Connect with us
leaderboard image

INDIA

गोबर ढोती बेटी का बनाया था मजाक, भाई से जूडो सीख सीमा सुरक्षा बल में पाई नौकरी

Santosh Chaudhary

Published

on

हरियाणा के छाजपुर गांव की यह बिटिया सैन्य वर्दी पहनने वाली गांव की पहली बेटी है। जो कभी पढ़ाई छोड़कर पशुओं को चारा डालने और उपले बनाने में व्यस्त रहती थी, आज प्रेरणा बन गई है। आठवीं क्लास के बाद मिथलेश की पढ़ाई छूट गई। गांव में मां के साथ गोबर के उपले बनाती और घर का कामकाज संभालती। गांव के परिचित ने एक दिन तंज कसा दिया- ये तो अनपढ़ रहेगी।

गोबर ही उठाएगी…। बात मन में घर कर गई। बड़ा भाई प्रमोद जूडो खेलता था। उसी से जूडो सीखने लगी। पढ़ाई भी शुरू कर दी। उस ताने का जवाब देना था। गांव की बेटी ने जूडो से तानों को धो डाला। राष्ट्रीय स्तर पर मेडल जीते और अंतत: खेल कोटे से ही सीमा सुरक्षा बल में भर्ती हो गई। वह अपने गांव की पहली ऐसी बेटी है, जो यहां तक पहुंची। मिथलेश की बदौलत पानीपत के इस गांव में माहौल बदल गया है। अभिभावक अपनी बेटियों को खेल के मैदान पर भेज रहे हैं।

लोग अब मिथलेश के भाई प्रमोद की भी तारीफ कर रहे हैं, जिसने बहन को कमतर नहीं आंका और हौसला बढ़ाया। मिथलेश रावल की राह आसान नहीं थी। छह भाई- बहनों में चौथे नंबर की इस बेटी ने आठवीं के बाद ही पढ़ाई छोड़ दी थी। दरअसल, घर की आर्थिक हालत ठीक नहीं थी। लेकिन बेटी की जिद देख पिता पालेराम ने भी ठान लिया कि बेटी को आगे पढ़ाएंगे और खेलने भी भेजेंगे। इसके लिए उन्होंने एक एकड़ जमीन बेच दी। रिश्तेदार नाराज हो गए, कहते रहे कि बेटी पर धन लुटा रहे हो। पढ़ाई-लिखाई और खेल में कुछ नहीं रखा है। ये परिवार की शान के खिलाफ है। पालेराम ने उनसे बोलचाल बंद कर दिया। पिता और भाई ने किसी की नहीं सुनी और मिथलेश को हरसंभव साधन मुहैया कराए। मिथलेश ने भी निराश नहीं किया, जमकर पदक जीते।

2017 में सीमा सुरक्षा बल में भर्ती हो गई। अब रिश्तेदारों ने भी आना-जाना शुरू कर दिया है। वही लोग तारीफ के पुल बांधते नहीं थकते। 24 वर्षीय मिथलेश ओगोशी दांव लगाने में माहिर है। ये दांव पीठ पकड़कर लगाया जाता है। कुश्ती में इस दांव को ढाक कहते हैं। वह हर रोज इसी दांव का 150 बार अभ्यास करती है। कोई खिलाड़ी इस दांव में फंस जाए तो उसे जमीन पर पटकने में देर नहीं लगाती। स्कूल स्टेट जूडो चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक, जूनियर नेशनल प्रतियोगिता में तीन स्वर्ण पदक, ऑल इंडिया यूनिवर्सिटी में एक स्वर्ण, दो रजत और ऑल इंडिया पुलिस गेम्स में रजत पदक जीत चुकी हैं।

अब छाजपुर गांव की मोनी ने मिथलेश को देखकर ही खेलना शुरू किया। जूडो की राज्यस्तरीय प्रतियोगिता में रजत पदक जीता है। इसी तरह आस्था भी जूडो खेलने लगी। गांव की मंजू और रेशमा ने भी खेलना शुरू किया है। मोनी के पिता राजेंद्र ने बताया कि अब मिथलेश से प्रेरित होकर माता-पिता अपनी बेटियों को खेल के मैदान में भेज रहे हैं। स्कूल भी नहीं छुड़वा रहे। छाजपुर से जूडो खिलाड़ी निकलने लगे तो इस गांव के पास ही एक स्कूल में सरकार की ओर से कोचिंग सेंटर बना दिया गया है। यहां पर छाजपुर खुर्द, छाजपुर कलां, निंबरी, सनौली व आसपास के 15 गांवों के खिलाड़ी जूडो का अभ्यास करते हैं।

Input : Dainik Jagran

INDIA

कोरोना से निपटने के लिए किसान ने एक एकड़ जमीन दान देने का किया ऐलान

Ravi Pratap

Published

on

बठिंडा जिले के नथाना ब्लाॅक के गांव बीबीवाला निवासी किसान बूटा सिंह ने कोरोना अस्पताल बनाने के लिए अपनी एक एकड़ जमीन दान के रूप में देने के लिए एलान किया है। इस संबंध में बूटा सिंह ने जिला प्रशासन द्वारा यह जमीन राज्य सरकार को देने और इस जगह कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए अस्पताल बनाए जाने की दलील दी है। अस्पताल की उसारी से पहले किसान ने इस जमीन को कोरोना पीड़ितों के लिए उपयोग करने का भी सुझाव दिया है।

बूटा सिंह ने अपनी पुश्तैनी जायदाद को अपने बच्‍चों में पहले से ही बांटा हुआ है। अपने तौर पर खरीद की गई 4 एकड़ जमीन में उन्होंने रिहायश की हुई है। बूटा सिंह अपनी एक एकड़ जमीन को वृद्ध आश्रम के दान देना चाहते थे लेकिन उन्हें इस कार्य के लिए सफलता नहीं मिली। इन दिनों कोरोना महामारी से प्रभावित होकर किसान बूटा सिंह ने अपनी 4 एकड़ जमीन में से 1 एकड़ जमीन कोरोना वायरस के इलाज और अन्य प्रबंधों के लिए दान के तौर देने का एलान किया है। जानकारी के मुताबिक बूटा सिंह ने राज्य सरकार के हेल्पलाइन नंबर पर इसकी सूचना दे दी है। प्रशासनिक अधिकारियों ने अब तक बूटा सिंह से किसी प्रकार का संपर्क नहीं किया।

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading

INDIA

बद्रीनाथ में बर्फबारी, इस बार डिजिटल दर्शन संभव

Santosh Chaudhary

Published

on

उत्तराखंड के बद्रीनाथ धाम में शुक्रवार सुबह फिर बर्फबारी हुई। इससे मंिदर अाैर अासपास के इलाकाें में सब तरफ बर्फ जम गई। धाम पर लाॅकडाउन का असर दिखाई दे रहा है। चार धाम यात्रा से जुड़ी सारी गतिविधियां ठप हैं। छह माह की यात्रा के लिए गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के कपाट 26, केदारनाथ धाम के कपाट 29 व बद्रीनाथ धाम के कपाट 30 अप्रैल को खुलेंगे। अधिकारियों का कहना है कि कोरोना को लेकर स्थिति ठीक नहीं हुई तो डिजिटल दर्शन पर विचार किया जाएगा।

Continue Reading

INDIA

लॉकडाउन : पुलिस कॉन्स्टेबल की बेटी का मार्मिक पत्र वायरल, आप भी सुनें बच्ची की जुबानी

Santosh Chaudhary

Published

on

देश में बढ़ रहे कोरोना वायरस से बचने के लिए पीएम मोदी ने 21 दिन का लॉकडाउन घोषित कर दिया है। कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए डॉक्टर्स व पुलिस दिन रात संघर्ष कर रहे हैं। इनके कार्यों को देश सराहना कर रहा है। ऐसे में दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल अनिल कुमार की बेटी ( कक्षा 4 की छात्रा) ने अपने पापा और सभी पुलिसकर्मियों को धन्यवाद पत्र लिखा।

अनिल कुमार की बेटी ने बताया कि मैंने पत्र में लिखा कि आप पुलिस में काम करते हैं और आप सारा दिन बाहर रहते हैं और लोगों को समझाते हैं कि वो घर से बाहर न निकले और घर में सुरक्षित रहें।

इस संबंध में कॉन्स्टेबल ने कहा मेरी बेटी ने मुझे एक पत्र दिया और कहा कि आप इसे एसएचओ को दें। जब मैंने एसएचओ को पत्र दिया तो वो पत्र पढ़कर काफी प्रभावित हुए और कहा कि जब हमारे छोटे बच्चे इतना समझ सकते हैं तो हमारे यूथ को बाहर नहीं निकलना चाहिए। उन्होंने लोगों को इससे प्रेरित करने के लिए इस पत्र को आगे अफसरों को भेजा।

बता दें देश में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि अभी तक पूरे देश में 2301 कोरोना वायरस केस सामने आ चुके हैं, 56 लोगों की मौत इस महामारी से हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि पिछले दो दिनों में तबलीगी जमात के सदस्यों की वजह से 14 राज्यों में कोरोना के 647 मरीज सामने आए हैं। पिछले 24 घंटों में हुई 12 मौतों में से कई तबलीगी जमात से जु़ड़े हुए हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के कुल 336 नए मामले सामने आए। देश में एक कार्यक्रम की वजह से कोरोना के मामले बढ़े हैं। ऐसी घटनाओं से सारे प्रयास फेल हो जाते हैं। दिल्ली में कोरोना के 141 नए मामले सामने आए हैं जिनमें 129 तबलीगी जमात से जुड़े हुए हैं। लव अग्रवाल ने कहा कि हमें समझना होगा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई चल रही है। ऐसे में हमारी एक गलती की वजह से हम और पीछे चले जाएंगे।

Input : Dainik Jagran

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading
MUZAFFARPUR27 mins ago

मुजफ्फरपुर से संदिग्ध की पटना के पीएमसीएच में मौत

MUZAFFARPUR44 mins ago

एमआईटी मुजफ्फरपुर के पूर्ववर्ती छात्र ओपी सिंह बने ओएनजीसी में डायरेक्टर

INDIA56 mins ago

कोरोना से निपटने के लिए किसान ने एक एकड़ जमीन दान देने का किया ऐलान

BIHAR1 hour ago

लॉकडाउन में कुछ सरकारी अधिकारियों की कट रही चांदी, मोबाइल स्विच ऑफ कर सरकारी कामों से बना ली दूरी

MUZAFFARPUR1 hour ago

मुजफ्फरपुर : राशन-किरासन हड़पने वालों के खिलाफ 22 FIR , 35 राशन दुकानों के लाइसेंस रद्द

BIHAR1 hour ago

लॉकडाउन : बिहार राज्यकर्मियों के वेतन, पेंशन में कोई कटौती नहीं- सुशील मोदी

BIHAR1 hour ago

बिहार : ऑब्जर्वेशन में भेजे गए 439 नए संदिग्ध, मुंगेर में सबसे अधिक पॉजिटिव केस

MUZAFFARPUR2 hours ago

जहां-तहां थूकने पर अब लगेगा 200 रुपए जुर्माना

MUZAFFARPUR2 hours ago

काेई परेशानी हाे ताे पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों काे इन नंबरों पर दें सूचना

INDIA2 hours ago

बद्रीनाथ में बर्फबारी, इस बार डिजिटल दर्शन संभव

BIHAR1 week ago

स्पाइसजेट का सरकार को प्रस्ताव, दिल्ली-मुंबई से बिहार के मजदूरों को ‘घर’ पहुंचाने के लिए हम तैयार

cheating-on-first-day-of-haryana-board-exam
INDIA4 weeks ago

बिहार तो बेवजह बदनाम है… हरियाणा बोर्ड परीक्षा में शिखर पर नकल

INDIA2 weeks ago

PM मोदी को पटना के बेटे ने दिए 100 करोड़ रुपये, कहा – और देंगे, थाली भी बजाई

INDIA1 week ago

पूरी हुई जनता की डिमांड, कल से दोबारा देख सकेंगे रामानंद सागर की ‘रामायण’

BIHAR3 weeks ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

BIHAR2 weeks ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

INDIA5 days ago

Lockdown के दौरान युवक ने फोन करके कहा 4 समोसे भिजवा दो, डीएम ने भिजवाए 4 समोसे और साफ कराई नाली

BIHAR1 week ago

अब नहीं सचेत हुए बिहार वाले तो, अपनों की लाशें उठाने को रहें तैयार

INDIA4 days ago

COVID-19 के बीच सलमान खान के भतीजे की मौत, परिवार में शोक की लहर

BIHAR1 week ago

लॉकडाउन के बाद पैदल जयपुर से बिहार के लिए निकले 14 मजदूर, भूखे-प्यासे तीन दिन में जयपुर से आगरा पहुंचे

Trending