Connect with us

WORLD

नेपाल में भारतीय न्‍यूज चैनल बैन, PAK और चीन के चैनल रहेंगे चालू

Muzaffarpur Now

Published

on

नेपाल की केपी शर्मा ओली सरकार ने भारतीय मीडिया की कवरेज पर बैन लगाने का फैसला किया है. दरअसल नक्‍शे विवाद पर भारत और नेपाल की बीच की तनातनी के बाद भारतीय मीडिया की कवरेज से ओली सरकार नाराज बताई जा रही है. नेपाल में आजकल चीनी प्रभाव ज्‍यादा देखा जा रहा है. ये भी देखा जा रहा है कि भारत विरोध के मुद्दे पर ओली सरकार की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के भीतर ही मतभेद हैं. उसको सुलझाने में चीनी राजदूत का खुला हस्‍तक्षेप देखा जा रहा है. भारतीय मीडिया की इस कवरेज पर नेपाली पक्ष खफा है.

इसी सिलसिले में नेपाल सरकार के प्रवक्ता युवराज खतिवडा ने नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस में भारतीय चैनलों पर चीनी राजदूत को लेकर दिखाए गए खबरों पर आपत्ति जताते हुए भारतीय चैनलों के खिलाफ कानूनी रास्ता अख्तियार करने की जानकारी दी थी. इसके साथ ही नेपाल में भारतीय प्राइवेट न्यूज चैनल‌ के प्रसारण पर बैन लगा दिया गया है. हालांकि इसके साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि सरकारी प्रसारण डीडी न्‍यूज पर पाबंदी नहीं लगाई गई है. पाकिस्तानी और चीनी चैनलों का प्रसारण पहले की तरह जारी रहेगा

हालांकि नेपाली केबिल टीवी ऑपरेटरों ने न्‍यूज एजेंसी ANI से कहा कि नेपाल में भारतीय न्‍यूज चैनलों के प्रसारण को बंद कर दिया गया है. लेकिन इस संबंध में कोई सरकारी आदेश अभी तक नहीं आया है.

Input : Zee News

HEALTH

मंजूरी से पहले रूसी वैक्सीन की जांच करेगा WHO, सितंबर से शुरू होगा प्रॉडक्शन, 20 देशों ने कर ली बुकिंग

Muzaffarpur Now

Published

on

रूस की ओर से पहले कोरोना वैक्सीन को पंजीकृत किए जाने की घोषणा के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि संस्था की ओर से किसी वैक्सीन को तभी मंजूरी दी जाएगी जब उसके सुरक्षित होने की जांच सख्ती से कर ली जाएगी। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि रूस कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन को मंजूरी देने वाला पहला देश बन गया है। यह वैक्सीन नए कोरोना वायरस के खिलाफ मजबूत इम्युनिटी पैदा करने में सक्षम है।

Russia says its COVID-19 vaccine creates immunity - TeleTrader.com

जेनेवा में ऑनलाइन प्रेस ब्रीफिंग के दौरान WHO के प्रवक्ता तारिक जासारेविक ने कहा, ”हम रूस के हेल्थ अथॉरिटीज के साथ संपर्क में हैं और वैक्सीन के संभावित प्री-क्वालिफिकेशन को लेकर चर्चा चल रही है। किसी वैक्सीन के प्री-क्वालिफिकेशन के लिए सख्त समीक्षा और सभी सुरक्षा व प्रभावी मानकों की जांच शामिल है।”

रूस के स्पूतनिक वी वैक्सीन को गमालेया रिसर्च इंस्टिट्यूट और रक्षा मंत्रालय ने मिलकर विकसित किया है। दुनिया में इस समय कुल 165 कैंडिडेट वैक्सीन पर काम चल रहा है। इनमें से 139 अभी भी प्री-क्लीनिकल इवैल्यूएशन में हैं, जबकि 26 अन्य मानव परीक्षण के अलग-अलग फेज में हैं। छह वैक्सीन फेज तीन में हैं।

US, Canada and UK accuse Russia of hacking coronavirus vaccine ...

गमालेया कैंडिडेट उन 26 वैक्सीन में शामिल है जिन्हें मानव पर परीक्षण किया जा रहा है और फेज 1 में सूचीबद्ध है। वैक्सीन प्रॉजेक्ट के लिए फंड देने वाले रसियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड के मुखिया किरिल दिमित्रिएव ने कहा कि फेज 3 का ट्रायल बुधवार को शुरू होगा। वैक्सीन का औद्योगिक उत्पादन सितंबर में शुरू होने की उम्मीद है। 20 देशों ने एक अरब से अधिक डोज के लिए ऑर्डर दे दिया है।

Russia to have anti-COVID vaccine enough for mass vaccination in ...

जासारेविक ने कहा, ”हर देश में एक राष्ट्रीय नियामक एजेंसी है जो अपनी सीमा में वैक्सीन या दवा के इस्तामल को मंजूरी देता है। WHO में वैक्सीन और दवा के लिए प्री-क्वॉलिफिकेशन प्रोसेस है। उत्पादक WHO से प्री-क्वालिफिकेशन की मांग करते हैं, क्योंकि यह एक तरीके से गुणवत्ता का मुहर है।”

Input : Hindustan

Continue Reading

WORLD

रूस ने बना ली कोरोना की वैक्सीन, राष्ट्रपति पुतिन का दावा- बेटी को भी दी गई वैक्सीन

Muzaffarpur Now

Published

on

मॉस्को. रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन (Russian President Vladimir Putin) ने मंगलवार को ऐलान किया कि देश में तैयार की गई कोरोना वायरस (world’s first coronavirus vaccine) की वैक्सीन को हेल्थ मिनिस्ट्री की मंजूरी मिल गयी है. पुतिन ने बताया कि इस वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) का टीका उनकी बेटी को पहले ही लगाया जा चुका है. हालांकि उन्होंने ये स्पष्ट नहीं किया कि उन्होंने खुद वैक्सीन ली है या नहीं.

Russian doctor who met Vladimir Putin last week diagnosed with ...

पुतिन ने कहा, ‘मेरी बेटी ने भी इस वैक्सीन का टीका लिया है, शुरू में उसे हल्का बुखार था लेकिन अब वह बिल्कुल ठीक है.’ उन्होंने बता कि मेरी बेटी ठीक है और बढ़िया महसूस कर रही है. उसने भी इस पूरे परीक्षण में हिसा लिया था. इस ऐलान के बाद रूस पहला देश बन गया है जिसने वैक्सीन बना लेने का काम पूरा करने का दावा किया है. रूस ने प्‍लान किया है कि यह वैक्‍सीन सबसे पहले हेल्‍थ वर्कर्स को दी जाएगी, उसके बाद बुजुर्गों को. मॉस्‍को ने कई देशों को भी वैक्‍सीन सप्‍लाई करने की बात कही है. रूस का कहना है कि वह अपने कोरोना टीके का बड़े पैमाने पर उत्‍पादन सितंबर से शुरू कर सकता है.

RT के मुताबिक इस वैक्सीन को मॉस्को के गामलेया इंस्टीट्यूट ने तैयार किया है. हालांकि वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल सिर्फ 2 महीने में निपटा देने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी कई शक जाहिर किये हैं. रूस के हेल्थ मिनिस्टर पहले ही अक्टूबर से मास वैक्सीनेशन शुरू करने का ऐलान कर चुके हैं.

बता दें कि अभी तक किसी देश को वैक्‍सीन बनाने में सफलता नहीं मिली है.

बनाने वाले वैज्ञानिकों ने खुद भी लिया है टीका

मॉस्‍को के गामलेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ने एडेनोवायरस को बेस बनाकर यह वैक्‍सीन तैयार की है. रिसर्चर्स का दावा है कि वैक्‍सीन में जो पार्टिकल्‍स यूज हुए हैं, वे खुद को रेप्लिकेट (कॉपी) नहीं कर सकते. मिली जानकारी के मुताबिक रिसर्च और मैनुफैक्‍चरिंग में शामिल कई लोगों ने खुद को इस वैक्‍सीन की डोज दी है.

कुछ लोगों को वैक्‍सीन की डोज दिए जााने पर बुखार आ सकता है जिसके लिए पैरासिटामॉल के इस्‍तेमाल की सलाह दी गई है. हालांकि रूस की इस जल्दबाजी के विरोध में कई बड़ी फार्मा कंपनियां सामने आई हैं. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मिखाइल मुराशको को भेजी चिट्ठी में एसोसिएशन ऑफ क्लिनिकल ट्रायल्‍स ऑर्गनाइजेशन ने कहा है कि अभी तक 100 से भी कम लोगों को डोज दी गई है, ऐसे में बड़े पैमाने पर इसका इस्‍तेमाल खतरनाक हो सकता है.

Input : News18

Continue Reading

WORLD

नहीं मान रहे पीएम ओली, कहा- नेपाल में ही है अयोध्या, मेरे पास हैं सबूत

Ravi Pratap

Published

on

नेपाल भारत के साथ पंगे लेने से बाज नहीं आ रहा है. पहले चीन के बहकावे में आकर सीमा विवाद, फिर भगवान राम की जन्मभूमि को लेकर टिप्पणी में घिरने के बावजूद अभी फिर से नेपाल (Nepal) ने नई बेतुकी चाल चली है. दरअसल, नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने एक बार फिर दावा किया है कि भगवान राम की जन्मस्थली नेपाल का चितवन जिला है. इसी जिले में माडी नगरपालिका क्षेत्र है, जिसका नाम अयोध्यापुरी है. शनिवार को ओली ने इस क्षेत्र के अधिकारियों से फोन पर बातचीत की. उन्हें राम, लक्ष्मण और मां सीता की प्रतिमाएं लगाने के आदेश दिए. ओली ने अफसरों को आदेश दिया कि अयोध्यापुरी को ही असली अयोध्या (Ayodhya) के तौर पर प्रोजेक्ट और प्रमोट करें.

नेपाल के अखबार ‘हिमालयन टाइम्स’ के मुताबिक ओली ने माडी और चितवन के अधिकारियों और नेताओं से दो घंटे फोन पर बातचीत की. आगे बातचीत के लिए उन्हें काठमांडू भी बुलाया. ओली ने कहा, ‘मुझे भरोसा है कि भगवान राम का जन्म नेपाल के अयोध्यापुरी में हुआ था. भारत के अयोध्या में नहीं. मेरे पास सुबूत हैं, जो यह साबित कर देंगे कि भगवान राम का जन्म नेपाल में ही हुआ था.’ चितवन जिले की सांसद दिल कुमारी रावल ने कहा, ‘पीएम ओली ने कहा है कि अयोध्यापुरी के आसपास के क्षेत्रों के संरक्षण के लिए पूरी ताकत से काम करें. प्रमाण जुटाने लिए अयोध्यापुरी की खुदाई करने को भी कहा. इसके साथ ही अयोध्यापुरी को प्रमोट करने और वहां के ऐतिहासिक साक्ष्यों को संरक्षित करने के लिए स्थानीय लोगों की मदद लेने का आदेश भी दिया.’

ओली के बयान की कड़ी निंदा
बता दें, कुछ दिन पहले ओली ने अपनी विवादास्पद टिप्पणी में कहा था कि भगवान राम बीरगंज के पास ठोरी में पैदा हुए थे और असली अयोध्या नेपाल में है. नेपाल के विभिन्न राजनीतिक दलों के शीर्ष नेताओं ने ओली की इस टिप्पणी की कड़ी निन्दा की और इसे ‘निरर्थक तथा अनुचित’ करार दिया. उन्होंने ओली से अपना विवादित बयान वापस लेने की मांग की. विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में स्पष्ट किया कि प्रधानमंत्री का इरादा किसी की भावनाएं आहत करने का नहीं था. बयान में इस बात पर जोर दिया गया कि उनकी टिप्पणी ‘अयोध्या के महत्व और इसके सांस्कृतिक मूल्यों पर बहस करने के लिए नहीं थी.’ इससे पहले, पूर्व प्रधानमंत्री बाबूराम भट्टरई ने ट्वीट किया, ‘ओली के बयान ने सारी हदें पार कर दी हैं. अतिवाद से केवल परेशानी उत्पन्न होती है.’

Continue Reading
MUZAFFARPUR4 hours ago

DM-SSP ने स्वतंत्रता दिवस को लेकर की जा रही तैयारियों का जायजा लिया

MUZAFFARPUR4 hours ago

अखाड़ाघाट पुल से युवती ने लगाई छलांग ; आक्रोशित लोगों ने पुल को किया जाम

BIHAR4 hours ago

जल्द शुरू हो सकता है बस का परिचालन, परिवहन सचिव ने कहा- एक दो दिन में लिया जायेगा डिसीजन

INDIA4 hours ago

सुशांत का कैश, रिया की ऐश : शॉपिंग से लेकर टिकट तक के पैसे सुशांत के अकाउंट से

INDIA4 hours ago

विदेश से मुंबई आने वाले लोगों को अब क्वारंटाइन नियमों दी गई छूट, जानें क्यों

INDIA5 hours ago

रेपुटेशन को लेकर काफी संजीदा थे सुशांत, रिया चक्रवर्ती को अपनी जिंदगी से निकालने की थी पूरी प्लानिंग

INDIA6 hours ago

सुशांत केस: सुप्रीम कोर्ट में CBI का जवाब- केस को मुंबई ट्रांसफर करने का सवाल ही नहीं

MUZAFFARPUR7 hours ago

विभा कुमारी की जांच से ही ब्रजेश सहित 19 को मिली थी सजा

Uncategorized8 hours ago

होटल से लेकर प्राइवेट जेट तक खरीदना चाहती रिया चक्रवर्ती, फ्लॉप एक्ट्रेस के सपने कैसे होंगे पूरे

INDIA9 hours ago

सुप्रीम कोर्ट में बिहार सरकार ने कहा..पटना में केस हैं दर्ज, इसलिए CBI जांच का है अधिकार, रिया के वकील ने कहा- FIR गैरकानूनी

BIHAR7 days ago

भोजपुरी एक्ट्रेस अनुपमा पाठक ने की खुदकुशी, मरने से पहले किया फेसबुक लाइव

INDIA2 days ago

बाइक पर पत्नी के अलावा अन्य को बैठाया तो कार्रवाई: हाई कोर्ट

INDIA3 weeks ago

वाहनों में अतिरिक्त टायर या स्टेपनी रखने की जरूरत नहीं: सरकार

INDIA2 days ago

सुप्रीम कोर्ट का फैसला – पिता की प्रॉपर्टी में बेटी का हर हाल में आधा हिस्सा होगा

BIHAR1 week ago

UPSC में छाए बिहार के लाल, जानिए कितने बच्चों का हुआ चयन

BIHAR4 weeks ago

बिहार लॉकडाउन: इमरजेंसी हो तभी निकलें घर से बाहर, नहीं तो जब्त हो जाएगी गाड़ी

MUZAFFARPUR1 week ago

उत्तर बिहार में भीषण बिजली संकट, कांटी थर्मल पावर ठप्प

BIHAR2 weeks ago

पप्पू यादव का खतरनाक स्टंट: नियमों की धज्जियां उड़ा रेल पुल पर ट्रैक के बीच चलाई बुलेट, देखें VIDEO

BIHAR4 days ago

IPS विनय तिवारी शामिल हो सकते है, सुशांत केस की CBI जांच टीम में…

MUZAFFARPUR6 days ago

बिहार के प्रमुख शक्तिपीठों में प्रशिद्ध राज-राजेश्वरी देवी मंदिर की स्थापना 1941 में हुई थी

Trending