मुजफ्फरपुर के SKMCH में हो सकता है AIIMS जैसा हादसा, सबक नहीं ले रहा स्वास्थ विभाग
Connect with us
leaderboard image

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर के SKMCH में हो सकता है AIIMS जैसा हादसा, सबक नहीं ले रहा स्वास्थ विभाग

Ravi Pratap

Published

on

दिल्ली के एम्स में लगी भीषण आग की घटना से बिहार का स्वास्थ्य विभाग सबक नहीं ले रहा है. मुजफ्फरपुर के भी सदर अस्पताल व एसकेएमसीएच में लगातार शॉर्ट सर्किट की घटनाएं होती रहती हैं. इसके बाद भी वार्डों में मरीजों के सिर पर झूलते जर्जर तारों को ठीक नहीं किया जा रहा है.

उत्तर बिहार के सबसे बड़े अस्पताल एसकेएमसीएच के महिला वार्ड की ऊपरी मंजिल के वार्ड में बिजली आपूर्ति नहीं थी. लोड नहीं लेने के कारण पंखे नहीं चल रहे थे. अस्पताल कर्मियों की मानें तो जुलाई में बारिश से सदर अस्पताल के सभी वार्डों की वायरिंग में पानी घुस गया था. इस कारण खराबी आ गई है. इलाज करा रहे मरीज के परिजन ने बताया कि बिजली आ ही नहीं रही है. इस कारण पंखे नहीं चल रहे हैं.पू छने पर अस्पताल कर्मी कहते हैं कि तार ठीक नहीं है.

इसी तरह महिला वार्ड व सामान्य वार्ड में कई बेड के ऊपर खुले तार लटकते रहते हैं. हालांकि, इसको मुख्य स्वीच से कनेक्ट नहीं किया गया है. यहां शॉर्ट सर्किट की समस्या होती है. महिला वार्ड के ऑपरेशन थियेटर के मुख्य दरवाजे के ऊपर बिजली वायरिंग जली हुई है. इसके जरिए ही बिजली आपूर्ति हो रही है. प्रसव वार्ड के दरवाजे के ऊपर भी यही हाल है. यहां चार माह पूर्व शॉर्ट सर्किट से आग लग गई थी.

आईसीयू की वायरिंग ठीक है. लेकिन इसके सामने दवा स्टोर के दरवाजे की दीवार के पास मेन स्वीच के तार लटक रहे हैं. सामान्य ऑपरेशन थियेटर के मुख्य दरवाजे की दीवार के बगल में नाले से बिजली का तार सटा हुआ है. अधीक्षक प्रकोष्ठ से सटे ओपीडी कक्षों व प्रसव वार्ड में कई तार लटकते मिले. यहां हर रोज 12 सौ मरीज और उनके परिजन आते हैं.

इस तरह मेडिसीन वार्ड के गलियारे व अंदर दोनों वार्ड में ज्यादातर वायरिंग खराब हो चुकी है. बोर्ड में यदि मोबाइल चार्ज करने या कूलर चलाने के लिए प्लग लगाया जाता है तो चिंगारी निकलती है. कमोबेश यही हाल अन्य वार्डों का भी है. इस तरह की स्थिति ईएनटी जाने के लिए सीढ़ी के पास की है. यहां वायरिंग देखने से ही लगता है कि वर्षों पुराना है.

बर्न वार्ड में भी इस तरह की बदइंतजामी है. अस्पताल कर्मियों ने कहा कि इमरजेंसी से लेकर अन्य वार्डों में लगी कई महंगी मशीनों पर खतरा है. इलाज के लिए मशीनें चालू की जाती हैं तो बोर्ड में प्लग को दबाकर लगाना पड़ता है.

वही अधीक्षक सुनील कुमार शाही ने बताया कि कई बार बिजली वायरिंग को लेकर विभाग को सूचना दी जा चुकी है. इसके बाद भी पहल नहीं हो रही है. मरीजों की सुरक्षा का हवाला देकर भी कई पत्र बिजली विभाग को लिखे जा चुके है. अपितु काम नहीं हो रहा है, तो इसमें क्या किया जा सकता है.

एसकेएमसीएच में पीआईसीयू व ऑपरेशन थियेटर को छोड़कर लगभग सभी 16 वार्डों में बिजली वायरिंग सही नहीं है. इस तरह की स्थिति सदर अस्पताल की भी है. सदर अस्पताल का हाल यह है कि सामान्य ऑपरेशन थियेटर में तार झूल रही है. सबसे खराब स्थिति महिला वार्ड की है. जर्जर वायरिंग से भविष्य में कभी कोई बड़ा हादसा हो सकता है.

रिपोर्ट : अभय राज

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर में बढ़ रहा डेंगू का प्रकोप, डॉक्टर भी बन रहे मरीज

Ravi Pratap

Published

on

डेंगू (Dengue) का प्रकोप अब जिले के साथ आस-पास के क्षेत्रों में तेजी से बढ़ रहा है। इसकी चपेट में डॉक्टर व मेडिकल छात्र (Medical Students) भी आने लगे हैं। गुरुवार को एक डॉक्टर (Doctor) में डेंगू की पुष्टि हुई, जबकि एसकेएमसीएच (SKMCH) के दो मेडिकल छात्रों में भी इससे मिलता लक्षण (Symptoms) पाया गया है। एसकेएमसीएच में गुरुवार को अहियापुर के अभय कुमार (17), लक्ष्मण साह (40), अर्जुन कुमार (30), मनीष कुमार (23) एवं बबन साह (60) समेत मीनापुर व बोचहां से डेंगू के 13 संदिग्ध मरीज (Suspected patient) इलाज के लिए पहुंचे। इसमें चार को भर्ती किया गया।

 

वहीं, माइक्रोबायोलॉजी विभाग (Microbiology Department) से मिली जानकारी के अनुसार, जांच में छह नए मरीज की पुष्टि हुई है। इससे डेंगू पीड़ित मरीजों की संख्या 186 पर पहुंच गई है। यह रिपोर्ट मंगलवार की है। जबकि बुधवार को दो दर्जन से अधिक संदिग्ध मरीजों से लिए गए ब्लड सैंपल को जांच के लिए आरएमआरआइ, पटना भेजा गया है। क्योंकि वायरोलॉजी लैब में जांच के लिए कीट अनुपलब्ध था। हालांकि गुरुवार की देर शाम कीट की आपूर्ति होने की बात कही गई।

वहीं, माइक्रोबायोलॉजी विभाग (Microbiology Department) से मिली जानकारी के अनुसार, जांच में छह नए मरीज की पुष्टि हुई है। इससे डेंगू पीड़ित मरीजों की संख्या 186 पर पहुंच गई है। यह रिपोर्ट मंगलवार की है। जबकि बुधवार को दो दर्जन से अधिक संदिग्ध मरीजों से लिए गए ब्लड सैंपल को जांच के लिए आरएमआरआइ, पटना भेजा गया है। क्योंकि वायरोलॉजी लैब में जांच के लिए कीट अनुपलब्ध था। हालांकि गुरुवार की देर शाम कीट की आपूर्ति होने की बात कही गई।

इन मरीजों में हुई डेंगू की पुष्टि

एसकेएमसीएच के वायरोलॉजी विभाग में जांच रिपोर्ट के तहत डॉ. राज लक्ष्मी, पुरानी बाजार के अंजली कुमारी, गोबरसही के अनिल कुमार, पारु चिंतावनपुर के गजेंद्र कुमार, मुशहरी रोहुआ के सुमन देवी के साथ डॉक्टर कालोनी के नीरज कुमार में डेंगू की पुष्टि जांच रिपोर्ट से हुई है।

मालूम हो कि एसकेएमसीएच के साथ ही निजी अस्पतालों में भी डेंगू के मरीज निरंतर पहुंच रहे हैं। जिला वेक्टर जनित रोग पदाधिकारी डॉ.सतीश कुमार ने बताया कि बीमारी से बचाव के लिए लगातार फॉगिंग की जा रही है। इन मरीजों की जांच व इलाज की मुफ्त व्यवस्था उपलब्ध है।

Input : Dainik Jagran

 

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर की बेटी शिवांगी होंगी नौसेना की पहली महिला पायलट

Santosh Chaudhary

Published

on

-shivangi-first-woman-pilot-of-navy

भारतीय नौसेना पायलट की फेहरिस्त में जल्द ही एक महिला अधिकारी शिवांगी का नाम शामिल होने जा रहा है। वह नौसेना की पहली महिला पायलट होंगी। बताया जा रहा है कि आगामी दो दिसंबर को सब लेफ्टिनेंट शिवांगी नौसेना को ज्वाइन करेंगी। वह एक निगरानी विमान उड़ाएंगी। उन्हें कोच्चि में तैनात किया जाएगा।

-shivangi-first-woman-pilot-of-navy

गौरतलब है कि निगरानी विमान कम दूरी के समुद्री मिशन पर भेजे जाते हैं। इसमें एडवांस सर्विलांस राडार, इलेक्ट्रॉनिक सेंसर और नेटवर्किंग जैसे कई शानदार उपकरण मौजूद रहते हैं। इनके दम पर यह विमान भारतीय समुद्र क्षेत्र पर निगरानी रखता है।

इसी साल भावना कांत भारतीय वायुसेना की पहली महिला पायलट बनी थीं, जिन्होंने फाइटर जेट उड़ाने के लिए क्वालिफाई किया था। इससे पहले 2016 में भावना कांत, अवनी चतुर्वेदी और मोहाना सिंह को भारतीय वायुसेना में पायलट के तौर पर तैनाती मिली थी।

कौन हैं लेफ्टिनेंट शिवांगी

सब लेफ्टिनेंट शिवांगी भारतीय नौसेना की पहली महिला पायलट होंगी. शिवांगी दो दिसंबर को फिक्स्ड विंग डोर्नियर सर्विलांस विमानों की प्लेन उड़ाएंगी. शिवांगी कोच्चि में ऑपरेशन ड्यूटी में शामिल होंगी.

शिवांगी की ट्रेनिंग दक्षिणी कमान में चल रही है. ट्रेनिंग पूरी करने के बाद दो दिसंबर को शिवांगी नौसेना में अपनी कमान संभालेंगी. शिवांगी भारतीय नौसेना में शामिल होने वाली पहली महिला पायलट होंगी.

शिवांगी बिहार के मुजफ्फरपुर से हैं और उन्होंने यहां डीएवी पब्लिक स्कूल से पढ़ाई की है. शिवांगी ने 12वीं तक की पढ़ाई डीएवी-बखरी से की है.

इसके बाद शिवांगी ने सिक्किम मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से बीटेक किया है. भारतीय नौसेना अकादमी में शिवांगी को 27 एनओसी कोर्स के तहत एसएसी (पायलट) के तौर पर शामिल किया गया था.

शिवांगी को पिछले साल जून में वाइस एडमिरल ए.के. चावला ने औपचारिक तौर पर उन्हें कमीशन किया था. बता दें कि इसी साल भावना कांत भारतीय वायुसेना की पहली महिला पायलट बनी थीं.

 

Continue Reading

MUZAFFARPUR

ब्रजेश को सं’रक्षण देने वाले जे’ल अधी’क्षक पर गि’री गा’ज

Santosh Chaudhary

Published

on

पटना/मुजफ्फरपुर : बा’लिका गृ’ह कां’ड के मु’ख्य आ’रोपित ब्रजेश ठाकुर को खुदीराम बोस केंद्रीय का’रा में रहने के दौरान सं’रक्षण देने व नि’यमों का उ’ल्लंघन कर जे’ल अस्प’ताल में रखने के मा’मले में त’त्कालीन जे’ल अ’धीक्षक राजीव कुमार झा पर सरकार की गा’ज गि’री है। गृ’ह (का’रा) वि’भाग ने राजीव कुमार के खि’लाफ आ’रोप सही पाए जाने के बाद वि’भा’गीय का’र्यवा’ही चलाने का फै’सला लिया है।

जानकारी के अनुसार, वर्तमान में सहायक कारा महानिरीक्षक के पद पर तैनात राजीव कुमार झा पर आरोप है कि मुजफ्फरपुर के खुदीराम बोस केंद्रीय कारा में बंद बालिका गृह कांड के मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर की उन्होंने नियमों का उल्लंघन करते हुए मदद की। 11 अगस्त 2018 को जेल में छापेमारी की गई थी। इस दौरान प्रशासन को 12 मोबाइल, चार मोबाइल चार्जर, तीन सिम कार्ड और भारी मात्र में नशीली एवं प्रतिबंधित दवाएं मिलीं। इतना ही नहीं छोटे-छोटे कारणों से यहां बंद कैदियों को लंबे समय तक बार-बार जेल अस्पताल में नियम विरुद्ध रखे जाने और ब्रजेश ठाकुर को अनुचित तरीके से जेल अस्पताल वार्ड में रखने की जानकारी भी प्राप्त हुई। सरकार ने जेल अधीक्षक के इस व्यवहार को सरकारी नियमावली के विरुद्ध माना और उनके खिलाफ कार्यवाही के आदेश दिए हैं। विभाग ने तिरहुत प्रमंडल के आयुक्त को जांच पदाधिकारी नियुक्त किया है।

  • केंद्रीय कारा के तत्कालीन जेल अधीक्षक राजीव कुमार पर चलेगी विभागीय कार्यवाही
  • गृह विभाग ने तिरहुत प्रमंडल के आयुक्त को नियुक्त किया है जांच पदाधिकारी

20 पर चल रहा मुकदमा

बालिका गृह का संचालन ब्रजेश ठाकुर द्वारा किया जा रहा था। पिछले साल जुलाई में कई बच्चियों से दुष्कर्म व यौन उत्पीड़न का मामला सामने आया था। मामले के तूल पकड़ने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया था। इस मामले में मुख्य अभियुक्त ब्रजेश ठाकुर सहित कुल 20 लोगों पर पॉक्सो समेत विभिन्न धाराओं में मुकदमा चल रहा है। अभियुक्तों में बालिका गृह के कर्मचारी और समाज कल्याण विभाग बिहार के अधिकारी भी शामिल हैं।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
Advertisement
INDIA1 hour ago

नहीं होगा रेलवे का निजीकरण, कुछ सेवाओं को किया गया आउटसोर्स : पीयूष गोयल

MUZAFFARPUR2 hours ago

मुजफ्फरपुर में बढ़ रहा डेंगू का प्रकोप, डॉक्टर भी बन रहे मरीज

chief-justice-ranjan-gogoi
INDIA4 hours ago

पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने रिटायरमेंट के दो दिन बाद ही खाली किया अपना लुटियंस वाला बंगला

INDIA4 hours ago

बत्ती हुई गुल तो फिक्र न करें, बिना बिजली के भी 6 घंटे तक जलेगा ये इनवर्टर बल्ब!

-shivangi-first-woman-pilot-of-navy
MUZAFFARPUR8 hours ago

मुजफ्फरपुर की बेटी शिवांगी होंगी नौसेना की पहली महिला पायलट

MUZAFFARPUR10 hours ago

ब्रजेश को सं’रक्षण देने वाले जे’ल अधी’क्षक पर गि’री गा’ज

BIHAR11 hours ago

गांधी सेतु के समानांतर पीपा पुल फिर से हुआ चालू

INDIA12 hours ago

मच्छरों की अब खैर नहीं, ड्रोन से मा’रे जायेंगे डेंगू मच्छर

BIHAR13 hours ago

बिहार में मुर्गे की ह’त्या के आ’रोप में 7 लोगों के खि’लाफ केस दर्ज, मा’मले की छा’नबीन में जुटी पुलिस

MUZAFFARPUR1 day ago

मुज़फ़्फ़रपुर : नाबालिग से सामू’हिक दु’ष्कर्म के बाद आरो’पी घूम रहे खुलेआम ; पु’लिस पर लगे गंभीर आरोप

MUZAFFARPUR6 days ago

मुजफ्फरपुर का थानेदार नामी गुं’डा के साथ मनाता है जन्मदिन! केक काटते हुए सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल…खाक होगा क्रा’इम कंट्रोल?

INDIA6 days ago

आ गया ‘मिर्ज़ापुर 2’ का टीजर, पंकज त्रिपाठी ने इंस्टाग्राम पर किया शेयर

BIHAR4 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

BIHAR1 day ago

18 प्रश्नों पर कैंडिडेट्स ने जताई थी आपत्ति, BPSC रद कर सकता है 10 प्रश्न, जानिए

tharki-proffesor
MUZAFFARPUR7 days ago

खुलासा: कोचिंग आने वाली हर छात्रा को आजमाता था मुजफ्फरपुर का ‘पा’पी प्रोफेसर’, भेजा गया जे’ल

BIHAR4 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

JOBS5 days ago

भर्ती : 12वीं पास के लिए CISF में नौकरी, 300 जीडी हेड कांस्टेबल पदों के लिए करें आवेदन

BIHAR4 days ago

जिसकी मौ’त में 23 लोग जेल में, वह जिंदा लौटा

MUZAFFARPUR5 days ago

कुंवारी मां बनी कटरा की पी’ड़िता से दु’ष्क’र्म का आ’रोपी माैलवी गि’रफ्तार

BIHAR3 days ago

तो क्या बंद हो जाएगा ‘कौन बनेगा करोड़पति’, पटना HC में शो पर रोक के लिए दर्ज हुई है याचिका

Trending

0Shares