Connect with us

RELIGION

पर्व : मंगलवार को भैरव अष्टमी पर सिंदूर और तेल से करें भगवान का श्रृंगार और बोलें भैरव मंत्र

Muzaffarpur Now

Published

on

मंगलवार, 19 नवंबर को काल भैरव अष्टमी है। प्राचीन काल में अगहन मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि पर भगवान शिव ने काल भैरव के रूप में अवतार लिया था। इसी वजह से इस तिथि पर काल भैरव की विशेष पूजा की जाती है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार जानिए कुछ ऐसी बातें जो कालभैरव अष्टमी पर ध्यान रखनी चाहिए…

kal bhairav puja vidhi, kal bhairav ashtami 2019, kaal bhairav ashtami 2019 date, Bhairava Ashtami

ऐसे करें काल भैरव की पूजा

  • भैरव अवतार प्रदोष काल यानी दिन-रात के मिलन की घड़ी में हुआ था। इसीलिए भैरव पूजा शाम और रात के समय करना ज्यादा शुभ माना गया है। काल भैरव अष्टमी पर स्नान के बाद किसी भैरव मंदिर जाएं। सिंदूर, सुगंधित तेल से भैरव भगवान का श्रृंगार करें। लाल चंदन, चावल, गुलाब के फूल, जनेऊ, नारियल अर्पित करें। तिल-गुड़ या गुड़-चने का भोग लगाएं। सुगंधित धूप बत्ती और सरसों के तेल का दीपक जलाएं। इसके बाद भैरव मंत्र का जाप करें।

धर्मध्वजं शङ्कररूपमेकं शरण्यमित्थं भुवनेषु सिद्धम्। द्विजेन्द्र पूज्यं विमलं त्रिनेत्रं श्री भैरवं तं शरणं प्रपद्ये।।

  • इस दिन आप भैरव गायत्री मंत्र का जाप भी कर सकते हैं…

ऊँ शिवगणाय विद्महे। गौरीसुताय धीमहि। तन्नो भैरव प्रचोदयात।।

  • मंत्र का जाप कम से कम 108 बार करें, इसके बाद भैरव भगवान के सामने धूप, दीप और कर्पूर जलाएं, आरती करें, प्रसाद ग्रहण करें। भैरव भगवान के वाहन कुत्तों को प्रसाद और रोटी खिलाएं।
  • रुद्राक्ष शिवजी का स्वरूप है। इसलिए भैरव पूजा में रुद्राक्ष की माला पहनना चाहिए। रुद्राक्ष की माला से भैरव मंत्रों का जाप करना चाहिए।
  • भैरव पूजा में ऊँ भैरवाय नम: बोलते हुए चंदन, चावल, फूल, सुपारी, दक्षिणा, नैवेद्य लगाकर धूप-दीप जलाएं। भैरव भगवान के साथ ही शिवजी और माता-पार्वती की भी पूजा जरूर करें। इस दिन अधार्मिक कामों से बचना चाहिए।

Input : Dainik Bhaskar

RELIGION

16 अगस्त से खुलेगा वैष्णो देवी मंदिर, जल्द जारी होगी गाइडलाइन; 19 मार्च से बंद है यात्रा

Ravi Pratap

Published

on

देश में कोरोना वायरस के कारण लगे पाबंदियों के लंबे समय बाद माता के भक्तों के लिए खुशखबरी आई है। अब भक्त माता वैष्णो देवी के दर्शन कर पाएंगे। पिछले 5 महीनों से बंद माता वैष्णो देवी की यात्रा अब शुरू होने जा रही है। 16 अगस्त को फिर से माता वैष्णो देवी की यात्रा खुल जाएगी। साथ ही प्रदेश के बाकी धार्मिक स्थलों को भी खोल दिया जाएगा, जिसमें बाबे मंदिर, रघुनाथ मंदिर, शिव खोड़ी  सहित बाकी देवी देवताओं के मंदिर भी खोलने की घोषणा कर दी गई है।

17 मार्च को करीब 14 हजार 816 भक्त गए थे भवन
धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने की जानकारी सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल की ओर से दी गई है। रोहित कंसल ने कहा है कि सभी देवा स्थानों को 16 अगस्त से खोल दिया जाएगा। जिसमें सभी को एसओपी का पालन करना होगा।

बता दे कि अंभक्तों को अंतिम बार 17 मार्च को माता के भवन भेजा गया था, 17 मार्च को करीब 14 हजार 816 भक्तों को माता के भवन के लिए रवाना किया गया था जिसके बाद से ही लॉकडाउन के कारण यात्रा को बंद कर दिया गया था।

बाहरी यात्रियों के लिए कोरोना वायरस टेस्ट अनिवार्य होगा
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार फिलहाल यात्रा को प्रदेश के लोगों के लिए ही खोला गया है, क्योंकि अभी बाहर से यात्रियों को आने में खतरा है और बाहर से यात्रियों को आने नहीं दिया जा रहा है। वहीं बाहर से आने वाले यात्रियों के लिए कोरोना वायरस टेस्ट होना अनिवार्य है। जिसके लिए श्राइन बोर्ड की तरफ से पूरी तैयारी की जा रही है।

कितने भक्तों को यहां यात्रा के लिए अनुमति दी जाएगी इस पर विचार किया जा रहा है। इसके साथ ही प्रतिदिन की भक्तों की गिनती पर भी फैसला किया जाएगा। जिसकी जानकारी बोर्ड दो-तीन दिन में देगी।

माता के भवन आने वाले भक्तों की घटी संख्या
दरअसल इस साल की शुरुआती 2 महीनों में भक्तों की गिनती को देखते हुए ऐसा अनुमान लगाया गया था कि इस साल यात्रा पिछले साल का रिकॉर्ड तोड़ देगी। लेकिन कोरोना महामारी के चलते लगे लॉकडाउन के कारण भक्तों की गिनती कई सालों से कम हो जाएगी। आंकड़ों के मुताबिक इस साल जनवरी में 5 लाख से ज्यादा  भक्त माता के दरबार में पहुंचे थे। वहीं फरवरी में तीन लाख 96 हजार भक्त माता के दरबार आए। वहीं 2019 की बात की जाए तो जनवरी में 5 लाख के करीब और फरवरी में 2 लाख से ज्यादा वक्त आए थे।

Continue Reading

INDIA

राममंदिर भूमिपूजन के लिए मां कामाख्या की पवित्र रज जाएगी अयोध्या

Muzaffarpur Now

Published

on

गुवाहाटी : श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। आगामी 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों मंदिर निर्माण के लिए विधिवत भूमि पूजन होना है। मंदिर की नींव में डालने के लिए देशभर की कई नदियों काजल और पवित्र स्थानों की मिट्टी को अयोध्या भेजने का क्रम भी जारी है।

इसी कड़ी में मंगलवार को मां कामाख्या मंदिर से रज कलश अयोध्या भेजा गया। कामाख्या मंदिर के प्रमुख तथा पुजारियों के मंत्रोच्चार तथा पूजा के साथ विश्व परिषद के नेताओं ने माता के मंदिर से रज कलश ग्रहण किया। इस मौके पर विश्व हिंदू परिषद पूर्वोत्तर, गुवाहाटी क्षेत्र संगठन मंत्री दिनेश तिवारी, विश्व हिंदू परिषद गोशक्षा के केंद्रीय मंत्री उमेश चंद्र पोरवाल, प्रांतीय मंत्री विश्व हिंदू परिषद पल्‍लव पाराशर, उमापति तथा महानगर मंत्री चंदन राभा उपस्थित थे।

Image may contain: one or more people and outdoor, text that says "KAMAKHYA TEMPLE"

आपको बता दें कि अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर के भूमिपूजन की तैयारियां अंतिम चरण में हैं।  पांच अगस्त को होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम की मेजबानी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे।  इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई हस्तियां मौजूद रहेंगी।  हालांकि, सीएम योगी को छोड़कर और किसी भी प्रदेश के मुख्यमंत्री को बुलाया नहीं गया है।

भूमिपूजन के दौरान 50-50 लोगों के अलग-अलग ब्लॉक में करीब 200 लोग मौजूद होंगे।  50 की संख्या में देश के बड़े साधु-संत मौजूद रहेंगे, 50 की संख्या में देश के बड़े नेता और आंदोलन से जुड़े लोग रहेंगे।  इनमें लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती और कल्याण सिंह के साथ साध्वी ऋतंभरा और विनय कटियार भी कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे।

Continue Reading

RELIGION

ना कांवड़, ना सड़कों पर बोल बम के जयकारे, मंदिरों में भगवान से भी सोशल डिस्टेंसिंग

Ravi Pratap

Published

on

कोरोना संक्रमण के चलते छत्तीसगढ़ के मंदिरों में पूजन की व्यवस्था बदल गई है। ऐसा पहली बार है, जब सावन के पहले सोमवार के दिन सड़कें खाली हैं। ना तो कांवड़ दिखाई दे रहे हैं और ना ही सड़कों पर बोल बम के जयकारे हैं। मंदिरों में भी भगवान से सोशल डिस्टेंसिंग बनाई गई है। मंदिर में पूजन सामग्री ले जाने पर रोक है। वहीं मूर्तियों और शिवलिंग काे भी छूने से रोक लगा दी गई है।

हर सोमवार को लोगोें से भरी रहने वाली खारून नदी के तट पर स्थित हटकेश्वर नाथ मंदिर की ओर जाने वाली सड़कें सावन के पहले सोमवार पर भी खाली हैं। मंदिर में दूध, दही, फूल, यहां तक कि जल ले जाने पर भी रोक लगाई गई है। जो श्रद्धालु मंदिर पहुंच रहे हैं, उनका द्वार पर ही टैंप्रेचर चेक किया जा रहा है। वहीं लाई गई पूजन सामग्री भी बाहर ही किनारे रखवाई जा रही है। मुख्य मंदिर में गर्भगृह से करीब 10 फीट की दूरी से भगवान के दर्शन कराए जा रहे हैं। किसी का भी अंदर जाना मना है।

Continue Reading
BIHAR1 hour ago

बिहारी परिवारों को उल्टा- सीधा और नीच सोच का कहने वाली ज्योति यादव जैसी पत्रकार को हम कब जवाब देंगे

MUZAFFARPUR2 hours ago

मुजफ्फरपुर : दो साल से सैंकड़ो ग़रीब बच्चों को मुफ़्त में पढ़ा रहे- अभिषेक रंजन और उज्जवल कुमार

BIHAR3 hours ago

सुशांत के भाई संजय राउत पर करेंगे मानहानि का केस, पिता पर दूसरी शादी करने का लगाया था आरोप

INDIA3 hours ago

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी कोरोना पॉजीटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

INDIA3 hours ago

Chinese Troops ने पाकिस्तानी सैनिकों को जमकर पीटा, जानें आपस में क्यों भिड़े ‘जिगरी यार’

INDIA4 hours ago

रिया चक्रवर्ती फिर से पहुंची ईडी दफ्तर, नए सवालों का जवाब देने में छूटेगा पसीना

INDIA4 hours ago

‘जय श्रीराम’ और मोदी जिंदाबाद ना बोलने पर बुजुर्ग ऑटो रिक्शा ड्राइवर के साथ मारपीट

BIHAR5 hours ago

IPS विनय तिवारी को CBI में भेजने वाले अटकलों को उन्होंने खुद बताया गलत, निराश हुए लोग-

HEALTH6 hours ago

WHO की चेतावनी- वैक्सीन कोई जादुई गोली नहीं होगी, जो पलक झपकते ही खत्म कर देगी वायरस

SPORTS6 hours ago

IPL-2020: योगगुरु बाबा रामदेव की कंपनी पंतजलि IPL-13 की टाइटल स्पॉन्सरशिप की दौड़ में शामिल

BIHAR3 days ago

भोजपुरी एक्ट्रेस अनुपमा पाठक ने की खुदकुशी, मरने से पहले किया फेसबुक लाइव

INDIA4 weeks ago

सलमान खान ने शेयर की किसानी करने की ऐसी तस्वीर, लोगों ने जमकर सुनाई खरीखोटी

INDIA4 weeks ago

एक दूल्हे के संग दो दुल्हनों ने लिए फेरे : एक गर्लफ्रेंड, दूसरी मम्मी-पापा की पसंद, Video देखें

INDIA3 weeks ago

वाहनों में अतिरिक्त टायर या स्टेपनी रखने की जरूरत नहीं: सरकार

BIHAR6 days ago

UPSC में छाए बिहार के लाल, जानिए कितने बच्चों का हुआ चयन

BIHAR4 weeks ago

बिहार लॉकडाउन: इमरजेंसी हो तभी निकलें घर से बाहर, नहीं तो जब्त हो जाएगी गाड़ी

MUZAFFARPUR5 days ago

उत्तर बिहार में भीषण बिजली संकट, कांटी थर्मल पावर ठप्प

BIHAR1 week ago

पप्पू यादव का खतरनाक स्टंट: नियमों की धज्जियां उड़ा रेल पुल पर ट्रैक के बीच चलाई बुलेट, देखें VIDEO

MUZAFFARPUR2 days ago

बिहार के प्रमुख शक्तिपीठों में प्रशिद्ध राज-राजेश्वरी देवी मंदिर की स्थापना 1941 में हुई थी

BIHAR20 hours ago

IPS विनय तिवारी शामिल हो सकते है, सुशांत केस की CBI जांच टीम में…

Trending