Connect with us

INDIA

दशहरा-दिवाली से पहले SBI ने बदला ATM से कैश निकालने का नियम, आइए जानें इससे जुड़ी सभी बातें

Muzaffarpur Now

Published

on

देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई (SBI-State Bank of India) ने ATM से कैश निकालने का नया नियम आ चुका है. नए नियम के मुताबिक, अब आपको 10 हजार से ज्यादा की कैश निकासी करने के लिए ओटीपी की जरूरत होगी. यानी आप बिना ओटीपी के पैसे नहीं निकाल पाएंगे. आपको बता दें कि स्टेट बैंक ने इस नियम को पहले ही लागू किया था. 18 सितंबर से इसे 24 घंटे के लिए लागू किया जा चुका है. इससे पहले एसबीआई ने एक अक्टूबर ( SBI Banking Rules ) से विदेश पैसे भेजने का नियम बदल दिया है. अब ग्राहकों को विदेश में लेनदेन के लिए टैक्स (Tax) चुकाना पड़ता है. यानी कि ग्राहकों को विदेश पैसा भेजने पर अतिरिक्त चार्ज देना होता है.

SBI ने किया ट्वीट- SBI ने ट्वीट करके इस नए नियम के बारे में जानकारी दी है. SBI ट्वीट के मुताबिक, अब से वन टाइम पासवर्ड (OTP) आधारित एटीएम कैश विड्रॉल सुविधा को 24 घंटे लागू करने का फैसला किया है.

इससे पहले सिर्फ 12 घंटे के लिए था ये नियम

वर्तमान में इस नियम के मुताबिक, ओटीपी प्रक्रिया 8 बजे रात से 8 बजे सुबह के बीच लागू होती है. इसमें अमाउंट एंटर करने पर ओटीपी स्क्रीन खुल जाती है और वहां आपको अपने मोबाइल नंबर पर भेजा गया ओटीपी डालना होता है. यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही ट्रांजेक्शन हो पाएगा.

बैंक ने क्यों लागू किया नया नियम?

देशभर में फैले कोरोना वायरस के बीच ऑनलाइन फ्रॉड के मामलों में भी तेजी आई है. इसी को ध्यान में रखते हुए SBI ने ये नियम लागू किया है. SBI के मुताबिक, एटीएम फ्रॉड से ग्राहकों को बचाने के लिए पूरे देश में 24 घंटे के लिए ओटीपी आधारित सेवा की शुरुआत की है. नया नियम 18 सितंबर से लागू हो गया है.

ऐसे निकाल सकेंगे पैसे

नए नियम के बाद कैश निकालने के लिए आपको एटीएम की स्क्रीन पर रकम के साथ-साथ ओटीपी स्क्रीन भी दिखाई देगी. ग्राहकों को ओटीपी उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेजा जाएगा. इसके बाद में आपको ओटीपी को एंटर करना होगा और अमाउंट डालनी होगी. बता दें ओटीपी आधारित नकद निकासी की सुविधा केवल एसबीआई एटीएम में ही उपलब्ध है.

ATM से कैश निकालने के लिए अब जरूरी है मोबाइल ले जाना

SBI ने अपने ग्राहकों से कहा है कि अगर आप एसबीआई कार्ड का इस्तेमाल कर एसबीआई एटीएम से निकासी के लिए जा रहे हैं तो मोबाइल लेकर जरूर जाएं. इस बात को समझने की जरूरत है कि आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजा जाएगा. ओटीपी डालने के बाद ही 10 हजार या उससे अधिक रुपये निकासी कर पाएंगे. बैंक ने इसको लेकर SMS भी ग्राहकों को भेजे है.

Source : News18

INDIA

निजीकरण के विरोध में इन बैंकों में रहेगी हड़ताल, जानिए कब से कब तक कार्य रहेगा प्रभावित

Ravi Pratap

Published

on

सेंट्रल ट्रेड यूनियन के आह्वान पर 26 नवंबर को बैंकों में हड़ताल रहेगी। सभी व्यावसायिक और ग्रामीण बैंकों में काम ठप रहेगा। हालांकि भारतीय स्टेट बैंक ने खुद को हड़ताल से अलग रखा है। ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन के संयुक्त सचिव डीएन त्रिवेदी ने कहा कि ऑल इंडिया बैंक इंपलाइज एसोसिएशन, ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन, बैंक इंपलाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया और यूनाइटेड फोरम ऑफ ग्रामीण बैंक यूनियन के बैंक प्रबंधन आंदोलन में शामिल होंगे।

स्टेट बैंक का यूनियन एनसीबीई और भारतीय मजदूर संघ का बैंक यूनियन नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक ऑफिसर्स ने भी हड़ताल का नैतिक समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि सेंट्रल ट्रेड यूनियन की सामान्य मांगों के अतिरिक्त बैंक यूनियनों ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण का प्रस्ताव वापस लेने, बैंकों में जमा राशि पर ब्याज बढ़ाने, कॉरपोरेट घरानों से एनपीए ऋण की वसूली के लिए सख्त कार्रवाई करने, अस्थायी कर्मियों का नियमितीकरण, आउटसोर्सिंग पर प्रतिबंध, खाली पदों पर अविलंब नियुक्ति, 31 मार्च 2010 के बाद योगदान करने वाले बैंककर्मियों के लिए एनपीएस के बजाय पुरानी पेंशन योजना का कार्यान्वयन और ग्रामीण बैंकों में प्रायोजक व्यावसायिक बैंकों के साथ ही 11वें द्विपक्षीय वेतन समझौता को एक नवंबर 2017 के प्रभाव से लागू करने संबंधी 10 सूत्री मांगों को लेकर बैंककर्मी 26 नवंबर को हड़ताल करेंगे।

26 को ट्रेड यूनियन की हड़ताल

केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के संयुक्त आह्वान पर 26 नवंबर को प्रस्तावित हड़ताल की तैयारी को लेकर हरिसभा चौक स्थित कार्यालय में भाकपा माले की बैठक हुई। जिला सचिव कृष्णमोहन ने कहा कि सरकार देश की संपत्ति कॉरपोरेट घरानों को दे रही है। मजदूर, कर्मचारियों, कम आय के लोगों पर हमले कर रही है और उनके अधिकार खत्म कर देना चाहती है। बैठक में एक्टू के जिला संयोजक मनोज कुमार यादव, रसोइया संघ के जिला सचिव परशुराम पाठक, वीरेंद्र चौधरी, मो. करीम, आमोद पासवान, सुरेश राम, सुलेखा देवी, चंदेश्वर भगत, राजेश राम, उमेश दास आदि शामिल थे।

Input: Dainik Jagran

Continue Reading

INDIA

कांग्रेस नेता अहमद पटेल का निधन, कोरोना पॉजिटिव होने के बाद एक महीने से थे अस्पतला में भर्ती

Ravi Pratap

Published

on

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल का निधन हो गया है. अहमद पटेल एक महीना पहले कोरोना से संक्रमित हुए थे. इसके बाद उनका इलाज चल रहा था. अहमद पटेल के बेटे फैजल पटेल ने ट्वीट कर कहा कि उनके पिता अहमद पटेल का आज सुबह 3 बजकर 30 मिनट पर निधन हो गया है. जानकारी के मुताबिक अहमद पटेल का गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में इलाज चल रहा था. इसी अस्पताल में उनका निधन हुआ है.

फैजल पटेल ने ट्वीट कर कहा कि वे बेहद दुख के साथ अपने पिता अहमद पटेल की दुखद और असामयिक मृत्यु की घोषणा कर रहे हैं. फैजल पटेल ने कहा कि 25 तारीख को सुबह 3.30 पर उनके पिता का निधन हो गया. फैसल पटेल ने कहा कि लगभग एक महीना पहले उनके पिता कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इलाज के दौरान उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया और वे मल्टी ऑर्गन फेल्यिोर के शिकार हो गए. फैजल पटेल ने कहा कि गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने आखिरी सांस ली.

फैजल पटेल ने लोगों से अपील की है कि सभी लोग कोरोना से जुड़े प्रोटोकॉल का पालन करें और भीड़ भाड़ में जाने से बचें.

गुजरात से राज्यसभा सांसद और कांग्रेस पार्टी के कोषाध्यक्ष रहे अहमद पटेल को 15 नवंबर को मेदांता अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था.

एक अक्टूबर को अहमद पटेल ने एक ट्वीट कर खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी थी. तब दिग्गज कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा था कि ‘मैं कोरोना पॉजिटिव हुआ हूं, मैं निवेदन करता हूं कि जो मेरे नजदीकी संपर्क में आएं है वे खुद को आइसोलेट कर लें.”

71 साल के अहमद पटेल तीन बार लोकसभा के सदस्य रहे हैं और 5 बार राज्यसभा के सांसद रहे हैं. अगस्त 2018 में उन्हें कांग्रेस पार्टी का कोषाध्याक्ष नियुक्त किया गया था. पहली बार 1977 में 26 साल की उम्र में भरूच से लोकसभा का चुनाव जीतकर अहमद पटेल संसद पहुंचे थे. हमेशा पर्दे के पीछे से राजनीति करने वाले अहमद पटेल कांग्रेस परिवार के विश्वस्त नेताओं में गिने जाते थे. वे 1993 से राज्यसभा सांसद थे.

Input: Aaj Tak

Continue Reading

INDIA

अब सिर्फ 7 घंटे से पहुंचेगें दिल्ली से कटरा , जानिए क्या है सरकार का खास प्लान

Muzaffarpur Now

Published

on

अगर आप भी दिल्ली से कटरा जाने का प्लान बना रहे हैं तो अब आप सिर्फ 7 घंटे में ये दूरी तय कर सकेंगे. सरकार ने दिल्ली से कटरा जाने के लिए हाइवे बनाने का फैसला लिया है. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि कटरा-दिल्ली एक्सप्रेसवे साल 2023 तक पूरा हो जाएगा. इसके बाद यात्री सिर्फ 7 घंटे में दिल्ली से कटरा पहुंच जाएंगे. बता दें इसके अलावा यह हाइवे जम्मू और अमृतसर के पवित्र शहरों को जोड़ेगा, जिसकी वजह से धार्मिक पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा.

आइए आपको इस हाइवे के बारे में बताते हैं –

आपको बता दें यह हाइवे दो पवित्र शहर कटरा-वैष्णों देवी और अमृतसर को जोड़ेगी. इस हाईवे के जरिए पर्यटन को बढ़ावा भी मिलेगा.

कटरा से दिल्ली तक का सफर करीब 7 घंटे में पूरा हो जाएगा और जम्मू से दिल्ली तक का सफर सिर्फ 6 घंटे में पूरा होने की संभावना है.

नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) से जानकारी लेने के बाद केंद्रीय मंत्री सिंह ने कहा कि यह एक्सप्रेस हाइवे एक गेम चेंजर बनने जा रहा है और साथ ही यह उत्तर भारत में अपनी तरह का ऐसा पहला काम है.

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने इसे पूरा करने के लिए 35,000 करोड़ रुपये की मंजूरी दे दी है.

आपको बता दें इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए सर्वेक्षण का काम पूरा हो चुका है. इसके अलावा दिल्ली से पठानकोट तक भूमि अधिग्रहण का काम भी चल रहा है. इसके साथ ही पठानकोट-कठुआ से जम्मू तक हाइवे को भी चौड़ा करके 6 लेन का बनाया जाएगा.

कॉरिडोर का काम हो रहा पूरा

कोरोना वायरस महामारी के चलते इस प्रोजेक्ट में कुछ देरी हुई थी नहीं तो प्रस्तावित समय से पहले भी इस एक्सप्रेसवे कॉरिडोर का काम पूरा हो सकता था.

Source : News18

Continue Reading
BIHAR8 mins ago

मतदान से आज होगा नए विधानसभा अध्यक्ष का फैसला, NDA से विजय सिन्हा तो महागठबंधन से अवध बिहारी हैं उम्मीदवार

BIHAR1 hour ago

बिहार में 48 घंटे के दौरान कोरोना से 12 लोगों की मौत

MUZAFFARPUR1 hour ago

मुजफ्फरपुर रेवा रोड में वायु सेना कर्मी से लूटपाट

INDIA2 hours ago

निजीकरण के विरोध में इन बैंकों में रहेगी हड़ताल, जानिए कब से कब तक कार्य रहेगा प्रभावित

BIHAR2 hours ago

मोबाइल नंबर शेयर कर सुशील मोदी ने लगाया आरोप, विधायकों को फोन कर एनडीए तोड़ने की कोशिश कर रहे लालू

BIHAR3 hours ago

मास्क नहीं पहनने पर दिल्ली, यूपी और गुजरात के बाद अब बिहार में भी देना होगा जुर्माना

INDIA4 hours ago

कांग्रेस नेता अहमद पटेल का निधन, कोरोना पॉजिटिव होने के बाद एक महीने से थे अस्पतला में भर्ती

MUZAFFARPUR19 hours ago

गायघाट में ट्रक का टायर फटने से रेलिंग पर चढ़ा ट्रक, एनएच पर लगा रहा घंटों जाम

INDIA19 hours ago

अब सिर्फ 7 घंटे से पहुंचेगें दिल्ली से कटरा , जानिए क्या है सरकार का खास प्लान

INDIA19 hours ago

न्यूयॉर्क घूमने जाएं और कोरोना वैक्सीन मुफ्त पाएं- ट्रैवल कंपनी के ऑफर पर विवाद

BIHAR6 days ago

सात समंदर पार रूस से छठ करने पहुंची विदेशी बहू

WORLD1 week ago

संयुक्त राष्ट्र की शाखा ने चेताया- 2020 से भी ज्यादा खराब होगा साल 2021, दुनिया भर में पड़ेगा भीषण अकाल

INDIA4 weeks ago

JEE MAINS का टॉपर गिरफ्तार, परीक्षा में दूसरे को बैठाकर पाए थे 99.8 % अंक

BIHAR6 days ago

एम्स से दीघा तक एलिवेटेड रोड पर आज से परिचालन शुरू, कोइलवर पुल पर आज ट्रायल रन

INDIA7 days ago

मिट्टी से भरी ट्रॉली खाली करते वक्त अचानक गिरने लगे सोने-चांदी के सिक्के, लूटकर भागे लोग

TRENDING2 weeks ago

ठंड से ठिठुर रहा था भिखारी, DSP ने गाड़ी रोकी तो निकला उन्हीं के बैच का ऑफिसर

BIHAR2 days ago

खाक से फलक तक : 18 साल की उम्र में घर से भागे, मजदूरी की, और अब हैं बिहार के मंत्री

BIHAR2 weeks ago

जीत की खुशी में पटाखा जलाने पर BJP नेता के बेटे की पीट-पीटकर हत्या, शव पेड़ पर लटकाया

TRENDING3 days ago

यात्री नहीं मिलने से पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्‍सप्रेस हो जाएगी बंद

BIHAR4 weeks ago

झूठा साबित हुआ लिपि सिंह का आरोप, भीड़ ने नहीं पुलिस ने की थी फायरिंग, CISF की रिपोर्ट से खुलासा

Trending