Connect with us

INDIA

रोजाना 50 हजार कॉल, 22 घंटे तक काम, सोनू सूद ने बताया कैसे करते हैं सबकी मदद

Published

on

कोरोना काल में मसीहा बनकर उभरे एक्टर सोनू सूद लगातार देश की जनता की मदद कर रहे हैं. ऐसे में आजतक से सोनू सूद नेे खास बातचीत की. पिछले लॉकडाउन से लेकर अभी तक के लॉकडाउन तक सोनू सूद मदद पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं. सोनू और उनकी टीम लगातार कोरोना से जरूरतमंदों की मदद में लगी हुई है. सोनू ने अपने एक्सपीरियंस और राहत कार्य में आने वाली मुश्किलों के बारे में खुलासे किए. सोनू से हमने पुछा कि वह कैसे इतने लोगों की मदद कर पाते हैं.

May be an image of 1 person and aeroplane

कैसे लोगों की मदद कर रहे हैं सोनू सूद और उनकी टीम?

Advertisement

इसपर सोनू सूद ने कहा, ”मैं ये कहूंगा कि प्रशासन भी मदद कर रहा है लेकिन हर एक इंसान को करना पड़ेगा. क्योंकि इस समय हर किसी को हर किसी की जरूरत है. मैं कैसे करता हूं मुझे खुद नहीं पता. मैं करीबन 22 घंटे फोन पर रहता हूं. हमें 40000 से 50000 रिक्वेस्ट आती है. मेरी 10 लोगों की टीम सिर्फ ऐसी है जो Remdesivir के लिए घूमती है. मेरी एक टीम बेड्स के लिए घूमती है, शहर के हिसाब से हम लोग घूमते हैं. मुझे देशभर के डॉक्टर्स से बात करनी होती है, उन्हें जिस चीज की जरूरत होती है तो हमें जल्द से जल्द मुहैया करवानी होती है. जिन लोगों की मदद हम कर चुके हैं वो एक तरह से हमारी टीम का हिस्सा बन जाते हैं. मैं आपको बताऊं कि मुझे जितनी रिक्वेस्ट आती हैं उन सबको देखने चलूं तो कम से कम 11 साल लगेंगे उनतक पहुंचने में, इतनी ज्यादा रिक्वेस्ट हैं. लेकिन हमारी कोशिश जारी है कि ज्यादा से लोगों की जाने बचा सकें.”

लाखों लोग सोनू सूद को शुक्रिया बोल रहे हैं 

Advertisement

इस मुश्किल समय में अपने आप को कैसे साधे रखते हैं सोनू सूद इसपर उन्होंने कहा एक किस्सा सुनाया. उन्होंने कहा, ”हम एक लड़की को अस्पताल में बेड दिलाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन बेड नहीं मिल पा रहा था. रात के 1 बजे रहे थे और उसकी बहन फोन पर बहुत रो रही थी और कह रही थी कि प्लीज बचा लीजिए वरना परिवार खत्म हो जाएगा. तो मैं बहुत परेशान था. ऐसा करते-करते रात को 2.30 बज गए थे और मैं दुआ कर रहा था कि वो लड़की सुबह तक बच जाए ताकि हम उसे बेड दिलवा सकें. सुबह 6 बजे मुझे कॉल आया और मैंने उसे बेड दिलवाया और अभी वो ठीक है. तो खुशी होती है कि मैं मदद कर पाया.”

इतना ही नहीं सोनू सूद ने कहा कि इस समय उनके पास निगेटिव सोच और गुस्से का समय नहीं है. वह कहते हैं कि मुश्किल के इस समय में लोगों को गुस्सा और चिढ़ छोड़कर अपना ध्यान दूसरों की मदद में लगाना चाहिए.

Advertisement

राहत कार्य में आने वाली सबसे बड़ी मुश्किल है ये

अपने काम में आने वाली मुश्किलों पर भी सोनी सूद ने बात की. उन्होंने कहा, ”सबसे बड़ी मुश्किल नए शहर में होती है. जब आपके कोई कॉन्टैक्ट नहीं है, तो क्या किया जाए. हम वहां के लोगों को अपना हिस्सा बनाने की कोशिश करते हैं. जैसे गांव में पहुंचने के साधन नहीं हैं तो हम खुद गाड़ियां भेजते हैं, उन्हें अस्पताल पहुंचाते हैं. अस्पतालों के भी हाल बहुत बुरे हैं. ऐसे में दिक्कत तो बहुत है.”

Advertisement

लोगों को बचाना है तो समंदर में कूदना ही होगा- सोनू 

सोनू सूद से पूछा गया कि राहत के काम में कई बार ऐसे वीडियो और तस्वीरें उन्हें देखने को मिलती होंगी, जो उन्हें विचलित करती होंगी. इसपर सोनू ने कहा, ”बहुत सारे हैं. मैं आपको छोटा-सा किस्सा बताता हूं. देहरादून में एक लड़की थी सबा, वो छह महीने प्रेग्नेंट थी और उसे ट्विन्स होने वाले थे. सबा बहुत तकलीफ में थी. उसके पति और बहन ने हमें ट्विटर के जरिए कॉन्टैक्ट कर मदद मांगी थी. हमने उनको अस्पताल में बेड दिलवाया, उन्हें ICU की जरूरत पड़ी हमने वो दिलवाया, फिर प्लाज्मा की जरूरत पड़ी वो दिलवाया, फिर वेंटिलेटर की जरूरत पड़ी वो भी दिलाया. तो हमें लगा कि हमने बचा लिया है और वो ठीक भी हो गई थी. लेकिन अगले दिन हमें कॉल आया कि वो नहीं रही. तो बड़ा दुख हुआ. ऐसा लगा जैसे आपके घर से कोई चला गया हो.

Advertisement

आप विश्वास नहीं करेंगे कि 10 घंटे बाद उसकी बहन और पति से मुझे कॉल किया और कहा कि हम आपकी टीम से साथ जुड़कर मदद का काम करना चाहेंगे, ताकि हम दूसरों को बचा सकें. तो वो जज्बा होता है जब आप किसी के लिए मेहनत करते हैं. उनको पता है कि आप मजबूर इंसान हैं. ये समय ऐसा है कि कोई फर्क नहीं पता कि आप कितने अमीर हो, कितने कनेक्टेड हो. इतने बड़े-बड़े लोग जिनसे मैं भी मदद मांगता, वो मुझे कॉल करते हैं और कहते हैं कि सोनू मुझे मदद की जरूरत है, इस चीज का इंतजाम करवा के दे. मैं सबसे कहना चाहूंगा कि आप ये मत सोचिए कि आप कैसे करेंगे, आपके लिए पहला कदम उठाना जरूरी है. आपका समंदर में कूदना जरूरी है, तैरना लहरें खुद सिखा देंगी.”

सोनू सूद को खुद भी कोरोना हुआ था

Advertisement

मैं एक्शन से आउट नहीं था. बल्कि मैं और ज्यादा एक्शन में आ गया था. मैं एक कमरे में बंद था, बाहर नहीं निकल रहा था. मेरे पास मेरा फोन था और मुझे ढेरों कॉल आ रहे थे. मैं अभी 22 घंटे काम करता हूं तब मैं 24 घंटे काम करता था. क्योंकि समय ही समय था मेरे पास. तो मुझे लगता है कि उस समय तब मैं आइसोलेशन में था मैं ज्यादा लोगों से जुड़ा और ज्यादा लोगों को मदद पहुंचा पाया. मुझे याद है मेरे दोस्त बोलते थे कि यार फिल्में देखना अच्छी-अच्छी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर. मैंने अभी तक अपने रिमोट को हाथ ही नहीं लगाया. समय ही नहीं है. यह वो समय है जब आपको हर चीज पीछे छोड़नी है, हर एक इंसान हो. हर एक इंसान को आगे आना है, टीम बनानी है और अपने साधनों का इस्तेमाल करना है. मैं मंटा हूं कि कोई भी इंसान भले ही वो एक्टर हो, टीचर हो या कोई भी हो किसी ना किसी ऐसे को जनता है जो दूसरे की जान बचा सकता है. ऐसे लोगों को उठना होगा और अपने कॉन्टैक्ट्स को एक्टिवेट वापस करना होगा.

सिस्टम की लाचारी से रूबरू हो रहे है सोनू सूद 

Advertisement

बहुत ज्यादा. मुझे लगता है कि पहले हम शिकायतें करते थे कि हिंदुस्तान में ऐसा होता तो अच्छा होता. सड़कें अच्छी होतीं, अस्पताल अच्छे होते. लेकिन इस बार जो हुआ है. इतने मासूम लोगों ने अपनी जानें गंवाई हैं कि मैं आपको बता नहीं सकता. सब यंग लोग हैं. 18, 20 22 साल के लोग, जिन्होंने अपनी जान गंवाई है. इन्होने एक महीने पहले सोचा नहीं होगा कि एक ऐसी वेव आएगी और इतना भारी नुक्सान होगा. तो हम लोग कैसे इसको देख रहे हैं आने वाले समय में, हम लोग देख रहे हैं कि देश का जीडीपी जो है उसका 1 से 2 फीसदी हेल्थकेयर को जाता है. लेकिन इन मासूम लोगों ने जो जाने गंवाई है उनका कुछ नहीं हो सकता. मेरे हिसाब से 7 से 8 फीसदी हेल्थकेयर को जाना चाहिए ताकि हमारे देश के लोग ऐसी किसी भी घटना में सुरक्षित हों. मुझे नहीं लगता कि इन लोगों के परिवार वाले कभी भी उन चीजों से बाहर आ पाएंगे कि हमारे परिवार वालों ने जाने गंवाई, क्योंकि उन्हें एक ऑक्सीजन सिलिंडर नहीं मिल पाया. लोग बिलखते हैं मेरे कॉल पर कि आप बचा लीजिए हमारे आपको को, मैं बेबस महसूस करता हूं. मैं चाहता हूं ऐसा कभी किसी के साथ दोबारा ना हो.”

नेक्स्ट लेवल पर सोनू का क्या प्लान है?

Advertisement

सोनू सूद ने आगे आने वाले समय में उनका क्या प्लान है इस बारे में बात करते हुए कहा, ”मुझे तो खड़े होना ही है देश के लिए. मैं बहुत बच्चों को जनता हूं जिन्होंने अपने मां-बाप को खोया है. लेकिन अब सरकारों को आगे आना होगा. कोरोना से मां-बाप खो चुके बच्चों के लिए पढ़ाई का कोई खर्चा नहीं लगना चाहिए. ऐसे में बच्चों के लिए सरकारी हो या प्राइवेट कहीं भी पैसे नहीं लगने चाहिए. मैं पहले भी बोल चुका हूं कि श्मशान घाट में भी लोगों के लिए सब फ्री होना चाहिए. ये वो समय है जब हम उन बच्चों को बता सकते हैं कि उनका साथ देने के लिए हम यहां हैं. मैं खुद भी कोरोना से अपने मां-बाप खो चुके बच्चों की पढ़ाई के लिए एक मुहीम शुरू कर रहा हूं. मुझे अभी इसमें कुछ समय लगेगा क्योंकि अभी मैं व्यस्त हूं, लेकिन मैं पूरी कोशिश कर रहा हूं कि मैं इन बच्चों की पढ़ाई फ्री करवा दूं.”

Source : Aaj Tak

Advertisement

INDIA

गांव में हर आंख में आंसू के साथ शहीद मनोज पीछे छोड़ गए नौ माह की गर्भवती पत्नी

Published

on

फरीदाबाद. राजपूताना राइफल्स के 26 वर्षीय राइफलमैन मनोज कुमार भाटी उन चार सैनिकों में शामिल थे, जो गुरुवार तड़के जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में सेना के एक शिविर पर आतंकवादी हमले में शहीद हो गए थे. फरीदाबाद के शाहजहांपुर गांव के मनोज कुमार भाटी के पिता बाबूलाल कुमार ने कहा कि ‘दुख तो है पर गर्व भी है कि मेरा बेटा देश के लिए शहीद हुआ. उन्होंने और उनके साथी शहीदों ने दो आतंकवादियों को मार गिराया और यूनिट को बचाया… बचपन से ही सेना में शामिल होने का उनका सपना था. वह बहादुर था … शेर की तरह. उसने आमतौर पर उग्रवाद के बारे में कुछ भी नहीं बताया. वह हमसे रोजाना के जीवन के बारे में बात करता था.’

इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर के मुताबिक परिवार में चार भाई-बहनों में सबसे छोटे मनोज 27 मार्च, 2017 को सेना में शामिल हुए. उनकी नवंबर 2021 में शादी हुई थी और उनकी पत्नी नौ महीने की गर्भवती है. उनके बड़े भाई सुनील कुमार भाटी (34) भी सेना में हैं और पटियाला में 77 आर्मर्ड कॉर्प्स में नायक के रूप में तैनात हैं. सुनील ने कहा कि उसकी पत्नी का जीवन तबाह हो गया है. वह कुश्ती का शौकीन था और खाली समय में अपनी यूनिट में इसका रियाज करता था.’

Advertisement

सुनील ने बताया कि उनके ‘गांव के 100 से अधिक युवा सेना में हैं. हर घर में फौजी है यहां. इसके कई कारण हैं. जिनमें आंशिक रूप से नौकरियों की कमी और राष्ट्र सेवा की भावना एक बड़ा कारण है. इन गांवों की सड़कों पर सुबह के समय युवाओं को दौड़ते और सेना की नौकरी की तैयारी करते देखा जा सकता है. लेकिन यह पहली बार है, जब गांव का कोई जवान शहीद हुआ है.’ शहीद मनोज कुमार भाटी का परिवार कुछ सहायता की उम्मीद कर रहा है, ताकि उनकी विधवा और उनके अजन्मे बच्चे का भविष्य सुरक्षित हो सके.

Source : News18

Advertisement

nps-builders

Genius-Classes

Continue Reading

INDIA

पिता ने की डेढ़ साल के मासूम को गला दबाकर मार डाला, नींद में डाल रहा था खलल

Published

on

हरियाणा के फरीदाबाद में एक कलयुगी बाप ने डेढ़ महीने के मासूम बेटे को मौत के घाट उतार दिया। आरोपी ने उसकी गला दबाकर हत्या की और फरार हो गया। पुलिस ने पत्नी की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है।

Advertisement

डेढ़ साल पहले हुई थी शादी

मिली जानकारी के अनुसार, ओल्ड थाना क्षेत्र के खेड़ी पुल स्थित राजीव नगर में रहने वाला सुंदर मूलरुप से झाड़सेतली के रहने वाला है। सुंदर फरीदाबाद की किसी कंपनी में लेबर का काम करता है। करीब डेढ़ साल पहले ही उसकी शादी बसेलवा कॉलोनी निवासी प्रिया से हुई थी। पत्नी ने डेढ़ महीने पहले जुड़वा बेटे को जन्म दिया है।

Advertisement

दूसरी जगह शादी के आरोप

सूत्रों का कहना है कि आरोपी पिता सुंदर ने कहीं दूसरी जगह भी शादी कर रखी है। इसी बात को लेकर पति पत्नी में विवाद रहता था। शुक्रवार को भी दोनों इसी बात को लेकर विवाद हो गया और उसने क्रोध में आकर डेढ़ माह के बेटे नवीस को गला दबाकर मार डाला। ओल्ड थाना प्रभारी दिनेश कुमार का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। हत्यारोपी पिता अभी फरार है। उसकी तलाश की जा रही है।

Advertisement

Source : Dainik Bhaskar

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading

INDIA

हर घर तिरंगा अभियान: राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री में 50 गुना उछाल, मांग पूरी करना हुआ मुश्किल

Published

on

केंद्र सरकार के ‘हर घर तिरंगा’ अभियान के लिए उत्सव का दिन नजदीक आने के साथ ही दिल्ली में तिरंगे की बिक्री कई गुना बढ़ गई है. हालात यह है कि राष्ट्रीय ध्वज की भारी मांग के अनुरूप आपूर्ति कर पाना कारोबारियों और विनिर्माताओं के लिए कठिन हो गया है. व्यापारियों ने दावा किया है कि 22 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अभियान की घोषणा किए जाने के बाद से सभी प्रकार के तिरंगे की बिक्री 50 गुना बढ़ गई है. हालांकि, मध्यम आकार के राष्ट्रीय ध्वज की मांग हमेशा बनी रहती है.

दिल्ली के सदर बाजार के थोक व्यापारी गुलशन खुराना 50 साल से अधिक समय से राष्ट्रीय ध्वज की आपूर्ति करने के व्यवसाय में हैं, लेकिन पहले उन्होंने तिरंगे की इतनी भारी मांग कभी नहीं देखी. अभियान के तहत, केंद्र सरकार का लक्ष्य भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर 13 से 15 अगस्त तक घरों के ऊपर कम से कम 20 करोड़ झंडे लगाने का है.

Advertisement

खुराना उस समय छुट्टी मनाने अमेरिका गए हुए थे जब उन्हें झंडों के बड़े ऑर्डर के लिए खरीदारों से लगातार फोन आने लगा. उन्होंने कहा, मैं इस व्यवसाय में 50 से अधिक वर्षों से हूं, आप बचपन से कह सकते हैं. लेकिन मैंने कभी भी भारतीय झंडे की इतनी मांग नहीं देखी. मेरा फोन बजना बंद नहीं होता है. उन्होंने कहा कि उनको मांग की पूर्ति करने के लिए स्वदेश वापस आना पड़ा.

मांग को पूरा करने के लिए खुराना केवल दो आकार- 16 गुणा 24 और 18 गुणा 27 आकार के ‘तिरंगा’ का निर्माण कर रहे हैं. उन्होंने कहा, हर दिन हम लगभग 15 लाख झंडे तैयार कर रहे हैं, लेकिन मांग और भी अधिक है. पूरे भारत से ऑर्डर आ रहे हैं, क्योंकि देश में झंडे की कमी है. इसलिए लोग जहां से हासिल कर सकते हैं, वहां से झंडे प्राप्त कर रहे हैं. अभी-अभी गोवा के लिए एक लाख झंडों का ऑर्डर मिला है. इस बीच, ध्वज निर्माता-सह-व्यापारी अनिल ने कहा कि उन्होंने अपनी अन्य विनिर्माण इकाइयों के श्रमिकों को ध्वज निर्माण में लगा दिया है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय ध्वज की मांग में अचानक उछाल आने से इसकी बिक्री 50 गुना बढ़ गई है.

Advertisement

Source : News18

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading
INDIA1 hour ago

गांव में हर आंख में आंसू के साथ शहीद मनोज पीछे छोड़ गए नौ माह की गर्भवती पत्नी

BIHAR2 hours ago

बेहतरीन इंवेस्टिगेशन के लिए बिहार के दो आईपीएस सहित 7 अफसरों को गृहमंत्री मेडल

BIHAR2 hours ago

राजीवनगर के भूमाफियाओं पर ईडी करेगी मनी लॉड्रिंग का केस

VIRAL9 hours ago

उम्र- 3 साल, रिकॉर्ड- 5 मिनट में क्यूब सॉल्विंग, भारत की बेटी का कमाल

BIHAR9 hours ago

‘जंगलराज-2’ लाने जा रहे हैं नीतीश कुमार, बिहार सीएम पर BJP के आरोपों की बौछार

INDIA13 hours ago

पिता ने की डेढ़ साल के मासूम को गला दबाकर मार डाला, नींद में डाल रहा था खलल

INDIA13 hours ago

हर घर तिरंगा अभियान: राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री में 50 गुना उछाल, मांग पूरी करना हुआ मुश्किल

INDIA13 hours ago

बिगड़ती जा रही है कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव की हालत, बेहोश, ब्रेन भी नहीं कर रहा रेस्पॉन्ड

BIHAR15 hours ago

सोनिया गांधी से मिले तेजस्वी यादव, महागठबंधन सरकार को समर्थन के लिए जताया आभार

BIHAR19 hours ago

गिरिराज सिंह पर तेजस्वी का कटाक्ष, कहा-‘लंबी चोटी से कोई ज्ञानी नहीं हो जाता’

BIHAR4 weeks ago

बिहार दारोगा रिजल्ट : छोटी सी दुकान चलाने वाले सख्स की दो बेटियाँ एक साथ बनी दारोगा

job-alert
BIHAR2 weeks ago

बिहार: मैट्रिक व इंटर पास महिलाएं हो जाएं तैयार, जल्द होगी 30 हजार कोऑर्डिनेटर की बहाली

INDIA4 weeks ago

प्यार के आगे धर्म की दीवार टूटी, हिंदू लड़के से मुस्लिम लड़की ने मंदिर में की शादी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में तेल कंपनियों ने जारी की पेट्रोल-डीजल की नई दरें

BIHAR1 week ago

बीपीएससी 66वीं रिजल्ट : वैशाली के सुधीर बने टॉपर ; टॉप 10 में मुजफ्फरपुर के आयुष भी शामिल

BIHAR7 days ago

एक साल में चार नौकरी, फिर शादी के 30वें दिन ही BPSC क्लियर कर गई बहू

BUSINESS1 week ago

पैसों की जरूरत हो तो लोन की जगह लें ये सुविधा; होगा बड़ा फायदा

BIHAR7 days ago

ग्राहक बन रेड लाइट एरिया में पहुंची पुलिस, मिली कॉलेज की लड़किया

BIHAR3 weeks ago

बिहार : अब शिकायत करें, 3 से 30 दिनों के भीतर सड़क की मरम्मत हाेगी

INDIA2 weeks ago

बुढ़ापे का सहारा है यह योजना, हर दिन लगाएं बस 50 रुपये और जुटाएं ₹35 लाख फंड

Trending