पैसे

BIHAR9 hours ago

पटना AIIMS के 150 बेड समेत ICU फुल फिर भी इलाज के लिए पहुंच रहे मरीज

sadar-thana-police-station
MUZAFFARPUR10 hours ago

मुजफ्फरपुर में रिटायर्ड दारोगा का परिवार बहू को कर रहा प्रताडि़त, घर से निकाला, केस दर्ज

MUZAFFARPUR10 hours ago

दो दिन बाद मुजफ्फरपुर समेत पूरे उत्तर बिहार में कई स्थानों पर होगी हल्की बारिश

BIHAR3 weeks ago

अलर्ट! बिहार में वैक्सीन लेने के बावजूद आंगनबाड़ी सेविका कोरोना पीड़ित, पटना एम्स में तोड़ा दम

VIRAL4 weeks ago

पबजी खेलते हुआ था प्यार, हिमाचल से वाराणसी पहुंची महिला, युवक निकला कक्षा 2 का छात्र

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर में नौ जगहों पर बनेगा माइक्रो कंटेनमेंट जोन, इसमें कहीं आपका इलाका तो नहीं

INDIA4 weeks ago

SBI, HDFC बैंक में हैं खाता तो हो जाएं सावधान! चेतावनी जारी की गई

HEALTH4 days ago

ये 5 लक्षण मुंह पर दिखें तो तुरंत करवा लें जांच, हो सकता है कोरोना

BIHAR3 weeks ago

दरभंगा एयरपोर्ट पर जादूगर का साया, एक व‍िमान फ‍िर गायब

INDIA3 weeks ago

ये 4 बैंक जल्द ही सरकारी से प्राइवेट हो सकते हैं! करोड़ों ग्राहकों पर क्या होगा असर?

INDIA3 weeks ago

होली पर अपने घर जाने वाले यात्रियों को बड़ा झटका, रेलवे ने कैंसिल कर दी कई ट्रेनें

TRENDING3 weeks ago

मिट्टी का तेल सिर पर छिड़ककर बाल सीधे करने के प्रयास में लड़के की मौत

BIHAR4 weeks ago

बिहार में 24 घंटे में दोगुना हुए कोरोना केस, हाई अलर्ट पर स्वास्थ्य महकमा

Trending