Connect with us

WORLD

जिंदा हैं तानाशाह किम जोंग उन, 20 दिन बाद बहन किम यो के साथ आए नज़र

Muzaffarpur Now

Published

on

प्योंगयांग. उत्तर कोरिया (North Korea) के सुप्रीम लीडर किम जोंग उन (Kim Jong Un) ब्रेन डेड होने और हार्ट सर्जरी के दौरान मौत होने जैसी अटकलों के बीच शुक्रवार को सार्वजनिक तौर पर लोगों के सामने आ गए. उत्तर कोरिया की सरकारी न्यूज एजेंसी ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि किम 20 दिनों के बाद एक बार फिर लोगों के बीच पहुंचे और उसने बातचीत भी की.

कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (केसीएनए) के अनुसार किम जोंग उन प्योंगयांग के काफी नजदीक बनी एक फर्टिलाइजर फैक्ट्र्री का काम पूरा होने के मौके पर वहां पर पहुंचे थे. इस दौरान किम की बहन किम यो जोंग भी उनके साथ मौजूद थीं. हालां​कि उत्तर कोरिया की मीडिया ने उनके इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण भी किया था.

मुस्कुराते नज़र आए किम जोंग

KCNA के मुतबिक किम जोंग के इस तरह जनता के सामने आने से उनकी सेहत को लेकर उठाए गए सभी सवालों के जवाब मिल गए हैं. सुप्रीम लीडर जो कि नॉर्थ कोरिया में सभी लोगों के नेता हैं ने फैक्ट्री का उदघाटन पर कई लोगों की जिंदगी सुधारी है. किम की जो तस्वीरें जारी की गयीं हैं उनमें वे मुस्कुराते हुए नज़र आ रहे हैं. किम ने इस पूरे प्लांट का दौरा भी किया और कई लोगों से मुलाक़ात भी की.

उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन को लेकर दावा किया जा रहा है कि उनका ‘ब्रेन डेड’ हो गया है. यानी वो कोमा में चले गए हैं. इससे पहले अमेरिकी ख़ुफ़िया एजेंसियों ने दावा किया था कि किम जोंग की हार्ट की सर्जरी असफल रही और उनकी मौत हो गई है. हालांकि नॉर्थ कोरिया की तरफ से अधिकारिक तौर किसी भी दावे कि पुष्टि नहीं की गई थी.

कोरोना की वजह से खुद को छुपाया

किम जॉन्ग उन को लेकर दुनियाभर में चल रही खबरों के बीच दक्षिण कोरिया की तरफ से लगातार कहा गया है कि उन्हें कुछ नहीं हुआ है. एक दक्षिण कोरियाई मंत्री ने दावा किया कि संभव है किम जॉन्ग उन ने खुद को कोरोना के डर से छुपा रखा हो. हालांकि दुनियाभर से कटे हुए देश उत्तर कोरिया में कोरोना का एक भी मामला सामने नहीं आया है.

2014 में भी गायब हुआ था किम

ऐसा पहली बार नहीं है जब किम जॉन्ग लोगों की नजरों से ओझल हुआ हो. साल 2014 में भी एक बार वो तकरीबन एक महीने के लिए गायब हो गया था. हालांकि उस वक्त दक्षिण कोरिया के मीडिया की तरफ से दावा किया गया था कि किम की तबीयत खराब है. खैर इन सारी खबरों के बीच करीब 25 दिन बीत चुके हैं लेकिन न किम जॉन्ग सामने आया है और न ही उसकी सरकार की तरफ से कोई स्पष्टीकरण दिया गया है. ऐसे में संभव है कि आने वाले दिनों में उत्तर कोरिया को लेकर और कयासबाजी सामने आए.

Input : News18

WORLD

नहीं मान रहे पीएम ओली, कहा- नेपाल में ही है अयोध्या, मेरे पास हैं सबूत

Ravi Pratap

Published

on

नेपाल भारत के साथ पंगे लेने से बाज नहीं आ रहा है. पहले चीन के बहकावे में आकर सीमा विवाद, फिर भगवान राम की जन्मभूमि को लेकर टिप्पणी में घिरने के बावजूद अभी फिर से नेपाल (Nepal) ने नई बेतुकी चाल चली है. दरअसल, नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने एक बार फिर दावा किया है कि भगवान राम की जन्मस्थली नेपाल का चितवन जिला है. इसी जिले में माडी नगरपालिका क्षेत्र है, जिसका नाम अयोध्यापुरी है. शनिवार को ओली ने इस क्षेत्र के अधिकारियों से फोन पर बातचीत की. उन्हें राम, लक्ष्मण और मां सीता की प्रतिमाएं लगाने के आदेश दिए. ओली ने अफसरों को आदेश दिया कि अयोध्यापुरी को ही असली अयोध्या (Ayodhya) के तौर पर प्रोजेक्ट और प्रमोट करें.

नेपाल के अखबार ‘हिमालयन टाइम्स’ के मुताबिक ओली ने माडी और चितवन के अधिकारियों और नेताओं से दो घंटे फोन पर बातचीत की. आगे बातचीत के लिए उन्हें काठमांडू भी बुलाया. ओली ने कहा, ‘मुझे भरोसा है कि भगवान राम का जन्म नेपाल के अयोध्यापुरी में हुआ था. भारत के अयोध्या में नहीं. मेरे पास सुबूत हैं, जो यह साबित कर देंगे कि भगवान राम का जन्म नेपाल में ही हुआ था.’ चितवन जिले की सांसद दिल कुमारी रावल ने कहा, ‘पीएम ओली ने कहा है कि अयोध्यापुरी के आसपास के क्षेत्रों के संरक्षण के लिए पूरी ताकत से काम करें. प्रमाण जुटाने लिए अयोध्यापुरी की खुदाई करने को भी कहा. इसके साथ ही अयोध्यापुरी को प्रमोट करने और वहां के ऐतिहासिक साक्ष्यों को संरक्षित करने के लिए स्थानीय लोगों की मदद लेने का आदेश भी दिया.’

ओली के बयान की कड़ी निंदा
बता दें, कुछ दिन पहले ओली ने अपनी विवादास्पद टिप्पणी में कहा था कि भगवान राम बीरगंज के पास ठोरी में पैदा हुए थे और असली अयोध्या नेपाल में है. नेपाल के विभिन्न राजनीतिक दलों के शीर्ष नेताओं ने ओली की इस टिप्पणी की कड़ी निन्दा की और इसे ‘निरर्थक तथा अनुचित’ करार दिया. उन्होंने ओली से अपना विवादित बयान वापस लेने की मांग की. विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में स्पष्ट किया कि प्रधानमंत्री का इरादा किसी की भावनाएं आहत करने का नहीं था. बयान में इस बात पर जोर दिया गया कि उनकी टिप्पणी ‘अयोध्या के महत्व और इसके सांस्कृतिक मूल्यों पर बहस करने के लिए नहीं थी.’ इससे पहले, पूर्व प्रधानमंत्री बाबूराम भट्टरई ने ट्वीट किया, ‘ओली के बयान ने सारी हदें पार कर दी हैं. अतिवाद से केवल परेशानी उत्पन्न होती है.’

Continue Reading

WORLD

अमेरिका में डूब रहे तीन बच्चों को बचाने में भारतीय युवक की मौत

Ravi Pratap

Published

on

अमेरिका के कैलिफॉर्निया में तीन बच्चों को डूबने से बचाते समय 29 वर्षीय भारतीय की मौत हो गई। मीडिया में यह खबर आई है। ‘लॉस एंजिलिस टाइम्स’ की खबर के अनुसार, मृतक की पहचान मंजीत सिंह के रूप में हुई है। वह बुधवार (5 अगस्त) की शाम फेसनो काउंटी में अपने घर के निकट रीडले बीच पर घूमने आए थे। इस दौरान उन्होंने किंग्स रिवर में तीन बच्चों को डूबते देखा।

‘सीएनएन’ ने रीडले पुलिस विभाग के कमांडर मार्क एडिगर के हवाले से कहा कि आठ साल की दो बच्चियां और 10 साल का एक बच्चा नदी में खेल रहे थे। इस दौरान एक लहर उन्हें बहाकर पुल के नीचे ले गई। इस दौरान अपने बहनोई और अन्य दोस्तों के साथ नदी में तैर रहे सिंह ने अपनी पगड़ी उतारी और उसके सहारे बच्चों को अपनी ओर खींचने का प्रयास करने लगे, लेकिन वह खुद ही बच्चों की ओर खिंचते चले गए।

रीडले पुलिस कमांडर एडिगर ने कहा, ”वह उनको बचाने के प्रयास में दुर्भाग्य से पानी में डूबते चले गए और वापस नहीं निकल सके।” सिंह ने पानी में डूबने के बाद 40 मिनट तक कोई हरकत नहीं की। इसके बाद उन्हें निकालकर अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

एडिगर ने कहा कि इस दौरान वहां से गुजर रहे लोगों ने दो बच्चों को बचा लिया। एक आठ वर्षीय बच्ची 15 मिनट तक पानी में डूबी रही और फिर उसे भी बचा लिया गया। शुक्रवार (7 अगस्त) दोपहर उसे फ्रेसनो के वैली चिल्ड्रन अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। सिंह दो साल पहले भारत से कैलिफॉर्निया गए थे। उनकी योजना ट्रक चलाने का कारोबार करने की थी।

Continue Reading

WORLD

अयोध्या की तरह नेपाल में राम मंदिर बनाने की तैयारी, PM ओली ने दिए निर्देश

Santosh Chaudhary

Published

on

नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने अपने देश में भगवान राम का भव्य मंदिर बनाने की बात कही है. उन्होंने इससे पहले राम का जन्मस्थान नेपाल में होने का दावा किया था.

पिछले महीने ओली ने नेपाल के ठोरी के पास रहे अयोध्यापुरी में भगवान राम का जन्मस्थान होने का दावा किया था. उन्होंने कहा था कि राम का असली जन्मस्थान नेपाल में ही है. भारत सांस्कृतिक अतिक्रमण करते हुए गलत तथ्य के आधार पर उत्तर प्रदेश के अयोध्या को राम का असली जन्मस्थान बता रहा है.

Nepal PM KP Sharma Oli Directed to make plan for Ram Mandir in Ayodhyapuri

प्रधानमंत्री ओली के इस बयान का भारत में जबरदस्त विरोध हुआ था. नेपाल में भी राजनीतिक दलों और आम जनता ने विरोध किया था. खुद ओली की पार्टी के नेताओं ने उनके बयान का विरोध किया था. इसके बावजूद प्रधानमंत्री ओली उस बात पर अड़े रहे और अब उन्होंने उस स्थान पर भव्य राम मंदिर निर्माण की तैयारी करने का निर्देश दिया है.

nepal-pm_080920110850.jpg

नेपाल की सरकारी समाचार एजेंसी राष्ट्रीय समाचार समिति के मुताबिक प्रधानमंत्री ओली ने फोन करके ठोरी और माडी के स्थानीय जनप्रतिनिधियों को काठमांडू बुलाकर भगवान श्रीराम की जन्मभूमि पर भव्य मंदिर बनाने के लिए सभी आवश्यक तैयारी करने के निर्देश दिए हैं.

प्रधानमंत्री ने ठोरी के पास स्थित माडी नगरपालिका का नाम बदलकर अयोध्यापुरी रखने को कहा है. साथ ही वहां के आसपास के स्थानों का अधिग्रहण कर अयोध्या के रूप में विकसित करने, राम के जन्मस्थान पर भव्य राम मंदिर का निर्माण और राम-सीता और लक्ष्मण की बड़ी प्रतिमा स्थापित करने को कहा है.

राष्ट्रीय समाचार समिति के मुताबिक प्रधानमंत्री ओली ने इस दशहरे में रामनवमी के अवसर पर भूमि पूजन करते हुए मंदिर निर्माण का काम शुरू करने और दो साल के बाद फिर से रामनवमी पर मूर्ति का अनावरण करने के हिसाब से काम को आगे बढ़ाने की बात कही है.

मंदिर निर्माण के लिए नेपाल सरकार की तरफ से आर्थिक सहयोग करने का आश्वासन भी दिया गया है. प्रधानमंत्री ओली ने कहा है कि अयोध्यापुरी के साथ ही रामायण से जुड़े आसपास के क्षेत्रों को भी विकसित किया जाएगा. उन्होंने माडी के पास रहे वाल्मिकी आश्रम, सीता के वनवास के दौरान रहे जंगल, लवकुश का जन्मस्थान आदि क्षेत्रों को भी विकसित करने को कहा है.

Input : Aaj Tak

Continue Reading
INDIA5 hours ago

बड़ा खुलासा: सुब्रमण्यम स्वामी का दावा, ‘एंबुलेंस में सुशांत का पैर मुड़ा हुआ था’

INDIA5 hours ago

प्रसिद्ध तिरुपति मंदिर के 743 कर्मचारी पाए गए COVID-19 पॉजिटिव, तीन की मौत

BOLLYWOOD5 hours ago

आनंद कुमार के साथी आईपीएस अभयानंद की कहानी लाए प्रकाश झा, 36 साल बाद पहुंचे फिर उसी स्कूल में

TRENDING5 hours ago

शिक्षा मंत्री ने 11वीं क्लास में लिया दाखिला, मैट्रिक तक पढ़े होने के कारण होती थी फजीहत

BIHAR6 hours ago

बिहार के इस जिले में मैट्रिक का अंकपत्र देने के बदले हेडमास्टर साहब लेते हैं चढ़ावा, वसूली का वीडियो वायरल

BIHAR6 hours ago

प्रधानमंत्री से नीतीश कुमार बोले-नेपाल ने बिहार में बाढ को विकराल कर दिया है, आप हस्तक्षेप करके समाधान कराइये

BIHAR6 hours ago

नीतीश पर हमलावर चिराग ने कहा – लोजपा अकेले बिहार विधानसभा की सभी 243 सीटों पर लड़ने को तैयार

BIHAR6 hours ago

लालू ने बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था पर कसा तंज, कहा- अस्पताल में रुई भी मिले तो भगवान को शुक्रिया कहना रे भाई

INDIA7 hours ago

आगामी 30 सितंबर तक रद्द रहेंगी रेलगाड़ियां? रेलवे बोर्ड ने लगाया अफवाहों पर विराम

BIHAR7 hours ago

सुशांत केस की CBI जांच पर संजय राउत का बिहार सरकार पर तंज- ‘मेरे आंगन में तुम्हारा क्या काम है’

BIHAR4 days ago

भोजपुरी एक्ट्रेस अनुपमा पाठक ने की खुदकुशी, मरने से पहले किया फेसबुक लाइव

INDIA4 weeks ago

सलमान खान ने शेयर की किसानी करने की ऐसी तस्वीर, लोगों ने जमकर सुनाई खरीखोटी

INDIA4 weeks ago

एक दूल्हे के संग दो दुल्हनों ने लिए फेरे : एक गर्लफ्रेंड, दूसरी मम्मी-पापा की पसंद, Video देखें

INDIA3 weeks ago

वाहनों में अतिरिक्त टायर या स्टेपनी रखने की जरूरत नहीं: सरकार

BIHAR6 days ago

UPSC में छाए बिहार के लाल, जानिए कितने बच्चों का हुआ चयन

BIHAR4 weeks ago

बिहार लॉकडाउन: इमरजेंसी हो तभी निकलें घर से बाहर, नहीं तो जब्त हो जाएगी गाड़ी

MUZAFFARPUR6 days ago

उत्तर बिहार में भीषण बिजली संकट, कांटी थर्मल पावर ठप्प

BIHAR1 week ago

पप्पू यादव का खतरनाक स्टंट: नियमों की धज्जियां उड़ा रेल पुल पर ट्रैक के बीच चलाई बुलेट, देखें VIDEO

MUZAFFARPUR3 days ago

बिहार के प्रमुख शक्तिपीठों में प्रशिद्ध राज-राजेश्वरी देवी मंदिर की स्थापना 1941 में हुई थी

BIHAR1 day ago

IPS विनय तिवारी शामिल हो सकते है, सुशांत केस की CBI जांच टीम में…

Trending