Home BIHAR दुखद : वर्ष 2019 की इंटर स्टेट टाॅपर रोहिणी की दिल्ली में...

दुखद : वर्ष 2019 की इंटर स्टेट टाॅपर रोहिणी की दिल्ली में ट्रेन से क’ट कर मौ’त

8691
0

बेतिया. साल 2019 की इन्टर परीक्षा (Bihar Inter Exam) में कला संकाय में बिहार टॉपर बनने वाली छात्रा रोहिणी की मौ’त दिल्ली में ट्रेन से क’टकर हो गई है.

इंटर के नतीजों में अव्वल आने के बाद वो आईएएस (IAS) की तैयारी के लिए पढ़ाई करने दिल्ली (Delhi) गई थी. मृतका पश्चिमी चंपारण के मझौलिया थाना क्षेत्र के सेनुवरिया पंचायत अंतर्गत दुबौलिया गांव निवासी एलआईसी (LIC) एजेंट प्रदीप कुमार सिंह की बेटी थी.

घने कोहरे के कारण हुआ हादसा

दिल्ली में आईएएस की तैयारी कर रही पुत्री रोहिणी रानी की मौत रेल दुर्घटना में दिल्ली में उस वक्त हुई जब वो रेलवे फाटक के दूसरे लाइन पार कर रही थी. इसी क्रम में वो ट्रेन की चपेट में आ गई जिससे उसकी दर्दनाक मौत हो गई. मृतका के पिता प्रदीप कुमार सिंह ने बताया कि 8 जनवरी को सुबह रोहिणी रानी दिल्ली में रेलवे फाटक पार कर रही थी. उसके सामने से लाइन नंबर 1 से ट्रेन गुजर रही था. अधिक कोहरा होने के कारण दूसरे लाइन पर जैसे ही गयी थी कि उसे सामने से आते हुए ट्रेन दिखाई नहीं दिया तभी वह ट्रेन की चपेट में आ गई जिससे घटना स्थल पर ही उसकी मौत हो गई.

पोती की मौत की खबर सुनकर दादा भी हुए बीमार

रोहिणी रानी ने बेतिया शहर के संत टेरेसा विद्यालय से मई 2019 में 463 अंक इंटर में लाकर बिहार टॉपर बनी थी. उसके पिता प्रदीप कुमार सिंह एलआईसी एजेंट हैं. हाल हीं में रोहिणी का दिल्ली में डीयू के एक कॉलेज में नामांकन हुआ था. वो आईएस की तैयारी के लिए कोचिंग करने जा रही थी. प्रदीप कुमार सिंह की पत्नी सरोज देवी आंगनबाड़ी सेविका है. मृतका के 80 वर्षीय दादा मुंशी सिंह को जैसे ही इस हादसे की खबर मिली उनकी हालत गंभीर हो गई.

हिंदी ऑनर्स की पढ़ाई का था सपना

पश्चिम चम्पारण जिला के संत टेरेसा बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय बेतिया की छात्रा रोहिणी रानी ने टॉपर बनने के बाद कहा थी कि उसका सपना हिंदी ऑनर्स से ग्रेजुएशन करना और जिस स्कूल में पढाई की है उसी स्कूल में शिक्षिका बनना है. रोहिणी रानी की मनपसंद साहित्यकार महादेवी वर्मा थी एवं गौरा और सोना इनकी फेवरेट कहानियां थीं.

 

 

Previous articleमुजफ्फरपुर पुलिस ने 5 अ’पराधियों को किया गि’रफ्तार, कई कां’डों में थे संलिप्त
Next articleBPSC Civil Services की परीक्षा देनी है तो ध्‍यान दें, अब पहले से कठिन हो जाएगा पाठ्यक्रम
I just find myself happy with the simple things. Appreciating the blessings God gave me.