Connect with us

HEALTH

छोटे से बीज में छिपी सेहत अपार, ठंड के दिनों में इसका सेवन बेहद फायदेमंद

Santosh Chaudhary

Published

on

Health Benefits Of Pine Nuts Seeds चिलगोजा यानी पाइन नट्स पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसमें प्रचुर मात्रा में प्रोटीन, विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो त्वरित ऊर्जा दिलाने में सहायक होते हैं। ठंड के दिनों में चिलगोजे का सेवन फायदेमंद होता है। इसमें फॉलेट और आयरन प्रचुर मात्रा में होने की वजह से यह महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। इसके अलावा इसमें मैग्नीशियम, कैल्शियम और पौटेशियम भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसे सादा खाइए या भूनकर या फिर किसी भी व्यंजन में डालकर इसका स्वाद आपको पसंद जरूर आएगा…

Close up of pine nuts spilling out of a spoon

चिलगोजा भजिए

सामग्री:

100 ग्राम चिलगोजा

गिरी, 1 कप बेसन, 1

बड़ा चम्मच बारीक

कटा धनिया, 1

छोटा चम्मच चाट

मसाला, 1/4चम्मच

अमचूर पाउडर,

1/4चम्मच पिसी लाल

मिर्च, चुटकी भर बेकिंग सोडा, 1/2छोटा

चम्मच नमक, तलने के लिए तेल

विधि: एक कटोरी में बेसन, चाट मसाला, लाल मिर्च, नमक, अमचूर पाउडर और बेकिंग सोडा मिला लें। इसमें थोड़ा-थोड़ा पानी मिलाते हुए गाढ़ा घोल बना लें। बारीक कटा धनिया और चिलगोजा गिरी भी मिला लें। कड़ाही में तेल गर्म करें और भजिए डालें। धीमी आंच पर गोल्डन ब्राउन होने तक तलें। हरी चटनी के साथ चिलगोजे भजिए का आनंद उठाएं।

Image result for pine nuts seeds"

चिलगोजा चॉप्स

सामग्री:

100 ग्राम चिलगोजा गिरी

200 ग्राम उबले मैश किए आल

1 चम्मच बारीक कटा अदरक

50 ग्राम ब्रेड क्रंब्स

2 बड़े चम्मच बारीक कटा हरा धनिया

2 चम्मच चाट मसाला

1/2 चम्मच गरम मसाला

1/2 चम्मच कुटी काली मिर्च

1/2 चम्मच अमचूर पाउडर

चुटकी भर हींग

नमक स्वादानुसार

सेंकने के लिए तेल।

विधि: 2 बड़े चम्मच चिलगोजा गिरी रखकर बाकी को मिक्सर में दरदरा पीस लें। तेल के अलावा पिसे चिलगोजे और बाकी सारी सामग्री एक कटोरी में डालकर अच्छी तरह मिलाएं। कुकीज कटर की सहायता से इस मिश्रण की हार्ट शेप्ड चॉप्स बना लें। एक प्लेट में चिलगोजे फैलाकर चॉप्स को इन पर दबा दें। पैन में तेल गर्म करें और इन्हे शैलो फ्राई करके हरी चटनी के साथ गरम-गरम खाएं और खिलाएं।

चिलगोजा चिक्की

सामग्री:

100 ग्राम भुना छिला चिलगोजा

100 ग्राम कुटा हुआ गुड़

1/4 चम्मच इलायची पाउडर

1 बड़ा चम्मच घी।

विधि: कड़ाही में घी गर्म करें। कुटा हुआ गुड़ डालकर चलाते हुए पकाएं। इसकी एक बूंद पानी में डालकर देख लें। गुड़ कड़क होना चाहिए। मुलायम है तो गुड़ को और पकाने की जरूरत है। गुड़ पक जाने पर इसमें भुने-छिले चिलगोजे और इलायची पाउडर मिला दें। एक प्लेट में चिकनाई लगाकर गुड़-चिलगोजे का मिश्रण फैला

दें। इसके बाद कुकी कटर की सहायता से हार्ट शेप्ड़ या मनचाहे आकार में काट लें। ऐसी स्वादिष्ट चिक्की आपने पहले कभी नहीं खाई होगी।

चिलगोजा खीर

सामग्री :

1 कप छिला हुआ चिलगोजा

1/2लीटर दूध

2 बड़े चम्मच कॉर्नफ्लोर,

4 बड़े चम्मच पिसी चीनी

1 छोटा चम्मच लाल पेठा चैरी

1 छोटा चम्मच हरी पेठा चैरी

1/2चम्मच इलायची पाउडर

8-10 केसर के धागे।

विधि: 2 चम्मच दूध में केसर के धागों को भिगोकर रख दें। अब कड़ाही में दूध डालकर उबालें और इसे धीमी आंच पर पकने दें। फिर इसमें कॉर्नफ्लोर डालकर चलाते हुए पकाएं। दूध आधा रह जाने पर पिसी चीनी और केसर मिलाकर चलाते हुए पकाएं। फिर चिलगोजे और इलायची पाउडर डालकर दो-तीन मिनट और पकाकर आंच बंद कर दें। स्वादिष्ट चिलगोजा खीर तैयार है। बाउल में डालें और लाल-हरी पेठा चैरी से गार्निश करके सर्व करें।

Input : Dainik Jagran

HEALTH

Covid-19: बिना लक्षण वाले मरीजों के लिए साइलेंट किलर है कोरोना, ऐसे लेता है जान- स्टडी

Muzaffarpur Now

Published

on

नई दिल्ली. भारत समेत दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर जारी है. भारत में कोरोना संक्रमितों (Coronavirus Infected) की संख्या 7 लाख के करीब है. वहीं, कोविड-19 के बिना लक्षण वाले यानी एसिम्प्टोमैटिक (Asymptomatic) मरीजों के बारे में आम राय है कि इन्हें खतरा बहुत कम होता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है. नेचर मैगजीन में प्रकाशित एक स्टडी के मुताबिक, कोरोना वायरस बिना लक्षणों वाले मरीजों में ‘साइलेंट किलर’ की तरह अटैक करता है. ऐसे मरीजों के फेफड़े धीरे-धीरे खराब होते हैं और निमोनिया का खतरा बढ़ जाता है. फिर अचानक मरीज की मौत हो जाती है.

Navy develops Rs 1K temperature guns for Covid-19 screening ...

एक आंकड़े के मुताबिक, भारत में करीब 80 प्रतिशत मरीज एसिम्प्टोमिक हैं, यानी उनमें पहले से कोरोना के लक्षण नहीं मिले हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है कि दुनिया में ऐसे मरीजों की संख्या 6 से 41 फीसदी तक हो सकती है. इस स्टडी में 37 बिना लक्षण वाले मरीजों का डेटा लिया गया, जो चीन के सेंटर फॉर डिजीज एंड प्रीवेंशन संस्थान द्वारा जुटाया गया था.

COVID19: Initial lessons and opportunities for development ...

मरीजों के सिटी स्कैन से पता लगा कि 57 प्रतिशत मरीजों के फेफड़ों में लाइनिंग शैडो थी, जो फेफड़ों में सूजन या इन्फ्लेमेशन का लक्षण है. इस स्थिति में फेफड़े अपनी स्वाभाविक क्षमता से काम करना बंद कर देते हैं. जिसके बाद मरीज को सांस की दिक्कत होती है और ऑक्सीजन नहीं मिलने से मौत हो जाती है.

इस स्टडी में शामिल वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि पहली बार बिना लक्षणों वाले मरीजों के क्लीनिकल पैटर्न से इस तरह की बात सामने आई है. पता चला की इन मरीजों के फेफड़ों को नुकसान हुआ तो इनमें खांसी, सांस लेने में परेशानी जैसे लक्षण नहीं दिखे. ये आमतौर पर कोरोना संक्रमण के लक्षण होते हैं. ऐसे मरीजों की अचानक मौत होने का खतरा भी अधिक है.

नसों में खून के थक्के जमने से दूसरे अंगों के फेल होने का खतरा
दरअसल, देशभर से आ रहे डाटा बताते हैं कि ऐसे कोरोना रोगी जिन्हें डायबिटीज, बीपी, हार्ट या किडनी आदि की बीमारी है, लेकिन कोरोना के कोई लक्षण नहीं है अगर उन्हें सांस फूलने की दिक्कत आती है तो उनका ऑक्सीजन लेवल लगातार चेक करने की जरूरत है.

ऐसे मरीजों में ऑक्सीजन का स्तर नीचे आने से अचानक उनकी मौत होने की संभावना बन जाती है, क्योंकि उनके शरीर में छोटे-छोटे खून के थक्के जमा होने लगते हैं, जो कि आर्टरी को ब्लॉक कर देते हैं. इससे दूसरे ऑर्गन फेल हो जाते हैं और देखते ही देखते उनकी मौत हो जाती है. इसे मेडिकल भाषा में हैप्पी हाइपोक्सिया कहते है.

देश में अभी कोरोना के कितने केस?
देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 6 लाख 97 हजार 413 हो गई है. 24 घंटे में कोरोना के फिर 24 हजार से ज्यादा केस आए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा अपडेट के मुताबिक, रविवार को कोरोना के 24 हजार 248 नए केस आए और 425 मरीजों की जान गई. देश में अभी कोरोना के 2 लाख 53 हजार 287 एक्टिव केस हैं, कोरोना से अब तक 19 हजार 693 मरीजों की मौत हुई है. राहत की बात ये है कि इस महामारी से अब तक 4 लाख 24 हजार 433 लोग रिकवर हो चुके हैं.

Input : News18

Continue Reading

HEALTH

Covid-19: देश में जल्द लॉन्च हो सकती है COVAXIN, 7 जुलाई से होगा ह्यूमन ट्रायल

Muzaffarpur Now

Published

on

नई दिल्ली. देश में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के बीच अच्छी खबर आ रही है. सूत्रों के मुताबिक, देश में बहुत जल्द कोवैक्सीन (COVAXIN) लॉन्च हो सकती है. इस वैक्सीन को फार्मास्यूटिकल कंपनी भारत बायोटेक तैयार कर रही है. ICMR ने भारत बायोटेक को भेजे एक आंतरिक पत्र में कहा है कि क्लिनिकल ट्रायल की प्रक्रिया को तेज किया जाए. इसके सभी अप्रूवल जल्दी ले लिए जाएं और 7 जुलाई से ट्रायल के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू कर दें. हालांकि, भारत बायोटेक ने इस पर कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया है.

Covid-19: देश में जल्द लॉन्च हो सकती है COVAXIN, 7 जुलाई से होगा ह्यूमन ट्रायल

ICMR के प्रवक्ता ने इस पत्र की पुष्टि की है, लेकिन उनके मुताबिक भारत बायोटेक को भेजा गया यह पत्र आंतरिक प्रक्रिया का हिस्सा है और इसे वैक्सीन ट्रायल की प्रक्रिया को तेज करने के लिए लिखा गया है.

Know All About Covaxin, the 1st India-Made COVID-19 Vaccine ...

आईसीएमआर की ओर से इस पत्र में कहा गया है कि सभी तैयारियां पूरी करते हुए 7 जुलाई से इस वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू किया जाए, जिससे इसे जल्द से जल्द लॉन्च किया जा सके. News18 को ये लेटर मिला है. इस लेटर को आईसीएमआर और सभी स्टेकहोल्डर (जिसमें एम्स के डॉक्टर भी शामिल हैं) ने जारी किया है.

COVAXIN: India's First COVID-19 Vaccine Candidate Set For Phase I ...

लेटर के मुताबिक, ICMR के डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव ने कहा-‘अगर ट्रायल हर चरण में सफल हुआ तो सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए इस 15 अगस्त तक कोरोना की वैक्सीन कोवैक्सीन मार्केट में आ सकती है. इसके लिए BBIL लक्ष्यों को पूरा करने में जुटी है. हालांकि, फाइनल रिजल्ट सभी तरह के क्लिनिकल ट्रायल पर निर्भर करते हैं.’ आईसीएमआर की ओर से फिलहाल यह अनुमान लगाया गया है.

बीते दिनों ही हैदराबाद की फार्मा कंपनी भारत बायोटेक ने दावा किया था कि उसे कोवैक्सीन के फेज-1 और फेज-2 के ह्यूमन ट्रायल के लिए डीसीजीआई से हरी झंडी भी मिल गई है. कंपनी ने यह भी कहा है कि ट्रायल का काम जुलाई के पहले हफ्ते में शुरू किया जाएगा.

कई बड़ी बीमारियों की वैक्सीन तैयार कर चुकी है भारत बायोटेक

भारत बायोटेक की ओर से बनाई गई पहले की वैक्सीन दुनियाभर के देशों में जाती हैं. भारत बायोटेक कंपनी ने इससे पहले पोलियो, रेबीज, चिकनगुनिया, जापानी इनसेफ्लाइटिस, रोटावायरसऔर जिका वायरस के लिए भी वैक्सीन बनाई है.

Input : News18

Continue Reading

HEALTH

बेस्ट इम्युनिटी बूस्टर है लीची, गर्मी में स्किन का भी रखती है ख्याल

Muzaffarpur Now

Published

on

लीची (Lychee) गर्मियों के सीजन में आने वाला एक प्रमुख फल है. ये सेहत के लिहाज से बहुत फायदेमंद है. लीची में कार्बोहाइड्रेट, विटामिन सी, विटामिन ए और बी कॉम्प्लेक्स काफी मात्रा में पाया जाता है. इसके अलावा लीची में पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और आयरन जैसे मिनरल्स पाये जाते हैं. लीची स्वादिष्ट फल होने के साथ ही शरीर में ऊर्जा के लिए आवश्यक स्टेरॉयड हार्मोन और हीमोग्लोबिन का निर्माण करने का काम करती है.

इम्युनिटी बढ़ाती है

द हेल्थ साइट की खबर के अनुसार लीची में विटामिन-सी की प्रचुरता होती है इसके कारण यह प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट्स का स्त्रोत है. ऐसे में यह तत्त्व रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर संक्रमण से बचाता है. साथ ही बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करता है. इससे स्किन चमकदार रहती है. लीची का प्रयोग अस्‍थमा से बचाव के लिए भी किया जाता है.

न्यूट्रीशन इंडेक्स 100 ग्राम लीची में 72मिलीग्राम विटामिन-सी होता है. साथ ही इसमें 66 कैलौरी ऊर्जा, 5मिग्रा कैल्शियम, 10 मिग्रा मैग्नीशियम आदि विभिन्न तत्त्व होते हैं. इसमें कार्बोहाइड्रेट, विटामिन-ए, सी व बी कॉम्प्लेक्स, पोटैशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, लौह जैसे खनिज लवण भी होते हैं. इसमें सैचुरेटेड फैट और सोडियम की मात्रा बेहद कम होती है.

कितनी मात्रा खाएं

लीची ऊर्जा के बेहतर स्त्रोतों में से एक है. रोजाना 4-5 लीची खा सकते हैं. बेस्ट टाइम-गर्मियों में लीची शरीर में तरावट बनाए रखती हैं. घर से बाहर कहीं निकल रहे हैं तो बीच-बीच में लीची खा सकते हैं. शाम को या भोजन के बाद खा सकते हैं.

ये लोग न करे सेवन

डायबिटीज के मरीजों को इसकी कम ही मात्रा खानी चाहिए क्योंकि इसमें शुगर का स्तर ज्यादा होता है.

Continue Reading
INDIA56 mins ago

जिस विकास दुबे के नाम से कांपती है कानपुर पुलिस, उसे MP पुलिस के जवान ने मारा थप्पड़

INDIA2 hours ago

कश्मीर: बीजेपी नेता और उनके पिता-भाई की आतंकियों ने गोली मारकर की हत्‍या

BIHAR2 hours ago

साइकिल गर्ल ज्योति पर फिल्म बनाने के लिए छिड़ी रार, डायरेक्टर विनोद कापड़ी ने भेजा कानूनी नोटिस

INDIA3 hours ago

विकास दुबे हुआ गिरफ्तार, उज्जैन में महाकाल के दर्शन के बाद निकला था बाहर

MUZAFFARPUR3 hours ago

शहर की जांच व्यवस्था प्रभावित, कई पैथोलॉजी लैब बंद

INDIA3 hours ago

विकास दुबे के दो साथी प्रभात मिश्रा और बव्वन शुक्ला पुलिस मुठभेड़ में ढेर

mast-girl-of-of-bollywood-fond-of-these-masks-with-madhubani-paintings-raveena-tandon-brought-fame-and-prosperity-for-remanth-dubey-search
BIHAR4 hours ago

मधुबनी पेंटिंग वाले इस मास्‍क की मुरीद बॉलीवुड की मस्‍त गर्ल, रेमंत के लिए प्रसिद्धि व समृद्धि लेकर आईं रवीना

INDIA4 hours ago

नोएडा के पर्थला चौक पर ऑटो से उतर कर फिर फरार हुआ विकास, मीडिया के सामने सरेंडर करने की अटकलें

BIHAR6 hours ago

वज्रपात से बंदरा के एक समेत सूबे में 13 की मौत

INDIA7 hours ago

सेना के जवानों को फेसबुक-इंस्टाग्राम समेत 89 ऐप डिलीट करने का आदेश, नहीं किया तो होगी कार्रवाई

BIHAR3 weeks ago

सुशांत के परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़, सदमा नहीं झेल पाईं भाभी, तोड़ा दम

ENTERTAINMENT1 week ago

सामने आया चंद्रचूड़ सिंह के फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने का असली रीजन

BIHAR3 weeks ago

प्रिय सुशांत – एक ख़त तुम्हारे नाम, पढ़ना और सहेज कर रखना

INDIA4 weeks ago

सुशांत स‍िंह राजपूत की सुसाइड पर बोले मुकेश भट्ट, ‘मुझे पता था ऐसा होने वाला है…’

MUZAFFARPUR5 days ago

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत खुदकुशी मामले में सलमान के अधिवक्ता मुजफ्फरपुर कोर्ट में हुए हाजिर

BIHAR2 weeks ago

बिहार में नहीं चलेंगी सलमान खान, आलिया भट्ट, करण जौहर की फिल्में

BIHAR4 weeks ago

लालू के बेटे तेजस्वी यादव की कप्तानी में खेलते हुए बदली विराट कोहली की किस्मत!

MUZAFFARPUR3 weeks ago

सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर एकता कपूर ने तोड़ी चुप्पी, कहा- मेरे खिलाफ मुकदमा करने के लिए शुक्रिया

INDIA4 days ago

महिला सब इंस्पेक्टर गिरफ्तार, रेप के आरोपी को बचाने के लिए 35 लाख रुपए लिया रिश्वत

INDIA2 weeks ago

सुशांत के व्हॉट्सऐप चैट आये सामने, उनको फिल्म करने में हो रही थी परेशानी

Trending