Connect with us

BIHAR

लॉकडाउन: भूख से हुई बच्चे की मौत, मां ने कहा- कर्फ्यू के बाद नहीं बना खाना

Published

on

पटना/आरा: कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए सरकार द्वारा बिना किसी तैयारी व योजना के अचानक लॉकडाउन कर देने के दुखद परिणाम सामने आने लगे हैं.

लॉकडाउन के चलते काम बंद होने से सूबे की राजधानी पटना से महज 60 किलोमीटर दूर भोजपुर जिले के आरा शहर के जवाहर टोले की मलिन बस्ती में रहने वाले आठ वर्षीय राकेश की कथित तौर पर भूख से मौत हो गई.

महादलित समुदाय (मुसहर) से आने वाला राकेश मुसहर कबाड़ चुनकर बाजार में बेचता था. उसके पिता दुर्गा प्रसाद मुसहर मोटिया मजदूर हैं.

कोरोनावायरस के संक्रमण की आशंका के मद्देनजर केंद्र सरकार ने 24 मार्च से तीन हफ्ते के लिए लॉकडाउन किया है.

राज्य सरकारों को निर्देश दिया गया है कि वे अपने अपने सूबों में लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराएं. लॉकडाउन के कारण दोनों का काम बंद था, जिससे घर में खाने-पीने की किल्लत थी.

राकेश की मां सोनामती देवी ने द वायर को फोन पर बताया, ‘जब से बंदी शुरू हुआ था, तब से घर में खाना नहीं बन रहा था. राकेश की तबीयत भी खराब थी. जिस दिन से कर्फ्यू शुरू हुआ था, उसी रात उसने थोड़ी रोटी खाई थी. इसके बाद घर में खाना नहीं बनता था. खाना तब न बनाते, जब घर में अनाज होता.’

दोनों की रोजाना की कमाई 200 से 250 रुपये थी. ‘इसी पैसे से खाने का सामान आता और खाना पकता. कर्फ्यू के कारण काम बंद हुआ, तो दुकानदारों ने उधार सामान देना भी बंद कर दिया था,’ सोनामती देवी कहती हैं.

राकेश को बुखार था और दस्त भी हुए थे. 26 मार्च को ही उसे सदर अस्पताल ले जाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उसे एक सिरप और टेबलेट लिखकर दिए.

सोनामती देवी ने बताया, ‘हमारे पास दवाई का भी पैसा नहीं था, तो पड़ोसी से कुछ पैसा उधार लिया और दवाई ले आई. लेकिन, दवा खिलाने से पहले ही उसकी मौत हो गई.’

राकेश को बुखार था और दस्त भी हुए थे. 26 मार्च को ही उसे सदर अस्पताल ले जाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उसे एक सिरप और टेबलेट लिखकर दिए.

सोनामती देवी ने बताया, ‘हमारे पास दवाई का भी पैसा नहीं था, तो पड़ोसी से कुछ पैसा उधार लिया और दवाई ले आई. लेकिन, दवा खिलाने से पहले ही उसकी मौत हो गई.’

राकेश की बुआ सुनीता देवी ने भी इस बात की तस्दीक की कि कर्फ्यू शुरू होने के बाद से घर में खाना नहीं बन रहा था.

Input : The Wire

MUZAFFARPUR

मौसम नरम, फिर भी पहुंचा एईएस पीड़ित एक बच्चा

Published

on

मुजफ्फरपुर : मौसम नरम होने के बावजूद एसकेएमसीएच के पीकू वार्ड में शुक्रवार को फिर एक एईएस पीड़ित बच्चा भर्ती किया गया। यह वैशाली बेलसंड की अनुष्का कुमारी है। इसके साथ ही एईस पीड़ित बच्चों की संख्या 40 पर पहुंच गई है। एसकेएमसीएच के पीकू वार्ड में तीन बच्चे इलाजरत हैं। इसमें बेतिया के प्रिया कुमारी एवं सकरा मोहम्मदपुर के मोहम्मद कैफ शामिल हैं। चिकित्सकों की टीम पीकू वार्ड में भर्ती अन्य बच्चों के साथ प्रिया कुमारी, मोहम्मद कैफ की बीमारी पर मंथन करते रहे। इस दौरान कई जांच कराने का भी परामर्श दिया। इनके परामर्श पर कक्ष परिचारिका ने जांच को पैथोलॉजी विभाग में ब्लड सैंपल भेज दिया है। शिशु विभागाध्यक्ष डॉ. गोपाल शंकर साहनी ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकॉल के अनुसार सभी बच्चों को समुचित इलाज किया जा रहा है। इससे काफी लाभ भी मिल रहा है। अस्पताल अधीक्षक डॉ. सुनील कुमार शाही ने बताया कि इस वर्ष अब-तक 40 एईएस पीड़ित बच्चे इलाज को पहुंच चुके हैं। इसमें 32 को इलाज के पश्चात स्वस्थ होने के बाद छुट्टी दी जा चुकी है। वहीं तीन बच्चे इलाजरत हैं। जबकि पांच बच्चे दमतोड़ चुके हैं।

चमकी बुखार से बचाव को लेकर मेगा बैठक कल

कोविड के बचाव के साथ चमकी बुखार को लेकर प्रखंड में घर-घर लोगों को जागरूक करने का प्लान तैयार हो चुका है। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. कपिलदेव रजक के नेतृत्व में प्रखंड में रविवार को एक साथ 141 जगहों पर आशा चमकी बुखार से बचाव को लेकर बैठक करेंगी। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। इसो लेकर बीसीएम टप्पू गुप्ता ने दो दिनों के चार बैचों में आशा कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया है।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

MUZAFFARPUR

तुर्की में आर्म्स फैक्ट्री का भंडाफोड़, तीन गिरफ्तार

Published

on

JAYNAT-KANT-SSP-IPS

मुजफ्फरपुर : कुढ़नी थाना के तुर्की ओपी क्षेत्र के खरौनाडीह गांव में पुलिस ने आर्म्स फैक्ट्री का उद्भेदन किया है। शुक्रवार की शाम एसएसपी जयंतकांत के नेतृत्व में गांव के विपिन बिहारी चौधरी के घर पर छापेमारी की गई। इस दौरान लगभग पांच हजार अर्धनिर्मित कारतूस व पांच पिलेट, पिस्टल, रायफल, हैंड ग्रेनेड, आइईडी व उसे बनाने का सामान, बम व बम बनाने का सामान, कारतूस व आर्म्स बनाने की मशीन व उपकरण, भारी मात्र में शराब, बाइक, ऑटो एवं लाखों रुपये नकदी बरामद हुई। मुजफ्फरपुर में पहली बार इतनी भारी मात्र में घातक हथियारों और गोलियों की बरामदगी हुई है।

सिटी एसपी नीरज कुमार सिंह ने अद्धनिर्मित लगभग पांच हजार कारतूस, पांच हजार पिलेट, चार पिस्टल, तीन रिवाल्वर, एक कट्टा, एक अद्धनिर्मित रायफल, 303 बोर के लगभग 80 कारतूस, पिस्टल के दस कारतूस, विस्फोटक सामग्री व बड़ी संख्या में हथियार बनाने का सामान बरामद होने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि छापेमारी जारी है। विस्तृत जानकारी बाद में दी जाएगी। आर्म्स फैक्ट्री के संचालक विपिन चौधरी, उसके भाई रोशन चौधरी उर्फ सोनू सहित तीन को मौके से ही गिरफ्तार किया गया। तीन साल पहले भी विपिन को लगभग एक हजार कारतूस के साथ गिरफ्तार किया गया था। फिलहाल वह जमानत पर था। हथियार व कारतूस बनाने की फैक्ट्री उसने घर में लगा रखी थी। इसमें कई तरह की मशीन व उपकरण लगे थे। इससे वह छोटा से लेकर बड़ा हथियार बनाता था।

इतनी बरामदगी

पांच हजार गोलियां, हजार के लगभग निर्माणाधीन गोलियां, एक दर्जन पिस्टल, रायफल, हैंड ग्रेनेड, आइईडी व इसे बनाने का सामान, बम व बम बनाने का सामान, कारतूस व आर्म्स बनाने की मशीन व उपकरण, भारी मात्र में शराब एवं लाखों रुपये नकद।

40 गाड़ियों से पहुंची पुलिस ने की कार्रवाई

एसएसपी को मिले इनपुट के आधार पर खरौनाडीह गांव में हुई छापेमारी में सिटी एसपी नीरज कुमार, डीएसपी नगर रामनरेश पासवान, डीएसपी पश्चिमी कृष्णमुरारी प्रसाद, कई थानाध्यक्ष व बडी संख्या में जवान शामिल थे। शाम पांच बजे से ही गांव में पुलिस की गाड़ी पहुंचने लगी। 40 गाड़ियों से पहुंची पुलिस ने छापेमारी से पहले पूरे गांव की नाकेबंदी कर दी। गांव में किसी के प्रवेश व बाहर निकलने से रोक दिया गया।

पांच हजार अद्धनिर्मित कारतूस, पांच हजार पिलेट, विस्फोटक सामग्री, आइईडी व इसे बनाने का सामान, बम, रायफल, पिस्टल व शराब बरामद की गई है। तीन लोगों की गिरफ्तारी की गई है। मामले में आगे की कार्रवाई चल रही है।

जयंतकांत , एसएसपी

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

BIHAR

Rising India: बिहारी लाल का एक और कमाल, सॉफ्टवेयर बताएगा भीड़ में किसने नहीं पहना मास्क

Published

on

पटना, जयशंकर बिहारी। तीन आइआइटियन छात्रों ने मिलकर एक ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया है, जो यह बता देगा कि भीड़ में किसने मास्क पहना है और किसने नहीं। मास्क नहीं पहनने वाले शख्स की तस्वीर कंट्रोल रूम में लगी स्क्रीन पर लाल घेरे में आ जाएगी। पटना के रहने वाले आइआइटियन छात्रों का दावा है कि इस तकनीक से एयरपोर्ट, स्टेशन, स्कूल-कॉलेज, कार्यालय या अन्य भीड़ वाली जगहों पर निगरानी आसानी से हो सकेगी।

इस सॉफ्टवेयर को बनाने वाली टीम का नेतृत्व बिहार के पटना स्थित सगुना मोड़ के रहने वाले अमित कुमार ने किया है। वह आइआइटी कानपुर से बीटेक और आइआइएम लखनऊ से मैनेजमेंट कर चुके हैं। इसके अलावा उनकी टीम में इंद्रपुरी के सुयश सिन्हा और दीघा के आलोक कुमार प्रियदर्शी शामिल हैं। ये दोनों भी आइआइटी कानपुर के पूर्ववर्ती छात्र हैं और लगभग दो महीने से इस पर काम कर रहे थे।

मेक इन इंडिया स्टार्टअप के तहत हुआ तैयार

अमित ने बताया कि इस सॉफ्टवेयर को मेक इन इंडिया स्टार्टअप (stzoom.com) के तहत तैयार किया गया है। सॉफ्टवेयर को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि पहले से लगे सीसीटीवी कैमरे में इसे इंस्टाल किया जा सकता है। इसकी लागत महज दो हजार रुपये मासिक है।

mask-up-bihar-muzaffarpur-now

ऐसे काम करता है सॉफ्टवेयर

अमित कुमार ने बताया कि सॉफ्टवेयर को इस तरह बनाया गया है कि जिसने भी अपना चेहरा नहीं ढका होगा, वह सेंसर तकनीक के जरिए उसे लाल घेरे में दिखा देगा। इसकी जानकारी सॉफ्टवेयर कंट्रोल रूम को उपलब्ध कराएगा। इसके बाद सॉफ्टवेयर ऑटोमैटिक वॉयस जनरेट कर मास्क न लगने वाले व्यक्ति के सबसे नजदीकी स्पीकर के जरिए उसे अलर्ट करेगा।

कोविड-19 के बाद भी उपयोगिता

अमित ने बताया कि सॉफ्टवेयर को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि कोविड-19 महामारी खत्म होने के बाद भी इसकी उपयोगिता बनी रहेगी। सामान्य दिनों में यह बैंक या ऑफिस आदि में चेहरा ढंककर आने वाले व्यक्ति की जानकारी देगा। यदि एटीएम में कोई चेहरा ढंककर या हेलमेट लगाकर आता है, तो उन्हें माइक के जरिए सॉफ्टवेयर अलर्ट करेगा।

Input : News18

Continue Reading
MUZAFFARPUR3 seconds ago

मौसम नरम, फिर भी पहुंचा एईएस पीड़ित एक बच्चा

INDIA3 mins ago

सिविल सेवा की प्रारंभिक परीक्षा 4 अक्टूबर को

JAYNAT-KANT-SSP-IPS
MUZAFFARPUR6 mins ago

तुर्की में आर्म्स फैक्ट्री का भंडाफोड़, तीन गिरफ्तार

BIHAR12 mins ago

Rising India: बिहारी लाल का एक और कमाल, सॉफ्टवेयर बताएगा भीड़ में किसने नहीं पहना मास्क

INDIA15 mins ago

स्वच्छ भारत के समर्थन में फिर उतरे सलमान खान, यूलिया से भी लगवाई झाड़ू

WORLD19 mins ago

चीन पर सबसे बड़ा सर्वे: 84 फीसदी लोगों ने माना चीन खराब देश

Patna Mahavir Temple
BIHAR8 hours ago

बिहार में सोमवार से खुलेंगे धार्मिक स्‍थल, पटना महावीर मंदिर में अल्‍फाबेट सिस्‍टम से होगा दर्शन; जानें

BIHAR9 hours ago

अब श्रीकृष्ण अवतार में नजर आए तेज प्रताप यादव, श्लोक पढ़ते हुए TikTok वीडियो वायरल

BIHAR9 hours ago

Lockdown 1.0 में हुआ ऑनलाइन निकाह, Unlock 1.0 में हुई विदाई, शादी के दो महीने बाद ससुराल पहुंची दुल्हन

INDIA9 hours ago

BJP की महिला नेता ने अफसर को चप्पल से पीटा, गाल पर मारी थप्पड़, वीडियो वायरल

BIHAR3 weeks ago

जानिए- बिहार के एक मजदूर ने ऐसा क्या कहा कि दिल्ली के अफसर की आंखों में आ गए आंसू

BIHAR4 weeks ago

बिहार के लिए हरियाणा से खुलेंगी 11 ट्रेनें, यहां देखिये गाड़ियों की पूरी लिस्ट

BIHAR3 weeks ago

बिहार के 4 जिलों के लिए मौसम विभाग का अलर्ट,वर्षा-वज्रपात और ओलावृष्टि की चेतावनी

TECH4 weeks ago

ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन

BIHAR3 weeks ago

बिहार में 33916 शिक्षकों की होगी बहाली, मैथ और साइंस के होंगे 11 हजार टीचर, यहां देखिये सभी विषयों की लिस्ट

MUZAFFARPUR1 week ago

मुजफ्फरपुर आ रहें हैं सोनू सूद, कहा साइकिल से घूमेंगे पुरा मुजफ्फरपुर

INDIA3 weeks ago

घरेलू उड़ानों के लिए बुकिंग शुरू, पर शर्तें लागू; जानें आपको फायदा मिलेगा या नहीं

TECH1 week ago

आ रहा नोकिया का 43 इंच का TV, जानें कितनी होगी कीमत

INDIA3 weeks ago

भारत के 700 स्टेशनों के लिए चलेगी ट्रेन, रेल मंत्रालय ने कहा- रोज चलेंगी 300 ट्रेनें

INDIA4 weeks ago

महाराष्ट्र: औरंगाबाद में मालगाड़ी ने 19 मजदूरों को कुचला, 16 की मौत, सभी पटरी पर सो रहे थे

Trending