प्रदूषण की वजह से ब्रोंकाइटिस की चपेट में आ रहे शहरवासी

0
79
Pic by Madhab Kumar

शहर में सर्दी से ज्यादा प्रदूषण की वजह से शहरवासी बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। इनमें बुजुर्ग व बच्चों की संख्या अधिक है। वे सांस लेने में तकलीफ, एलर्जी, सर्दी-खांसी व बुखार की परेशानी से जूझ रहे हैं।

Pic by Madhab Kumar

अस्पतालों में इन दिनों ब्रोंकाइटिस (लगातार खांसी होना) के मरीज ज्यादा आ रहे हैं। एसकेएमसीएच में पिछले एक सप्ताह में 70 फीसदी मरीज एंटी एलर्जिक परेशानी को लेकर आए। वहीं, सदर अस्पताल में रोजाना 50 से 70 मरीज सर्दी व प्रदूषण की वजह से बीमार होकर इलाज के लिए आ रहे हैं। एसकेएमसीएच के मेडिसिन विभाग में इन दिनों गले में खांसी-जुकाम की शिकायत लेकर काफी मरीज आ रहे हैं। इनमें से 200 मरीज ऐसे आ रहे हैं। जांच में ब्रोंकाइटिस सामने आ रही है। वरीय फिजिशियन डॉ. शैलेंद्र कुमार बताते हैं कि इसका कारण जहरीली हवा है। सदर अस्पताल के फिजिशियन डॉ. सीके दास ने बताया कि हर रोज 50-70 फीसदी मरीज आ रहे हैं।

Pic by Madhab Kumar

सूखी खांसी के मरीज बढ़े

एसकेएमसीएच के शिशु रोग विभाग के वरीय चिकित्सक डॉ. जेपी मंडल बताते हैं कि पहले इस मौसम में बैक्टीरियल इंफेक्शन के केस ज्यादा आते थे। इसमें वायरल कफ, निमोनिया और वायरल डायरिया के मरीज अधिक होते थे। इस साल ये केस नगण्य हो गए हैं। अब लोग सूखी खांसी के इलाज के लिए अस्पताल पहुंच रहे हैं। ज्यादातर मरीजों को दो हफ्ते से अधिक समय से सूखी खांसी है। सांस लेने में परेशानी के साथ दम भी फूल रहा है। एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ. सुनील कुमार शाही बताते हैं कि प्रदूषण के कारण गले के इंफेक्शन से पीड़ित मरीजों की संख्या इन दिनों काफी बढ़ा गई है। इससे पीड़ित 100 से ज्यादा मरीज रोजाना इलाज के लिए आ रहे हैं। एक-दो साल पहले इस तरह के 10 से 15 मरीज ही आते थे।

सांस लेने में तकलीफ, एलर्जी, सर्दी खांसी, बुखार से भी जूझ रहे लोग.

बीमारियों की चपेट में आने वालों में बुजुर्ग व बच्चों की संख्या अधिक.

ये सावधानियां बरतें 

घर से निकलते समय मोबाइल पर एयर क्वॉलिटी इंडेक्स का स्तर देख लें, खराब स्थिति होने पर मास्क पहन कर निकलें

धुंधा ज्यादा होने पर घर से बाहर जाने से बचें, धूल व धुएं से बचने की कोशिश करें

धूम्रपान और तंबाकू का सेवन करने से बचें, यह ब्रोंकाइटिस का मुख्य कारण होता है

यह है ब्रोंकाइटिस के लक्षण 

गले में खराश, थकान, नाक में जमावट या नाक का बहना, बुखार, शरीर में दर्द, उल्टी, दस्त

यह न करें:बिना डॉक्टर की सलाह के एंटीबायोटिक न लें, इन्हेलेशन के इस्तेमाल से इंकार नहीं करें

Input : Live Hindustan