बेटों को पढ़ाने के लिए दिन-रात सिलाई करती रही मां, दोनों बेटे एक साथ बने IAS
Connect with us
leaderboard image

INDIA

बेटों को पढ़ाने के लिए दिन-रात सिलाई करती रही मां, दोनों बेटे एक साथ बने IAS

Santosh Chaudhary

Published

on

राजस्थान के झूंझनू शहर के मोदी रोड पर रहने वाले सुभाष कुमावत और उनकी पत्नी राजेश्वरी देवी के चेहरे पर आज एक सुकून है। आंखों में एक गहराई सी है जो खुशियों से इतनी भरी है कि खुशी के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे हैं।

सुभाष सिलाई का काम करते हैं और राजेश्वरी देवी बंधेज बांधने का। उनके तीन बेटों में से दो का सिविल सर्विसेज में चयन हुआ है। 2018 यूपीएससी की ओर से घोषित परिणाम में उनके बड़े बेटे पंकज कुमावत ने 443वीं और छोटे बेटे अमित कुमावत ने 600वीं रैंक प्राप्त की। सुभाष कुमावत गुढ़ा मोड़ पर टेलरिंग का काम करते हैं। परिवार में दूसरा कोई आज तक सरकारी नौकरी में नहीं गया। पंकज कुमावत ने आईआईटी दिल्ली से मैकेनिकल में बीटेक किया। कुछ समय नोएड़ा की प्राइवेट कंपनी में नौकरी भी की। छोटे भाई अमित को भी अपने साथ रखा। उसने भी आईआईटी दिल्ली से बीटेक किया। दोनों दिल्ली में पढ़ाई करते रहे। दोनों का एक ही सपना था कि किसी भी तरह देश की इस सबसे बड़ी परीक्षा में सफल होना है। माता-पिता का सपना पूरा करना है। आज दोनों ने एक साथ यह सपना पूरा कर दिखाया।

पंकज व अमित ने बताया कि हम जानते हैं, हमें माता पिता ने कैसे पढ़ाया। हमारे लिए पढ़ना आसान था, लेकिन उनके लिए पढ़ाना बेहद मुश्किल। वे हमारी फीस, किताबों और ऐसी दूसरी चीजों का इंतजाम कैसे करते थे। इस बात को हम सिर्फ महसूस कर सकते हैं। इसका संघर्ष तो उन्होंने ही किया। घर की स्थिति कुछ खास नहीं थी। हम चार भाई बहनों को पढ़ाने के लिए मम्मी पापा सिलाई करते। घर पर रातभर जागते। मां तुरपाई करती और पापा सिलाई। वे हमेशा हमसे कहते कि तुम लोगों को पढ़कर बड़ा आदमी बनना है। यह सपना उन्होंने देखा। हमने तो बस उसे पूरा किया है।

आज परिवार की स्थिति ठीक है, लेकिन हम यही कहना चाहते हैं कि कमियों, परेशानियों और नकारात्मक चीजों को कभी आड़े नहीं आने देना चाहिए। हमारी सफलता के लिए माता पिता बड़े सपने देखते हैं उन्हें पूरा करने के लिए सबसे जरूरी केवल मेहनत होती है। इसके बाद सफलता अपने आप मिलती है।

INDIA

काम की बात : फास्टैग से कर सकेंगे पार्किंग और पेट्रोल-डीजल के बिल का भुगतान

Santosh Chaudhary

Published

on

वाहन में लगे फास्टैग से पार्किंग और पेट्रोल-डीजल की खरीदारी के बिल का भुगतान की सुविधा भी मिल सकेगी। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने इसके लिए मंजूरी दे दी है। आरबीआई की ओर से जारी नोटिफिकेशन के अनुसार सभी अधिकृत पेमेंट सिस्टम और इंट्रूमेंट्स जैसे नॉन बैंकिंग प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट, कार्ड्स और यूपीआई को नेशनल इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन (एनईटीसी) से जोड़ा जाएगा। आपको बता दें कि फास्टैग का संचालन नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) की ओर से किया जाता है।

फास्टैग से जुड़ी खास बातें

1 दिसंबर से अनिवार्य होगा फास्टैग

केंद्र सरकार ने 1 दिसंबर 2019 से पूरे देश में सभी प्रकार के मोटर वाहनों में फास्टैग को लगाना अनिवार्य कर दिया है। यह एक रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टैग है जिसे वाहन के विंडशील्ड पर लगाया जाता है।

    • जब कोई वाहन टोल प्लाजा से गुजरता है तो वहां लगे उपकरण ऑटोमैटिक तरीके से टोल टैक्स की वसूली कर लेते हैं। इससे वाहन चालकों को समय की बचत होती है।
    • एनपीसीआई के आंकड़ों के अनुसार वर्तमान में देश के 528 से ज्यादा टोल प्लाजा पर फास्टैग के जरिए टोल टैक्स की वसूली की जा रही है।

यहां से खरीद सकते हैं फास्टैग

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की ओर से संचालित टोल प्लाजा।

  • एसबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई समेत कई बैंक।
  • ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पेटीएम, अमेजन डॉट कॉम।
  • इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम के पेट्रोल पंप।
  • नेशनल हाईवे अथॉरिटी की माई फास्ट ऐप।

फास्टैग खरीदने के लिए यह कागजात चाहिए

गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट

  • गाड़ी मालिक की पासपोर्ट साइज फोटो
  • गाड़ी मालिक का केवाईसी डॉक्यूमेंट। जैसे- आईडी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ।
  • फास्ट टैग खरीदते समय इन सभी दस्तावेजों की ऑरिजनल कॉपी जरूर साथ रखें।

Input : Dainik Bhaskar

Continue Reading

INDIA

अमित शाह बोले- शिवसेना के साथ नहीं किया विश्वासघात, संख्या हो तो बनाएं सरकार

Himanshu Raj

Published

on

महाराष्ट्र में मचे सियासी संग्राम के बीच गृह मंत्री अमित शाह का बयान आया है।  अमित शाह ने महाराष्ट्र के राज्यपाल का बचाव करते हुए कहा है कि इससे पहले किसी भी राज्य को सरकार बनाने के लिए 18 दिन का समय नहीं दिया गया।

एएनआइ से बात करते हुए उन्होंने कहा कि इससे पहले किसी भी राज्य को सरकार बनाने के लिए इतना समय नहीं दिया गया था। महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए 18 दिन का समय दिया गया। राज्यपाल ने विधानसभा कार्यकाल समाप्त होने के बाद ही पार्टियों को आमंत्रित किया। तब न तो शिवसेना और न ही कांग्रेस-एनसीपी ने दावा किया और न ही हमने। अमित शाह ने कहा कि अगर आज भी किसी पार्टी के पास संख्या है तो वह राज्यपाल से संपर्क कर सकता है।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, ‘चुनाव के पहले पीएम मोदी और मैंने सार्वजनिक तौर पर कहा कि अगर हमारा गठबंधन जीता तो देवेंद्र फडणवीस सीएम होंगे। तब किसी को आपत्ति नहीं हुई। अब वह एक नई मांग को लेकर आ गए हैं, जो हमें स्वीकार नहीं है।’

महाराष्ट्र में लगे राष्ट्रपति शासन पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि इश मुद्दे पर विपक्ष राजनीति कर रहा है। एक संवैधानिक पद को इस तरह राजनीति के लिए घसीटना लोकतंत्र के लिए स्वस्थ परंपरा नहीं है। अगर किसी के पास संख्या है तो वह राज्यपाल से संपर्क कर सकता है। राज्यपाल ने किसी को भी मौका देने से इनकार नहीं किया है।

Input: Dainik Jagran

Continue Reading

INDIA

JNU में छात्रों की जीत, सरकार ने कहा- नहीं बढ़ेगी कोई फीस, क्लास में वापस जाओ

Himanshu Raj

Published

on

जेएनयू कार्यकारी समिति ने छात्रावास शुल्क और अन्य वजीफा में प्रमुख रोल-बैक की घोषणा कर दी है। साथ ही आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (EWS) के छात्रों को आर्थिक सहायता के लिए एक योजना भी प्रस्तावित की है।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के शिक्षा सचिव, आर सुब्रह्मण्यम ने बताया कि जेएनयू कार्यकारी समिति ने छात्रावास शुल्क और अन्य वजीफा में प्रमुख रोल-बैक की घोषणा की। इसके अलावा उन्होंने बताया कि आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (EWS) के छात्रों को आर्थिक सहायता के लिए एक योजना प्रस्तावित की गई है।

दरअसल, जेएनयू में छात्रावास का किराया 20 रुपये से 30 गुना बढ़ाकर 600 रुपये और मेस का सुरक्षा शुल्क 5,500 रुपये से लगभग दोगुना बढ़ाकर 12,000 रुपये कर दिया गया था। इसके अलावा छात्रों से हर माह 1700 रुपये अतिरिक्त सेवा शुल्क के रूप में देने को कहा गया था जो छात्र पहले नहीं देते थे। यह साफ-सफाई और मेंटेनेंस के नाम पर मांगा गया था। पहले इस तरह का कोई शुल्क छात्रों से नहीं लिया जाता था। विश्वविद्यालय के छात्रों का कहना था कि छात्रावास में कर्फ्यू का माहौल बना दिया गया। नियम इतने अधिक सख्त कर दिए गए कि छात्र पढा़ई करने की जगह फाइन दिए जा रहे थे।

हॉस्टल फीस वृद्धि के विरोध में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्रों का विरोध प्रदर्शन बुधवार को तीसरे दिन तक जारी थी। छात्रों के प्रदर्शन को देखते हुए जेएनयू में सादी वर्दी में पुलिस बल भी मौजूद रहे। विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्र विश्वविद्यालय के कुलपति एम.जगदीश कुमार के साथ बैठक करने की मांग पर अड़े हुए थे।

Input: Live Hindustan

Continue Reading
Advertisement
MUZAFFARPUR16 mins ago

बा’लिका गृ’ह कां’ड में साकेत को’र्ट आज सुना सकता है फै’सला

BIHAR29 mins ago

अब बिहार में छह दिनों में जन्म व मृत्यु प्रमाणपत्र

MUZAFFARPUR49 mins ago

कटरा में दु’ष्क’र्म पी’ड़िता काे नहीं मिली महिला थाने में मदद, बच्चा है फिर भी मांगा जा रहा है गवाह

INDIA10 hours ago

काम की बात : फास्टैग से कर सकेंगे पार्किंग और पेट्रोल-डीजल के बिल का भुगतान

BIHAR11 hours ago

महागठबंधन व वामदलों ने निकाला आ’क्रोश मार्च, तेजस्वी नहीं हुए शामिल

MUZAFFARPUR11 hours ago

अ’पराधियों पर कहर बनकर बरसे एसएसपी जयंतकांत

INDIA11 hours ago

अमित शाह बोले- शिवसेना के साथ नहीं किया विश्वासघात, संख्या हो तो बनाएं सरकार

BIHAR11 hours ago

केबीसी के इस सीजन में पहली बार बिहार के तीन लोग एक करोड़ रुपए जीते चुके हैं

TRENDING11 hours ago

अटूट आस्था : राम मंदिर के पक्ष में फैसला आने पर 27 साल बाद 81 वर्षीय महिला ने तोड़ा व्रत

INDIA11 hours ago

JNU में छात्रों की जीत, सरकार ने कहा- नहीं बढ़ेगी कोई फीस, क्लास में वापस जाओ

INDIA4 weeks ago

तेजस एक्सप्रेस की रेल होस्टेस को कैसे परेशान कर रहे लोग?

BIHAR3 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

BIHAR2 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के नदीम का भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम में चयन, जश्न का माहौल

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के लाल शाहबाज नदीम का क्रिकेट देखेगा पूरा विश्‍व, भारतीय टीम में शामिल होने पर पिता ने कही बड़ी बात

BIHAR2 weeks ago

मदीना पर आस्‍था तो छठी मइया पर भी यकीन, 20 साल से व्रत कर रही ये मुस्लिम महिला

BIHAR2 weeks ago

प्रत्यक्ष देवता की अनूठी अराधना का पर्व है छठ व्रत, जानें अनूठी परंपरा के बारे में कुछ खास बातें

MUZAFFARPUR3 weeks ago

धौनी ने नदीम से मिलकर कहा, गेंदबाजी एक्शन ही तुम्हारी पहचान

BIHAR4 weeks ago

अगले 10 दिनों तक भगवानपुर – घोसवर रेल मार्ग रहेगी बाधित, जाने कौन कौन सी ट्रेनें रहेंगी रद्द

RELIGION4 weeks ago

कब से शुरू हुई छठ महापर्व मनाने की परंपरा, जानिए पौराणिक बातें

Trending