Connect with us

TRENDING

फीस जमा करने के लिए पापा ने बेच दी गांव की जमीन, बेटे ने IPS बनकर नाम कर द‍िया ऊंचा

Himanshu Raj

Published

on

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत के छोटे से गांव में पैदा हुए IPS नूरूल हसन ने कई परेशानियां झेलीं लेकिन हार नहीं मानी। मेहनत और लगन के बल पर छोटे से गांव से सिविल सेवा परीक्षा तक का सफर तय किया। एक सपने को सच कर दिखाने वाले नूरूल हसन के परिवार का सिर आज गर्व से ऊंचा है।

मूलरूप से पीलीभीत जिले के गांव हररायपुर के रहने वाले नूर ने आर्थिक हालातों से जूझकर, संसाधनों के अभाव में खुद को स्थापित किया है और 2015 में आईएएस (IAS) में उनका चयन हो गया। नूर ने बिना कोचिंग के UPSC की परीक्षा पास की। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के बेटे नूर अपनी सफलता पर बात करते हुए भावुक हो जाते हैं। वह वर्तमान में भारतीय पुल‍िस सेवा (IPS) में कार्यरत हैं और महाराष्ट्र में तैनात हैं।

आईपीएस नूर की प्रारंभिक शिक्षा वहीं हुई। पिता जी खेती करते थे। वह बेहद गरीबी में पले बढ़े। स्कूल की छत टपकती थी तो घर से बैठने के लिए कपड़ा लेकर जाते थे। माता—पिता के अलावा दो छोटे भाई हैं। उनकी परवरिश और पढ़ाई का दबाव भी उन्‍हीं पर था। उसके बाद उन्‍होंने ब्लॉक के गुरुनानक हायर सेकेंडरी स्कूल, अमरिया से 67 प्रतिशत के साथ दसवीं की और स्‍कूल टॉपर बने। उसके बाद उनके पापा की चतुर्थ श्रेणी में नियुक्ति हो गई तो वह बरेली आ गए। यहां उन्‍होंने मनोहरलाल भूषण कॉलेज से 75 प्रतिशत के साथ 12वीं की।

12वीं के बाद नूर का सलेक्शन एएमयू अलीगढ़ में बीटेक में हो गया, लेकिन फीस भरने के पैसे नहीं थे। इस पर उनके पापा ने गांव में एक एकड़ जमीन बेच दी और फीस भरी। उन्‍होंने खूब पढ़ाई की। इसके बाद गुरुग्राम की एक कंपनी में उनका प्लेसमेंट हो गया। यहां की सैलेरी से घर की जरूरतें पूरा करना मुश्किल था तो भाभा एटोमिक रिसर्च इंस्टीटयूट की परीक्षा दी और नूर का चयन तारापुर मुंबई में वैज्ञानिक के पद पर हो गया। जिस समय उनका स‍िव‍िल सेवा में चयन हुआ था, वह एटॉमिक सेंटर नरौरा में पोस्टिंग थे।

सिव‍िल सेवा की मुख्य परीक्षा में नूर ने पब्लिक एडमिनिस्टेशन को चुना। वहीं उन्‍होंने इंटरव्‍यू का अनुभव भी साझा किया। उन्‍होंने बताया, इंटरव्यू शानदार था। मेरे विषय से हटकर मुझसे सवाल पूछे गए। क्योंकि मैं न्यूक्लियर में वैज्ञानिक था तो न्यूक्लियर से संबंधित प्रश्न पूछे। इंजीनियरिंग, संविधान और क्रिकेट से संबंधित प्रश्न पूछे। इसके अलावा गुरनानक, सिखों के गुरुओ के नाम पूछे।

तैयारी कर रहे युवाओं को भी नूर ने संदेश दिया। वह कहते हैं, गरीबी को कोसें ना। जो भी संसाधन हैं उन्हीं के बीच तैयारी करें। बस अपनी मेहनत और लगन के साथ समझौता न करें। दूसरा मैं मुस्लिम युवाओं से कहूंगा कि भारत देश बहुत प्यारा है। देश की प्रगति के लिए शिक्षित बनें। मेहनत के बल पर आगे बढ़ें।

Input: Live Bihar

 

TRENDING

हाईकोर्ट का आदेश- ज़मानत चाहिए तो पहले सैनेटाइजर और मास्क दान करें आरोपी

Muzaffarpur Now

Published

on

इंदौर. हाईकोर्ट की इंदौर (Indore Bench) पीठ ने एक फैसला सुनाया है. कोर्ट ने शराब की अवैध ढुलाई (Illegal Wine) कर रहे दो आरोपियों को सशर्त ज़मानत देने का आदेश दिया. शर्त ये है कि दोनों आरोपी ज़िला अस्पताल में अच्छी क्वालिटी का 5-5 लीटर सैनेटाइजर दान करेंगे. साथ में 200 मास्क भी मुहैया कराएंगे. वह भी अच्‍छी गुणवत्‍ता वाला होना चाहिए. उसके बाद ही ज़िला अदालत आरोपियों को ज़मानत दे.

Chemist shops run out of hand sanitizers, face masks in several ...

लॉकडाउन के दौरान शराब का अवैध परिवहन करने के आरोप में पकड़े गए दो आरोपितों की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट इंदौर ने कहा कि आरोपी पहले जिला अस्पताल में पांच-पांच लीटर अच्छी गुणवत्ता का सैनेटाइजर और उच्च गुणवत्ता के 200-200 मास्क दान करें. इसके बाद ही उन्हें जिला अदालत में 40-40 हजार रुपये की जमानत और इतनी ही रकम का मुचलका देने पर जमानत दी जाए.

ये है पूरा मामला 

ये मामला धार जिले के कानवन थाने का है. पुलिस ने सरोज और रवि नाम के दो युवकों के खिलाफ आबकारी एक्ट में केस दर्ज कर दोनों को हिरासत में लिया था. इन पर आरोप है कि लॉकडाउन के दौरान दोनों बिना परमिट के नागदा से इंदौर शराब ला रहे थे. दोनों आरोपी 21 मई से जेल में हैं. उन्होंने हाईकोर्ट में जमानत याचिका लगाते हुए कहा कि मामले की जांच पूरी कर चालान प्रस्तुत किया जा चुका है. कोरोना महामारी के कारण मामले की सुनवाई लंबी चलने की आशंका है, इसलिए उन्हें जमानत का लाभ दिया जाए.

हाईकोर्ट ने जमानत के लिए लगाई ये शर्त 

हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने याचिका पर सुनवाई के बाद आदेश दिया कि दोनों आरोपी पांच-पांच लीटर अच्छी गुणवत्ता का सैनेटाइजर और उच्च क्वालिटी के 200-200 मास्क जिला अस्पताल धार में दान करें. ऐसा करने के बाद उन्हें 40-40 हजार रुपये के मुचलके पर जमानत दी जाए. अदालत ने अपने आदेश में ये भी कहा कि आरोपियों को जमानत पर रिहा करने से पहले उनका कोरोना टेस्ट भी कराया जाए.

Input : News18

Continue Reading

TRENDING

Tik Tok पर लगी बैन से ये स्टार हैं निराश, कहा- नौजवानों के सपने चूर-चूर हो गए

Ravi Pratap

Published

on

भारत सरकार की तरफ से चीनी एप्स को बंद करने के बाद सबसे ज्यादा परेशान दिख रहे हैं टिक टॉक बनाने वाले वह कलाकार जो टिक टॉक के स्टार बन चुके थे. इनके महीने की कमाई टिक टॉक के जरिए आती थी. टिक टॉक को उन्होंने अपना करियर बना लिया था और टिक टॉक ने ही उनकी एक अलग पहचान बना दी थी. उनके अलग फैन फॉलोअर्स थे. वह एक स्टार की जिंदगी जीने लगे थे, लेकिन टिक टॉक बंद होने के बाद अब उन्हें लग रहा है कि वह आगे क्या करेंगे.

इस मुद्दे पर हमारी बात हुई समीर मार्क से. समीर मार्क फैशन इनफ्लुएंस के साथ इंस्टाग्राम और टिक टॉक के स्टार माने जाते हैं. लाखों में उनके फैन फॉलोअर्स हैं. समीर का कहना है कि उनकी नज़र में देश सबसे आगे है, लेकिन टिक टॉक बंद होने से बहुत सारे नौजवानों के सपने चूर-चूर हो गए हैं, क्योंकि उन्होंने अपना पूरा करियर टिक टॉक के लिए लगा दिया था. रात दिन वह उसके लिए काम कर रहे थे और टिक टॉक उनकी कमाई का एक जरिया भी बन चुका था. ठीक-ठाक आमदनी होने लगी थी बहुत सारे लोगों के प्रमोशन के लिए बुलाया जाता था. उससे अच्छा खासा पैसा भी उन्हें मिलता था, लेकिन टिक टॉक बंद होने से फर्क तो पड़ेगा.

समीर बताते हैं कि उनके तो यूट्यूब चैनल इंस्टाग्राम पर भी बहुत सारे फैन फॉलोअर्स हैं और उससे भी उनकी कमाई होती है, लेकिन बहुत सारे ऐसे नौजवान हैं, जिनकी कमाई का जरिया और उनके फैन फॉलोअर्स सिर्फ टिक टॉक पर थे. अब वह क्या करेंगे अपनी जिंदगी में गलत रास्ते भी अपना सकते हैं. सरकार को कुछ ऐसे एप्स बनाने चाहिए, जो टिक टॉक की तरह नौजवानों के करियर के लिए काम आएं.

सिर्फ समीर ही नहीं टिक टॉक के और 1 स्टार खान उस्मान से हमारी बात हुई. कुछ साल पहले ही खान उस्मान ने टिक टॉक पर अपना अकाउंट बनाया था और वीडियो डालना शुरू किया था. करीब एक साल के अंदर ही उस्मान को महीने में 50 हज़ार की कमाई हो जाती थी, उनके फैन फॉलोअर्स हो गए थे और उन्होंने इसी को अपना करियर बनाने की सोच चुके थे, लेकिन टिक टॉक बंद होने से निराश हैं, लेकिन उसके साथ वह यह भी कहते हैं कि सबसे पहले हमारा देश है अगर चीन को सबक सिखाने के लिए हमारे देश में टिक टॉक जैसे तमाम एप्स जो चीनी हैं, उन्हें बंद करने का फैसला लिया है, तो वह उसका स्वागत करते हैं.

Input : ABP News

Continue Reading

INDIA

Tiktok App Ban: TikTok को ऐप स्टोर से किया गया रिमूव, अब नहीं कर सकेंगे डाउनलोड

Santosh Chaudhary

Published

on

Tiktok App Ban in India: भारत-चीन के बीच के बीच सीमा पर हुए चल रहे विवाद के बाद से ही लोगों ने चाइनीज ऐप्स व सामानों का बहिष्कार करना शुरू कर दिया। इन सबके बीच सरकार ने कुल 59 चाइनीज ऐप्स को भारत में बैन कर दिया है और अब भारतीय यूजर्स इन ऐप्स का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। इनमें TikTok समेत UC Browser, Shareit, CamScanner, Mi Community, Club Factory, Xender, Mi Video Call और WeChat जैसे लोकप्रिय ऐप्स शामिल हैं। बता दें कि चाइनीज ऐप्स पर लगे प्रतिबंध के बाद अब प्ले स्टोर से Tiktok को रिमूव कर दिया है और यूजर्स इसे डाउनलोड नहीं कर सकेंगे। हालांकि, अन्य ऐप्स को अभी तक रिमूव नहीं किया गया है।

 

Tiktok को नहीं कर सकते डाउनलोड

चाइनीज ऐप्स पर बैन लगने के बाद अब Google Play Store और App Store से लोकप्रिय शॉर्ट वीडियो मेकिंग ऐप Tiktok को रिमूव कर दिया गया है। यानि यूजर्स अब इस ऐप को डाउनलोड नहीं कर सकते। लेकिन जब हमने अन्य ऐप्स को प्ले स्टोर पर चेक किया तो वह अभी भी डाउनलोड के लिए उपलब्ध हैं।

Image

59 ऐप्स को इसलिए किया गया बैन

भारत में सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 69ए के तहत 59 चाइनीज ऐप्स को बैन कर दिया गया है और इस बैन के पीछे मुख्य वजह यूजर्स के डाटा की प्राइवेसी को बताया गया है। इस दौरान जारी की गई स्टेटमेंट में कहा गया है कि ‘भारत की संप्रभुता और अखंडता का हित, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इन ऐप्स पर प्रतिबंध लगाया गया है।’

Tiktok पर बैन से यूजर्स को होगी निराशा

शॉर्ट वीडियो मेकिंग ऐप Tiktok यूजर्स के बीच काफी लोकप्रिय है। इस ऐप का इस्तेमाल बच्चों से लेकर बुर्जुग तक हर वर्ग के यूजर्स करते हैं। इतना ही ये ऐप सेलिब्रिटीज के बीच भी काफी लोकप्रिय हैं और कई बड़े बॉलीवुड स्टार्स यहां एक्टिव हैं। ऐसे में इस ऐप पर प्रतिबंध लगने के बाद यूजर्स को काफी निराशा होगी। लेकिन जल्द ही हम आपके लिए कुछ ऐसे ऐप्स की लिस्ट लेकर आएंगे जिन्हें Tiktok के विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
BIHAR57 mins ago

तेज प्रताप मथुरा में एक सप्ताह से कर रहे पूजा-पाठ, जानिए क्या मांगी बांके बिहारी से मन्नत

MUZAFFARPUR1 hour ago

श्रावणी मेला नहीं लगने से करोड़ों का कारोबार चौपट

BIHAR1 hour ago

बिहार में मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, 11 जिलों में बारिश और वज्रपात की चेतावनी

BIHAR2 hours ago

बिहार के किसानों के लिए राहत की खबर, टिड्डी मुक्त हुआ प्रदेश

BIHAR2 hours ago

बिहार के उर्जा मंत्री ने उठाई मांग, एक देश एक बिजली दर हो लागू

BIHAR2 hours ago

बिहार: लग्जरी कार से भारी मात्रा में विदेशी शराब बरामद, JDU महासचिव का लगा है बोर्ड

BIHAR3 hours ago

बिहार में तेजी से कोरोना संक्रमण देख DGP बोले.. बाप रे बाप! बढ़त जात करोना!!

MUZAFFARPUR4 hours ago

मुजफ्फरपुर : डॉक्टरों के संपर्क वालों की तलाश तेज

MUZAFFARPUR5 hours ago

डॉक्टरों व अस्पताल को प्रशासन ने भेजा नोटिस

MUZAFFARPUR5 hours ago

मंत्री ने खुद संभाली कमान, तीन दिनों में कचरा मुक्त होगा शहर

INDIA4 weeks ago

धोनी ने खरीदा स्‍वराज ट्रैक्‍टर तो आनंद महिंद्रा ने दिया बड़ा बयान, वायरल हुआ ट्वीट

BIHAR3 weeks ago

सुशांत के परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़, सदमा नहीं झेल पाईं भाभी, तोड़ा दम

ENTERTAINMENT4 days ago

सामने आया चंद्रचूड़ सिंह के फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने का असली रीजन

BIHAR3 weeks ago

प्रिय सुशांत – एक ख़त तुम्हारे नाम, पढ़ना और सहेज कर रखना

INDIA3 weeks ago

सुशांत स‍िंह राजपूत की सुसाइड पर बोले मुकेश भट्ट, ‘मुझे पता था ऐसा होने वाला है…’

BIHAR3 weeks ago

लालू के बेटे तेजस्वी यादव की कप्तानी में खेलते हुए बदली विराट कोहली की किस्मत!

BIHAR1 week ago

बिहार में नहीं चलेंगी सलमान खान, आलिया भट्ट, करण जौहर की फिल्में

MUZAFFARPUR2 weeks ago

सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर एकता कपूर ने तोड़ी चुप्पी, कहा- मेरे खिलाफ मुकदमा करने के लिए शुक्रिया

INDIA2 weeks ago

सुशांत के व्हॉट्सऐप चैट आये सामने, उनको फिल्म करने में हो रही थी परेशानी

INDIA3 weeks ago

चांद पर प्लॉट खरीदने वाले पहले एक्टर थे सुशांत सिंह राजपूत!

Trending