Connect with us

TRENDING

दिल को झकझोरने वाली मजदूर के इस तस्वीर की हकीकत

Muzaffarpur Now

Published

on

rampukar-labour-viral-photo

फ़ोन से बात करते हुए रोते हुए इस मजदूर की तस्वीर पलायन वाले हर मजदूर का चेहरा बन कर हाल में खूब वायरल हो रहा है. रामपुकार पंडित ये उसी मजदूर का नाम है, दिल्ली कि एक सड़क पर उनकी तस्वीर खींची गई थी और यह तस्वीर अब मजदूरों के दर्द का प्रतिबिंब बन गया है.

दरअसल 11 मई को बिहार के बेगूसराय, बरियापुर के रहने वाले रामपुकार पंडित दिल्ली के निज़्जामुद्दीन पूल पर बैठ कर फ़ोन पर बात कर रहे थे और लगातार रोये जा रहे थे. लॉकडाउन के बीच ही उनका बेटा बीमार हो गया और उसकी हालत काफी गंभीर थी. वह सिर्फ यही चाहते थे कि एक बार वहां जाकर अपने बच्चे को देख सके.

“काफी मिन्नतों के बाद जाकर राम पुकार और उसकी पत्नी को एक बेटा हुआ था, और ऐसे कठिन समय मे वहां पहुच नही पा रहा था”

रामपुकार नजफगढ़ में घर बनाने के काम में मजदूरी का काम करने दिहाड़ी मजदूर था ,रामपुकार पंडित, तीन दिनों तक पूल पर अटका हुआ था, वायरल तस्वीर उसी वक़्त की है.

अतुल यादव, पीटीआई के फोटोग्राफर है, जिन्होंने उनकी तस्वीर ली और मदद की अपील की.13 मई की शाम उन्हें मदद मिल गई, और दिल्ली पुलिस के मदद से उन्हें पुरानी दिल्ली स्टेशन पहुंचाया गया. वे दिल्ली से बिहार जा रही स्पेशल पैसेंजर ट्रेन से बिहार पहुंचे. हालांकि वह अपने घर पहुंच चुके है,परन्तु अपने बच्चे को आखिरी बार देख नही पाए.उनकी यह इच्छा महज़ इच्छा ही रह गई, क्योंकि वहाँ पहुंच उन्हें कोरेंटाईन सेंटर में डाल दिया गया है.

अगर हम ये कहे कि हमारे देश को चलाने में मज़दूरों का बहुत बड़ा योगदान है ये कहीं से भी गलत नही होगा. हम जो खाते है,और जिस सड़क पर चलते है उसमें अन्य सामग्रियों के साथ इनका भी पसीना मिला होता है.रामपुकार जैसे ही हज़ारों मज़दूर हैं आज हमारे देश में जिनके पास न कोई रोज़गार है और न कोई साधन जिससे कि वह अपने घर वापस जा सके अथवा अपने परिवार की देख-रेख कर सके.इन्हीं मज़दूरों ने हज़ार-हज़ार किलोमीटर का सफर पैदल ही तय करने का निर्णय ले लिया है और निकल पड़े है.

हम मज़दूरों की कोई ज़िंदगी नहीं होती,हम तो बस अपने ही समस्याओं से लड़ते रहतें है, जब तक इससे बाहर निकलते है तब तक ज़िन्दगी ही खत्म हो जाती है”, ऐसा रामपुकार ने अपने एक कथन में कहा.

रामपुकार तो कैमरा के सामने रोते दिख गए,परन्तु बहुत मज़दूर ऐसे है जो कि रो भी नही सकते क्योंकि उन्हें अपने परिवार को भी संभालना है,अगर वह रो पड़े तो उनके परिवार के आंसू कौन पोंछेगा. कोरोना महामारी से लड़ रहा है हमारा पूरा देश,परन्तु जो असल लड़ाई है वो तो इन मज़दूरों की है जो कि रोज़ एक नई जंग लड़ रहे है.किसने सोंचा था कि एक दिन उन्हें यह भी दिन देखना होगा जब वह अपने घर जाने तक को तरस जाएंगे.सरकार से मदद क्यों नही मिल रही ?अगर मिल रही है तो इन मज़दूरों तक क्यों नही पहुंच रही?ऐसे कई सवाल है जो रोज़ ही हमारे मन में उठते है.मज़दूरों की यह लड़ाई उनका यह सफर उनके जीवन का सबसे दुखदायी सफर साबित हुआ,जिसकी पीड़ा पूरी ज़िंदगी ही उन्हें अथवा उनके परिवार वालो को झेलनी पड़ेगी. कोरोना के इस कहर में कई मज़दूरों ने अपनी जान गवाई है,बहुतों ने इस सफर के दौरान है अपनो को खो दिया.नाम है जो पूरे देश के प्रवासी मज़दूरों का एक चेहरा बन कर सामने आया है.दिल्ली कि एक सड़क पर उनकी तस्वीर खींची गई थी.

SUBSCRIBE-US-ON-YOUTUBE-MUZAFFARPUR-NOW

11 मई को बिहार के बेगूसराय स्थित बरियापुर निवासी रामपुकार पंडित दिल्ली के निज़्जामुद्दीन पूल पर बैठ कर फ़ोन पर बात कर रहे थे और लगातार रोये जा रहे थे.लॉकडाउन के बीच ही उनका बेटा बीमार हो गया और उसकी हालत काफी गंभीर थी. वह सिर्फ यही चाहते थे कि एक बार वहां जाकर अपने बच्चे को देख सके. “काफी मिन्नतों के बाद जाकर मुझे और मेरी पत्नी को एक बेटा हुआ था, और ऐसे कठिन समय मे मैं वहां पहुच नही पा रहा हूं” – रामपुकार.

नजफगड़ में घर बनाने के काम में मजदूर का काम करने वाले,रामपुकार पंडित,तीन दिनों तक पूल पर फंसे हुए थे.अतुल यादव, पीटीआई के फोटोग्राफर है जिन्होंने उनकी तस्वीर ली और मदद की अपील की.13 मई की शाम उन्हें मदद मिल गई, और दिल्ली पुलिस के मदद से उन्हें पुरानी दिल्ली स्टेशन पहुंचाया गया.वे दिल्ली से बिहार जा रही स्पेशल पैसेंजर ट्रेन से बिहार पहुंचे. हालांकि वह अपने घर पहुंच चुके है,परन्तु अपने बच्चे को आखिरी बार देख नही पाए.उनकी यह इच्छा महज़ इच्छा ही रह गई,क्योंकि वहाँ पहुंच उन्हें कोरेंटाईन सेंटर में डाल दिया गया है.

600K FOLLOWERS ON MUZAFFARPUR NOW

अगर हम ये कहे कि हमारे देश को चलाने में मज़दूरों का बहुत बड़ा योगदान है ये कहीं से भी गलत नही होगा.हम जो खाते है,और जिस सड़क पर चलते है उसमें अन्य सामग्रियों के साथ इनका भी पसीना मिला होता है.रामपुकार जैसे ही हज़ारों मज़दूर हैं आज हमारे देश में जिनके पास न कोई रोज़गार है और न कोई साधन जिससे कि वह अपने घर वापस जा सके अथवा अपने परिवार की देख-रेख कर सके.इन्हीं मज़दूरों ने हज़ार-हज़ार किलोमीटर का सफर पैदल ही तय करने का निर्णय ले लिया है और निकल पड़े है.

“हम मज़दूरों की कोई ज़िंदगी नहीं होती,हम तो बस अपने ही समस्याओं से लड़ते रहतें है, जब तक इससे बाहर निकलते है तब तक ज़िन्दगी ही खत्म हो जाती है”, ऐसा रामपुकार ने अपने एक कथन में कहा. रामपुकार तो कैमरा के सामने रोते दिख गए,परन्तु बहुत मज़दूर ऐसे है जो कि रो भी नही सकते क्योंकि उन्हें अपने परिवार को भी संभालना है,अगर वह रो पड़े तो उनके परिवार के आंसू कौन पोंछेगा. कोरोना महामारी से लड़ रहा है हमारा पूरा देश,परन्तु जो असल लड़ाई है वो तो इन मज़दूरों की है जो कि रोज़ एक नई जंग लड़ रहे है.किसने सोंचा था कि एक दिन उन्हें यह भी दिन देखना होगा जब वह अपने घर जाने तक को तरस जाएंगे.सरकार से मदद क्यों नही मिल रही ?अगर मिल रही है तो इन मज़दूरों तक क्यों नही पहुंच रही?ऐसे कई सवाल है जो रोज़ ही हमारे मन में उठते है.मज़दूरों की यह लड़ाई उनका यह सफर उनके जीवन का सबसे दुखदायी सफर साबित हुआ,जिसकी पीड़ा पूरी ज़िंदगी ही उन्हें अथवा उनके परिवार वालो को झेलनी पड़ेगी. कोरोना के इस कहर में कई मज़दूरों ने अपनी जान गवाई है,बहुतों ने इस सफर के दौरान है अपनो को खो दिया.

TRENDING

Tik Tok पर लगी बैन से ये स्टार हैं निराश, कहा- नौजवानों के सपने चूर-चूर हो गए

Ravi Pratap

Published

on

भारत सरकार की तरफ से चीनी एप्स को बंद करने के बाद सबसे ज्यादा परेशान दिख रहे हैं टिक टॉक बनाने वाले वह कलाकार जो टिक टॉक के स्टार बन चुके थे. इनके महीने की कमाई टिक टॉक के जरिए आती थी. टिक टॉक को उन्होंने अपना करियर बना लिया था और टिक टॉक ने ही उनकी एक अलग पहचान बना दी थी. उनके अलग फैन फॉलोअर्स थे. वह एक स्टार की जिंदगी जीने लगे थे, लेकिन टिक टॉक बंद होने के बाद अब उन्हें लग रहा है कि वह आगे क्या करेंगे.

इस मुद्दे पर हमारी बात हुई समीर मार्क से. समीर मार्क फैशन इनफ्लुएंस के साथ इंस्टाग्राम और टिक टॉक के स्टार माने जाते हैं. लाखों में उनके फैन फॉलोअर्स हैं. समीर का कहना है कि उनकी नज़र में देश सबसे आगे है, लेकिन टिक टॉक बंद होने से बहुत सारे नौजवानों के सपने चूर-चूर हो गए हैं, क्योंकि उन्होंने अपना पूरा करियर टिक टॉक के लिए लगा दिया था. रात दिन वह उसके लिए काम कर रहे थे और टिक टॉक उनकी कमाई का एक जरिया भी बन चुका था. ठीक-ठाक आमदनी होने लगी थी बहुत सारे लोगों के प्रमोशन के लिए बुलाया जाता था. उससे अच्छा खासा पैसा भी उन्हें मिलता था, लेकिन टिक टॉक बंद होने से फर्क तो पड़ेगा.

समीर बताते हैं कि उनके तो यूट्यूब चैनल इंस्टाग्राम पर भी बहुत सारे फैन फॉलोअर्स हैं और उससे भी उनकी कमाई होती है, लेकिन बहुत सारे ऐसे नौजवान हैं, जिनकी कमाई का जरिया और उनके फैन फॉलोअर्स सिर्फ टिक टॉक पर थे. अब वह क्या करेंगे अपनी जिंदगी में गलत रास्ते भी अपना सकते हैं. सरकार को कुछ ऐसे एप्स बनाने चाहिए, जो टिक टॉक की तरह नौजवानों के करियर के लिए काम आएं.

सिर्फ समीर ही नहीं टिक टॉक के और 1 स्टार खान उस्मान से हमारी बात हुई. कुछ साल पहले ही खान उस्मान ने टिक टॉक पर अपना अकाउंट बनाया था और वीडियो डालना शुरू किया था. करीब एक साल के अंदर ही उस्मान को महीने में 50 हज़ार की कमाई हो जाती थी, उनके फैन फॉलोअर्स हो गए थे और उन्होंने इसी को अपना करियर बनाने की सोच चुके थे, लेकिन टिक टॉक बंद होने से निराश हैं, लेकिन उसके साथ वह यह भी कहते हैं कि सबसे पहले हमारा देश है अगर चीन को सबक सिखाने के लिए हमारे देश में टिक टॉक जैसे तमाम एप्स जो चीनी हैं, उन्हें बंद करने का फैसला लिया है, तो वह उसका स्वागत करते हैं.

Input : ABP News

Continue Reading

INDIA

Tiktok App Ban: TikTok को ऐप स्टोर से किया गया रिमूव, अब नहीं कर सकेंगे डाउनलोड

Santosh Chaudhary

Published

on

Tiktok App Ban in India: भारत-चीन के बीच के बीच सीमा पर हुए चल रहे विवाद के बाद से ही लोगों ने चाइनीज ऐप्स व सामानों का बहिष्कार करना शुरू कर दिया। इन सबके बीच सरकार ने कुल 59 चाइनीज ऐप्स को भारत में बैन कर दिया है और अब भारतीय यूजर्स इन ऐप्स का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। इनमें TikTok समेत UC Browser, Shareit, CamScanner, Mi Community, Club Factory, Xender, Mi Video Call और WeChat जैसे लोकप्रिय ऐप्स शामिल हैं। बता दें कि चाइनीज ऐप्स पर लगे प्रतिबंध के बाद अब प्ले स्टोर से Tiktok को रिमूव कर दिया है और यूजर्स इसे डाउनलोड नहीं कर सकेंगे। हालांकि, अन्य ऐप्स को अभी तक रिमूव नहीं किया गया है।

 

Tiktok को नहीं कर सकते डाउनलोड

चाइनीज ऐप्स पर बैन लगने के बाद अब Google Play Store और App Store से लोकप्रिय शॉर्ट वीडियो मेकिंग ऐप Tiktok को रिमूव कर दिया गया है। यानि यूजर्स अब इस ऐप को डाउनलोड नहीं कर सकते। लेकिन जब हमने अन्य ऐप्स को प्ले स्टोर पर चेक किया तो वह अभी भी डाउनलोड के लिए उपलब्ध हैं।

Image

59 ऐप्स को इसलिए किया गया बैन

भारत में सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 69ए के तहत 59 चाइनीज ऐप्स को बैन कर दिया गया है और इस बैन के पीछे मुख्य वजह यूजर्स के डाटा की प्राइवेसी को बताया गया है। इस दौरान जारी की गई स्टेटमेंट में कहा गया है कि ‘भारत की संप्रभुता और अखंडता का हित, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इन ऐप्स पर प्रतिबंध लगाया गया है।’

Tiktok पर बैन से यूजर्स को होगी निराशा

शॉर्ट वीडियो मेकिंग ऐप Tiktok यूजर्स के बीच काफी लोकप्रिय है। इस ऐप का इस्तेमाल बच्चों से लेकर बुर्जुग तक हर वर्ग के यूजर्स करते हैं। इतना ही ये ऐप सेलिब्रिटीज के बीच भी काफी लोकप्रिय हैं और कई बड़े बॉलीवुड स्टार्स यहां एक्टिव हैं। ऐसे में इस ऐप पर प्रतिबंध लगने के बाद यूजर्स को काफी निराशा होगी। लेकिन जल्द ही हम आपके लिए कुछ ऐसे ऐप्स की लिस्ट लेकर आएंगे जिन्हें Tiktok के विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

INDIA

अक्षय कुमार और सोनू सूद को भारत रत्न देने की उठी मांग, ट्वीट कर लोगों ने कही ऐसी बात

Muzaffarpur Now

Published

on

मुंबई. बॉलीवुड के खिलाड़ी यानी अक्षय कुमार (Akshay Kumar) और सोशल मीडिया (Social Media) पर रियल लाइफ हीरो के नाम से पुकारे जा रहे अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) हाल ही में जबरदस्त चर्चा में आ गए हैं. ट्विटर पर इन दोनों अभिनेताओं का नाम ट्रेंड करता दिख रहा है. अक्षय और सोनू ने कोरोना वायरस और लॉकडाउन के दौरान लोगों की मदद करके खूब सुर्खियां बटोरी थीं. अक्षय कुमार ने आगे आकर आर्थिक मदद की थी, वहीं सोनू सूद ने आर्थिक मदद के साथ-साथ सड़कों पर उतरकर प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने का काम किया था. वहीं अब ये दो नाम सोशल मीडिया पर एक बार फिर से ट्रेंड कर रहे हैं.

Roadlift': Sanjay Gupta Jokes About Buying Rights of Sonu Sood ...

दरअसल, हाल ही में ट्विटर पर अक्षय कुमार और सोनू सूद को इनके योगदान के लिए सम्मनित किए जाने की मांग उठ रही है. यूजर्स और फैन्‍स इन दोनों को देश के सर्वोच्‍च नागर‍िक सम्‍मान ‘भारत रत्‍न’ (Bharat Ratna) दिए जाने की मांग कर रहे हैं. इस सिलसिले में लोग तरह-तरह के पोस्ट करते दिखाई दे रहे हैं. एक यूजर ने दान किए गए आंकड़ों का पूरा ब्यौरा देते हुए लिखा- ‘अक्षय कुमार और सोनू सूद ने दिल खोलकर लोगों की मदद की है. उन्हें भारत रत्न मिलना चाहिए’

एक अन्य यूजर ने लिखा- ‘दो अहम लोग जिन्हें बहुत प्यार करता हूं और दोनों ही बेहतरीन एक्टर्स हैं. ये वाकई भारत रत्न पाने के काबिल हैं’.

कइयों ने अक्षय और सोनू को असली देशभक्त बताते हुए उनके लिए भारत रत्न की मांग की है. लोगों ने सोनू और अक्षय को रियल लाइफ हीरो बताया है.

कुछ इसी तरह के ट्वीट देखने को मिल रहे हैं. हालांकि अभी तक इस ट्रेंड पर ना तो अक्षय और ना ही सोनू सूद ने कोई बयान दिया है.

Input : News18

 

Continue Reading
Uncategorized53 mins ago

मुजफ्फरपुर में 4694 मतदान केंद्रों पर डाले जाएंगे वोट, जानिए पूरा विवरण

INDIA1 hour ago

Apps पर प्रतिबंध के बाद अब हाईवे प्रोजेक्ट्स में भी चीनी कंपनियों की एंट्री होगी बंद, गडकरी का एलान

INDIA1 hour ago

भारत सरकार के TikTok बैन के फैसले पर बोलीं TMC सांसद नुसरत जहां- उनका क्या जो बेरोजगार होंगे

INDIA3 hours ago

कोरोनिल पर बोले रामदेव- पतंजलि ने मंसूबों पर फेरा पानी तो आतंकियों की तरह FIR करा दी

BIHAR3 hours ago

सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड मामले में सलमान खान पर केस दर्ज, करण जौहर और एकता कपूर का भी नाम शामिल

BIHAR4 hours ago

बिहार राइस मिल घोटाला में ईडी की बड़ी कार्रवाई, मामले का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

BIHAR5 hours ago

बिहार में शिक्षकों की बहाली पर रोक, हाईकोर्ट ने दिया निर्देश

INDIA5 hours ago

आचार्य बालकृष्ण बोले पतंजलि ने कभी नहीं किया कोरोना की दवा बनाने का दावा

INDIA6 hours ago

20 किलो सोने का आभूषण पहन कांवड़ यात्रा करने वाले गोल्‍डन बाबा का निधन

INDIA6 hours ago

आतंकियों की गोलियों की बौछार के बीच दादा के शव पर बैठे मासूम को, जवान ने बचाया

INDIA3 weeks ago

धोनी ने खरीदा स्‍वराज ट्रैक्‍टर तो आनंद महिंद्रा ने दिया बड़ा बयान, वायरल हुआ ट्वीट

BIHAR2 weeks ago

सुशांत के परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़, सदमा नहीं झेल पाईं भाभी, तोड़ा दम

BIHAR2 weeks ago

प्रिय सुशांत – एक ख़त तुम्हारे नाम, पढ़ना और सहेज कर रखना

INDIA2 weeks ago

सुशांत स‍िंह राजपूत की सुसाइड पर बोले मुकेश भट्ट, ‘मुझे पता था ऐसा होने वाला है…’

BIHAR3 weeks ago

लालू के बेटे तेजस्वी यादव की कप्तानी में खेलते हुए बदली विराट कोहली की किस्मत!

MUZAFFARPUR2 weeks ago

सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर एकता कपूर ने तोड़ी चुप्पी, कहा- मेरे खिलाफ मुकदमा करने के लिए शुक्रिया

BIHAR5 days ago

बिहार में नहीं चलेंगी सलमान खान, आलिया भट्ट, करण जौहर की फिल्में

INDIA1 week ago

सुशांत के व्हॉट्सऐप चैट आये सामने, उनको फिल्म करने में हो रही थी परेशानी

INDIA2 weeks ago

चांद पर प्लॉट खरीदने वाले पहले एक्टर थे सुशांत सिंह राजपूत!

INDIA2 weeks ago

मरने से पहले सुशांत सिंह राजपूत ने किया था ट्वीट, ‘मैं इस जिंदगी से तंग आ गया हूं, गुड बाय’

Trending