Connect with us

BIHAR

बिहार में लॉकडाउन लगना तय? सीएम नीतीश बोले- जो लोग दूसरे राज्यों से वापस आना चाहते हैं, वे जरूर आयें, 18 को बड़ा एलान!

Ravi Pratap

Published

on

बिहार में कोरोना (Bihar Me Corona) की खतरनाक हो रही स्थिति को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने शुक्रवार को उच्च स्तरीय समीक्षा(High Level Meeting) बैठक की. इस दौरान उन्होंने निर्देश दिये कि राज्य में कोरोना के मामले रोजाना बढ़ रहे हैं. इस पर पूरी तरह से नजर रखें. जिन क्षेत्रों में कोरोना के ज्यादा मामले आ रहे हैं, वहां विशेष सतर्कता बरतें और सभी जरूरी कदम उठाएं. कोरोना जांच की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ टीकाकरण में भी ज्यादा तेजी लाएं.

मुख्यमंत्री मुख्य सचिवालय के सभागार में हुई समीक्षा बैठक में उन्होंने कहा कि जो लोग दूसरे राज्यों में हैं और वे वापस आना चाहते हैं, तो वे जरूर आये, यह बेहतर होगा. गौरतलब है कि 17 अप्रैल को कोरोना को लेकर राज्यपाल के स्तर पर सर्वदलीय बैठक होने वाली है. इससे पहले मुख्यमंत्री ने कोरोना के हालात का जायजा लेने के लिए सभी संबंधित विभागों के मंत्रियों और अधिकारियों के साथ यह उच्च स्तरीय बैठक की है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि दवा के साथ-साथ ऑक्सीजन की उपलब्धता पर्याप्त रखें, ताकि किसी अस्पताल में मरीजों को किसी तरह की कोई समस्या नहीं हो. कोविड डेडिकेटेड अस्पतालों में सभी तरह की तैयारी रखें. लोगों को कोरोना के प्रति सतर्क और सजग करते रहना होगा. लोग मास्क का जरूर प्रयोग करें, आपस में दूरी बनाकर रहें, हमेशा साबुन से हाथ धोते रहें. लोग सचेत और सजग रहेंगे, तो संक्रमण का खतरा कम-से-कम होगा.

मुख्यमंत्री ने बैठक के बाद सचिवालय पोर्टिगो में पत्रकारों से कहा कि कोरोना की वर्तमान स्थिति को लेकर राज्यपाल ने शनिवार को सभी पार्टियों की बैठक बुलायी है. इस सर्वदलीय बैठक में कोरोना को लेकर जो भी काम किये जा रहे हैं, उनकी जानकारी सभी दलों के लोगों को दी जायेगी. इसमें सभी दलों की बातें सामने आयेंगी और जो भी उपयोगी सुझाव होंगे, उन पर निर्णय लिये जायेंगे.

इसके बाद रविवार को सभी जिलों के डीएम के साथ भी बैठक होगी, जिसमें सारी चीजों की जानकारी ली जायेगी और उसके आधार पर आगे का फैसला लिया जायेगा. उन्होंने कहा कि कोरोना प्रतिदिन बढ़ रहा है. इसे देखते हुए मौजूदा स्थिति पर चर्चा की गयी है. उन्होंने लॉकडाउन लगाने के सवाल पर कहा कि सभी पहलुओं पर विचार करने के बाद ही कुछ निर्णय लिया जायेगा.
बैठक के दौरान स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताता कि सभी जिलों के डीएम के साथ सांसदों, विधान पार्षदों, विधायकों समेत अन्य जन प्रतिनिधियों की कोरोना की मौजूदा स्थिति को लेकर बैठक हो चुकी है. इसमें भी कई महत्वपूर्ण सुझाव आये हैं. इस तरह की बैठक को करने का निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया था. प्रधान सचिव ने राज्य में कोरोना की स्थिति की अपडेट जानकारी प्रेजेंटेशन के माध्यम से दी.

Input: Prabhat Khabar

BIHAR

लॉकडाउन लागू कराने फील्ड में उतरे दफ्तरों में तैनात पुलिसकर्मी, पुलिस मुख्यालय के आदेश के बाद जिला पुलिस कर रही कार्रवाई

Ravi Pratap

Published

on

कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए बिहार में लगाए गए लॉकडाउन के बाद फील्ड में अतिरिक्त पुलिसकर्मियों की तैनाती की जा रही है। जिला पुलिस ने अपने आंतरिक संसाधान से पुलिस बल की व्यवस्था की है। ये ऐसे पुलिसकर्मी हैं जो जिला पुलिस के अधीन विभिन्न कार्यालयों में तैनात थे। पुलिस मुख्यालय के आदेश के बाद जिला पुलिस ने यह कार्रवाई की है।

दफ्तरों में पुलिस की तैनाती घटाई गई

कोरोना की वजह से कामकाज खासा प्रभावित हुआ है। वहीं लॉकडाउन को लागू कराने के लिए फील्ड में ज्यादा पुलिसकर्मियों की जरूरत है। इसे देखते हुए एसडीपीओ ऑफिस, सर्किल इंस्पेक्टर, पुलिस लाइन और दूसरे कार्यालयों में तैनात पुलिसकर्मियों को जरूरत के हिसाब से ही वहां रखा जा रहा है। अधिकांश जगह 50 प्रतिशत पुलिसकर्मियों को दफ्तरों से वापस बुला लिया गया है। उनकी तैनाती फील्ड में की जा रही है ताकि लॉकडाउन को प्रभावी तरीक से लागू करने में उनका इस्तेमाल किया जा सके। बिहार में 5 से 15 मई तक लॉकडाउन है। लॉकडाउन का आदेश जारी होने के साथ पुलिस मुख्यालय ने इसे सख्ती से लागू कराने को लेकर जिला पुलिस को दिशा-निर्देश जारी किए थे। इसमें शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में गश्त के साथ स्टैटिक तौर पर पुलिस बल की तैनाती भी शामिल है।

अलग-अलग टीम बनाने के निर्देश

सब्जी मंडी, बाजार, रेलवे स्टेशन और अन्य ऐसे स्थान जहां भीड़भाड़ होती है वहां अतिरिक्त चौकसी बरतने को कहा गया है। इसके लिए अलग-अलग टीम बनाने के भी निर्देश दिए गए थे। साथ ही कहा गया था कि दफ्तरों में जरूरत के मुताबिक ही पुलिसकर्मियों को तैनात रखे और बाकी का इस्तेमाल लॉकडाउन को प्रभावी तरीक से लागू करने में करें। इसके बाद कई जिला पुलिस द्वारा कार्रवाई करते हुए अतिरिक्ति पुलिसकर्मियों को फील्ड में तैनात किया गया है।

Input: Live Hindustan

Continue Reading

BIHAR

कोरोना की चपेट में आए पटना एयरपोर्ट के दो दर्जन कर्मचारी, तीन की हालत गंभीर, कामकाज प्रभावित

Ravi Pratap

Published

on

पटना एयरपोर्ट पर कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने से कामकाज पर असर पड़ने लगा है। लगभग दो दर्जन कर्मी अभी संक्रमण से जूझ रहे हैं और तीन की हालत गंभीर है। कुछ कर्मी निजी अस्पतालों पर ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। संक्रमण की चपेट में आने वाले कर्मियों की संख्या अग्निशमन विभाग में है लेकिन एटीसी, सिविल इंजीनयरिंग व अन्य कई विभागों के लगभग 15 से अधिक कर्मी होम आइसोलेशन में है।

लगभग आधे दर्जन कर्मी रिकवर भी हो गए हैं कि कोरोना के नए स्ट्रेन के खतरनाक होने की वजह से वे काफी कमजोर हैं और अब तक ड्यूटी ज्वाइन नहीं कर सके हैं। इधर विमानन कंपनियों के प्रतिनिधि भी कोरोना की चपेट में आए हैं। एयरपोर्ट पर एक विमानन कंपनी के स्टेशन हेड पिछले दिनों कोरोना संक्रमण के शिकार हुए।

हालांकि पिछले एक हफ्ते में उनकी हालत में तेजी से सुधार हुआ है। चिकित्सीय सलाह लेकर वे अब भी होम आइसोलेशन पर ही हैं। अन्य कई विमानन कर्मियों के ग्राउंड स्टाफ भी इस संक्रमण की चपेट में आए हैं, जिन्हें होम आइसोलेशन पर भेज दिया गया है। एयरपोर्ट प्रशासन द्वारा अब संक्रमित कर्मियों के अद्यतन आंकड़े जुटाए जा रहे हैं।

विमानों का परिचालन भी हुआ है प्रभावित

पटना एयरपोर्ट और शहर में पर बढ़े संक्रमण का असर विमान सेवाओं पर जारी है। पिछले दो दिनों में विमानों की संख्या में और कमी आई है। छह अप्रैल के आंकड़ों के अनुसार शेड्यूल में शामिल 96 विमानों में मात्र 63 विमान ही पटना एयरपोर्ट पर आए। 33 विमानों की कम आवाजाही के पीछे भले ही यात्रियों के संक्रमित होने की बात कही जा रही है लेकिन विमान कर्मियों के संक्रमित होने की वजह से भी विमानों को कई बार रद्द करना पड़ रहा है।

नहीं होता है विमानों से सोशल डिस्टेंस का पालन

एयरपोर्ट परिसरों में भले ही सख्ती जारी है लेकिन विमानों में सीटों की बुकिंग में अब भी सामाजिक दूरी का नियम पालन नहीं होता। इस बाबत प्रशासनिक सख्ती भी नहीं की गई है इस वजह से विमानन कंपनियों की ओर से सभी सीटों की बुकिंग की जा रही है। जबकि सड़क परिवहन व अन्य माध्यमों में यात्री क्षमता के अनुसार 50 प्रतिशत सीटों की बुकिंग की जा रही है।

Input: Live Hindustan

Continue Reading

BIHAR

नया नहीं है BJP सांसद का एंबुलेंस विवाद, 2002 में डीएम ने किया था जब्त, जानें सियासी बवाल की पूरी कहानी

Ravi Pratap

Published

on

बिहार में कोरोना महामारी के बीच एंबुलेंस को लेकर विवाद जारी है। जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव और बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी के बीच वार-पलटवार का दौर जारी है। इस विवाद की शुरुआत सात मई को तब हुई जब पप्पू यादव ने एक वीडियो जारी किया। इसमें उन्होंने बीजेपी सांसद के दफ्तर में धूल फांक रहीं एंबुलेंस को लेकर सवाल किए।

किसके निर्देश पर एंबुलेंस को छिपाकर रखा है

पप्पू यादव ने सात मई को ट्वीट कर पूछा, ‘बीजेपी के पूर्व केंद्रीय मंत्री, राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी जी के अमनौर स्थित कार्यालय परिसर में दर्जनों एंबुलेंस बरामद! सांसद विकास निधि से खरीदी गईं एंबुलेंस किसके निर्देश पर यहां छिपाकर रखी गई हैं, इसकी जांच हो? सारण डीएम, सिविल सर्जन यह बताएं! बीजेपी जवाब दे!’

ड्राइवर की व्यवस्था करें पप्पू यादव

इसपर बीजेपी सांसद बुरी तरफ बिफर गए और उन्होंने पलटवार करते हुए बयान जारी कर कहा कि अनधिकृत रूप से पप्पू यादव ने अपने काफिले के साथ अमनौर के सामुदायिक केंद्र परिसर में शुक्रवार को प्रवेश किया। वहां के चौकीदार और अन्य कर्मियों से भिड़ते हुए कोविड के कारण चालकों की कमी से पंचायतों द्वारा लौटाए गए एंबुलेंस जो सुरक्षित रखे गए थे उसकी फोटो खींचने के लिए तहस-नहस किया। साथ ही चुनौती देते हुए कहा कि यदि पप्पू यादव को इतनी ही पीड़ा है तो अविलंब ड्राइवर की व्यवस्था कर सारण आएं। मेरे पास चालक मुक्त जितनी एंबुलेंस हैं मैं उन्हें उनको परिचालन के लिए देने के लिए तैयार हूं।

खड़ी की 40 ड्राइवरों की सेना

आज यानी आठ मई को पप्पू यादव ने बीजेपी सांसद की चुनौती को स्वीकार करते हुए लाइसेंसधारी 40 ड्राइवरों की सेना खड़ी कर दी। साथ ही कहा कि बिहार सरकार जहां भी एंबुलेंस को ड्राइवर की जरूरत हो, वे लें जाए। इसके लिए उन्होंने जाप के राष्ट्रीय महासचिव प्रेमचंद सिंह का नंबर 9334123702 जारी किया और कहा कि सरकार इन ड्राइवर को सरकारी नौकरी भी दे। यादव ने महामारी एक्ट के तहत भाजपा नेता राजीव प्रताप रूडी पर मुकदमा दर्ज करने की भी मांग की।

मरीजों की बजाय बालू ढोने में हो रहा एंबुलेंस का इस्तेमाल
मामला यहीं पर खत्म नहीं हुआ शनिवार शाम को पप्पू यादव ने बीजेपी सांसद के एंबुलेंस से जुड़ा एक वीडियो जारी किया। इसमें दिख रहा है कि इनके इस्तेमाल मरीजों की बजाय बालू ढोने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘एंबुलेंस का राजीव प्रताप रूडी जी बालू ढोने में बहुत बेहतरीन उपयोग कर रहे थे। इसके लिए उनके पास ड्राइवर भी उपलब्ध था। लेकिन बीमारों की मदद के लिए एंबुलेंस चलाने के लिए ड्राइवर नहीं था।’

पप्पू यादव पर अमनौर में दर्ज हुई एफआईआर

सारण के सांसद राजीव प्रताप रूडी के संसदीय मद से खरीदी गई एंबुलेंस को छिपा कर रखने के मामले में मचे बवाल के बाद अमनौर थाने में पप्पू यादव व उनके गार्ड पर एफआईआर की गयी है। सारण प्रशासन ने उनके खिलाफ मारपीट करने और लॉकडाडन का उल्लंघन करने के मामले में दो एफआईआर दर्ज की है। अमनौर के जयप्रभा सामुदायिक केंद्र के केयर टेकर और गार्ड ने पप्पू यादव और उनके अंगरक्षक पर मारपीट कर कंधे पर लाठी से वार करने, तोड़फोड़ और हंगामा करने का आरोप लगाया है।

नया नहीं है रूडी का एंबुलेंस विवाद

पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी के एंबुलेंस का विवाद नया नहीं है। इसके पहले भी कई बार एंबुलेंस को लेकर विवाद हो चुका है। वर्ष 2002 में सबसे पहले एंबुलेंस को लेकर विवाद हुआ था। उस समय के डीएम पंकज कुमार ने राजीव प्रताप रूडी के सभी एंबुलेंस को जब्त कर लिया था और रातों-रात अपने आवास पर खड़ा करवा लिया था।

कुछ एंबुलेंस राजेंद्र स्टेडियम में भी जिला प्रशासन की देखरेख में रखे गए थे। जानकारी के मुताबिक, रूडी के एंबुलेंस के दुरुपयोग के बारे में जिलाधिकारी को जानकारी मिल रही थी। लोगों ने एंबुलेंस के निजी उपयोग की शिकायत जिलाधिकारी से की थी। इसके बाद जिलाधिकारी ने जांच कराई तो मामला सत्य पाया और रातों-रात सभी एंबुलेंस को जब्त करवा लिया।

जानकारी के मुताबिक 10 मई 2002 को जिलाधिकारी पंकज कुमार ने अपनी प्रशासनिक क्षमता व अधिकार के नाते सभी एंबुलेंस को जब्त करने का फरमान जारी किया था। इसके बाद राजीव प्रताप रूडी ने जिलाधिकारी पर पक्षपात करने का भी आरोप लगाया था।
बताया जाता है कि राजीव प्रताप रूडी ने उस समय के मुख्यमंत्री रहे लालू प्रसाद से भी जिलाधिकारी के कार्यकलापों की शिकायत की थी। उसके बाद ही 14 मई को जिलाधिकारी पंकज कुमार का तबादला छपरा कर दिया गया। राजनीति से जुड़े लोगों का यह भी कहना है कि हालांकि उस समय राजीव प्रताप रूडी बीजेपी सांसद थे और लालू प्रसाद राजद के थे।

Input: Live Hindustan

Continue Reading
BIHAR2 mins ago

लॉकडाउन लागू कराने फील्ड में उतरे दफ्तरों में तैनात पुलिसकर्मी, पुलिस मुख्यालय के आदेश के बाद जिला पुलिस कर रही कार्रवाई

BIHAR8 mins ago

कोरोना की चपेट में आए पटना एयरपोर्ट के दो दर्जन कर्मचारी, तीन की हालत गंभीर, कामकाज प्रभावित

INDIA11 mins ago

कोरोना से जंग जीतने वाले मरीजों की नई मुसीबत, अब अचानक जा रही आंखों की रोशनी

BIHAR19 mins ago

नया नहीं है BJP सांसद का एंबुलेंस विवाद, 2002 में डीएम ने किया था जब्त, जानें सियासी बवाल की पूरी कहानी

MUZAFFARPUR36 mins ago

ऑक्सीजन पर सख्ती बढ़ी तो 18 निजी अस्पतालाें ने कहा- हम भी कर रहे काेराेना मरीजाें का इलाज

MUZAFFARPUR52 mins ago

इंतजार खत्म, 18 से 44 वर्ष के 23.40 लाख लाेगों के लिए 23 स्थानों पर विशेष टीकाकरण अभियान

BIHAR9 hours ago

COVID-19: मनमानी वसूली पर लगेगा लगाम, बिहार सरकार ने तय किया CT-Scan के रेट

BIHAR12 hours ago

अच्छी खबर: बिहार में कल से 18 साल से ऊपर वालों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, सरकार ने किया एलान

BIHAR12 hours ago

बुरे फंसे राजीव प्रताप रूडी: एम्बुलेंस में बालू ढोने का वीडियो वायरल, पप्पू और तेजस्वी ने किया ट्वीट

BIHAR13 hours ago

तेजस्वी को लालटेन लेकर खोज रही राघोपुर की जनता, लापता होने का लगाया पोस्टर

HEALTH4 weeks ago

ये 5 लक्षण मुंह पर दिखें तो तुरंत करवा लें जांच, हो सकता है कोरोना

INDIA1 week ago

कोरोना की दूसरी लहर के बीच 3 से 20 मई तक लगेगा संपूर्ण लॉकडाउन? जानिए क्या है सच्चाई

BIHAR2 weeks ago

बिहार के इस जिले में 4 दिनों के कंपलीट लॉकडाउन की घोषणा, जानें क्या खुला रहेगा

INDIA2 weeks ago

सिगरेट पीने वालों और ‘O’ ब्‍लड ग्रुप वालों से दूर रहता है कोरोना वायरस: CSIR सीरोसर्वे

VIRAL3 weeks ago

पति ने शराब छोड़ी तो पत्नी ने तलाक ले लिया, बोली पति तो शराबी ही चाहिए

MUZAFFARPUR2 weeks ago

बिहार में कोरोना लील रहा परिवार, मुजफ्फरपुर में एक साथ सजी दो सगे भाइयों की अर्थी, दोनों चर्चित व्यवसायी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में लॉकडाउन लगना तय? सीएम नीतीश बोले- जो लोग दूसरे राज्यों से वापस आना चाहते हैं, वे जरूर आयें, 18 को बड़ा एलान!

BIHAR2 weeks ago

मुन्ना शुक्ला के कार्यक्रम में नाइट कर्फ्यू की उड़ी धज्जियां, अभिनेत्री अक्षरा सिंह समेत 200 के खिलाफ केस दर्ज

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर में कोच‍िंंग संचालक से बेपनाह प्‍यार के बाद प्रेम‍िका ने कहा- शादी कर लो, बोला-कोई और ढूंढ लो…

BIHAR3 weeks ago

साउथ फिल्मों के सुपरस्टार अल्लू अर्जुन के साथ नजर आएंगी बिहारी गर्ल संचिता बसु, टिकटॉक ने दिलाई थी पहचान

Trending