Connect with us

STORY

यहां एक शिक्षक स्कूल में बेटियों का करता है पूजन

Published

on

मध्य प्रदेश के कटनी जिले में एक शिक्षक ने महिला और बालिका सम्मान की अनूठी मिसाल पेश की है। यह शिक्षक बीते 20 साल से अधिक समय से बालिकाओं की पूजा और चरण पूजन के बाद ही अध्यापन का कार्य शुरु करते हैं। कटनी जिले के लोहरवारा में है प्राथमिक पाठशाला। यहां पढ़ने आने वाली बालिकाओं का प्रभारी भैया लाल सोनी प्रार्थना से पहले उनके पैरों को बगैर किसी भेदभाव के गंगा जल से धोते हैं और पूजन करने के बाद ही अध्यापन का कार्य शुरु करते हैं। यह क्रम बीते 23 सालों से निरंतर जारी है। कोरोना महामारी के दौर में विद्यालय बंद रहे और हमारा घर हमारा विद्यालय के तहत संचालित मोहल्ला क्लास में भी कन्याओं का पूजन करना नही भूलते।

भैया लाल सोनी बताते हैं कि एक पवित्र सोच के साथ नमामि जननी अभियान की शुरुआत की थी। इस अभियान का मकसद बच्चियों और महिलाओं का सम्मान है। नियमित तौर पर प्रार्थना से पहले बालिकाओं के पैर गंगाजल से धोए जाते हैं और नवरात्र में बालिकाओं का जिस तरह से पूजन होता है, वैसा ही पूजन नियमित तौर पर किया जाता है।

मध्य प्रदेश की शिवराज सिह चौहान सरकार ने 25 जनवरी को सुशासन दिवस के मौके पर यह तय किया है कि सभी सरकारी कार्यक्रम कन्या पूजन के साथ शुरु होंगे। शिक्षक सोनी ने सरकार के इस निर्णय की सराहना करते हुए कहा है कि एक तरफ जहां उनके विद्यालय में कन्या और महिला सम्मान के लिए नमामि जननी अभियान चलाया जा रहा है, वहीं स्वच्छता का संदेश देने और छुआछूत को भी दूर करने के प्रयास जारी हैं।

सोनी से जब पूछा गया कि यह विचार उनके मन में कैसे आया तो उनका कहना था कि यह प्रेरणा तो परिवार से मिली। वहीं यह भी दिखा कि महिलाओं को समाज में वह स्थान नहीं मिलता जिसकी वे हकदार हैं, उनसे हमेशा भेदभाव किया जाता है। लोगों की सोच बदले इसे ध्यान में रखकर यह कार्यक्रम शुरु किया। तय किया है कि जीवन भर बेटियों का सम्मान करुंगा, ताकि लोगों में नैतिकता का वातावरण निर्मित हो और जो अनैतिक कार्य होते है उन पर रोक भी लगेगी।

गांव के पूर्व सरपंच सुखराज सिंह बताते है कि विद्यालय में बालिकाओं के सम्मान का क्रम वर्षों से जारी है। यह काम बालिका और महिलाओं के सम्मान में एक अच्छी पहल है। प्रार्थना के पहले यहां का नजारा अलग हेाता है, बालिकाओं का पूजन किया जाता है। इसकी हर कोई सराहना भी करता है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नारे को शिक्षक राजा भैया ने सही अथोर्ं में सार्थक किया है। शिक्षक द्वारा कन्या पूजन से न केवल स्कूल में पढ़ने वाली बच्चियों में उत्साह का संचार है, बल्कि लोंगों में भी जागरूकता देखी जा सकती है। यही कारण है कि लोग शिक्षक राजा भैया के अनुकरणीय कार्य की सराहना करते हैं। राजा भैया स्थानीय, जिला स्तर से लेकर प्रदेश देश स्तर पर सम्मानित हो चुके हैं। उन्हें इंडिया व एशिया बुक रिकॉर्डस में भी शामिल किया जा चुका है।

Input: Newssd

rama-hardware-muzaffarpur

STORY

‘तुम कोई कलेक्टर हो क्या?’, सवाल चुभा तो पास कर ली IAS की परीक्षा; प्रियंका शुक्ला की कहानी

Published

on

आज बात एक ऐसी महिला की जिसने अपनी जिंदगी में जो ठाना वो कर के दिखाया। लगन और मेहनत के बूते यह महिला वहां तक पहुंची जहां पहुंचने की तमन्ना कई लोगों के दिल में होती है। आज हम बात कर रहे हैं आईएएस अफसर प्रियंका शुक्ला की। छत्तीसगढ़ की यह आईएएस अफसर सोशल मीडिया पर भी एक्टिव रहती हैं औऱ कोरोना वायरस जैसे घातक संक्रमण के खिलाफ लोगों को जागरूक करने का काम भी करती हैं।

हालांकि, आईएएस अफसर बनने से पहले प्रियंका शुक्ला एक एमबीबीएस डॉक्टर थीं। लेकिन उनकी जिंदगी में एक ऐसा वाकया हुआ जिसके बाद वो आईएएस अफसर बन गईं। साल 2006 में प्रियंका शुक्ला ने लखनऊ के KGMU संस्थान से MBBS की डिग्री हासिल की थी। ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने लखनऊ में काम शुरू कर दिया था।

अपने कामकाज के दौरान ही वो लखनऊ के एक झोपड़पट्टी इलाके में पहुंची थीं। यहां पहुंचने के बाद उन्होंने देखा कि एक महिला और उनका बच्चा प्रदूषित पानी पी रहे हैं। उस वक्त प्रियंका शुक्ला ने महिला से पूछा था कि आप यह पानी क्यों पी रही हैं? इसपर महिला ने प्रियंका शुक्ला को जवाब दिया कि ‘क्या तुम कोई कलेक्टर हो?’…महिला की यह बात सुनकर प्रियंका शुक्ला चकित रह गई थीं। महिला की बात प्रियंका को इतनी चुभी कि उन्होंने आईएएस अफसर बनने का फैसला कर लिया। इसके लिए उन्होंने साल 2009 में अपनी तैयारी शुरू की। दूसरी बार में प्रियंका शुक्ला ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर ली

प्रियंका शुक्ला के बारे में बताया जाता है कि उनकी गिनती बेहतरीन आईएएस अफसरों में होती है। वो बेहतरीन कविताएं लिखती हैं और एक अच्छी नर्तकी भी हैं। इसके अलावा उन्हें गाने और पेंटिग्स का भी शौक है। अपनी कलाकारी से वो सोशल मीडिया पर अपने प्रशंसकों को अक्सर चकित करती रहती हैं।

सोशल मीडिया पर उनके कई प्रशंसक मौजूद हैं। अकेले ट्विटर पर उन्हें 70,000 लोग फॉलो करते हैं। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के कार्यकाल में अपने बेहतरीन काम के लिए प्रियंका शुक्ला अवार्ड भी जीत चुकी हैं। कोरोना वायरस के खिलाफ लोगों को जागरुक करने के उनके काम को लोगों के बीच काफी पसंद किया जाता है।

Input: jansatta

Continue Reading

STORY

राइफल के पुर्जे बनाने वाली कंपनी ने बना दी रॉयल एनफील्ड बुलेट, जानें कितना दिलचस्प था सफर

Published

on

पिछली आधी सदी में देश में ना जाने कितनी तकनीकें बदलीं, ना जाने कितनी बाइकें आईं और चलते-चलते रास्तों में कहीं खो गईं। लेकिन Royal Enfield Bullet ऐसे खो जाने के लिए नहीं बनी थी। इस शानदार मोटरसाइकल ने पिछले 85 सालों से अपनी शान को बरकरार रखा है। इसका सबूत वो सभी आंखें हैं जिनका लालच सालों बाद भी सड़क पर इठलाती बुलेट को देखकर रत्तीभर कम नहीं हुआ है।

1930

ये जानना आपको दिलचस्प लग सकता है कि रॉयल एनफील्ड (Royal Enfield ) भारत की बजाय इंग्लैंड में बनती थी और वहां से ये बाइक यहां तक पहुंची। वो कहते हैं ना, ‘किसी भी सफर का मुस्तकबिल उसका आगाज तय कर देता है।’ ‘बुलेट’को ‘बुलेट’ बनाने के पीछे ऐसे ही एक आगाज की दिलचस्प कहानी छिपी है।

1948

इस सफर की शुरूआत तब हुई जब इंग्लैंड की साइकिल बनाने वाली कंपनी ‘इनफिल्ड’ को 1893 में ब्रिटिश फौज द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली राइफिल के कुछ पुर्जे बनाने का काम सौंपा गया। इन पुर्जों के तैयार होने के साथ ही एक साधारण सी साइकिल कंपनी रातों-रात हमेशा के लिए ‘रॉयल’ बन चुकी थी।

1893

इस अभूतपूर्व गौरवमयी उपलब्धि की याद में इनफील्ड साइकिल्स ने अपना नाम बदलकर ‘रॉयल इनफील्ड’ रखने का फैसला किया और कंपनी की टैगलाइन भी बदलकर ‘मेड लाइक ए गन’ रख दी गई। इसी थीम पर आगे चलते हुए 1932 में लीजेंड ऑफ बाइक्स ‘बुलेट’को लांच किया गया। इस ब्रिटिश मोटरसाइकिल को भारत मंगाने के लिए के.आर. सुंदरम अय्यर ने 1949 में मद्रास मोटर्स की स्थापना की।

1949

1952 में फौज के लिए भारत सरकार की 800 ‘बुलट’ की मांग पर 1953 में समुद्र के रास्ते यह मोटरसाइकिल पहली बार हिंदुस्तान पहुंची और हम लोगों से रूबरू हुई।

1952

1952 में भारत आई बुलेट

1970 में यूके स्थित रॉयल इनफील्ड कंपनी के बंद हो जाने के बाद से सिर्फ भारत में इस कंपनी की बाइक्स बनाई जाती हैं। इस तरह से ‘बुलट’ ब्रिटेन से हिंदुस्तान आई और यहीं की होकर रह गई। दरअसल, हालात कुछ इस तरह हुई कि बुलेट बनाने वाली ब्रिटिश कंपनी घाटे में चली गई और मद्रास मोटर्स भी हाशिए पर पहुंच गई। तब 1994 में भारत की प्रमुख ट्रैक्टर निर्माता कंपनी आयशर ग्रुप (Eicher Group) ने एनफील्ड इंडिया लिमिटेड को हमेशा के लिए अपने अधिकार में ले लिया।

1932

तब आयशर भी कोई नई कंपनी नहीं थी। बल्कि 1948 से लगातार भारत में अपने उत्पादों की सफलतापूर्वक बिक्री कर रही थी। अब इस कंपनी का नाम रॉयल एनफील्ड मोटर्स लिमिटेड रख दिया गया। दुनियाभर में जितनी भी रॉयल एनफील्ड की मोटरसाइकिलें बिक रही हैं उन सभी का निर्माण ये ही कंपनी करती है।

Continue Reading

STORY

जब ‘बॉस’ बनीं बेटियां, पिता ने गर्व से सीना चौड़ा कर किया सैल्यूट

Published

on

हर मां-बाप का सपना होता है कि उनके बच्चे बड़े होकर कुछ ऐसा काम करें जिससे उन्हें गर्व महसूस हो। कुछ ऐसी ही खुशी आंध्र प्रदेश में डीएसपी बिटिया को सैल्यूट करते सर्कल इंस्पेक्टर पिता को भी हुई जिनकी तस्वीर इंटरनेट पर छायी हुई है। अपनी अफसर बिटिया की सफलता पर गर्व करते एक पिता की इससे खूबसूरत तस्वीर नहीं हो सकती।

पिता और बेटी की यह प्यारी सी तस्वीर लोगों के जेहन में उतर गई है। अब तक इस तस्वीर को काफी सारे लाइक्स मिल चुके हैं और कई लोग इसे री-ट्वीट भी कर रहे हैं। इससे पहले भी ऐसी कई कहानियां सामने आईं जहां बच्चे पैरंट्स के ‘बॉस’ बनकर तैनात हुए और पैरंट्स भी गर्व के साथ उन्हें सलाम ठोंकते नजर आए। पढ़ते हैं ऐसी ही कुछ दिलचस्प कहानियां-

वर्दी पहने एक पिता के लिए सबसे बड़ा गर्व का क्षण वह होता है, जब उन्हीं का बेटा-बेटी उनसे भी बड़ा अफसर बने और उन्हें अपनी संतान को सैल्यूट करना पड़े। ऐसा ही कुछ आंध्र प्रदेश के तिरुपति में तैनात इंस्पेक्टर श्याम सुंदर के साथ हुआ। गुंटूर में तैनात उनकी डीएसपी बेटी जेसी प्रशांति जैसे ही अफसर की वर्दी में उनके सामने आई, उनका सीना फख्र से चौड़ा हो गया और उन्होंने अपनी बेटी को सैल्यूट किया।

बेटी को ‘नमस्ते मैडम’ बोलकर किया सैल्यूट

इस पुलिस मीट में प्रशांति के पिता श्याम सुंदर भी ड्यूटी में तैनात हैं। रविवार को जब उनकी बेटी उनके सामने पड़ी तो उन्होंने ‘नमस्ते मैडम’ बोलकर डीएसपी बेटी को सैल्यूट किया। प्रशांति के पिता श्याम सुंदर तिरुपति पुलिस ट्रेनिंग स्कूल में सर्किल इंस्पेक्टर (सीआई) के तौर पर कार्यरत हैं।

rama-hardware-muzaffarpur

Continue Reading
BIHAR35 mins ago

बिहारवासियों के लिए खुशखबरी! पहला लिफ्ट वाला ओवरब्रिज बनकर तैयार

DHARM2 hours ago

पितृ पक्ष कल से, श्रद्ध कर्म से पूरे होते मनोरथ

MUZAFFARPUR2 hours ago

मुजफ्फरपुर के पताही से विमान सेवा शुरू करने की कोशिश तेज

BIHAR2 hours ago

हाेटल पनाश में एंकर से सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज, आरोपी फरार

BIHAR12 hours ago

राजद सरकार में मंत्री रहे ददन पहलवान की 68 लाख की संपत्ति जब्त

BIHAR14 hours ago

विवादों में बिहार का वैक्सीनेशन रिकॉर्ड, मृतक के नाम सर्टिफिकेट जारी करने का दावा

BIHAR16 hours ago

बिहार में फिर से चलाने जा रही 12 जोड़ी पैसेंजर ट्रेन, देखिए यहां लिस्ट

BIHAR16 hours ago

PM मोदी भगवान का दूसरा रूप, वे ही भारत के ‘भाग्य विधाता’ : केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस

BIHAR16 hours ago

पटना में बेखौफ बदमाश, जिम ट्रेनर को मारी गोली, हथियार लहराते अपराधी फरार

INDIA19 hours ago

टीएमसी के ‘बाबुल’ प्यारे हुए : संन्यास की घोषणा करने वाले भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो तृणमूल कांग्रेस में हुए शामिल

INDIA2 weeks ago

सिद्धार्थ शुक्ला पंचतत्व में विलीन, कांपते हाथों से मां ने दी जिगर के टुकड़े को मुखाग्नि

TRENDING4 weeks ago

सूप बनाने के लिए काटा था कोबरा, 20 मिनट बाद कटे फन ने डसा, शेफ की मौत

BIHAR4 weeks ago

बिहार : 12 साल की बुआ को 13 साल के भतीजे से हुआ प्यार, छह साल इंतजार के बाद मंदिर में रचाई शादी

VIRAL3 weeks ago

जिधर देखो उधर 500-2000 रुपये… रेलवे ट्रैक पर मिले नोटों के बंडल

BIHAR4 weeks ago

बिहार; बेटी से इश्क करने पर प्रेमी को काट कर बोरे में भरा, परिजनों ने अपनी लड़की को भी नहीं छोड़ा

BIHAR1 day ago

बिहार : भांजी पर आया मामा का दिल, पत्नी और बेटे को छोड़कर हुआ फरार, दो सालों से चल रहा था प्रेम प्रसंग

TRENDING4 weeks ago

सेक्स के दौरान युवक ने प्राइवेट पार्ट पर लगाया फेविक्विक, हुई मौत

BIHAR3 weeks ago

SMA बीमारी से जूझ रहे अयांश के मामले में नया मोड़, पिता आलोक सिंह पहुंचे सलाखों के पीछे

INDIA4 days ago

अगर इन 3 बैंकों में है आपका भी अकाउंट तो 1 अक्टूबर से नहीं चलेगी पुरानी चेकबुक

INDIA4 days ago

रिवॉल्वर लेकर वीडियो बनाने वाली लेडी कांस्टेबल को विभाग को देने होंगे 1.82 लाख रुपए

Trending