Connect with us

BIHAR

पटना में आर्थिक तंगी के कारण ऑटो ड्राइवर ने की खुदकुशी, प्रशासन ने परिवार को दिया 25 किलो चावल और गेहूं

Muzaffarpur Now

Published

on

पटना: देश में जारी कोरोना संकट के कारण कई लोगों का रोजगार छिन गया है. हजारों की कमाई करने वाले आज भूखे मरने को मजबूर हैं. इसी कड़ी में आर्थिक तंगी के शिकार एक ऑटो ड्राइवर ने बिहार की राजधानी पटना में खुदकुशी कर ली. शहर के बाहरी इलाके शाहपुर में रहने वाले ऑटो ड्राइवर के परिवार वालों ने बताया कि, ‘उसने अपने ऑटो को चलाकर पैसे जुटाने के लिए संघर्ष किया, लेकिन वह विफल रहा. इसके अलावा वह दिहाड़ी का काम ढूंढने में भी असमर्थ रहा. उन्होंने बताया कि उसने लोन लेकर ऑटो खरीदा था और लॉकडाउन के कारण बीते तीन महीनों से उसकी किस्त चुकाना भी मुश्किल हो गया था.

Bihar News: Auto driver killes himself after failing to find a ...

जब NDTV ने उनके पिता से मुलाकात की और उनसे उन कठिनाइयों के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि लाख कोशिशों के बावजूद आज तक हमलोगों का राशन कार्ड भी नहीं बना. हालांकि ऑटो ड्राइवर की खुदकुशी की खबर अधिकारियों तक पहुंचने के बाद पटना जिला मजिस्ट्रेट कुमार रवि 25 किलो चावल और गेहूं के साथ आज पीड़ित परिवार के घर पहुंचे. मृतक ने अपने पीछे तीन बच्चों को छोड़ा है.

25 साल के इस ऑटो ड्राइवर की मौत ने एक बार फिर बिहार में बेरोजगारी को फोकस में ला दिया है. इस सप्ताह विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर ‘बेरोजगारी जैसे वास्तविक मुद्दों’ पर ध्यान केंद्रित करने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए हमला बोला था. तेजस्वी यादव ने कहा था, ‘नीतीश कुमार और भाजपा को वास्तविक जमीनी मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए. इससे बिहार को मदद मिलेगी. वहीं, थिंक-टैंक CMIE (सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी) के अनुसार बिहार में बेरोजगारी दर मई 2020 तक 46.2 प्रतिशत है.

पिछले महीने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उद्योगपतियों से राज्य में इकाइयां स्थापित करने और वहां पहले से रह रहे लाखों बेरोजगार पुरुषों और महिलाओं के साथ-साथ लॉकडाउन के दौरान घर लौटने वाले लाखों प्रवासियों को रोजगार देने का आग्रह किया था. बता दें बिहार में कोरोनावायरस के कहर से अब तक 39 लोगों की जान जा चुकी है और अब तक 6400 से ज्यादा लोग संक्रमित हैं.

केंद्र सरकार द्वारा अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए कई फैसले किए गए हैं और उसी कड़ी में बिहार में भी देश के बाकी हिस्सों की तरह वाणिज्यिक गतिविधियों को चरणबद्ध तरीके से खोला जा रहा है.

बता दें कि केंद्र सरकार की तरफ से 8 जून से पूजा स्थलों, होटल-रेस्तरां और शॉपिंग मॉल्स को शर्तों के साथ फिर से खोलने की अनुमति दी गई है. ऑटो और ई-रिक्शा को भी संचालित करने की अनुमति दी गई है, लेकिन यात्रियों की संख्या तय की गई है. हालांकि उन्हें कन्टेन्मेंट जोन में चलने की इजाजत नहीं दी गई है.

BIHAR

दरभंगा: एयरपोर्ट का स्वरूप बदलने के ल‍िए 78 एकड़ जमीन की खोज शुरू

Muzaffarpur Now

Published

on

दरभंगा एयरपोर्ट पर लगातार बढ़ रही यात्रियों की संख्या को देखते हुए इसके दायरे को बढ़ाने के लिए चल रही सरकारी कोशिशों के तहत अब 78 एकड़ भूमि की खोज चल रही है। यह जमीन बिल्कुल नई और अलग होगी। इसके तहत करीब 24 एकड़ रन-वे और 54 एकड़ जमीन इन्क्लेव के लिए ढूंढी जा रही है। इसके लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की टीम दरभंगा का दौरा कर चुकी है। प्रारंभिक तौर पर वर्तमान एयरपोर्ट से सटे रानीपुर इलाके में जमीन चिह्नित किया जा चुका है। बताया गया है कि पिछले पखवारे एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की छह सदस्यीय टीम दरभंगा आई थी।

संबंधित भू-खंड का निरीक्षण किया

इस दौरे के दौरान जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ विकास और स्थापना से संबंधित कई विषयों पर हुई बैठक के बाद नई और अलग जमीन देखने की योजना के तहत संबंधित भू-खंड का निरीक्षण किया गया। इस दौरान एक्सपर्ट ने गूूगल मैपिंग के जरिए जमीन को देखा। मौके पर जिला प्रशासन के संबंधित अधिकारी मौजूद रहे। अब एयरपोर्ट अथॉरिटी की ओर से आनेवाले आधिकारिक पत्र का इंतजार किया जा रहा है। पत्र आने के साथ भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू होगी।

पूर्व में चिह्नित 31 एकड़ भूमि के अधिग्रहण का मामला लटका

आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक इससे पहले भी एयरपोर्ट के लिए 31 एकड़ जमीन का अधिग्रहण करने की बात थी। इसके तहत जिला प्रशासन की ओर भूमि चिह्नित कर मंत्र‍िमंडल सचिवालय को रिपोर्ट भेजी थी। रिपोर्ट में दरभंगा एयरपोर्ट के भविष्य को देखते हुए ऑल वेदर एयरपोर्ट निर्माण का सुझाव दिया गया था। इस बीच पहले से एयरफोर्स व एयरपोर्ट अथॉरिटी के बीच चल रही भूमि बदलने की प्रक्रिया सुरक्षा कारणों के पेंच में फंस गया। नतीजतन फिर से नई जमीन के चयन की कवायद की गई है।

Input: Dainik Jagran

Continue Reading

BIHAR

BJP नेता ने की फायरिंग, 5 जख्मी, वीडियो वायरल, एक महीने बाद भी कोई कार्रवाई नहीं

Muzaffarpur Now

Published

on

सरेआम फायरिंग का वीडियो वायरल होने और पांच लोगों के जख्मी होने के बावजूद हर्ष फायरिंग के मामलों में बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के कांटी और देवरिया थाना पुलिस एफआईआर दर्ज करने में आनाकानी कर रही है। फायरिंग करने वाले वारदात में जख्मी लोगों पर दबाव डालकर मामले को दबाने में सफल रहे और खुलेआम घुम रहे हैं।

दोनों चर्चित मामलों में पुलिस कह रही है कि किसी ने घटना की लिखित शिकायत नहीं की है। आपराधिक वारदातों में किसी व्यक्ति द्वारा लिखित शिकायत नहीं किए जाने पर पुलिस खुद के बयान पर भी एफआईआर दर्ज करती है, परन्तु कांटी की वारदात में वैज्ञानिक साक्ष्य उपलब्ध होने के बावजूद पुलिस एफआईआर दर्ज करने के प्रति उदासीन रही। एसएसपी जयंतकांत के कड़े रुख पर अब थाना अध्यक्ष एफआईआर दर्ज करने की कवायद में जुटे हैं।

एसएसपी ने शनिवार को फिर कहा है कि एफआईआर दर्ज हो गई है और दोषी कोई हो कार्रवाई होगी। हालांकि पिछले एक महीने से थाना अध्यक्ष कहते रहे कि उन्हें किसी की लिखित शिकायत नहीं मिली है। एसएसपी के कड़े रुख पर शनिवार को थानेदार ने कहा कि आरंभिक जांच में घटना की पुष्टि हुई है और जल्द ही एफआईआर दर्ज की जाएगी।

गत 22 जनवरी को कांटी की मानिकपुर नरोत्तम पंचायत में एक बर्थ डे पार्टी के दौरान नशे में धुत जन प्रतिनिधि द्वारा फायरिंग की गई। उक्त वारदात का वीडियो वायरल हुआ, जिसमें नशे में धुत जन प्रतनिनिधि एवं भाजपा नेता शराबी फिल्म के गाने पर थिरकते हुए पांच राउंड फायरिंग करते दिख रहे हैं। फायरिंग करने वाले जेल जा चुके हैं और पहले भी आपराधिक वारदात में आरोपित रहे हैं। भीड़ में फायरिंग करते समय जन प्रतिनिधि ने किसी को गोली लगने के खतरे की परवाह नहीं की।

वीडियो वायरल होने पर एसएसपी ने कहा कि जांच के बाद फायरिंग करने वाले पर कार्रवाई होगी। एक महीने बाद कार्रवाई के संबंध में पूछे जाने पर कांटी थानाध्यक्ष कुंदन कुमार ने बताया कि किसी ने अब तक थाने में घटना की लिखित शिकायत नहीं की है। थानाध्यक्ष ने कहा कि उन्हें किसी वरीय अधिकारी का दिशा निर्देश भी नहीं मिला है।

देवरिया थाना क्षेत्र के चांदपुरा गांव में गत 20 जून की रात शादी समारोह में फायरिंग की गई। बंदूक का बैरल फटने से फोटोग्राफर चार अन्य बाराती जख्मी हो गए। घायलों में दूल्हे के रिश्तेदार भी शामिल थे। पुलिस को सूचना दी गई तो जवाब मिला कि पहले घायलों का इलाज कराएं। पुलिस मामले की छानबीन करने कभी चांदपुरा गांव नहीं पहुंची। देवरिया थानाध्यक्ष संजय स्वरूप में ने बताया कि कुछ लोगों के मामूली रूप से जख्मी होने की सूचना मिली थी, परन्तु किसी ने थाने में लिखित शिकायत नहीं की।

स्पेशल पीपी विजिलेंस कृष्णदेव साह कहते हैं कि किसी वारदात में पीड़ित पक्ष शिकायत दर्ज कराता है या आम आदमी की सूचना पर पुलिस घटनास्थल पर पहुयान दर्ज करती है। अगर किसी वारदात की शिकायत के लिए कोई आगे नहीं आता है तो पुलिस खुद अपने बयान पर केस दर्ज कर अनुसंधान शुरू करती है। अगर पुलिस ऐसा नहीं करेगी तो अव्यवस्था की स्थिति पैदा हो जाएगी। अगर मुजफ्फरपुर में किसी दूसरे राज्य के आदमी को गोली मारी जाती है तो पुलिस लिखित शिकायत का इंतजार नहीं कर सकती है।

Input: Live Hindustan

Continue Reading

BIHAR

विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार का पोस्टमार्टम करने बैठे चिराग पासवान

Muzaffarpur Now

Published

on

बिहार विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party) की पहली और अहम बैठक रविवार को पटना स्थित लोक जनशक्ति पार्टी कार्यालय में चल रही है. बैठक की अध्यक्षता खुद लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान (Chirag Paswan) कर रहे हैं. इस बैठक में पार्टी के 143 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने और उसमें मिली करारी हार सहित लोजपा के विधायक के जदयू में चले जाने को लेकर अहम चर्चा की जा रही है.

चिराग पासवान सहित उनकी पार्टी के कई नेता दूसरे दलों में चले गए हैं, ऐसे में पार्टी को बचाने और पार्टी के आगे की रणनीति को तैयार करने को लेकर यह बैठक महत्वपूर्ण मानी जा रही है. पार्टी की बैठक इसलिए भी अहम मानी जा रही है कि कुछ दिन पहले ही महिला एमएलसी नूतन सिंह ने भी लोजपा का दामन छोड़ते हुए बीजेपी ज्वाइन कर लिया था ऐसे में चिराग के समक्ष सबसे अहम चुनौती पार्टी और उसके नेताओं को एकजुट करने की है.

लोजपा बिहार में तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का हिस्सा अब नहीं है, लेकिन चिराग अब भी भाजपा के मुखर समर्थक हैं. इससे पहले चिराग पासवान ने खुद को शबरी का वंशज बताते हुए अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए शनिवार को एक लाख 11 हजार रुपये का दान दिया था. उन्होंने कहा था कि इस कार्य में सहभागिता करना समाज के वंचित तबके के प्रत्येक व्यक्ति का कर्त्तव्य है.

Input : News 18

Continue Reading
TECH5 mins ago

क्या है फेसबुक का $650 मिलियन का केस जिसके तहत 16 लाख यूज़र्स को मिल सक’ते हैं $345?

BIHAR3 hours ago

दरभंगा: एयरपोर्ट का स्वरूप बदलने के ल‍िए 78 एकड़ जमीन की खोज शुरू

TRENDING3 hours ago

गुलाम नबी आजाद ने की मोदी की तारीफ, कहा- पीएम बनने के बावजूद नहीं भूले अपनी जड़ें

BIHAR3 hours ago

BJP नेता ने की फायरिंग, 5 जख्मी, वीडियो वायरल, एक महीने बाद भी कोई कार्रवाई नहीं

VIRAL5 hours ago

तस्वीरों में देखे जा रहे राहुल गांधी के ऐब्स और बाइसेप्स, इन नेताओं ने शेयर की तस्वीर

BIHAR5 hours ago

विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार का पोस्टमार्टम करने बैठे चिराग पासवान

BIHAR5 hours ago

पश्चिम बंगाल में ममता की ही चलेगी मर्जी, तेजस्‍वी ने कहा- जितनी भी सीटें दें दीदी, लड़ेंगे जरूर

TRENDING5 hours ago

ये हैं भारत के 5 सुपर रिच भिखारी, करोड़ों में है संपत्ति, फ्लैट और कैश

BIHAR5 hours ago

नालंदा में माघी पूर्णिमा के मौके पर विषाक्त प्रसाद खाने से 400 से अधिक लोग बीमार

BIHAR6 hours ago

सिर्फ 18 घंटे में ही बना दी नेशनल हाईवे पर 26 किलोमीटर लंबी सड़क, लिम्का बुक में दर्ज होगा रिकॉर्ड

INDIA3 days ago

सरकारी नौकरी के चयन में योग्यता को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया अहम आदेश

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर के गायघाट का युवक उत्तराखंड के चमोली त्रासदी में लापता

MUZAFFARPUR4 weeks ago

सरकारी जमीन पर कब्जा : मुजफ्फरपुर में नहर को बंदकर उसकी जमीन पर बना दिया पक्का मकान

INDIA3 days ago

कल भारत बंद, इन मांगों को लेकर 8 करोड़ व्यापारी करेंगे हड़ताल

BIHAR2 weeks ago

हजार रुपये बकाया होगा तो भी बिजली कटेगी, बकाएदारों पर बड़ी कार्रवाई शुरू

BIHAR4 weeks ago

सुविधाओं में बदलाव : आय, जाति व आवास प्रमाण पत्र राजस्व कर्मचारी जारी करेंगे

MUZAFFARPUR3 weeks ago

मुजफ्फरपुर में मिला सात फीट का अजगर, भेजा जाएगा पटना चिडिय़ाघर

TRENDING4 weeks ago

ईमानदारी की पेश की नयी मिसाल, ऑटोड्राइवर ने लौटाए सवारी के 20 लाख के सोने के गहने

BIHAR4 days ago

बिहार पुलिस में नौकरी का सुनहरा मौका, 69 हजार तक की सैलरी पाने के लिए 24 फरवरी से करें आवेदन

INDIA2 weeks ago

50-200 रुपए के नकली नोट फैले हैं मार्केट में, RBI ने किया अलर्ट

Trending