Connect with us

INDIA

तृणमूल में लगातार तेज हो रहे बगावती स्वर, प्रशांत किशोर के खिलाफ नाराजगी

Muzaffarpur Now

Published

on

बंगाल में कुछ माह बाद ही विधानसभा चुनाव होना है, लेकिन तृणमूल के भीतर बगावती स्वर तेज होता जा रहा है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस में जिस तरह से एक बाद एक विधायक व मंत्री अपनी नाराजगी जता रहे हैं यह शुभ संकेत नहीं है। तृणमूल के वरिष्ठ नेता और मंत्री धीरे-धीरे बगावत पर उतर रहे हैं, लेकिन ममता के लिए सबसे तगड़ा झटका उनके भरोसेमंद और आंदोलन के दिनों के सहयोगी शुभेंदु अधिकारी का इस्तीफा है। सिर्फ अधिकारी ही नहीं उनके अलावे कई और ऐसे नेता व विधायक हैं जो चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (पीके) के पार्टी के भीतर हस्तक्षेप को लेकर मुखर हो रहे हैं। यही नहीं सत्तारूढ़ दल में मची उठापटक के पीछे सिर्फ पीके ही नहीं बल्कि तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी के सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी को वजह माना जा रहा है।

पीके के खिलाफ खुलेआम बोल रहे हैं तृणमूल के कई नेता

तृणमूल के कई नेता पीके के खिलाफ खुलेआम बोल रहे हैं। बता दें कि दिल्ली विधानसभा और आंध्र प्रदेश समेत कई चुनाव में जीत के पीछे अहम भूमिका निभाने वाले पीके को ममता व अभिषेक ने पिछले साल ही बंगाल चुनाव में तृणमूल का कामकाज देखने के लिए हायर किया है। प्रशांत किशोर की एजेंसी आई-पैक पिछले वर्ष जुलाई से तृणमूल के लिए काम कर रही है लेकिन अब जो खबरें आ रही हैं उससे पीके ममता की उम्मीदों को ठेस पहुंचने की आशंका है। क्योंकि, पीके की रणनीति के तहत इस वर्ष जुलाई में ममता ने संगठन में भारी फेरबदल किया था। इसके बाद से ही नाराजगी बढ़ती जा रही है।

कई विधायक जता चुके हैं अपनी नाराजगी

पिछले दिनों मुर्शिदाबाद से तृणमूल विधायक नियामत शेख ने एक जनसभा में प्रशांत किशोर का खुलेआम विरोध करते हुए कहा था, क्या हमें उनसे (पीके) राजनीति समझने की जरूरत है? कौन है वह? अगर बंगाल में तृणमूल को नुकसान पहुंचा तो पीके उसकी वजह होंगे। यही नहीं कूचबिहार से तृणमूल विधायक मिहिर गोस्वामी ने भी प्रशांत किशोर पर आपत्ति जताते हुए फेसबुक पर कई पोस्ट किए। उन्होंने पीके पर निशाना साधते हुए लिखा, क्या तृणमूल अभी भी वाकई ममता बनर्जी की पार्टी है? ऐसा लगता है कि पार्टी को किसी ठेकेदार को दे दिया गया है। शुक्रवार को एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम के तहत उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया तथा नई दिल्ली जाकर भाजपा का दामन थाम लिया।

पीके के खिलाफ खुलेआम बोल रहे हैं तृणमूल के कई नेता

बैरकपुर विधानसभा से तृणमूल विधायक शीलभद्र दत्त ने पीके की एजेंसी पर हमला बोलते हुए चुनाव न लड़ने की घोषणा कर दी है। दत्ता ने कहा है कि एक बाहरी एजेंसी उन्हें सिखा रही है कि राजनीति कैसे करें। यही नहीं मंत्री रबींद्रनाथ भट्टाचार्य ने हुगली के सिंगुर के विधायक बेचाराम मन्ना से नाराज होकर इस्तीफा देने की बात कह दी थी। वहीं मंत्री सिद्दीकुल्ला चौधरी भी तृणमूल नेता अनुव्रत मंडल से नाराज हैंं।

Source : Dainik Jagran

INDIA

सर्दी से बचने को कमरे में जलाई थी अंगीठी, मौत की नींद सोया पूरा परिवार

Ravi Pratap

Published

on

बंद कमरे में अंगीठी जलाकर सोना एक परिवार के लिए जानलेवा साबित हुआ है। दिल्ली से सटे फरीदाबाद में सर्दी से बचने के लिए कमरे में अंगीठी जलाकर सो रहे एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गई। मौत का कारण दम घुटना बताया जा रहा है। पुलिस ने तीनों शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजकर मामले की जांच शुरू कर दिया है।

जानकारी के अनुसार, फरीदाबाद के थाना सेक्टर-58 क्षेत्र के ओम एंक्लेव की राजीव कॉलोनी में मंगलवार रात सर्दी से बचने के लिए कमरे में अंगीठी जलाकर सो रहे एक ही परिवार के तीन लोगों की दम घुटने से मौत हो गई। मृतकों में पति-पत्नी और 2 साल का मासूम बच्चा शामिल हैं। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची सेक्टर-58 थाना पुलिस ने तीनों शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए बीके अस्पताल भेज दिया है।

घटना और मृतकों के बारे में अभी ज्यादा जानकारी नहीं मिल सकी है। पुलिस घटनास्थल की गहनता से जांच कर रही है। पुलिस का कहना है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति साफ हो सकेगी

बंद करने में अंगीठी जलाकर कभी न सोएं

कड़ाके की सर्दियां शुरू हो चुकी हैं। ऐसे में लोग ठंड से बचने के लिए तरह-तरह के उपाय करेंगे। कमरों को गर्म रखने के लिए, अलाव, अंगीठी और हीटर जैसे उपकरण जलाए जाएंगे, लेकिन कमरों को गर्म रखने के लिए ये उपाय आपके लिए जानलेवा भी हो सकते हैं। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो सावधान रहें। अंगीठी में इस्तेमाल होने वाले कोयले या लकड़ी के जलने से कॉर्बन मोनोऑक्साइड के अलावा कई जहरीली गैसें निकलती हैं, जो जानलेवा साबित हो सकती हैं। अंगीठी ही नहीं, इस तरह का खतरा रूम हीटर से भी हो सकता है।

हीटर या अंगीठी से कम हो जाता है कमरे में ऑक्‍सीजन लेवल

कोयला या अलाव जलाने से कार्बन मोनोऑक्साइड के अलावा कई प्रकार की जहरीली गैसें निकलती हैं। कोयला बंद कमरे में जल रहा हो, तो इससे पर्यावरण में कार्बन मोनोऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाती है और ऑक्सीजन का लेवल घट जाता है। यह कार्बन, दिमाग पर सीधे असर डालता है और सांसों के जरिये शरीर के अंदर भी पहुंचता है। दिमाग पर असर होने से कमरे में सोया कोई भी इंसान बेहोश हो सकता है। ब्लड में यह कार्बन घुलकर धीरे-धीरे ऑक्सीजन को कम कर देता है। बंद कमरे में लंबे समय तक ब्लोअर या हीटर जलाने से कमरे का तापमान बढ़ जाता है और नमी का लेवल कम हो जाता है। इस वजह से नॉर्मल लोगों को भी सांस संबंधी समस्या हो सकती है। अगर आप हीटर का प्रयोग करते हैं, तो कमरे में एक बाल्टी पानी रखें, जिससे कुछ हद तक नमी बनी रहे।

इन बातों का रखें खास ध्यान

घर में वेंटिलेशन हो तभी अलाव, हीटर या ब्लोअर चलाएं।
अलाव जलाकर उसके पास न सोएं, साथ में पानी से भरी बाल्टी जरूर रखें, आग जलाएं तो जमीन पर सोने से बचें। घर में अगर कोई बच्चा हो, तो आग न जलाएं तो ज्यादा बेहतर है।

यदि रात में हीटर, ब्लोअर या अंगीठी का इस्तेमाल करते हैं, तो इनके करीब प्लास्टिक, कपड़े, केमिकल्स न रखें, ढीले प्लग, कटे तार से भी हादसा हो सकता है।

ये सावधानियां बरतें

हीटर, ब्लोअर या अंगीठी जलाते समय कमरे को पूरी तरह से बंद नहीं करना चाहिए। गर्मी से धीरे-धीरे कमरे का ऑक्सीजन खत्म हो जाता है और कार्बन मोनोऑक्साइड ज्यादा होने लगता है। यह जहरीली गैस सांस के जरिए फेफड़ों तक पहुंच कर खून में मिल जाती है। इस वजह से खून में हीमोग्लोबिन का लेवल घट जाता है और बेहोशी छाने लगती है और इंसान की मौत हो जाती है। अगर कमरे में एक से ज्यादा व्यक्ति सो रहे हैं तो ज्यादा देर तक आग न जलाएं, क्योंकि ज्यादा लोग होने से कमरे में ऑक्सीजन की और कमी हो जाती है।

Input: Live Hindustan

rama-hardware-muzaffarpur

Continue Reading

INDIA

अगर 1 घंटे में निपटा दी इस रेस्टोरेंट की ‘बुलेट थाली’ तो ईनाम में मिलेगी रॉयल एनफील्ड

Ravi Pratap

Published

on

भारत में लोग खाना के बहुत शौकीन हैं। कुछ लोगों को तो देश के कोने- कोने के अलग-अलग व्यंजन चखने का मानो चस्का होता है। यहां महाराजा थाली से लेकर बाहुबली थाली तक खूब बिकती है। लेकिन कैसा हो अगर खाने का यही शौक आपको बुलेट बाइक दिला दे, वो भी बिलकुल मुफ्त। दरअसल, पुणे के एक शिवराज होटल ने ऐसी ही थाली तैयार की है जिसे 1 घंटे में खाने वाले के ईनाम में रॉयल एनफील्ड बुलेट बाइक दी जाएगी। इस थाली का नाम है- बुलेट थाली। ये बुलेट थाली एक नॉन-वेज थाली है जिसमें 4 किलो मटन और तली हुई मछली के साथ लगभग 12 प्रकार के व्यंजन रखे गए हैं। ये थाली तैयार करने के लिए 55 लोग काम करते है।

क्या-क्या है इस खास थाली में-

पोम्फ्रेट 8 पीस, सुरमई 8 पीस ,चिकन लेग 8 पीस , किलाम्बी करी, मटन मसाला 1, भूना मुर्ग, कोलांबी बिरयानी, 8 भकारी, 8 रोटी,1 सुकत, कोलांबी कोलीवाड़ा, 4 पानी की बोतल, रायता, 8 सोलकधि , 8 भुने हुए पापड़ और 8 मटन अलानी सूप

बुलेट थाली चैलेंज में हैं दो विकल्प

– यदि आप 4444 रुपये मूल्य की बड़ी बुलेट थाली खरीदते हैं और दो लोग मिलकर इसे सिर्फ एक घंटे में पूरी तरह खत्म कर देते हैं तो आप नई एनफील्ड बुलेट मोटरसाइकिल ले जा सकते हैं वो भी बिलकुल मुफ्त।
– यदि आप 2500 रुपये मूल्य की छोटी बुलेट थाली खरीदते हैं और एक घंटे में अकेले ही इसे पूरी तरह खत्म कर देते हैं तो भी आप नई एनफील्ड बुलेट मोटरसाइकिल ले जा सकते हैं।

इंडिया टुडे से बात करते हुए, वाडगांव मावल क्षेत्र में स्थित शिवराज होटल के मालिक अतुल वायकर ने कहा कि उन्होंने ग्राहकों को अपने रेस्टोरेंट में बुलाने के लिए एक प्रतियोगिता शुरू करने के बारे में सोचा और रेस्टोरेंट के बाहर 5 बुलेट बाइक सजा दीं। आम तौर पर इस  शिवराज होटल में छह प्रकार की बड़ी थालियां तैयार की जाती हैं – स्पेशल रावण थली, बुलेट थली, मालवानी मछली थली, पहलवान मटन थली, बकासुर चिकन थली और सरकार मटन थाली। अतुल वाईकर ने बताया कि अब तक केवल महाराष्ट्र के सोलापुर जिले के निवासी सोमनाथ पवार एक घंटे से भी कम समय में बुलेट थली को खत्म करने में कामयाब रहे हैं। उन्हें एक बुलेट ईनाम में दी गई है।

Input: Live Hindustan

rama-hardware-muzaffarpur

Continue Reading

INDIA

दुनिया देखे कि कैसे संकट में पड़ोसियों का सहारा बना है भारत, आज से बांग्लादेश, नेपाल सहित 6 देशों को देगा कोरोना टीका

Ravi Pratap

Published

on

भारत सरकार ने भूटान, मालदीव, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार और सेशेल्स को अनुदान सहायता के तहत आज यानी 20 जनवरी से कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति शुरू कर दी है। कोविशील्ड वैक्सीन की 1.5 लाख डोज वाली पहली खेप भारत ने भूटान को रवाना कर दी है। आज महाराष्ट्र के छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट से भूटान की राजधानी थिम्पू के लिए वैक्सीन की पहली खेप रवाना कर दी गई।

इसी तरह आज अलग-अलग समय पर भारत सरकार इन पड़ोसी देशों को वैक्सीन उपलब्ध करवाएगी। विदेश मंत्रालय ने बताया कि भारत सरकार को पड़ोसी और प्रमुख भागीदार देशों से भारत निर्मित टीकों की आपूर्ति के लिए कई अनुरोध प्राप्त हुए हैं। इन अनुरोधों के जवाब में आपूर्ति सुनिश्चित करने का फैसला किया गया है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि श्रीलंका, अफगानिस्तान और मॉरीशस के संबंध में आवश्यक नियामक मंजूरी की प्रतीक्षा है।

मंत्रालय ने कहा कि स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं, अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों और अन्य को कवर करने के लिए चरणबद्ध तरीके से भारत में टीकाकरण कार्यक्रम लागू किया जा रहा है, चरणबद्ध रोलआउट की घरेलू आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए भारत आने वाले हफ्तों और महीनों में चरणबद्ध तरीके से कोविड टीकों की आपूर्ति जारी रखेगा। यह सुनिश्चित किया जाएगा कि घरेलू निर्माताओं के पास विदेश में आपूर्ति करते समय घरेलू आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए  पर्याप्त स्टॉक होगा।

टीकों की डिलीवरी से पहले एक प्रशिक्षण कार्यक्रम राष्ट्रीय और प्रांतीय, दोनों स्तरों पर आयोजित किया गया है। इसमें प्रशासनिक और परिचालन पहलुओं को कवर करते हुए 19-20 जनवरी 2021 को टीकाकरण प्रबंधकों, कोल्ड चेन अधिकारियों, संचार अधिकारियों और प्राप्तकर्ता देशों के डेटा प्रबंधकों को शामिल किया गया है।

भारत पहले भी कर चुका है मदद:
मंत्रालय ने कहा भारत ने पहले महामारी के दौरान बड़ी संख्या में देशों को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन, रेमडेसिविर और पेरासिटामोल गोलियों के साथ-साथ डायग्नोस्टिक किट, वेंटिलेटर, मास्क, दस्ताने और अन्य चिकित्सा आपूर्ति की थी। अलग-अलग भारतीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग कार्यक्रम के तहत सहयोगी देशों के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और प्रशासकों के लिए कई प्रशिक्षण पाठ्यक्रम आयोजित किए गए हैं, जो महामारी से निपटने में हमारे अनुभव को साझा करते हैं। मंत्रालय ने कहा कि सतत प्रयास के तहत भारत दुनियाभर के देशों को टीकों की आपूर्ति जारी रखेगा। जिसमें विकासशील देशों के लिए गावी के तहत कोवाक्स सुविधा शामिल है।

भारत बांग्लादेश को 20 लाख टीके का तोहफा देगा
भारत अपने पड़ोसी देश बांग्लादेश को तोहफे के रूप में कोरोना रोधी कोविशील्ड टीके की 20 लाख खुराकें देगा। बांग्लादेश के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को लिखे गए भारतीय उच्चायोग के पत्र का हवाला देते हुए मीडिया में कहा गया कि एक विशेष विमान से ये टीके शाहजलाल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर 20 जनवरी को आएंगे। स्वास्थ्य मंत्री जाहिद मालेक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) द्वारा कोरोना टीकों के लिए अतिरिक्त भंडारण प्रदान किया जाएगा। गौरतलब है कि 8 जनवरी को बांग्लादेश ने भारत से कोविशील्ड टीके की 30 मिलियन खुराक की खरीद को मंजूरी दी थी।

कंबोडिया के प्रधानमंत्री हुन सेन ने कोरोना रोधी टीका उपलब्ध कराने में भारत सरकार से मदद मांगी है। उन्होंने अनुरोध किया कि कंबोडियाई लोगों को संक्रमण से बचाने में मदद करने के लिए भारत कोरोना टीकों का दान करे। कंबोडिया में भारतीय राजदूत देवयानी उत्तमखोबरागड़े के साथ अपनी बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने यह अनुरोध किया। हुन सेन ने भारत को कोरोना टीकों के सफल उत्पादन के लिए बधाई दी। हाल ही में चीन द्वारा दान किए गए टीकों के बावजूद कंबोडिया को अभी लाखों टीकों की जरूरत होगी।

Input: Live Hindustan

rama-hardware-muzaffarpur

Continue Reading
MUZAFFARPUR6 hours ago

मुजफ्फरपुर में रोनोजीत के हत्यारे को फांसी देने की मांग लेकर नगर विधायक व हजारों की संख्या में निकाला गया कैंडल मार्च

BIHAR7 hours ago

शिक्षक अभ्यर्थियों से मिले तेजस्वी, पुलिस लाठीचार्ज की बात सुन सीधे डीजीपी को लगा दिया फोन

BIHAR11 hours ago

बिहार में पंचायत चुनाव से पहले मुखिया सरपंच को आयोग का झटका! जानें राज्य आयोग का फैसला

INDIA11 hours ago

सर्दी से बचने को कमरे में जलाई थी अंगीठी, मौत की नींद सोया पूरा परिवार

BIHAR12 hours ago

मिलिए अजय कुमार से इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ गांव के बच्चों को दे रहे निशुल्क शिक्षा

BIHAR12 hours ago

दशमेश पिता गुरु गोविंद सिंह जी के जयंती पर पटना साहिब पहुंचे CM नीतीश, गुरुद्वारे में टेका मत्था

MUZAFFARPUR13 hours ago

जाप सुप्रीमो पप्पू यादव का सीएम नीतीश पर तंज, सूबे में नमक महंगा व खून सस्ता

BIHAR13 hours ago

CM नीतीश पर चिराग का नया हमला, कहा- गृह मंत्रालय अपने पास रखकर भी अपराध नहीं रोक पा रहे मुख्‍यमंत्री

INDIA13 hours ago

अगर 1 घंटे में निपटा दी इस रेस्टोरेंट की ‘बुलेट थाली’ तो ईनाम में मिलेगी रॉयल एनफील्ड

BIHAR13 hours ago

बिहार बोर्ड मैट्रिक इंटर परीक्षा 2021 : एडमिट कार्ड खोने पर भी दे सकेंगे परीक्षा

INDIA2 weeks ago

लड़कियों के लिए मिसाल हैं ये महिला IAS, अपनी हाइट को नहीं बनने दिया बाधा

TRENDING2 days ago

WagonR का Limousine अवतार! तस्वीरों में देखिए एक मैकेनिक का शाहकार

INDIA5 days ago

इंग्लिश मीडियम बहू और हिंदी मीडियम सास के रिश्‍तेे में यूं आ रही दरार, पहुंच रहे थाने तक

TRENDING2 weeks ago

12 लीटर सोडा, 40 बोतल बीयर रोज: 412 किलो के शख्स ने दुनिया को कहा अलविदा

JOBS3 weeks ago

डाक विभाग ने निकाली है बंपर भर्तियां, 10वीं पास करें आवेदन, जानें फॉर्म भरने का तरीका

BIHAR3 weeks ago

29 IAS, 38 IPS की ट्रांसफर-पोस्टिंग: 12 DM बदले, चंद्रशेखर सिंह पटना के नए DM बने; 13 SP बदले, लिपि सिंह को सहरसा SP बनाया गया

TRENDING5 days ago

‘दोस्त’ ने किया बेइज्जत: ‘कंगाल’ पाकिस्तान का यात्री विमान मलेशिया ने किया जब्त, उतारे गये यात्री

MUZAFFARPUR3 weeks ago

निगम में शामिल होंगे शहर से सटे 32 गांव, 49 से बढ़ कर हाे सकते हैं अब 76 वार्ड

BIHAR5 days ago

बिहार: अब सभी जिलों में चलेगी BSRTC की बस, पटना से काठमांडू, जनकपुर व भूटान सीमा तक मिलेगी सर्विस

BIHAR3 weeks ago

तो इसलिए हैं पंजाब के किसान सड़कों पर, बिहार के किसानों के मुकाबले कमाते हैं पांच गुना ज्यादा

Trending