बिहार में जल-प्रलय की आहट; कई जगह तटबंध टूटे, पटना-नेपाल सड़क संपर्क भंग
Connect with us
leaderboard image

BIHAR

बिहार में जल-प्रलय की आहट; कई जगह तटबंध टूटे, पटना-नेपाल सड़क संपर्क भंग

Santosh Chaudhary

Published

on

बिहार व नेपाल के जल-ग्रहण वाले इलाकों में भारी बारिश के कारण बिहार में अब जल-प्रलय जैसे हालात बनते दिख रहे हैं। कोसी व बागमती सहित प्रमुख नदियों में भयानक उफान के कारण त्राहिमाम की स्थिति है। देर रात बागमती के पानी के कारण सीतामढ़ी में पटना को नेपाल से जोड़ने वाला महत्‍वपूर्ण पुल टूट गया। उधर, कोसी प्रमंडल में तटबंध के भीतर अचानक पानी के प्रवेश के बाद वहां से लोगों का पलायन शुरू है। सीतामढ़ी, दरभंगा, मधुबनी, चंपारण व किशनगंज सहित जगह-जगह तटबंध टूटे हैं।

कोसी तटबंध पर पानी का भयानक दबाव है। एहतियातन कोसी बराज से चार लाख क्‍यूसेक पानी छोड़ा गया है। बराज के सभी 56 फाटक खोल दिए गए हैं।  इस बीच मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर प्रशासन अलर्ट मोड में है। प्रभावित जिलों में सरकारी अधिकारियों की छुट्टी पर रोक लगा दी गई है।


बाढ़ से प्रभावित छह जिले

आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि बिहार के छह जिले (शिवहर, सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, अररिया व किशनगंज) बाढ़ प्रभावित हैं। संबंधित जिलों के डीएम बाढ़ राहत के काम में जुट गए हैं। आपदा प्रबंधन विभाग भी स्थिति पर नजर है।

सीतामढ़ी होकर पटना-नेपाल सड़क संपर्क भंग

सीतामढ़ी में सुप्पी प्रखंड के जमला गांव के पास बागमती नदी का बांध टूट गया है। इस करण सुप्पी प्रखंड के एक दर्जन से अधिक गांवों में बाढ़ का पानी तेजी से घुस रहा है। बांध टूटने से लोगों में हाहाकार मच गया है। सोनबरसा और परिहार के नए इलाकों में बाढ़ का पानी घुसने से भी लोग दहशत में हैं। सीतामढ़ी का पूर्वी चंपारण जिले से सड़क संपर्क भी भंग है।
बागमती में उफान के कारण सीतामढ़ी के मेजरगंज में पटना को सीतामढ़ी से जोड़ने वाली सड़क पर स्थित पुल शनिवार की देर रात बह गया। इस कारण पटना का सीतामढ़ी से सड़क संपर्क टूट गया है। यही सड़क पटना को नेपाल से जोड़ती है। इस कारण पटना का सीतामढ़ी होकर नेपाल से सड़क संपर्क टूट गया है।

बाढ़ के हालात को देखते हुए सीतामढ़ी में डीएम रंजीत कुमार ने जिले में सभी सरकारी व गैरसरकारी स्‍कूलों को 20 जुलाई तक बंद करने का निर्देश दिया है।

रौद्र रूप में कोसी, तटबंध के भीतर हालत गंभीर

बिहार व नेपाल में कोसी के जल-ग्रहण क्षेत्र में लगातार बारिश के कारण कोसी नदी अपना रौद्र रूप दिखाने लगी है। डेढ़ दशक बाद इसका डिस्‍चार्ज चार लाख क्‍यूसेक पार गया है। इससे पूर्व 2004 में यहां का डिस्चार्ज चार लाख के करीब पहुंचा था। रविवार घरों में पानी घुस जाने से तटबंध के अंदर के गांवों में अफरा-तफरी मच गई है। लोग सुरक्षित ठिकानों की तलाश में निकलने लगे हैं। देर रात से ही अफरा-तफरी का माहौल है। किसी के घर बह गए हैं तो किसी के मवेशी।

सुपौल में सुरक्षा बांध टूटा

सुपौल के सरायगढ भपटियाही प्रखंड अंतर्गत गढ़िया सुरक्षा बांध टूट जाने से वहां बसी एक हजार आबादी के लिए विकट समस्या खड़ी हो गई है । पूर्वी तटबंध के 33.90 किमी स्परों के उपर से पानी बह रहा है। ये स्पर एनएच 57 से बिलकुल सटे हैं। वहीं मरौना निर्मली मुख्य सड़क मरौना चौक के समक्ष टूट गई है, जिससे मरौना थाना और स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र से लोगों का संपर्क टूट गया है।

कोसी बांध पर खतरा मंडराया

कोसी में अचानक भयानक जल-प्रवाह से बांध पर खतरा मंडराने लगा है। अगर यह टूटा तो जल-प्रलय आना तय है। खतरे को देखते हुए कोसी बराज के सभी 56 फाटक खोल दिए गए हैं। इसके साथ पानी भयानक प्रवाह के साथ निचले रिहायशी इलाकों व खेतों की ओर चल पड़ा है। इस कारण सुपौल, सहरसा और मधेपुरा समेत आसपास के जिलों में तटबंध के आसपास बसी पांच लाख की आबादी खतरे में है।

सहरसा में तटबंध के अंदर बसे गांवों में बाढ़ का पानी फैलने लगा है। वहां स्थिति भयावह है। नवहट्टा, महिषी, सलखुआ आदि प्रखंडों के तटबंध के अंदर बसे गांवों के निचले इलाकों में पानी फैल गया है। मधेपुरा में भी नदियां उफान पर हैं। कोसी और उसकी उपनदियों में शुक्रवार रात से तेजी से पानी बढ़ रहा है। आलमनगर और चौसा प्रखंड के निचले इलाकों में पानी भर आया है। वहीं, कुमारखंड प्रखंड में सुरसर नदी उफान पर है।

चार लाख क्यूसेक डिस्चार्ज

सुपौल में शनिवार संध्या चार बजे कोसी बराज से 3,07,655 क्यूसेक जलस्राव रिकॉर्ड किया गया। देर रात 10 बजे तक यह डिस्चार्ज चार लाख क्यूसेक के करीब हो गया था। रविवार सुबह तक यह चार लाख क्‍यूसेक पार कर गया था। इससे सुपौल, बसंतपुर, सरायगढ़-भपटियाही, किसनपुर, मरौना और निर्मली प्रखंड के दर्जनों गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। सिकरहट्टा मझारी लो बांध के 6.40 एवं 9.40 बिंदुओं पर नदी का दबाव बढ़ गया है। पुल्टेगौड़ा स्थित स्पर संख्या 11 पर रेनकट के कारण कोसी का दबाव बढ़ गया है।

मरौना-निर्मली मुख्य सड़क पर दबाव

उधर, तिलयुगा व बिहुल नदी भी उफान पर है। बिहुल नदी में पानी बढऩे से बेलही से ललमिनिया जाने वाली सड़क दो भागों में विभक्त हो गई। वहीं, तिलयुगा नदी ने बसखेरा गांव के समीप मरौना-निर्मली मुख्य सड़क पर दबाव बना रखा है। किसनपुर प्रखंड क्षेत्र के नौआबाखर में ग्रामीणों द्वारा बनाए गए सुरक्षा बांध के टूटने से कई गांव जलमग्न हो गए।

दरभंगा में टूटा कमला नदी का तटबंध

मधुबनी जिले में कमला बलान झंझारपुुर में खतरे के निशान से तीन मीटर ऊपर बह रही है। दरभंगा जिले के तारडीह प्रखंड के ककोढ़ा एवं कैथवार के पास कमला नदी का बायां तटबंध और घनश्यामपुर के कुमरौल के पास दायां तटबंध रविवार की सुबह में टूट गया। उधर, झंझारपुर के नरूआर के पास तटबंध टूटने से मनीगाछी की दो पंचायतों में पानी घुस गया है। अफरातफरी के बीच लोग अपने सामान एवं मवेशी को सुरक्षित करने में लगे हुए हैं। पानी का प्रवाह अगस्त 2017 में आई बाढ़ से ज्यादा तेज है।

गाेपालगंज में भरभरा कर गिरा तीनमंजिला मकान
गोपालगंज के भोरे थाना क्षेत्र के पड़ौली गांव में तेज बारिश के बीच एक तीन मंजिला मकान भरभरा कर गिर गया। मकान झुकते देख समय रहते घर के सदस्यों ने घर से बाहर निकल कर अपनी जान बचाई। हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ।

पूर्वी चंपारण, सीतामढ़ी, शिवहर और मधुबनी में बढ़ रहा पानी

पूर्वी चंपारण में बंजरिया प्रखंड के घोड़मरवा गांव के पास दुधौरा नदी पर बना तटबंध टूट गया। आसपास के गांवों में तेजी से पानी फैलने लगा है। पताही व ढाका में बागमती का पानी कई गांवों में प्रवेश कर गया है। डीएम रमण कुमार ने खुद रेनकट की मरम्मत की लिए बालू की बोरियां भरीं। गुरहनवा स्टेशन के ट्रैक पर पानी के बढ़ रहे दबाव को लेकर सीतामढ़ी- रक्सौल रेलखंड पर परिचालन ठप कर दिया गया है।

समस्तीपुर और सीतामढ़ी जिले में बागमती, लखनदेई, झीम, रातो, मरहा और लालबकेया नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। सोनबरसा-नेपाल सड़क पर चार फीट पानी बह रहा है। बाढ़ को देखते हुए शनिवार को सीतामढ़ी-बैरगनिया-रक्सौल रेलखंड पर ट्रेनों के परिचालन पर रोक लगा दी गई।  मुजफ्फरपुर जिले के कटरा और औराई प्रखंड में स्थिति भयावह होती जा रही है। शिवहर- पिपराही पथ (एसएच 54) पर करीब दो फीट पानी चढ़ गया है। मंडल कारा परिसर में भी पानी प्रवेश कर गया है।

मोतिहारी में लालबकेया व बागमती खतरे से निशान से ऊपर
पूर्वी चंपारण जिले में हुई भारी बारिश के बाद यहां की नदियों में उफान है। बागमती व लालबकेया  खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। पताही, ढाका व फेनहारा के दर्जनों गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है। पताही के जिहुली में ढाका पूर्व विधायक अवनीश सिंह और मुखिया के घर में भी बाढ़ का पानी घुस गया है। उधर, गंडक व बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में भी तेजी से वृद्धि होने के साथ तटबंधों पर दबाव बढ़ने लगा है।

Input : Dainik Jagran

BIHAR

पटना : जेपी सेतु पर भारी वाहनों का प्रवेश चालू, कोइलवर पुल वनवे, आज से चालू होगा पीपा पुल

Santosh Chaudhary

Published

on

पटना : बुधवार की रात 10 बजे से पटना जिले में वाहनों के प्रवेश को लेकर व्यवस्था बदल गयी. कोइलवर पुल पर आरा-पटना वनवे व्यवस्था लागू होने के साथ ही जेपी सेतु पर पटना से उत्तर बिहार के लिए भारी वाहनों का परिचालन शुरू कर दिया गया. गांधी सेतु की बगल में पीपा पुल भी तैयार हो गया है.

बुधवार को इसका ट्रायल करने के बाद गुरुवार से इसे छोटे वाहनों के लिए खोल दिया जायेगा. इससे छोटे वाहनों को पटना से उत्तर बिहार आने-जाने में सुविधा होगी. कोइलवर पुर पर वनवे व्यवस्था लागू रहेगी. पटना से जानेवाले ट्रकों को अरवल होते हुए आरा की ओर भेजा जायेगा. वहीं, भोजपुर के डीएम रोशन कुशवाहा ने बताया कि गुरुवार से कोइलवर पुल पर बालू लदे ट्रक अथवा अन्य मालवाहक ट्रक का परिचालन बंद रहेगा.

हालांकि, गैस सिलिंडर लदी गाड़ियों की कोइलवर से पटना जाने पर कोई रोक नहीं रहेगी. इसकी प्रत्येक सप्ताह समीक्षा की जायेगी. समीक्षा के बाद स्थिति के अनुरूप आगे का निर्णय लिया जायेगा. वहीं, पटना डीएम कुमार रवि ने बताया कि जेपी सेतु पर रात 10 बजे से सुबह पांच बजे तक भारी वाहनों को जेपी सेतु से उत्तरी बिहार जाने के लिए परिचालन शुरू हो गया है.

जेपी सेतु पर भारी वाहनों के लिए वनवे ट्रैफिक होगा. सभी बड़े वाहनों को उत्तरी बिहार से जेपी सेतु होते हुए पटना नहीं आना है. इसके लिए जेपी सेतु पर दंडाधिकारी के साथ परिवहन एवं खनन विभाग के पदाधिकारी भी रात में प्रतिनियुक्त किये गये हैं. पहले की तरह गांधी सेतु पर छह चक्के तक के वाहन 24 घंटे चलेंगे और बालू-निर्माण सामग्री लदे ट्रकों को गांधी सेतु पर परिचालन की अनुमति नहीं रहेगी.

Input : Prabhat Khabar

Continue Reading

BIHAR

बिहार : AK- 47 के बाद अब मिला बं’दूकों का जखीरा, रि’वाल्‍वर-रा’इफल समेत 29 डबल बैरल ग’न जब्‍त

Santosh Chaudhary

Published

on

ऐतिहासिक व योग की नगरी मुंगेर ह’थियारों के लिए भी फेमस है। पिछले दिनों अ’वैध एके 47 की काफी संख्‍या में बरामदगी ने मुंगेर को चर्चा में ला दिया था। एक बार फिर इसी मुंगेर में ह’थियारों का जखीरा मिला है। दो दर्जन से अधिक दोनाली बं’दूकों के अलावा रि’वाल्‍वर व सैकड़ों का’रतूस मिले हैं। आ’र्म्स का जखीरा देखकर पुलिस भी सकते में है।

मिल रही जानकारी के अनुसार, मुंगेर पुलिस ने कासिम बाजार इलाके में छापेमारी कर हथियारों का जखीरा बरामद किया है। ये हथियार कहीं भेजे जाने के लिए था। पुलिस ने चार तस्‍करों को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार, बरामद हथियारों में 29 दोनाली बंदूक और 2 राइफल के अलावा 529 कारतूस को बरामद किया है। सबसे खास बात कि तस्‍करों के पास से एक वेवली एस्कॉर्ट रिवाल्वर भी बरामद की गई है।

डीआइजी मनु महाराज द्वारा गठित स्पेशल पुलिस टीम को यह सफलता मिली है। इसकी पुष्टि करते हुए मनु महाराज ने कहा कि मुफस्सिल थाना क्षेत्र के मुबारकचक निवासी टीपू सुल्तान, कासिमबाजार थाना क्षेत्र के चुआबाग निवासी किशन कुमार, मकसुसपुर निवासी मनोज शर्मा और दलहट्टा निवासी भवानी कुमार को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार आरोपितों के पास से 7.65 बोर का 184 राउंड जिंदा कारतूस, रिवाल्वर का 7.65 बोर का 50 जिंदा कारतूस, .25 बोर पिस्टल का 175 राउंड जिंदा कारतूस, राइफल 02, दो नाली बंदूक 29, .22 बोर राइफल का 10 राउंड जिंदा कारतूस, 306 बोर राइफल का 80 जिंदा कारतूस, 12 बोर के बंदूक का 20 राउंड कारतूस, वेवली एस्‍कॉर्ट रिवाल्वर 01, राइफल क्लिनिंग रॉड 02 पीस, 315 बोर राइफल का बट दो, 315 बोर राइफल का 02 ग्रीप, 315 बोर राइफल का बट 01 सहित अन्य उपकरण बरामद किए गए हैं।

इसके अलावा रेगुलर राइफल 02 भी बरामद की गई है। डीआइजी मनु महाराज ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव के मद्​देनजर हथियार तस्करों की सक्रियता बढ़ी है। पूछताछ के दौरान गिरफ्तार हथियार तस्करों ने नक्सलियों को भी हथियार आपूर्ति किए जाने की जानकारी दी है।

गौरतलब है कि पिछले साल मुंगेर में एके 47 का जखीरा मिला था। रेलवे स्‍टेशन से लेकर गांव तक में एके 47 राइफलों की बरामदगी हुई थी। इतना ही नहीं, मंगेर में एक कुआं से भी प्रतिबंधित राइफल एके 47 के पार्ट्स मिले थे। अब एक बार फिर मुंगेर में भारी संख्‍या में हथियार मिले हैं। इतनी बड़ी बरामदगी से जहां पुलिस खुश है, वहीं अचंभित भी।

Input : Dainik Jagran

 

Continue Reading

BIHAR

दिल्ली-लखनऊ से भी जहरीली हुई पटना-मुजफ्फरपुर की हवा, कम कर रही उम्र के 7.7 साल

Santosh Chaudhary

Published

on

pollution-in-bihar

बिहार के पटना (Patna), मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) व गया (Gaya) में वायु प्रदूषण (Air Pollution) की स्थिति चिंताजनक (Alarming) हो गई है। वायु प्रदूषण के लिहाज से पटना देश में चौथे तो मुजफ्फरपुर सातवें स्‍थान पर है। राज्‍य के ये दानों शहर देश के टॉप 10 प्रदूषित शहरों में शामिल हैं। गया की स्थिति भी खराब है। एक रिसर्च के मुताबिक वायु प्रदूषण के कारण पटना में लोगों की उम्र औसतन 7.7 वर्ष कम हो रही है। सरकार ने प्रदूषण की रोकथाम में लिए कई कदम उठाए हैं, लेकिन स्थिति अभी भी चिंताजनक बनी हुई है।

pollution-in-bihar

Photo by Saurav Anuraj

पटना देश में चौथा तो मुजफ्फरपुर सातवां सर्वाधिक प्रदूषित शहर

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से बुधवार को जारी देश के 104 शहरों के वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) में पटना देश में चौथे तो मुजफ्फरपुर सातवें पायदान पर है। पटना का पीएम 2.5 स्तर 337 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रिकॉर्ड किया गया। जबकि, मुजफ्फरपुर में पीएम 2.5 का स्तर 323 माइक्रोग्राम दर्ज किया गया। गया शहर का पीएम2.5 स्तर 205 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रहा। दिल्‍ली व लखनऊ की बात करें तो वे क्रमश: नौवें व 10वें स्‍थान पर रहे।

 

वायु प्रदूषण के हालात बीते कुछ समय से चिंताजनक

विदित हो कि पटना सहित बिहार के कुछ शहरों में वायु प्रदूषण के हालात बीते कुछ समय से चिंताजनक बने हुए हैं। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों पर नजर डालें तो पटना का एक्‍यूआइ दो नवंबर को 428 तक पहुंच गया था, जो तीन नवंबर को घटकर 413 और चार नवंबर को 383 तक पहुंचा। सरकार के स्थिति में सुधार के दावों व कदमों के बावजूद स्थिति चिंताजनक है। पटना, गया, और मुजफ्फरपुर को देश के 102 ‘नॉनअटेन्मेंट सिटी’ के रूप में चिन्हित किया गया है।

पटना में वाहनों से सर्वाधिक 32 फीसद वायु प्रदूषण

बिहार के पर्यावरण, वन विभाग के प्रधान सचिव दीपक कुमार सिंह बताते हैं कि पटना में 32 फीसद वायु प्रदूषण के लिए वाहन जिम्‍मेदार हैं। इसके बाद 12 फीसद प्रदूषण धूल कण से होता है। शेष वायु प्रदूषण के कारणों में अवशेष काे जलाना, हिटिंग, जेनरेटर सेट आदि हैं।

उम्र के सात साल तक घटा रहा प्रदूषण, होता कैंसर

बिहार में वायु प्रदूषण पर काम करने वाली संस्था ‘सेंटर फॉर इन्वायरमेंट एंड एनर्जी डेवलपमेंट’ (CEED) के सलाहकार मुन्ना झा की मानें तो उनकी संस्‍था के रिसर्च के अनुसार वायु प्रदूषण के कारण पटना में लोगों की उम्र औसतन 7.7 वर्ष कम हो जाती है। गोपालगंज के डॉ. संदीप कुमार कहते हैं कि प्रदूषण से सांस संबंधी कई बीमारियां तो होती ही हैं, इससे कैंसर तक होता है।

राज्‍य सरकार ने उठाए कई कड़े कदम

पटना सहित बिहार में वायु प्रदूषण को रोकने के उपाय के तहत राज्‍यकी नीतीश कुमार सरकार ने कई कदम उठाए हैं। बिहार में 15 साल से पुरानी सरकारी गाड़ियों पर रोक लगा दी गई है। पटना में 15 साल पुराने व्‍यावसायिक वाहन भी नहीं चलाए जा रहे।  साथ ही 15 साल पुरानी निजी गाड़ियों को नए सिरे से प्रदूषण जांच कराना अनिवार्य है। सभी निर्माण कार्य को ढ़कना अनिवार्य कर दिया गया है। नगर निगम के कचरा वाहन को ढ़कना भी अनिवार्य हो गया है। खुले वाहनों में खास तरह की चीजों को भी नहीं ढ़ाया जा सकता है। गांवों की बात करें तो किसान अब पुआल नहीं जला सकते हैं।

देश के 10 शहरों की हवा गुणवत्ता (एक्‍यूआइ)

(पीएम 2.5 माइक्रोग्राम)

1. गाजियाबाद- 378

2. कानपुर- 355

3. ग्रेटर नोएडा- 344

4. पटना- 337

5. नोएडा- 331

6. हिसार- 332

7. मुजफ्फरपुर- 323

8. बागपत- 321

9. दिल्ली- 312

10. लखनऊ- 312

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
Advertisement
BIHAR43 mins ago

पटना : जेपी सेतु पर भारी वाहनों का प्रवेश चालू, कोइलवर पुल वनवे, आज से चालू होगा पीपा पुल

BIHAR49 mins ago

बिहार : AK- 47 के बाद अब मिला बं’दूकों का जखीरा, रि’वाल्‍वर-रा’इफल समेत 29 डबल बैरल ग’न जब्‍त

pollution-in-bihar
BIHAR54 mins ago

दिल्ली-लखनऊ से भी जहरीली हुई पटना-मुजफ्फरपुर की हवा, कम कर रही उम्र के 7.7 साल

BIHAR1 hour ago

बिहार : प्रेगनेंट महिला से नर्स बोली- बाहर जाओ, अभी नहीं होगा प्रसव; खुले आसमान तले दिया बच्‍चे को जन्‍म

BIHAR2 hours ago

18 प्रश्नों पर कैंडिडेट्स ने जताई थी आपत्ति, BPSC रद कर सकता है 10 प्रश्न, जानिए

MUZAFFARPUR3 hours ago

मुजफ्फरपुर : इंटरमीडिएट परीक्षा के लिए केंद्रों की सूची जारी

MUZAFFARPUR3 hours ago

मिठनपुरा में माइक्रो फाइनेंस कंपनी के दफ्तर से लू’ट, फा’यरिंग

MUZAFFARPUR12 hours ago

मनियारी थाना अध्यक्ष ने जब्त की लाखों की शराब

BIHAR15 hours ago

5 साल के बच्चे को इस IAS ऑफिसर ने बना दिया ‘कमिश्नर’!

INDIA15 hours ago

जम्मू कश्मीर को लेकर है मन में है कोई कन्फ्यूजन तो जानें ये 10 बातें

MUZAFFARPUR5 days ago

मुजफ्फरपुर का थानेदार नामी गुं’डा के साथ मनाता है जन्मदिन! केक काटते हुए सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल…खाक होगा क्रा’इम कंट्रोल?

INDIA5 days ago

आ गया ‘मिर्ज़ापुर 2’ का टीजर, पंकज त्रिपाठी ने इंस्टाग्राम पर किया शेयर

BIHAR4 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

tharki-proffesor
MUZAFFARPUR6 days ago

खुलासा: कोचिंग आने वाली हर छात्रा को आजमाता था मुजफ्फरपुर का ‘पा’पी प्रोफेसर’, भेजा गया जे’ल

BIHAR3 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

JOBS4 days ago

भर्ती : 12वीं पास के लिए CISF में नौकरी, 300 जीडी हेड कांस्टेबल पदों के लिए करें आवेदन

BIHAR3 days ago

जिसकी मौ’त में 23 लोग जेल में, वह जिंदा लौटा

MUZAFFARPUR4 days ago

कुंवारी मां बनी कटरा की पी’ड़िता से दु’ष्क’र्म का आ’रोपी माैलवी गि’रफ्तार

BIHAR2 days ago

तो क्या बंद हो जाएगा ‘कौन बनेगा करोड़पति’, पटना HC में शो पर रोक के लिए दर्ज हुई है याचिका

BIHAR3 weeks ago

मदीना पर आस्‍था तो छठी मइया पर भी यकीन, 20 साल से व्रत कर रही ये मुस्लिम महिला

Trending

0Shares