Connect with us

WORLD

संयुक्त राष्ट्र की शाखा ने चेताया- 2020 से भी ज्यादा खराब होगा साल 2021, दुनिया भर में पड़ेगा भीषण अकाल

Muzaffarpur Now

Published

on

संयुक्‍त राष्‍ट्र (United Nations) के विश्व खाद्य कार्यक्रम (World Food Program) के प्रमुख डेविड बेस्‍ली ने दुनिया भर के नेताओं को आगामी खतरे को लेकर चेताया है. उन्‍होंने कहा है कि 2020 की तुलना में 2021 ज्यादा खराब रहने वाला है. उनका कहना है कि बिना अरबों डॉलर के हम बेहद बुरी भुखमरी को झेलने को मजबूर होंगे. डेविड बेस्ली ने एसोसिएटेड प्रेस को दिए एक इंटरव्‍यू में कहा कि नॉर्वेजियन नोबेल समिति उस काम को देख रही थी, जो एजेंसी हर दिन संघर्षों, आपदाओं और शरणार्थी शिविरों में करती है. अक्सर कर्मचारियों को लाखों भूखे लोगों को खाना खिलाने के लिए जान जोखिम में डालकर भेजना पड़ता है. दुनिया को संदेश दिया गया है कि इसका हाल बुरा है और मुश्किल वक्त अभी आना बाकी है.

विश्‍व में भुखमरी बढ़ने की आशंका. (Pic- AFP)

बेस्ली ने अप्रैल में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को दी गई चेतावनी को याद करते हुए कहा कि जब दुनिया कोरोना वायरस महामारी से जूझ रही थी, उस समय दुनिया भूख की महामारी की कगार पर भी था. इस पर तत्काल कार्रवाई नहीं होने पर कुछ महीनों के भीतर ही यह बाइबिल में बताए गए अकाल के जैसे (famines of biblical proportions) कई अकालों को जन्म दे सकती है. उन्होंने कहा कि हम इसे 2020 में टाल देने में सक्षम थे, क्योंकि वैश्विक नेताओं ने पैसे, प्रोत्साहन पैकेज, ऋण की अस्वीकृति के साथ प्रतिक्रिया दी थी.

बेस्ली ने कहा, ‘दुनिया भर में कोरोना वायरस संक्रमण फिर से बढ़ रहा है. निम्न और मध्यम आय वाले देशों में अर्थव्यवस्थाएं विशेष रूप से बिगड़ रही हैं. एक बार फिर से लॉकडाउन और शटडाउन जैसी स्थिति बन रही है, लेकिन उन्होंने कहा कि जो धन 2020 में उपलब्ध था, वो 2021 में उपलब्ध नहीं होने वाला है. इसलिए वह नोबेल का इस्तेमाल नेताओं से व्यक्तिगत रूप से मिलने व संसदों से बात करने और इस दुखद घटना से निपटने के उपायों पर चर्चा के लिए कर रहे हैं.

बेस्‍ली ने कहा कि वर्ल्‍ड फूड प्रोग्राम को भूखमरी जैसा अकाल रोकने के लिए अगले साल 5 अरब डॉलर की जरूरत होगी. इसके साथ ही पूरे विश्‍व में 10 अरब डॉलर की जरूरत पड़ेगी. ताकि कुपोषित बच्चों और स्कूल लंच के लिए एजेंसी के वैश्विक कार्यक्रमों को ठीक तरीके से किया जा सके. अप्रैल में बेस्‍ली ने कहा था कि 13.5 करोड़ लोगों ने भुखमरी का सामना किया. वर्ल्‍ड फूड प्रोग्राम के एक विश्‍लेषण से यह पता चलता है कि 2020 के अंत तक 30 करोड़ और लोग भुखमरी के शिकार हो सकते हैं.

Source : News18

WORLD

पुतिन ने रूसी कोरोना वैक्सीन को बताया दमदार, कहा- AK-47 जितनी प्रभावी

Muzaffarpur Now

Published

on

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने रूस में बनी कोरोना वैक्सीन को प्रभावी और कारगर बताते हुए कहा कि वैक्सीन उतनी ही भरोसेमंद हैं, जितना कलाश्निकोव राइफल विश्वसनीय है.

आधुनिक है वैक्सीन

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने वीडियो के माध्यम से कहा, ‘हमारी दवाएं उन टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं, जिन्हें दशकों से अलग-अलग मंचों पर उपयोग किया जा रहा है. ये दवाएं बहुत आधुनिक और आज के समय के अनुसार हैं. निस्संदेह ये सबसे विश्वसनीय और सबसे सुरक्षित हैं.’ ये बातें पुतिन ने उप प्रधान मंत्री Tatyana Golikova से बात करते हुए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान कही.

AK-47 से की तुलना

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने जोर देकर कहा, ‘ये वैक्सीन एके-47 (AK-47) की तरह विश्वसनीय है. ये बात हम नहीं कह रहे, बल्कि यूरोपीय विशेषज्ञ ने कही है. और मुझे लगता है कि वो निश्चित रूप से सही कह रहे हैं.’ रूसी वैक्सीन के बारे में बात करते हुए राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने संतोष जाहिर किया है.

पुतिन ने की घरेलू वैक्सीन की तारीफ

रूसी राष्ट्रपति (Russian President) ने कहा, ‘मैं समझता हूं कि वैश्विक प्लेटफार्म्स ने अमेरिका की मॉडर्ना वैक्सीन का समर्थन करने का फैसला किया है, जो कि अन्य अमेरिकी-यूरोपीय कंपनी फाइजर का मुकाबला कर रही है. इन दोनों के बीच बाजार में कड़ी टक्कर देखने को मिल रही है.’ पुतिन ने कहा, ‘जहां तक मुझे समझ में आता है विदेशों में विशेषज्ञों और सहकर्मियों की रिपोर्ट के अनुसार ये काफी इनोवेटिव ड्रग है और आधुनिक भी.’ पुतिन ने उम्मीदें जताते हुए कहा कि बस एक्सपर्ट्स गलत न हों.

बीतते समय के साथ पता चलेगा प्रभाव

आगे पुतिन (Vladimir Putin) ने कहा, ‘असल में ये वैक्सीन कितनी प्रभावी है, ये हमें आने वाले 10 सालों में प्रयोग करते रहने के बाद पता चलेगा. लंबे समय तक प्रयोग किए जाने के बाद जब इसका विश्लेषण किया जाएगा तो इसके सही परिणाम पता चलेंगे. राष्ट्रपति ने जोर देकर कहा कि स्पुतनिक लाइट (Sputnik Light) सहित रूसी जैब्स प्रौद्योगिकियों पर आधारित हैं, जिनका उपयोग दशकों से किया गया है.

Continue Reading

WORLD

यहां वैक्सीन लगाओ और पाओ, फ्री में नकद, फ्री राइड, बीयर और गांजा जैसे ऑफर

Ravi Pratap

Published

on

अमेरिका में सड़काें पर चहल-पहल लाैट आई है। यहां तक कि बार, रेस्तरां और जिम भी खुल गए हैं। वजह है देश में 32% आबादी को अब तक वैक्सीन लग चुकी है। इसके बावजूद यहां वैक्सीन अभियान में तेजी लाने के निर्देश दिए गए हैं। अलग- अलग राज्यों में सरकारें और निजी कंपनियां अपने कर्मचारियों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्राेत्साहित कर रही हैं।

मैरीलैंड में सरकार कर्मचारियाें काे 100 डाॅलर यानी 7500 रुपए दे रही हैं, वहीं डेट्रायट में फ्री राइड के साथ 50 डॉलर यानी 3750 रुपए का भुगतान किया जा रहा है। न्यूजर्सी में एक डोज के बदले एक बीयर केन और मिशिगन में तो मारिजुआना यानी गांजा भी फ्री में दिया जा रहा है। मैरीलैंड के गवर्नर लॉरेंस जोसेफ हॉगन ने कहा कि हमारा लक्ष्य 100 फीसदी टीकाकरण में देश में अव्वल रहने का है। इसके लिए हमने हर स्तर पर पहल की है। यहां तक कि जो सेंटर पर नहीं आ पा रहे उनके लिए भी मौके पर वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित करवा रहे हैं। ये बिल्कुल सुरक्षित और मुफ्त है।

ओहियो में भी लोगों को वैक्सीन के लिए बीयर का ऑफर दिया जा रहा है। मिशिगन में तो कई कंपनियां मारिजुआना यानी गांजा तक दे रही हैं। इतना ही नहीं, यहां कई कंपनियां टीका लगवाने पर दो दिन की छुटि्टयां भी दे रही हैं। कंपनियों को भी यहां 100 फीसदी कर्मचारियों को टीका लगवाने पर टैक्स में छूट और सुरक्षा प्रमाण पत्र दे रही हैं। फ्लोरिडा और कैलिफोर्निया में कई कंपनियां इसके लिए बोनस भी देने की घोषणा कर चुकी है।

लालच के बदले प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का मैसेज देना होगा
इधर, न्यूयाॅर्क यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर आर्थर कैपलन इस तरह के इंसेटिव प्रोग्राम पर कहते हैं कि लोगों को 100 डॉलर का लालच देने के बदले हमें लोगों को यह समझाना चाहिए कि क्यों उन्हें अपनी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की जरूरत है, ताकि भविष्य में वे आने वाली पीढ़ी को मैसेज दे सकें। लालच के रूप में नकद, बीयर या गांजे जैसा नशा और फ्री राइड देकर हमें अपने कर्तव्यों का यहीं खत्म नहीं करना चाहिए। इससे लोगों की प्रतिरोधक क्षमता नहीं बढ़ेगी।

Input: Dainik Bhaskar

Continue Reading

WORLD

अंतरिक्ष में बेलगाम हुआ चीन का 21 टन वजनी रॉकेट, धरती पर कहीं भी मचा सकता है तबाही

Ravi Pratap

Published

on

अंतरिक्ष में बादशाहत की मंशा से एक के बाद एक कई रॉकेट लॉन्‍च कर रहा चीन दुनिया की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा बन गया है। चीन का एक 21 टन वजनी विशालकाय रॉकेट अंतरिक्ष में अनियंत्रित हो गया है और यह अब पृथ्‍वी की ओर बढ़ रहा है। बताया जा रहा है कि चीन का यह भारी भरकम रॉकेट कहां पर गिरेगा, इसका अभी ठीक-ठीक पता नहीं चल पाया है। विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि चीनी रॉकेट पृथ्‍वी पर अगर किसी आबादी वाले इलाके से टकराता है तो भारी तबाही हो सकती है। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि इस रॉकेट का मलबा न्‍यूयॉर्क, मैड्रिड और पेइचिंग जैसे शहरों में कहीं भी गिर सकता है। आइए जानते हैं पूरा मामला…..

न्‍यूयॉर्क, मैड्रिड, पेइचिंग में मचा सकता है तबाही

चीन ने गुरुवार को अपने लॉन्‍ग मार्च 5बी रॉकेट को लॉन्‍च किया था और विशेषज्ञों ने आशंका जताई है कि आने वाले कुछ दिनों में यह पृथ्‍वी पर कहीं भी गिर सकता है। पृथ्‍वी के चक्‍कर लगाने ऑब्‍जेक्‍ट की निगरानी करने वाले खगोलविद जोनाथन मैकडोवेल ने स्‍पेस न्‍यूज से कहा कि अभी इस सैटलाइट का रास्‍ता न्‍यूयॉर्क, मैड्रिड, पेइचिंग से उत्‍तर की ओर और दक्षिण में चिली तथा न्‍यूजीलैंड की ओर ले जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि इस दायरे में यह चीनी रॉकेट कहीं भी टकरा सकता है। यह समुद्र या आम जनसंख्‍या वाले इलाके में गिर सकता है। हालांकि उन्‍होंने यह भी कहा कि धरती के नजदीक आने पर इस चीनी रॉकेट का काफी हिस्‍सा जलकर राख हो जाएगा। सैटलाइट ट्रैकर ने पता लगाया है कि 100 फुट लंबा चीनी रॉकेट 4 मील प्रति सेकंड की रफ्तार से धरती की ओर बढ़ रहा है। चीन ने गुरुवार को इस रॉकेट की मदद से अंतरिक्ष में बनाए जाने वाले अपने स्‍पेस स्‍टेशन का पहला हिस्‍सा भेजा था। इस मॉड्यूल का नाम तियान्हे (Tianhe) रखा गया है।

जानें क्‍यों अंतरिक्ष में अनियंत्रित हुआ चीनी रॉकेट

विशेषज्ञों के मुताबिक 21 टन वजनी यह ऑब्‍जेक्‍ट चीन के लॉन्‍ग मार्च 5बी रॉकेट का मुख्‍य चरण है। उन्‍होंने बताया कि गुरुवार को लॉन्‍च क‍िए जाने के बाद यह रॉकेट समुद्र में पहले से निर्धारित जगह पर गिरने की बजाय धरती के चक्‍कर लगाने लगा। बताया जा रहा है कि अगले कुछ दिनों में यह धरती पर गिरेगा। रॉकेट का यह मुख्‍य हिस्‍सा 100 फुट लंबा और 16 फुट चौड़ा है। विशेषज्ञों का कहना है कि चीनी रॉकेट का यह विशाल हिस्‍सा काफी कुछ पृथ्‍वी के वातावरण में जल जाएगा लेकिन इसका मलबा धरती पर कहीं भी गिर सकता है। ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब चीन का रॉकेट अंतरिक्ष में अनियंत्रित हुआ है। इससे पहले मई 2020 में लॉन्‍ग मार्च 5बी रॉकेट का मुख्‍य हिस्‍सा अनियंत्रित हो गया था और अटलांटिक महासागर के ऊपर उसका मलबा गिरा था। नासा ने चीनी रॉकेट के इस हादसे को वास्‍तविक रूप से खतरनाक बताया था। गिरने से पहले यह रॉकेट अमेरिका के लॉस एंजीलिस और न्‍यूयॉर्क शहर के ऊपर से गुजरा था।

​अंतरिक्ष में खुद का स्‍पेस स्‍टेशन बनाने में जुटा चीन

इससे पहले चीन ने अंतरिक्ष में अमेरिका को टक्कर देने के लिए गुरुवार को खुद का स्पेस स्टेशन के पहले कोर कैप्सूल मॉड्यूल को लॉन्च किया था। आने वाले दिनों में ऐसी ही कई लॉन्चिंग के जरिए स्पेस स्टेशन के बाकी हिस्सों को भी अंतरिक्ष में पहुंचाया जाएगा। चीन की योजना इस साल के अंत से अपने पहले स्वदेशी अंतरिक्ष स्टेशन को शुरू करने की है। अभी तक केवल रूस और अमेरिका ने ही ऐसा कारनामा किया है। हालांकि, इस समय केवल अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन ही सक्रिय है। चाइना एकेडमी ऑफ स्पेस टेक्नोलॉजी (सीएएसटी) में अंतरिक्ष के उप मुख्य डिजाइनर बाई लिन्होउ ने कहा कि तियांहे मॉड्यूल अंतरिक्ष केंद्र तियानगोंग के प्रबंधन एवं नियंत्रण केंद्र के रूप में काम करेगा और इसमें एक साथ तीन अंतरिक्ष यान खड़ा करने की व्यवस्था है। चीन ने अपने स्पेस स्टेशन को टियोंगॉन्ग (Tiangong) नाम दिया है। चीनी भाषा में इसका मतलब जन्नत का महल होता है।

​’T’ के आकार का होगा चीनी स्पेस स्टेशन, 15 साल करेगा काम t-15- यह मल्टीमॉडल स्पेस स्टेशन मुख्य रूप से तीन पार्ट से मिलकर बना होगा, जिसमें एक अंतरिक्ष कैप्सूल और दो लैब होंगी। इन सभी का कुल भार 90 मीट्रिक टन के आसपास होगा। स्पेस स्टेशन के कोर कैप्सूल का नाम तियान्हे (Tianhe) रखा गया है, जिसका मतलब स्वर्ग का सद्भाव होता है। चीनी अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि यह स्पेस स्टेशन इस साल के अंत से काम करना शुरू कर देगा। इसकी जीवन अवधि 15 साल आंकी गई है। चीनी कोर कैप्सूल की लंबाई 4.2 मीटर और डायामीटर 16.6 मीटर है। इसी जगह से पूरे अंतरिक्ष स्टेशन का संचालन किया जाएगा। अंतरिक्ष यात्री इसी जगह पर रहते हुए पूरे स्पेस स्टेशन को कंट्रोल कर सकेंगे। इस कैप्सूल में कनेक्टिंग सेक्शन के तीन हिस्से होंगे, जिसमें एक एक लाइफ-सपोर्ट, दूसरा कंट्रोल सेक्शन और तीसरा रिसोर्स सेक्शन होगा। चीन के अंतरिक्ष केंद्र का आकार अंग्रेजी के वर्ण टी (T) की तरह होगा जिसके मध्य में मुख्य मॉड्यूल होगा, जबकि दोनों ओर प्रयोगशाला के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले कैप्सूल होंगे। प्रत्येक मॉड्यूल का वजन 20 टन होगा और जब अंतरिक्ष केंद्र पर, अंतरिक्ष यात्री और सामान लेकर यान पहुंचेंगे तो इसका वजन 100 टन तक पहुंच सकता हैं। इस अंतरिक्ष केंद्र को पृथ्वी की निचली कक्षा में 340 से 450 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थापित किया जा रहा है।

Input: NBT

Continue Reading
BIHAR2 mins ago

कोरोना की चपेट में आए पटना एयरपोर्ट के दो दर्जन कर्मचारी, तीन की हालत गंभीर, कामकाज प्रभावित

INDIA5 mins ago

कोरोना से जंग जीतने वाले मरीजों की नई मुसीबत, अब अचानक जा रही आंखों की रोशनी

BIHAR13 mins ago

नया नहीं है BJP सांसद का एंबुलेंस विवाद, 2002 में डीएम ने किया था जब्त, जानें सियासी बवाल की पूरी कहानी

MUZAFFARPUR30 mins ago

ऑक्सीजन पर सख्ती बढ़ी तो 18 निजी अस्पतालाें ने कहा- हम भी कर रहे काेराेना मरीजाें का इलाज

MUZAFFARPUR46 mins ago

इंतजार खत्म, 18 से 44 वर्ष के 23.40 लाख लाेगों के लिए 23 स्थानों पर विशेष टीकाकरण अभियान

BIHAR9 hours ago

COVID-19: मनमानी वसूली पर लगेगा लगाम, बिहार सरकार ने तय किया CT-Scan के रेट

BIHAR12 hours ago

अच्छी खबर: बिहार में कल से 18 साल से ऊपर वालों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, सरकार ने किया एलान

BIHAR12 hours ago

बुरे फंसे राजीव प्रताप रूडी: एम्बुलेंस में बालू ढोने का वीडियो वायरल, पप्पू और तेजस्वी ने किया ट्वीट

BIHAR12 hours ago

तेजस्वी को लालटेन लेकर खोज रही राघोपुर की जनता, लापता होने का लगाया पोस्टर

BIHAR14 hours ago

कोरोना को चारों खाने चित्त कर देगी DRDO की ‘रामबाण’ दवाई, ऑक्सीजन की कमी भी होगी दूर

HEALTH4 weeks ago

ये 5 लक्षण मुंह पर दिखें तो तुरंत करवा लें जांच, हो सकता है कोरोना

INDIA1 week ago

कोरोना की दूसरी लहर के बीच 3 से 20 मई तक लगेगा संपूर्ण लॉकडाउन? जानिए क्या है सच्चाई

BIHAR2 weeks ago

बिहार के इस जिले में 4 दिनों के कंपलीट लॉकडाउन की घोषणा, जानें क्या खुला रहेगा

INDIA2 weeks ago

सिगरेट पीने वालों और ‘O’ ब्‍लड ग्रुप वालों से दूर रहता है कोरोना वायरस: CSIR सीरोसर्वे

VIRAL3 weeks ago

पति ने शराब छोड़ी तो पत्नी ने तलाक ले लिया, बोली पति तो शराबी ही चाहिए

MUZAFFARPUR2 weeks ago

बिहार में कोरोना लील रहा परिवार, मुजफ्फरपुर में एक साथ सजी दो सगे भाइयों की अर्थी, दोनों चर्चित व्यवसायी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में लॉकडाउन लगना तय? सीएम नीतीश बोले- जो लोग दूसरे राज्यों से वापस आना चाहते हैं, वे जरूर आयें, 18 को बड़ा एलान!

BIHAR2 weeks ago

मुन्ना शुक्ला के कार्यक्रम में नाइट कर्फ्यू की उड़ी धज्जियां, अभिनेत्री अक्षरा सिंह समेत 200 के खिलाफ केस दर्ज

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर में कोच‍िंंग संचालक से बेपनाह प्‍यार के बाद प्रेम‍िका ने कहा- शादी कर लो, बोला-कोई और ढूंढ लो…

BIHAR3 weeks ago

साउथ फिल्मों के सुपरस्टार अल्लू अर्जुन के साथ नजर आएंगी बिहारी गर्ल संचिता बसु, टिकटॉक ने दिलाई थी पहचान

Trending