पहली बार 450 साल बाद अक्षयवट का दर्शन कर सकेंगे श्रद्धालु

0
72

कुंभ के पहले शाही स्नान को 3 दिन बचे हैं। इससे पहले कुंभ नगरी प्रयागराज देश-दुनिया के श्रद्धालुओं और पर्यटकों के दिव्य और भव्य स्वागत के लिए पूरी तरह से तैयार है। कल्पवासी संगम पर पहुंचना शुरू हो गए हैं, उन्होंने गंगा-यमुना के संगम पर तीनों ओर रहने के लिए टेंट के तंबू भी खड़े कर दिए हैं। इस बार कुंभ मेला क्षेत्र 45 किमी के दायरे में फैला है। पहले यह 20 किमी के दायरे में होता था।

गुरुवार को यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ कुंभ का जायजा लेने प्रयागराज पहुंचे। यहां उन्होंने संगम किनारे अकबर के किले में स्थित अक्षयवट को आम श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोला। 450 साल में पहली बार अक्षयवट और सरस्वती कूप को आम श्रद्धालुओं के लिए खोला गया है।

योगी बोले- 450 साल से जो भावनाएं दबी हुई थीं, उनको नया संबल प्राप्त होगा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अक्षयवट की पूजा-अर्चना की। उन्होंने खुसरोबाग का भी लोकार्पण किया। सीएम योगी ने कहा कि 450 साल से जो भावनाएं दबी हुई थीं, उनको नया संबल प्राप्त होगा। इस बार पिछले 50 साल में सबसे अच्छा जल संगम में है।

मेले में रोज 500 से ज्यादा सांस्कृतिक कार्यक्रम

– कुंभ को पहली बार अंतरराष्ट्रीय आयोजन का दर्जा मिला है।

– शहर में 15 फ्लाईओवर-अंडरब्रिज, 264 सड़कों का चौड़ीकरण हुआ है। 22 पान्टून ब्रिज बनाए गए हैं।

– मेला में 1.22 लाख बायो टॉयलेट, 1300 हेक्टेयर में 94 पार्किंग बनाए गए हैं। 20 हजार डस्टबिन रखे हैं।

– शटल बस सेवा और ई-रिक्शा भी चलाई जा रही हैं। मेले में विभिन्न बैंकों के 40 एटीएम लगाए गए हैं।

– 10 हजार श्रद्धालुओं के लिए गंगा और 4 अन्य पंडाल बनाए गए हैं।

– मेला क्षेत्र में रोज 500 सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। पहली बार 15 लाख वर्ग फीट में दीवारें पेंट की गई हैं।