Connect with us

INDIA

भारतीय रेलवे में 1.40 लाख पदों पर भर्ती के लिए 15 दिसंबर से शुरू होंगी परीक्षाएं: रेलवे बोर्ड

Muzaffarpur Now

Published

on

भारतीय रेलवे में रुकी पड़ी भर्ती प्रक्रिया 15 दिसंबर से चालू हो जाएगी। इसके तहत अलग-अलग श्रेणी में कुल 1.42 लाख पदों पर भर्ती के लिए परीक्षाओं का आयोजन होगा। इन परीक्षाओं में लगभग ढाई करोड़ परीक्षार्थी हिस्सा लेंगे। कंप्यूटर आधारित भर्ती परीक्षाओं की तैयारियां युद्ध स्तर पर चालू हो गई हैं। रेलवे की ओर से भर्ती परीक्षा प्रक्रिया की अधिसूचना जारी कर दी गई है।

ढाई करोड़ परीक्षार्थी शामिल होंगे

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि कोरोना के प्रकोप की वजह से भर्ती प्रक्रिया ठप हो गई थी, जिसे अब शुरू किया जाएगा। उन्होंने इस भर्ती प्रक्रिया को चुनौतीपूर्ण बताते हुए कहा कि ढाई करोड़ लोगों को परीक्षा केंद्रों तक पहुंचाना और फिर उनकी घर वापसी एक बड़ा अभियान होगा। कोशिश यह है कि परीक्षार्थियों को उनके जिले में अथवा आसपास की जगहों पर ही परीक्षा केंद्र उपलब्ध करा दिया जाए।

तीन श्रेणी के पदों के लिए मांगे गए थे आवेदन

रेलवे में इस भर्ती प्रक्रिया के लिए आवेदन 2018 में मांगे गए थे। तब से अलग-अलग वजहों से चयन प्रक्रिया बाधित होती रही। इस भर्ती प्रक्रिया में कुल तीन श्रेणी के पदों के लिए आवेदन मांगे गए थे, जिनके लिए 15 दिसंबर से परीक्षा होने जा रही है। इनमें पहली श्रेणी के पद नॉन टेक्निकल पॉपुलर कैटेगरी (एनटीपीसी) में गार्ड, ऑफिस क्लर्क व कॉमर्शियल क्लर्क आदि हैं, जिसमें कुल 35208 पद हैं। दूसरा आइसोलेटेड एंड मिनिस्टीरियल कैटेगरी के पद हैं, जिनमें स्टेनो आदि हैं। इस कैटेगरी में कुल 1663 पद हैं।तीसरी कैटेगरी लेवल वन की है, जिसमें सर्वाधिक 1,03,769 पद हैं। इसमें ट्रैक मेंटेनर्स व प्वाइंट्स मैन आदि हैं।

परीक्षाओं के दौरान स्वास्थ्य सुरक्षा के मानकों का पालन अनिवार्य 

रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड (आरआरबी) ने आवेदकों की प्राथमिक जांच परख पूरी कर ली है। अब उनकी कंप्यूटर आधारित परीक्षा होनी है।रेलवे बोर्ड चेयरमैन यादव ने कहा कि कोरोना के प्रकोप को देखते हुए बोर्ड के कामकाज रोक दिए गए थे। अब नीट व जेईई जैसी बड़ी परीक्षाओं के आयोजन को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने भी अपनी चयन प्रक्रिया शुरू का फैसला किया है। परीक्षाओं के दौरान स्वास्थ्य सुरक्षा के मानकों का पालन अनिवार्य होगा। केंद्र व राज्य एजेंसियों को विशेष एहतियात बरतने का निर्देश दिया गया है।

मुजफ्फरपुर नाउ टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है। यहां क्लिक करके आप सब्सक्राइब कर सकते हैं।

INDIA

राजस्थान छोड़कर जम्मू-कश्मीर जाना चाहते हैं IAS टीना डाबी के पति अतहर, लगाई तबादले की अर्जी

Muzaffarpur Now

Published

on

यूपीएससी परीक्षा टॉप करने वाली 2015 बैच की आईएएस अधिकारी टीना डाबी से तलाक लेने के लिए जयपुर के फैमिली कोर्ट अर्जी लगाने वाले आईएएस अधिकारी अतहर खान ने जम्मू-कश्मीर में डेपुटेशन पर जाने के लिए आवेदन किया है। उनका आवेदन अभी केंद्रीय गृह मंत्रालय में लंबित पड़ा है। अतहर खान भी 2015 बैच के आईएएस है।

Kashmiri bahu ias topper Tina Dabi husband Athar Aamir divorce कश्मीरी बहू  टीना डाबी पति अतहर आमिर से होंगी अलग, तलाक की अर्जी में कहा- अब साथ रहना  मुश्किल

आईएएस दंपत्ति के बीच आई दरार को लेकर सोशल मीडिया से लेकर ब्यूरोक्रेसी में कई तरह की कहानियां चल रही हैं। सूत्रों का कहना है कि गृह राज्य जाने के लिए अतहर खान के आवेदन करने के बाद ही दोनों के बीच दरारें और बढ़ गई। दो दिन से टीना डाबी और अतहर खान सुर्खियों में हैं। दो साल पहले जब दोनों ने शादी की थी तब सुर्खियों में थे और अब जब तलाक ले रहे हैं तो भी सुर्खियों में छाए हुए हैं। दिलचस्प यह है कि कई मुस्लिम देशों में दोनों गूगल में सर्च किए जा रहे हैं। शुक्रवार को तो राजस्थान कैडर के ये आईएएस दंपत्ति सोशल मीडिया पर ट्रेंड होते रहे।

आवास के लिए अलग-अलग आवेदन किए

हाउसिंग बोर्ड की ओर से आईएएस अफसरों के लिए एक सोसाइटी बनाई गई हैं, जिसमें प्लाट लेने के लिए दोनों ही अफसरों ने अलग-अलग आवेदन किया था। तभी से ही यह अंदाजा लगाया जा रहा था कि दोनों के बीच सब कुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा है।

2015 IAS batch toppers Tina Dabi, Athar Khan file for divorce in Jaipur's  family court

दो दिन पहले ही टीना का हुआ था तबादला, जिस पर लगी रोक

दो दिन पहले ही टीना डाबी का तबादला श्रीगंगानगर से सचिवालय में वित्त विभाग में हुआ था, जिस पर राज्य निर्वाचन आयोग ने रोक लगा दी है। यह भी चर्चा है कि दोनों के बीच हुए विवाद की शिकायत सरकार तक भी पहले ही पहुंच चुकी थी, जिसके बाद ही दोनों को जुलाई में भीलवाड़ा से तबादला हुआ था।

अलग-अलग जिलों में किया गया था डेपुटेशन

सेंट्रल डेपुटेशन पर जाने के लिए 9 साल, किसी दूसरे केंद्र शासित प्रदेश में जाने के लिए 7 साल, जबकि जम्मू-कश्मीर में जाने के लिए केवल 5 साल का ही अनुभव चाहिए। अतहर का 5 साल का अनुभव दिसंबर में पूरा हो जाएगा।

Source : Hindustan

Continue Reading

INDIA

निजीकरण के विरोध में इन बैंकों में रहेगी हड़ताल, जानिए कब से कब तक कार्य रहेगा प्रभावित

Ravi Pratap

Published

on

सेंट्रल ट्रेड यूनियन के आह्वान पर 26 नवंबर को बैंकों में हड़ताल रहेगी। सभी व्यावसायिक और ग्रामीण बैंकों में काम ठप रहेगा। हालांकि भारतीय स्टेट बैंक ने खुद को हड़ताल से अलग रखा है। ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन के संयुक्त सचिव डीएन त्रिवेदी ने कहा कि ऑल इंडिया बैंक इंपलाइज एसोसिएशन, ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन, बैंक इंपलाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया और यूनाइटेड फोरम ऑफ ग्रामीण बैंक यूनियन के बैंक प्रबंधन आंदोलन में शामिल होंगे।

स्टेट बैंक का यूनियन एनसीबीई और भारतीय मजदूर संघ का बैंक यूनियन नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक ऑफिसर्स ने भी हड़ताल का नैतिक समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि सेंट्रल ट्रेड यूनियन की सामान्य मांगों के अतिरिक्त बैंक यूनियनों ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण का प्रस्ताव वापस लेने, बैंकों में जमा राशि पर ब्याज बढ़ाने, कॉरपोरेट घरानों से एनपीए ऋण की वसूली के लिए सख्त कार्रवाई करने, अस्थायी कर्मियों का नियमितीकरण, आउटसोर्सिंग पर प्रतिबंध, खाली पदों पर अविलंब नियुक्ति, 31 मार्च 2010 के बाद योगदान करने वाले बैंककर्मियों के लिए एनपीएस के बजाय पुरानी पेंशन योजना का कार्यान्वयन और ग्रामीण बैंकों में प्रायोजक व्यावसायिक बैंकों के साथ ही 11वें द्विपक्षीय वेतन समझौता को एक नवंबर 2017 के प्रभाव से लागू करने संबंधी 10 सूत्री मांगों को लेकर बैंककर्मी 26 नवंबर को हड़ताल करेंगे।

26 को ट्रेड यूनियन की हड़ताल

केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के संयुक्त आह्वान पर 26 नवंबर को प्रस्तावित हड़ताल की तैयारी को लेकर हरिसभा चौक स्थित कार्यालय में भाकपा माले की बैठक हुई। जिला सचिव कृष्णमोहन ने कहा कि सरकार देश की संपत्ति कॉरपोरेट घरानों को दे रही है। मजदूर, कर्मचारियों, कम आय के लोगों पर हमले कर रही है और उनके अधिकार खत्म कर देना चाहती है। बैठक में एक्टू के जिला संयोजक मनोज कुमार यादव, रसोइया संघ के जिला सचिव परशुराम पाठक, वीरेंद्र चौधरी, मो. करीम, आमोद पासवान, सुरेश राम, सुलेखा देवी, चंदेश्वर भगत, राजेश राम, उमेश दास आदि शामिल थे।

Input: Dainik Jagran

Continue Reading

INDIA

कांग्रेस नेता अहमद पटेल का निधन, कोरोना पॉजिटिव होने के बाद एक महीने से थे अस्पतला में भर्ती

Ravi Pratap

Published

on

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल का निधन हो गया है. अहमद पटेल एक महीना पहले कोरोना से संक्रमित हुए थे. इसके बाद उनका इलाज चल रहा था. अहमद पटेल के बेटे फैजल पटेल ने ट्वीट कर कहा कि उनके पिता अहमद पटेल का आज सुबह 3 बजकर 30 मिनट पर निधन हो गया है. जानकारी के मुताबिक अहमद पटेल का गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में इलाज चल रहा था. इसी अस्पताल में उनका निधन हुआ है.

फैजल पटेल ने ट्वीट कर कहा कि वे बेहद दुख के साथ अपने पिता अहमद पटेल की दुखद और असामयिक मृत्यु की घोषणा कर रहे हैं. फैजल पटेल ने कहा कि 25 तारीख को सुबह 3.30 पर उनके पिता का निधन हो गया. फैसल पटेल ने कहा कि लगभग एक महीना पहले उनके पिता कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इलाज के दौरान उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया और वे मल्टी ऑर्गन फेल्यिोर के शिकार हो गए. फैजल पटेल ने कहा कि गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने आखिरी सांस ली.

फैजल पटेल ने लोगों से अपील की है कि सभी लोग कोरोना से जुड़े प्रोटोकॉल का पालन करें और भीड़ भाड़ में जाने से बचें.

गुजरात से राज्यसभा सांसद और कांग्रेस पार्टी के कोषाध्यक्ष रहे अहमद पटेल को 15 नवंबर को मेदांता अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था.

एक अक्टूबर को अहमद पटेल ने एक ट्वीट कर खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी थी. तब दिग्गज कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा था कि ‘मैं कोरोना पॉजिटिव हुआ हूं, मैं निवेदन करता हूं कि जो मेरे नजदीकी संपर्क में आएं है वे खुद को आइसोलेट कर लें.”

71 साल के अहमद पटेल तीन बार लोकसभा के सदस्य रहे हैं और 5 बार राज्यसभा के सांसद रहे हैं. अगस्त 2018 में उन्हें कांग्रेस पार्टी का कोषाध्याक्ष नियुक्त किया गया था. पहली बार 1977 में 26 साल की उम्र में भरूच से लोकसभा का चुनाव जीतकर अहमद पटेल संसद पहुंचे थे. हमेशा पर्दे के पीछे से राजनीति करने वाले अहमद पटेल कांग्रेस परिवार के विश्वस्त नेताओं में गिने जाते थे. वे 1993 से राज्यसभा सांसद थे.

Input: Aaj Tak

Continue Reading
BIHAR3 mins ago

स्पीकर बनने पर विजय कुमार सिन्हा को सुशील मोदी ने दी बधाई, कहा- लालू की साजिश को एनडीए ने नाकाम कर दिया

BIHAR7 mins ago

बिहार विधानसभा के नए अध्यक्ष बने विजय कुमार सिन्हा, पक्ष में मिले 126 मत

BIHAR5 hours ago

बेटी की शादी के लिए जमीन बेच रहा था पिता, नाराज बेटे ने आंखें निकालकर ले ली जान

BIHAR5 hours ago

विधान सभा सत्र का तीसरा दिन, बाहुबली विधायक अनंत सिंह ने किया शपथ ग्रहण

BIHAR5 hours ago

बिहार में गुड गवर्नेंस पर फोकस, फील्ड में लोगों से मिलकर आला अधिकारी सुनेंगे उनकी शिकायतें

MUZAFFARPUR5 hours ago

सख्ती:शहरी क्षेत्र में ढंक कर ही हो सकते निर्माण कार्य, गिट्टी-मिट्टी की ढुलाई भी बिना ढंके नहीं

BIHAR5 hours ago

बिहार में सर्दी का सितम चालू आहे, नवंबर में ही ठंड ने कंपाया

BIHAR5 hours ago

जेल से विधानसभा पहुंचे बाहुबली विधायक अनंत सिंह, स्पीकर की वोटिंग में होंगे शामिल

BIHAR5 hours ago

बिहार में CM नीतीश की महत्वाकांक्षी नल-जल योजना में अब 24 घंटे में दूर होंगी शिकायतें

INDIA5 hours ago

राजस्थान छोड़कर जम्मू-कश्मीर जाना चाहते हैं IAS टीना डाबी के पति अतहर, लगाई तबादले की अर्जी

BIHAR6 days ago

सात समंदर पार रूस से छठ करने पहुंची विदेशी बहू

WORLD1 week ago

संयुक्त राष्ट्र की शाखा ने चेताया- 2020 से भी ज्यादा खराब होगा साल 2021, दुनिया भर में पड़ेगा भीषण अकाल

INDIA4 weeks ago

JEE MAINS का टॉपर गिरफ्तार, परीक्षा में दूसरे को बैठाकर पाए थे 99.8 % अंक

BIHAR2 days ago

खाक से फलक तक : 18 साल की उम्र में घर से भागे, मजदूरी की, और अब हैं बिहार के मंत्री

TRENDING3 days ago

यात्री नहीं मिलने से पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्‍सप्रेस हो जाएगी बंद

BIHAR6 days ago

एम्स से दीघा तक एलिवेटेड रोड पर आज से परिचालन शुरू, कोइलवर पुल पर आज ट्रायल रन

INDIA1 week ago

मिट्टी से भरी ट्रॉली खाली करते वक्त अचानक गिरने लगे सोने-चांदी के सिक्के, लूटकर भागे लोग

TRENDING2 weeks ago

ठंड से ठिठुर रहा था भिखारी, DSP ने गाड़ी रोकी तो निकला उन्हीं के बैच का ऑफिसर

BIHAR2 weeks ago

जीत की खुशी में पटाखा जलाने पर BJP नेता के बेटे की पीट-पीटकर हत्या, शव पेड़ पर लटकाया

BIHAR4 weeks ago

झूठा साबित हुआ लिपि सिंह का आरोप, भीड़ ने नहीं पुलिस ने की थी फायरिंग, CISF की रिपोर्ट से खुलासा

Trending