Connect with us

INDIA

रोजाना 50 हजार कॉल, 22 घंटे तक काम, सोनू सूद ने बताया कैसे करते हैं सबकी मदद

Published

on

कोरोना काल में मसीहा बनकर उभरे एक्टर सोनू सूद लगातार देश की जनता की मदद कर रहे हैं. ऐसे में आजतक से सोनू सूद नेे खास बातचीत की. पिछले लॉकडाउन से लेकर अभी तक के लॉकडाउन तक सोनू सूद मदद पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं. सोनू और उनकी टीम लगातार कोरोना से जरूरतमंदों की मदद में लगी हुई है. सोनू ने अपने एक्सपीरियंस और राहत कार्य में आने वाली मुश्किलों के बारे में खुलासे किए. सोनू से हमने पुछा कि वह कैसे इतने लोगों की मदद कर पाते हैं.

May be an image of 1 person and aeroplane

कैसे लोगों की मदद कर रहे हैं सोनू सूद और उनकी टीम?

Advertisement

इसपर सोनू सूद ने कहा, ”मैं ये कहूंगा कि प्रशासन भी मदद कर रहा है लेकिन हर एक इंसान को करना पड़ेगा. क्योंकि इस समय हर किसी को हर किसी की जरूरत है. मैं कैसे करता हूं मुझे खुद नहीं पता. मैं करीबन 22 घंटे फोन पर रहता हूं. हमें 40000 से 50000 रिक्वेस्ट आती है. मेरी 10 लोगों की टीम सिर्फ ऐसी है जो Remdesivir के लिए घूमती है. मेरी एक टीम बेड्स के लिए घूमती है, शहर के हिसाब से हम लोग घूमते हैं. मुझे देशभर के डॉक्टर्स से बात करनी होती है, उन्हें जिस चीज की जरूरत होती है तो हमें जल्द से जल्द मुहैया करवानी होती है. जिन लोगों की मदद हम कर चुके हैं वो एक तरह से हमारी टीम का हिस्सा बन जाते हैं. मैं आपको बताऊं कि मुझे जितनी रिक्वेस्ट आती हैं उन सबको देखने चलूं तो कम से कम 11 साल लगेंगे उनतक पहुंचने में, इतनी ज्यादा रिक्वेस्ट हैं. लेकिन हमारी कोशिश जारी है कि ज्यादा से लोगों की जाने बचा सकें.”

लाखों लोग सोनू सूद को शुक्रिया बोल रहे हैं 

Advertisement

इस मुश्किल समय में अपने आप को कैसे साधे रखते हैं सोनू सूद इसपर उन्होंने कहा एक किस्सा सुनाया. उन्होंने कहा, ”हम एक लड़की को अस्पताल में बेड दिलाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन बेड नहीं मिल पा रहा था. रात के 1 बजे रहे थे और उसकी बहन फोन पर बहुत रो रही थी और कह रही थी कि प्लीज बचा लीजिए वरना परिवार खत्म हो जाएगा. तो मैं बहुत परेशान था. ऐसा करते-करते रात को 2.30 बज गए थे और मैं दुआ कर रहा था कि वो लड़की सुबह तक बच जाए ताकि हम उसे बेड दिलवा सकें. सुबह 6 बजे मुझे कॉल आया और मैंने उसे बेड दिलवाया और अभी वो ठीक है. तो खुशी होती है कि मैं मदद कर पाया.”

इतना ही नहीं सोनू सूद ने कहा कि इस समय उनके पास निगेटिव सोच और गुस्से का समय नहीं है. वह कहते हैं कि मुश्किल के इस समय में लोगों को गुस्सा और चिढ़ छोड़कर अपना ध्यान दूसरों की मदद में लगाना चाहिए.

Advertisement

राहत कार्य में आने वाली सबसे बड़ी मुश्किल है ये

अपने काम में आने वाली मुश्किलों पर भी सोनी सूद ने बात की. उन्होंने कहा, ”सबसे बड़ी मुश्किल नए शहर में होती है. जब आपके कोई कॉन्टैक्ट नहीं है, तो क्या किया जाए. हम वहां के लोगों को अपना हिस्सा बनाने की कोशिश करते हैं. जैसे गांव में पहुंचने के साधन नहीं हैं तो हम खुद गाड़ियां भेजते हैं, उन्हें अस्पताल पहुंचाते हैं. अस्पतालों के भी हाल बहुत बुरे हैं. ऐसे में दिक्कत तो बहुत है.”

Advertisement

लोगों को बचाना है तो समंदर में कूदना ही होगा- सोनू 

सोनू सूद से पूछा गया कि राहत के काम में कई बार ऐसे वीडियो और तस्वीरें उन्हें देखने को मिलती होंगी, जो उन्हें विचलित करती होंगी. इसपर सोनू ने कहा, ”बहुत सारे हैं. मैं आपको छोटा-सा किस्सा बताता हूं. देहरादून में एक लड़की थी सबा, वो छह महीने प्रेग्नेंट थी और उसे ट्विन्स होने वाले थे. सबा बहुत तकलीफ में थी. उसके पति और बहन ने हमें ट्विटर के जरिए कॉन्टैक्ट कर मदद मांगी थी. हमने उनको अस्पताल में बेड दिलवाया, उन्हें ICU की जरूरत पड़ी हमने वो दिलवाया, फिर प्लाज्मा की जरूरत पड़ी वो दिलवाया, फिर वेंटिलेटर की जरूरत पड़ी वो भी दिलाया. तो हमें लगा कि हमने बचा लिया है और वो ठीक भी हो गई थी. लेकिन अगले दिन हमें कॉल आया कि वो नहीं रही. तो बड़ा दुख हुआ. ऐसा लगा जैसे आपके घर से कोई चला गया हो.

Advertisement

आप विश्वास नहीं करेंगे कि 10 घंटे बाद उसकी बहन और पति से मुझे कॉल किया और कहा कि हम आपकी टीम से साथ जुड़कर मदद का काम करना चाहेंगे, ताकि हम दूसरों को बचा सकें. तो वो जज्बा होता है जब आप किसी के लिए मेहनत करते हैं. उनको पता है कि आप मजबूर इंसान हैं. ये समय ऐसा है कि कोई फर्क नहीं पता कि आप कितने अमीर हो, कितने कनेक्टेड हो. इतने बड़े-बड़े लोग जिनसे मैं भी मदद मांगता, वो मुझे कॉल करते हैं और कहते हैं कि सोनू मुझे मदद की जरूरत है, इस चीज का इंतजाम करवा के दे. मैं सबसे कहना चाहूंगा कि आप ये मत सोचिए कि आप कैसे करेंगे, आपके लिए पहला कदम उठाना जरूरी है. आपका समंदर में कूदना जरूरी है, तैरना लहरें खुद सिखा देंगी.”

सोनू सूद को खुद भी कोरोना हुआ था

Advertisement

मैं एक्शन से आउट नहीं था. बल्कि मैं और ज्यादा एक्शन में आ गया था. मैं एक कमरे में बंद था, बाहर नहीं निकल रहा था. मेरे पास मेरा फोन था और मुझे ढेरों कॉल आ रहे थे. मैं अभी 22 घंटे काम करता हूं तब मैं 24 घंटे काम करता था. क्योंकि समय ही समय था मेरे पास. तो मुझे लगता है कि उस समय तब मैं आइसोलेशन में था मैं ज्यादा लोगों से जुड़ा और ज्यादा लोगों को मदद पहुंचा पाया. मुझे याद है मेरे दोस्त बोलते थे कि यार फिल्में देखना अच्छी-अच्छी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर. मैंने अभी तक अपने रिमोट को हाथ ही नहीं लगाया. समय ही नहीं है. यह वो समय है जब आपको हर चीज पीछे छोड़नी है, हर एक इंसान हो. हर एक इंसान को आगे आना है, टीम बनानी है और अपने साधनों का इस्तेमाल करना है. मैं मंटा हूं कि कोई भी इंसान भले ही वो एक्टर हो, टीचर हो या कोई भी हो किसी ना किसी ऐसे को जनता है जो दूसरे की जान बचा सकता है. ऐसे लोगों को उठना होगा और अपने कॉन्टैक्ट्स को एक्टिवेट वापस करना होगा.

सिस्टम की लाचारी से रूबरू हो रहे है सोनू सूद 

Advertisement

बहुत ज्यादा. मुझे लगता है कि पहले हम शिकायतें करते थे कि हिंदुस्तान में ऐसा होता तो अच्छा होता. सड़कें अच्छी होतीं, अस्पताल अच्छे होते. लेकिन इस बार जो हुआ है. इतने मासूम लोगों ने अपनी जानें गंवाई हैं कि मैं आपको बता नहीं सकता. सब यंग लोग हैं. 18, 20 22 साल के लोग, जिन्होंने अपनी जान गंवाई है. इन्होने एक महीने पहले सोचा नहीं होगा कि एक ऐसी वेव आएगी और इतना भारी नुक्सान होगा. तो हम लोग कैसे इसको देख रहे हैं आने वाले समय में, हम लोग देख रहे हैं कि देश का जीडीपी जो है उसका 1 से 2 फीसदी हेल्थकेयर को जाता है. लेकिन इन मासूम लोगों ने जो जाने गंवाई है उनका कुछ नहीं हो सकता. मेरे हिसाब से 7 से 8 फीसदी हेल्थकेयर को जाना चाहिए ताकि हमारे देश के लोग ऐसी किसी भी घटना में सुरक्षित हों. मुझे नहीं लगता कि इन लोगों के परिवार वाले कभी भी उन चीजों से बाहर आ पाएंगे कि हमारे परिवार वालों ने जाने गंवाई, क्योंकि उन्हें एक ऑक्सीजन सिलिंडर नहीं मिल पाया. लोग बिलखते हैं मेरे कॉल पर कि आप बचा लीजिए हमारे आपको को, मैं बेबस महसूस करता हूं. मैं चाहता हूं ऐसा कभी किसी के साथ दोबारा ना हो.”

नेक्स्ट लेवल पर सोनू का क्या प्लान है?

Advertisement

सोनू सूद ने आगे आने वाले समय में उनका क्या प्लान है इस बारे में बात करते हुए कहा, ”मुझे तो खड़े होना ही है देश के लिए. मैं बहुत बच्चों को जनता हूं जिन्होंने अपने मां-बाप को खोया है. लेकिन अब सरकारों को आगे आना होगा. कोरोना से मां-बाप खो चुके बच्चों के लिए पढ़ाई का कोई खर्चा नहीं लगना चाहिए. ऐसे में बच्चों के लिए सरकारी हो या प्राइवेट कहीं भी पैसे नहीं लगने चाहिए. मैं पहले भी बोल चुका हूं कि श्मशान घाट में भी लोगों के लिए सब फ्री होना चाहिए. ये वो समय है जब हम उन बच्चों को बता सकते हैं कि उनका साथ देने के लिए हम यहां हैं. मैं खुद भी कोरोना से अपने मां-बाप खो चुके बच्चों की पढ़ाई के लिए एक मुहीम शुरू कर रहा हूं. मुझे अभी इसमें कुछ समय लगेगा क्योंकि अभी मैं व्यस्त हूं, लेकिन मैं पूरी कोशिश कर रहा हूं कि मैं इन बच्चों की पढ़ाई फ्री करवा दूं.”

Source : Aaj Tak

Advertisement

INDIA

आप जिएं कयामत तक… PM नरेंद्र मोदी से बोले CM चन्नी, सुरक्षा चूक पर जताया दुख

Published

on

पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने पीएम नरेंद्र मोदी की दीर्घायु की कामना करते हुए गुरुवार को कहा कि ‘आप कयामत तक जिएं’। देश में कोरोना मामलों की समीक्षा के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग कर रहे थे। इसी दौरान पंजाब के मुख्यमंत्री ने यह बात कही। यही नहीं इस दौरान उन्होंने 5 जनवरी को पंजाब के फिरोजपुर में उनकी सुरक्षा में हुई चूक को लेकर दुख जताया। सूत्रों के मुताबिक सीएम चन्नी ने कहा, ‘5 जनवरी को जो घटना हुई थी, उसके लिए दुख है। आपको लोगों के लिए महत्वपूर्ण परियोजनाओं के लोकार्पण के बिना ही लौटना पड़ा।’

चन्नी ने पीएम मोदी का आभार व्यक्त किया

Advertisement

यही नहीं सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा, ‘आप जिएं कयामत तक और कयामत न आए।’ पीएम नरेंद्र मोदी से मीटिंग में सीएम चन्नी ने कोरोना की पहली और दूसरी लहर में केंद्र सरकार की ओर मदद के लिए आभार व्यक्त किया। नरेंद्र मोदी पंजाब के फिरोजपुर में करीब 42,000 करोड़ रुपये की परियोजनाओं के शिलान्यास एवं उद्घाटन के लिए पहुंचे थे, लेकिन एक फ्लाईओवर पर उनका काफिला फंस गया था। इसके बाद उन्हें वापस लौटना पड़ा था। वह होशियारपुर और कपूरथला के मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन करने वाले थे। इसके अलावा पीजीआई चंडीगढ़ के फिरोजपुर में सैटेलाइट सेंटर का भी उन्हें उद्घाटन करना था।

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

बिना कार्यक्रम में जाए वापस दिल्ली आ गए थे पीएम मोदी

Advertisement

काफिला फंसने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी वापस बठिंडा एयरपोर्ट लौट आए थे और फिर सीधी दिल्ली आ गए थे। यही नहीं कहा जाता है कि वापसी के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने पंजाब सरकार के अधिकारियों से यह भी कहा था कि अपने सीएम को थैंक्स कहना कि मैं बठिंडा एयरपोर्ट तक जिंदा लौट पाया। उनकी इस टिप्पणी को लेकर पंजाब सरकार ने ऐतराज जताया था और इसे पंजाब को बदनाम करने वाली टिप्पणी बताया था। यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी पहुंचा, जिसने घटना की जांच के लिए पूर्व जस्टिस इंदु मल्होत्रा की अध्यक्षता में जांच पैनल का गठन किया गया है।

Source : Hindustan

Advertisement

clat

Continue Reading

INDIA

पश्चिम बंगाल में बड़ा हादसा, पटरी से उतरी गुवाहाटी-बीकानेर एक्सप्रेस, 3 लोगों की मौत, 20 घायल

Published

on

डोमोहानी. पश्चिम बंगाल में एक बड़े रेल हादसे (Train Derailment) की खबर सामने आई है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक गुवाहाटी-बीकानेर एक्सप्रेस 15633 (अप) (Guwahati-Bikaner Express) आज शाम करीब पांच बजे डोमोहानी (पश्चिम बंगाल) के पास पटरी से उतर गई. इस हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई है साथ ही कई लोगों के घायल होने की भी खबर मिली है. घटनास्थल पर राहत एवं बचाव कार्य जारी है. ट्रेन की बोगी में फंसे लोगों को निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं. वहीं एक यात्री ने दावा किया है कि अचानक झटका लगने के बाद ट्रेन की कई बोगियां पलट गई. उन्होंने कहा घटना में कई लोगों की मौत हुई है.

बीकानेर से गुवाहाटी इस ट्रेन के मैनागुड़ी पार करते समय यह हादसा हुआ. हादसे की सूचना मिलते ही रेलवे के संबंधित अधिकारी मौके पर पहुंच गए और राहत कार्य शुरू करने के निर्देश दिए. जलपाईगुड़ी की जिला मजिस्ट्रेट मोमिता गोडाला बसु के मुताबिक हादसे में कम से कम 3 लोगों की मौत हुई है और 20 लोग घायल हुए हैं. हादसे में घायल हुए लोगों को बोगियों से निकालकर प्राथमिक उपचार के बाद जरूरत के मुताबिक नजदीकी अस्पताल भेजा जा रहा है.

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

हादसे में प्रभावित लोगों की जानकारी प्राप्त के लिए प्रशासन ने गुवाहाटी के दो हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं. 03612731622 और 03612731623 रेलवे हेल्पलाइन के इन दो नंबरों पर फोन करके जानकारी प्राप्त की जा सकती है.

clat

भारतीय रेलवे के मुताबिक इस हादसे में ट्रेन की 12 बोगियां प्रभावित हुई हैं. घटनास्थल पर डीआरएम और एडीआरएम पहुंच चुके हैं साथ ही एक राहत ट्रेन और मेडिकल वैन भी मौके पर पहुंच गई है.

Advertisement

गुवाहाटी-बीकानेर एक्सप्रेस 15633 के पटरी से उतरने की उच्च स्तरीय रेलवे सुरक्षा जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

Advertisement
Continue Reading

INDIA

भाजपा में और बढ़ी भगदड़: मंत्री धर्मपाल सैनी समेत आज 6 विधायकों ने छोड़ी पार्टी, अब तक 12 विधायक टूटे

Published

on

विधानसभा चुनाव का बिगुल बजते ही उत्तर प्रदेश की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) में भगदड़ सी मच गई है। अब तक कुल 11 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है। इनमें स्वामी प्रसाद मौर्य जैसे मंत्री भी शामिल हैं, जिन्होंने कल भगवा पार्टी पर ओबीसी और दलितों को नजरअंदाज करने का आरोप लगाते हुए इस्तीफा दे दिया था। आपको बता दें कि यह सिलसिला आज भी जारी रहा। बीजेपी के 6 विधायकों ने गुरुवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया।

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

आज इस्तीफा देने वाले विधायकों में विनय शाक्य, मुकेश वर्मा और सीताराम वर्मा का नाम शामिल है। वहीं योगी सरकार में मंत्री रहे धर्मपाल सिंह सैनी ने भी पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक, बाला प्रसाद अवस्थी और राम फेरन पांडे ने भी बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है। इन सभी को मिलाकर अकेले गुरुवार को ही 6 विधायक पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं।

Advertisement

clat

आपको बता दें कि योगी सरकार के मंत्री धर्मपाल सिंह सैनी ने सरकारी आवास और सुरक्षा लौटा दी है। माना जा रहा है कि किसी भी वक्त अखिलेश यादव से मुलाकात कर समाजवादी पार्टी में शामिल हो सकते हैं। वहीं, आज ही सुबह शिकोहाबाद के विधायक मुकेश वर्मा ने भी भगवा पार्टी का दामन छोड़ दिया। उनके भी सपा जॉइन करने की संभावना है।

बिधूना से विधायक हैं विनय शाक्य

Advertisement

यूपी चुनाव से पहले बिधूना विधायक विनय शाक्य ने भी बीजेपी से दिया इस्तीफा। विनय शाक्य पिछले तीन दिनों में भाजपा से इस्तीफा देने वाले यूपी के आठवें विधायक थे। शाक्य ने पार्टी को अपने त्याग पत्र में लिखा, “स्वामी प्रसाद मौर्य दलितों की आवाज हैं और वह हमारे नेता हैं। मैं उनके साथ हूं।”

आरलेडी नेता का दावा- बीजेपी से हो रहा ब्राह्मणों का पलायन

Advertisement

आरएलडी के एक नेता ने दावा किया है कि भाजपा के दो विधायक बाला अवस्थी और रामफेरन पांडे समाजवादी पार्टी का दामन थामने वाले हैं। उन्हें कू करते हुए लिखा है कि बीजेपी से पिछड़े और ब्राह्मणों का पलायन जारी है।

सात चरणों में होगी वोटिंग

Advertisement

403 सदस्यीय उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए सात चरणों में मतदान होगे। यूपी में 10, 14, 20, 23, 27 फरवरी के अलावा 3 और 7 मार्च को मतदान होगा। पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 14 फरवरी को और मणिपुर में दो चरणों में 27 फरवरी और 6 मार्च को मतदान होगा। मतों की गिनती 10 मार्च को होगी।

Source : Hindustan

Advertisement

Continue Reading
BIHAR5 hours ago

जहरीली शराब से हुई मौतों पर CM नीतीश पर बरसे चिराग, कहा- शराबबंदी सरकार की विफलता

ASTROLOGY11 hours ago

खरमास खत्म, अब शादियां ही शादियां, जाने कब-कब है शुभ मुहूर्त

BIHAR13 hours ago

ट्रक चालक के प्यार में घर छोड़कर युवती छत्तीसगढ़ से पहुंच गई बिहार, पश्चिम में अनोखा मामला

JOBS2 days ago

गेटमैन के पदों पर भर्ती कर रहा इंडियन रेलवे, 10वीं पास भी कर सकते हैं आवेदन

BIHAR3 days ago

दरभंगा-रोसड़ा एनएच के निर्माण को केंद्र की मंजूरी

BIHAR3 days ago

12 तो नहीं पर बिहार के बुजुर्ग ने कोरोना वैक्सीन की 8 डोज लगवाई, CoWIN की खामियां आईं सामने

BIHAR3 days ago

निर्वाचित महिला प्रतिनिधि सरकारी बैठकों में किसी और को नहीं भेज सकेंगी, पंचायती राज विभाग ने कसी नकेल

BIHAR3 days ago

विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा हुए कोरोना संक्रमित, पीए व अन्य भी पॉजिटिव

BIHAR3 days ago

रेल हादसाः बिहार के कई स्टेशनों से चढ़े थे यात्री, रेलवे ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

ganga-asnan
DHARM3 days ago

मकर संक्रांति से आरंभ होता है देवताओं का दिन व उत्तरायण

BIHAR3 days ago

रेल हादसाः बिहार के कई स्टेशनों से चढ़े थे यात्री, रेलवे ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

BIHAR2 weeks ago

राजेंद्र नगर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस का बदल जाएगा रूट!

INDIA4 weeks ago

खेसारी यादव और पवन सिंह के दंगल में कूदी अक्षरा सिंह, बोलीं- पैर की धूल बनने लायक भी नहीं हो

BIHAR3 weeks ago

27 दिसंबर से ही बदलने लगेगा सूबे का मौसम, बारिश के आसार

BIHAR6 days ago

आज से 17 तारीख तक आधा दर्जन ट्रेनें रद्द, कई गाड़ियों के रूट भी बदले गए

INDIA4 weeks ago

एलआईसी हर साल देगी 40,000 रुपये, रोज दें 41 रुपये की प्रीमियम

JOBS2 days ago

गेटमैन के पदों पर भर्ती कर रहा इंडियन रेलवे, 10वीं पास भी कर सकते हैं आवेदन

OMG4 weeks ago

खाते में 32 लाख रुपए जमा कर भूल गई महिला, 5 साल बाद बैंक वालों ने फोन कर दिलाया याद

BIHAR2 weeks ago

बिहार में बनेंगे जलमार्ग, सड़कमार्ग और रेलमार्ग के जंक्शन

BIHAR4 weeks ago

अजब प्रेम की गजब कहानी: भाई को ही दिल दे बैठी तलाकशुदा महिला, गर्भवती होने पर युवक का शादी से इंकार

Trending