Connect with us

MUZAFFARPUR

बिहार में AES से 143 की मौत: SC में जनहित याचिका दायर, CM नीतीश व डॉ. हर्षवर्धन पर भी मुकदमा

Published

on

बिहार में एईएस (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम) या इंसेफेलौपैथी से मौत का सिलसिला थमता नजर नहीं आ रहा। इस साल अभी तक मौत का आंकड़ा 143 पार कर गया है। बुधवार की सुबह भी कुछ बच्‍चों की मौत हुई है। बीमारी के इस कहर के कारण केंद्र व राज्‍य सरकारों पर मुकदमों का सिलसिला चल पड़ा है। बुधवार को अस्‍पतालों में सुविधाओं को बढ़ाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई।

मंगलवार को भी मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार तथा केंद्र व राज्‍य के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रियों के खिलाफ मुकदमा किया गया। इसके पहले भी केंद्र व राज्‍य के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रियों पर एक और मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। उधर, मानवाधिकार आयोग ने भी केंद्र व राज्‍य से रिपोर्ट तलब किया है।

सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर 

बिहार में एईएस से बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। इसे देखते हुए अब सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर कर इलाज की सुविधाएं बढ़ाने तथा इसमें अभी तक हुई लापरवाही की जिम्‍मेदारी तय करने का आग्रह किया गया है। याचिका में प्रभावित इलाकों में सौ मोबाइल आइसीयू बनाने तथा अस्‍पतालों में डॉक्‍टरों की संख्‍या बढ़ाने की मांग की गई है।

वकील मनोहर प्रताप और सनप्रीत सिंह अजमानी द्वारा सुप्रीम कोर्ट में दायर इस जनहित याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के लिए स्‍वीकार कर लिया है। इसकी सुनवाई सोमवार को होगी।

सीएम नीतीश-हर्षवर्धन पर मुकदमा

एईएस से बच्चों की मौत को लेकर मुजफ्फरपुर के अधिवक्ता पंकज कुमार ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व अन्य के विरुद्ध मंगलवार को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (सीजेएम) कोर्ट में परिवाद दाखिल किया गया। इसमें उन्‍होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार, बिहार मेडिकल सर्विसेज एंड इंफ्रास्ट्रक्चर कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीएमएसआइसीएल) के प्रबंध निदेशक संजय कुमार सिंह, जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष, सिविल सर्जन डॉ.शैलेश प्रसाद सिंह व एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ.सुनील कुमार शाही को आरोपित बनाया है।

परिवाद में आरोप लगाया गया है कि सरकारी अस्पतालों में आपूर्ति की जाने वाली दवाएं केंद्रीय व राज्य प्रयोगशालाओं से जांच रिपोर्ट मिले बिना ही मरीजों को दी जाती हैं। सरकारी अस्पतालों में जेनरिक दवाओं की आपूर्ति की जाती है। इनकी पोटेंसी सामान्यत: छह माह की होती है। जबकि, इनका उपयोग एक से दो साल तक किया जाता है। सूचना के अधिकार के तहत मांगी जानकारी में बीएमएसआइसीएल ने बताया है कि दवाओं की गुणवत्ता की जांच निजी जांच प्रयोगशाला में कराई जाती है।

केंद्रीय व बिहार के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री पर एक और मुकदमा

इसके पहले भी बिहार में एईएस से बच्‍चों की लगातार हो रही मौतें व बीमारी के इलाज में लापरवाही के आरोप में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन तथा राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के खिलाफ मुजफ्फरपुर कोर्ट में परिवाद दायर किया गया है। परिवाद सोमवार को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी ( सीजेएम) सूर्यकांत तिवारी के कोर्ट में सामाजिक कार्यकर्ता तमन्ना हाशमी ने दाखिल किया है। कोर्ट ने इसपर सुनवाई के लिए 24 जून की तारीख मुकर्रर की है।

अपने परिवाद पत्र में तमन्‍ना हाशमी ने आरोप लगाया है कि उक्‍त मंत्रियों ने अपने कर्तव्य का पालन नहीं किया। जागरूकता अभियान नहीं चलाने के कारण बच्चों की मौतें हो गईं। आरोप के अनुसार बीमारी को लेकर आज तक कोई शोध भी नहीं किया गया। लापरवाही के कारण बच्चों की मौत हुई है।

मानवाधिकार आयोग ने मांगी रिपोर्ट

भयावह हालात को देखते हुए राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने केंद्र व राज्‍य सरकारों से जवाब-तलब किया है। एनएचआरसी ने मौत के आंकड़ों, बीमारी से बचाव व इसके इलाज की तैयारियों को लेकर चार सप्‍ताह में जवाब मांगा है।

जानिए बीमारी के लक्षण

एईएस के लक्षण अस्पष्ट होते हैं, लेकिन डॉक्टरों का कहना है कि इसमें दिमाग में ज्वर, सिरदर्द, ऐंठन, उल्टी और बेहोशी जैसी समस्याएं होतीं हैं। शरीर निर्बल हो जाता है। बच्‍चा प्रकाश से डरता है। कुछ बच्चों में गर्दन में जकड़न आ जाती है। यहां तक कि लकवा भी हो सकता है।
डॉक्‍टरों के अनुसार इस बीमारी में बच्चों के शरीर में शर्करा की भी बेहद कमी हो जाती है। बच्चे समय पर खाना नहीं खाते हैं तो भी शरीर में चीनी की कमी होने लगती है। जब तक पता चले, देर हो जाती है। इससे रोगी की स्थिति बिगड़ जाती है।

वायरस से होता राग, ऐसे करें बचाव

यह रोग एक प्रकार के विषाणु (वायरस) से होता है। इस रोग का वाहक मच्छर किसी स्वस्थ्य व्यक्ति को काटता है तो विषाणु उस व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर जाते हैं। बच्चे के शरीर में रोग के लक्षण चार से 14 दिनों में दिखने लगते हैं। मच्छरों से बचाव कर व टीकाकरण से इस बीमारी से बचा जा सकता है।

10 सालों में 485 से अधिक बच्चों की मौत

विदित हो कि पिछले 10 सालों के दौरान उत्तर बिहार के 485 से अधिक बच्चों की मौत एईएस या इंसेफेलौपैथी से हो गई है। वर्ष 2012 व 2014 में इस बीमारी के कहर से मासूमों की ऐसी चीख निकली कि इसकी गूंज पटना से लेकर दिल्ली तक पहुंची थी। बेहतर इलाज के साथ बच्चों को यहां से दिल्ली ले जाने के लिए एयर एंबुलेंस की व्यवस्था करने का वादा भी किया गया। मगर, पिछले दो-तीन वर्षों में बीमारी का असर कम होने पर यह वादा हवा-हवाई ही रह गया। पर इस वर्ष बीमारी अपना रौद्र रूप दिखा रही है। इस साल तो मौत का आंकड़ा 10 सालों में सर्वाधिक हो गया है।

वर्षवार एईएस से मौत, एक नजर

2010: 24

2011: 45

2012: 120

2013: 39

2014: 86

2015: 11

2016: 04

2017: 04

2018: 11

2019: 143 (अब तक)

Input : Dainik Jagran

MUZAFFARPUR

मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग काे अब व्यवहार में करें शामिल : डीएम

Published

on

मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग काे सभी लाेग अपने व्यवहार में अनिवार्य रूप से शामिल कर लें। काेराेना से अपनी सुरक्षा के लिए घबराए बिना अात्मानुशासन, साफ-सफाई व इन सबकाे सर्वोत्तम उपाय मानें। काेराेना का खतरा अभी शीघ्र खत्म हाेनेवाला नहीं है। इसे देखते हुए अब बचाव के इन्हीं सर्वोत्तम उपायों के साथ जिंदगी जीने की आवश्यकता है। ये बातें कलेक्ट्रेट सभागार में अधिकारियों के साथ काेराेना संक्रमण काे राेकने के लिए आवश्यक बैठक में डीएम डाॅ. चंद्रशेखर सिंह ने कहीं। इस दाैरान प्रखंड स्तरीय अधिकारी वीडियो कान्फ्रेंसिंग से सुन रहे थे। डीएम ने क्वारेंटाइन सेंटराें में रह रहे प्रवासियाें की सुविधा, आइसोलेशन केंद्र, कोविड केयर सेंटर, स्क्रीनिंग के साथ राशन वितरण की समीक्षा की।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

MUZAFFARPUR

समलैंगिक शादी की तैयारी कर रहीं कुढ़नी की दो लड़कियां, की गईं महिला थाने के हवाले

Published

on

कुढ़नी (मुजफ्फरपुर) : थाना क्षेत्र के एक गांव में दो लड़कियां समलैंगिक विवाह की तैयारी में थीं। स्वजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दे दी, जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और दोनों को कब्जे में लेकर उनके उम्र का सत्यापन करा रही है। हालांकि दोनों स्वयं को बालिग बता रहीं हैं। दोनों लड़कियां पड़ोसी हैं। बताया जाता है कि बचपन से दोनों का साथ रहा है। दोनो ने दसवीं तक साथ-साथ पढ़ाई की है, जिसदौरान उनकी नजदीकी बढ़ी जिसने प्रेम प्रसंग का रूप ले लिया। इस संबंध में डीएसपी पश्चिमी कृष्णमुरारी प्रसाद ने बताया कि दोनों की उम्र का सत्यापन कराया जा रहा है।

जल्द शादी की तैयारी में थीं दोनों : दोनों लड़कियां जल्द शादी की तैयारी में थीं। समलैंगिक शादी की दोनों ने जब जिद पकड़ी तो इनके स्वजन सकते में आ गए। स्वजनों ने इसकी सूचना कुढ़नी थाना पुलिस को दी। पुलिस, स्थानीय लोगो व स्वजनों ने दोनों को समझाने का भरसक प्रयास किया। लेकिन दोनों टस से मस नहीं हुईं। कुढ़नी थाना पुलिस ने इस मामले से जिला के वरीय पुलिस अधिकारियों को अवगत कराया। वरीय पुलिस अधिकारियों के निर्देश पर दोनों को मुख्यालय भेज दिया गया जहां पूछताछ के बाद दोनों को फिलहाल महिला थाना पुलिस के सिपुर्द कर दिया गया है।

स्वजनों ने पुलिस को दे दी सूचना, लड़कियों की उम्र सत्यापित करा रही पुलिस

एक की युवक जैसी वेशभूषा

जिला पुलिस मुख्यालय में पहुंची एक लड़की की वेशभूषा लड़कों जैसी थी। उसके बाल भी लड़कों जैसे कटे थे। उसने लड़कों वाले कपड़े भी पहन रखे थे। दूसरी लड़की ने कुर्ता- सलवार पहना था।

पुलिस ऑफिस में मची हलचल, सबके लिए कौतूहल : पुलिस ऑफिस में दोनों के पहुंचते ही वहां हलचल मच गई। सबके लिए दोनों कौतूहल का विषय रहीं। हालांकि दोनों गुमसुम ही रहीं। दोनों हमेशा एक दूसरे का हाथ पकड़े हुए ही रहीं।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

BIHAR

मुजफ्फरपुर स्टेशन पर मृत पाई गई मजदूर महिला के बच्चे की मदद के लिए आगे आए शाहरुख खान

Published

on

हाल ही में मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक महिला प्रवासी मजदूर के शव की चादर से उसका बच्चा खेलता नजर आ रहा था. इस घटना ने देश को हिलाकर रख दिया था और प्रवासी श्रमिकों की मुसीबत को रेखांकित करते हुए सभी को चकित कर दिया था. इस वीडियो के बाद शाहरुख खान और उनके मीर फाउंडेशन ने बच्चे की मदद और वित्तीय सहायता की पेशकश की है, जिसकी देखभाल अब दादा-दादी करेंगे.

मीर फाउंडेशन ने पोस्ट किया, “मीर फाउंडेशन उन सभी का शुक्रगुजार है, जिन्होंने उस बच्चे तक पहुंचने में हमारी मदद की, जिसके दिल दहला देने वाले वीडियो, जिसमें वह अपनी मां को जगाने की कोशिश करता है, ने सभी को झकझोर कर रख दिया. अब हम उसकी मदद कर रहे हैं और वह अपने दादा की देखरेख में है.”

वीडियो में बिहार के मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन पर एक बच्चा अपनी मृत मां के ऊपर ओढ़ाए गए चादर से खेलता नजर आ रहा है. अरविना खातून नामक 35 साल की महिला प्लेटफॉर्म पर मृत अवस्था में नजर आ रही है, और उसके सामान से भरे दो बैग भी उसके पास रखे हुए हैं. महिला और उसके दो छोटे बच्चे 25 मई को अहमदाबाद से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से आए थे.

शाहरुख खान इस कठिन समय में देश के जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए आगे रहते हैं. हाल ही में कोलकाता अम्फान चक्रवात से प्रभावित हुआ था और शाहरुख खान, अपनी पत्नी गौरी खान के साथ अपनी टीम कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ लोगों की मदद करने के लिए आगे आए.

Input : ABP News

Continue Reading
BIHAR43 mins ago

बिहार में फिर मिले 104 और कोरोना मरीज, सूबे में आंकड़ा पहुंचा 4049

BIHAR2 hours ago

बिहार में कोरोना संकट के बीच मौसम का कहर, आंधी-बारिश और वज्रपात से 8 लोगों की मौत

BIHAR3 hours ago

यादव नहीं भूमिहार की भी लड़ाई लड़ेंगे तेजस्वी, बोले.. अपराधियों की केवल एक ही जाति होती है

INDIA5 hours ago

सिर्फ एक छात्रा को परीक्षा दिलाने के लिए केरल सरकार ने चलाई 70 सीटर बोट

INDIA6 hours ago

महिला सिपाही से प्यार करना युवका को पड़ा महंगा, पहले भिजवाया जेल फिर पेड़ में बांध कर जिंदा जलाया

BIHAR6 hours ago

टॉपर्स घोटाला : किंगपिन बच्चा राय की अवैध संपत्ति जब्त होगी

INDIA6 hours ago

पत्नी ने फांसी लगा तो पति ने ट्रेन से कटकर की सुसाइड, 5 दिन पहले दोनों ने किया था लव मैरिज

MUZAFFARPUR6 hours ago

मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग काे अब व्यवहार में करें शामिल : डीएम

INDIA6 hours ago

शाम सात बजे तक ही खुलेंगे आभूषण बाजार

MUZAFFARPUR7 hours ago

समलैंगिक शादी की तैयारी कर रहीं कुढ़नी की दो लड़कियां, की गईं महिला थाने के हवाले

BIHAR3 weeks ago

जानिए- बिहार के एक मजदूर ने ऐसा क्या कहा कि दिल्ली के अफसर की आंखों में आ गए आंसू

WORLD4 weeks ago

इंडोनेशिया में घर के साथ पत्नी मुफ्त, एड ऑनलाइन हुआ वायरल

BIHAR4 weeks ago

बिहार के किस जिले में आज से क्या-क्या होगा शुरू, देंखे-पूरी लिस्ट

BIHAR4 weeks ago

बिहार के लिए हरियाणा से खुलेंगी 11 ट्रेनें, यहां देखिये गाड़ियों की पूरी लिस्ट

BIHAR3 weeks ago

बिहार के 4 जिलों के लिए मौसम विभाग का अलर्ट,वर्षा-वज्रपात और ओलावृष्टि की चेतावनी

TECH3 weeks ago

ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन

MUZAFFARPUR4 days ago

मुजफ्फरपुर आ रहें हैं सोनू सूद, कहा साइकिल से घूमेंगे पुरा मुजफ्फरपुर

BIHAR3 weeks ago

बिहार में 33916 शिक्षकों की होगी बहाली, मैथ और साइंस के होंगे 11 हजार टीचर, यहां देखिये सभी विषयों की लिस्ट

INDIA3 weeks ago

घरेलू उड़ानों के लिए बुकिंग शुरू, पर शर्तें लागू; जानें आपको फायदा मिलेगा या नहीं

INDIA2 weeks ago

भारत के 700 स्टेशनों के लिए चलेगी ट्रेन, रेल मंत्रालय ने कहा- रोज चलेंगी 300 ट्रेनें

Trending