Connect with us
leaderboard image

INDIA

सरकार का केंद्रीय कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, रिटायरमेंट को लेकर आई अच्छी खबर

Muzaffarpur Now

Published

on

केंद्रीय कर्मचारियों के लिए जबरदस्‍त खबर है. मोदी सरकार ने उन्‍हें बहुत बड़ा तोहफा दिया है. सरकार ने उन केंद्रीय कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का फायदा देने का ऐलान किया है, जो 1 जनवरी 2004 या उससे पहले सरकारी सेवा में आ गए थे. भले ही उनका अप्‍वाइंटमेंट (Appointment) इस तारीख के बाद हुआ हो. ऐसे कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना (Old Pension Scheme, OPS) का लाभ दिया जाएगा.

आपको बता दें कि केंद्र और राज्‍य में ऐसे सैकड़ों सरकारी कर्मचारी हैं, जिनका अप्‍वाइंटमेंट 1 जनवरी 2004 के बाद हुआ लेकिन उनके सेलेक्‍शन का प्रोसेस इस तारीख से पहले पूरा हो गया था. राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद, यूपी के महामंत्री आरके निगम ने सरकार के इस फैसले का स्‍वागत किया है. उनके मुताबिक जिन कर्मचारियों को पुरानी पेंशन का बेनिफिट नहीं मिल रहा था वे कोर्ट चले गए थे. केंद्र सरकार के उन्‍हें पुरानी पेंशन देने के आदेश से मुकदमेबाजी खत्‍म होगी. ऐसे कर्मचारियों में शिक्षकों की संख्‍या ज्‍यादा है.

क्‍या है मामला

ऑर्डर के मुताबिक सरकारी सेवा में रिक्रूटमेंट का रिजल्‍ट अगर 1 जनवरी 2004 से पहले डिक्‍लेयर हो चुका है लेकिन अप्‍वाइंटमेंट या ज्‍वाइनिंग पुलिस वेरिफिकेशन, मेडिकल एक्‍जाम के कारण लेट हुई तो इसके लिए कर्मचारी जिम्‍मेदार नहीं है. यह एडमिनिस्‍ट्रेशन की खामी है. इसलिए ऐसे कर्मचारियों को One time ऑप्‍शन दिया जा रहा है. वे पेंशन विभाग को इस बारे में लिखें और पुरानी पेंशन का बेनिफिट लें. इसके लिए सरकार ने 31 मई 2020 तक का वक्‍त दिया है.

एजी ऑफिस ब्रदरहुड, प्रयागराज के पूर्व अध्‍यक्ष हरीशंकर तिवारी के मुताबिक पुरानी पेंशन NPS से ज्‍यादा फायदेमंद है क्‍योंकि उसमें बेनिफिट ज्‍यादा हैं. इसमें पेंशनर के साथ उसका परिवार भी सुरक्षित रहता है. छूटे कर्मचारियों को अगर OPS का बेनिफिट मिलता है तो इससे उनका रिटायमेंट सिक्‍योर हो जाएगा. सरकारी आदेश में कहा गया है कि OPS के लिए एलिजिबल होने के बाद इन कर्मचारियों का NPS खाता बंद कर दिया जाएगा. सरकार ने सभी विभागों से इस आदेश को लागू करने को कहा है.

केंद्र में OPS को पहली जनवरी 2004 से लागू किया गया था. इसके बाद नई पेंशन योजना (New Pension Scheme, NPS) आई. हालांकि सरकारी कर्मचारी इससे संतुष्‍ट नहीं हैं. वे पुरानी पेंशन योजना को अच्‍छा मानते हैं.

पुरानी पेंशन के 3 बड़े फायदे

1- OPS वह पेंशन योजना थी जिसमें पेंशन अंतिम ड्रॉन सैलरी के आधार पर बनती थी.

2- OPS में महंगाई दर बढ़ने के साथ DA (महंगाई भत्‍ता) भी बढ़ जाता था.

3- जब सरकार नया वेतन आयोग लागू करती है तो भी इससे पेंशन में बढ़ोतरी होती है.

क्‍या है NPS में

केंद्र सरकार ने 1 जनवरी 2004 से नई पेंशन योजना (NPS) लागू की है. वहीं कई राज्‍यों में पहली अप्रैल 2004 से NPS लागू हुआ. खास बात यह है कि NPS में नए कर्मचारियों को रिटायरमेंट के समय पुराने कर्मचारियों की तरह पेंशन और पारिवारिक पेंशन के बेनिफिट नहीं मिलेंगे. इस योजना में नए कर्मचारियों से वेतन और महंगाई भत्ते का 10% Contribution लिया जाता है. जबकि सरकार 14% Contribution करती है.

2004 में लागू हुई नई योजना

केन्द्र सरकार ने 1 जनवरी 2004 में नई पेंशन योजना लागू की. इसके तहत नई पेंशन योजना के फंड के लिए अलग से खाते खुलवाए गए और फंड के निवेश के लिए फण्ड मैनेजर भी नियुक्त किए गए थे. यदि पेंशन फंड का शेयर बाजार, बॉन्‍ड में निवेश का रिटर्न अच्‍छा रहा तो PF और पेंशन की पुरानी स्कीम की तुलना में नए कर्मचारियों को रिटायरमेंट पर अच्छा रिटर्न भी मिल सकता है. लेकिन कर्मचारी इस पर सवाल उठा रहे हैं. उनका कहना है कि रिटर्न अच्‍छा होगा, यह पहले से कैसे कहा जा सकता है. अगर पैसा डूब गया तो उसका नुकसान कर्मचारी का है. इसलिए वे NPS का विरोध कर रहे हैं.

INDIA

आज जनता कफ्यरू, देश तैयार

Muzaffarpur Now

Published

on

कोरोना वायरस के कारण बनी संकट की स्थिति के बीच देश आज एक अनूठे महायज्ञ का साक्षी बनने को तैयार है। रविवार सुबह सात से रात नौ बजे के बीच ‘जनता कफ्र्यू’ के 14 घंटे आपके परिवार, शहर और पूरे देश के लिए बेहद अहम होंगे। इस दौरान आपका संयम एक बड़ी महामारी के चक्र को तोड़ने में सहायक हो सकता है।

कोरोना के खिलाफ जंग के तौर पर गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कफ्र्यू की अपील की थी। इसके तहत उन्होंने कहा था कि रविवार को सुबह सात से रात नौ बजे के बीच लोग घरों से नहीं निकलें। पीएम की अपील पर जनता कफ्यरू के पालन के लिए देश ने पूरी तैयारी कर ली है। राज्य सरकारों ने जहां जरूरी दिशानिर्देश जारी किए हैं, वहीं सरकारी व निजी संगठनों ने जनता कफ्यरू को कामयाब करने के लिए कमर कस ली है। आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों मसलन चिकित्सा, पुलिस, मीडिया और ऑनलाइन डिलीवरी कर्मियों को उनके काम की अनिवार्यता को देखते हुए जनता कफ्यरू से छूट मिलेगी।

इस महायज्ञ में आहुति के रूप में रेलवे ने शनिवार रात 12 बजे से रविवार रात 10 बजे के बीच रवाना होने वाली सभी ट्रेनें स्थगित कर दी हैं। शनिवार रात 12 बजे से हफ्तेभर के लिए भारत आने और जाने वाली सभी नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को भी स्थगित कर दिया गया है। केंद्रीय गृह मंत्रलय ने राज्यों को दिशानिर्देश जारी कर जनता कफ्यरू के दौरान लोग बाहर न निकलें, यह सुनिश्चित करने को कहा है।

पीएम की अपील-जहां हैं, वहीं रहें

प्रधानमंत्री ने शनिवार को ट्वीट कर एक बार फिर कहा कि घबराने की नहीं सतर्कता की जरूरत है। यह समय अपने घर में रहने का है और अनावश्यक रूप से शहर से बाहर भी नहीं जाना चाहिए। लोग जहां हैं, वहीं रहें। ये छोटे-छोटे कदम भी कोरोना से लड़ाई में बेहद अहम साबित होंगे। यह ऐसा समय है जब हमें डॉक्टरों और सरकारी एजेंसियों की सलाह माननी चाहिए। घर में ही क्वारंटाइन रहने की सलाह वाले लोग इसका पूरा पालन करें। यह कदम न केवल उनकी रक्षा करेगा बल्कि उनके परिवार और मित्रों को भी बचाएगा।

योद्धाओं का करें सम्मान : पीएम ने कोरोना की चुनौती के बीच काम में जुटे डॉक्टरों, चिकित्साकर्मियों, पुलिस, मीडिया, एयरलाइन और परिवहन सेवाओं से जुड़े हमारे योद्धाओं के काम की सराहना करने को भी कहा है। इसके लिए उन्होंने लोगों को रविवार शाम पांच बजे जनता कफ्यरू के दौरान अपने घरों की बालकनी, दरवाजे या आंगन में आकर पांच बार थाली या घंटी बजाकर उनकी सराहना करने की अपील की है। गृह सचिव अजय भल्ला ने राज्यों के मुख्य सचिवों को जारी दिशानिर्देश में भी इसका जिक्र किया है। पुलिस, अग्निशमन विभाग, स्थानीय नगरीय निकायों, पंचायती राज संस्थाओं आदि सभी से शाम पांच बजे सायरन बजाने को कहा गया है, ताकि लोगों को इसकी याद दिलाई जा सके।

आम दिनों में यात्रियों से पटे रहने वाले मुजफ्फरपुर स्टेशन पर इन दिनों कोरोना का असर साफ दिख रहा है। रविवार के जनता कफ्यरू को लेकर शनिवार को यहां इक्का-दुक्का यात्री ही नजर आए।

इसलिए पड़ी जर

भारत में कोरोना का संक्रमण अभी स्टेज-2 में है। यह जिस तेजी से फैल रहा है, उसे देखते हुए स्टेज-3 यानी कम्युनिटी ट्रांसमिशन का खतरा बढ़ता जा रहा है। इस खतरे से बचने में सोशल डिस्टेंसिंग यानी एक-दूसरे से दूर रहने और भीड़भाड़ वाली जगहों पर नहीं जाने को एक अहम कदम माना जा रहा है। ऐसे में लोगों का अपने घरों में रहना इस संक्रमण के चक्र को तोड़ने में मददगार होगा।

Continue Reading

INDIA

Coronavirus को लेकर सरकार अब और सख्त, नियम तोड़ने पर 6 महीने की जेल और जुर्माने की सजा

Santosh Chaudhary

Published

on

कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर सरकार अब और भी ज्यादा सख्त होती दिखाई दे रही है. कानून की धज्जियां उड़ा कर होम क्वॉरेंटाइन (Home quarantine) को तोड़ने वाले लोगों को कानूनी कार्रवाई के तहत 6 महीने की जेल या जुर्माना या दोनों हो सकते हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय (Health ministry) ने लोगों से अपील की है कि वे दिए गए दिशा निर्देशों, सलाहों और सुरक्षा के नियमों का सख्ती से पालन करें.

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा हमने राज्यों को कानून के कड़े नियमों का पालन करने का अधिकार दिया है ताकि लोग होम क्वॉरेंटाइन को ना तोड़े और बीमारी ना फैलाएं. उन्होंने कहा कि इस संक्रामक बीमारी को फैलने से रोकने के लिए, होम क्वॉरेंटाइन का ध्यान रखकर सामाजिक संतुलन बनाए रखना बहुत जरूरी है.

महामारी रोग अधिनियम की धारा 10 और आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 10 के अनुसार राज्यों को यह अधिकार है कि वे नियम को तोड़ने वालों पर दंडात्मक कार्रवाई के तहत 6 महीने की जेल या 1000 रुपये जुर्माना या दोनों दंड लगा सकते हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बार फिर राज्यों से इन नियमों को लागू करने के लिए कहा है, जबकि इन कानूनों के कड़े नियमों को केंद्र पहले ही लागू कर चुका है.

अभी हाल में कुछ ऐसे मामले सामने आए हैं, जहां लोग आइसोलेशन (Isolation) से भाग गए हैं या होम क्वॉरेंटाइन का पालन नहीं किया है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सूचना दी है कि शुक्रवार तक देश में covid-19 (Corona virus) के 223 मामले सामने आ चुके हैं. इसके अलावा जो लोग कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों के संपर्क में आए हैं, ऐसे 6,700 लोगों को कड़ी निगरानी में रखा गया है, जबकि अन्य 1.12 लाख लोग समाज की निगरानी में हैं. भारत में अब तक 15,000 से ज्यादा नमूनों का टेस्ट किया जा चुका है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा “सामाजिक गड़बड़ी है, कोरोना वायरस के मामलों में बहुत तेजी से वृद्धि हुई है, इसलिए सामाजिक संचार या प्रसार को रोकना बहुत जरूरी है.”

उन्होंने लोगों से अपील की है कि कोई भी प्रश्न पूछने के लिए टोल फ्री नंबर 1075 का इस्तेमाल करें. उन्होंने लोगों से यह भी कहा कि जरूरी चीजों की कोई कमी नहीं होगी. राज्यों के काम करने की ताकत को बढ़ाने के लिए केंद्र की टीमों को राज्यों में भेजा गया है.

Input : TV9 BharatVarsh

Continue Reading

INDIA

COVID-19: मुश्किल में कनिका कपूर, प्रोटोकॉल तोड़ने के मामले में लखनऊ पुलिस ने दर्ज की FIR

Santosh Chaudhary

Published

on

लखनऊ. कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद अब बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं. कनिका कपूर के प्रोटोकॉल तोड़ने के मामले में अब लखनऊ पुलिस ने उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. बताया जा रहा है कि लखनऊ के जिला मजिस्ट्रेट के आदेश के बाद पुलिस ने उन पर मामला दर्ज किया है. बताया जा रहा है कि इसमें उनकी गिरफ्तारी भी हो सकती है. गौरतलब है कि लंदन से लौटने के बाद कनिका ने लगातार लोगों से संपर्क बनाए रखा था और उन्होंने इस दौरान कुछ पार्टियों में भी शिरकत की थी. इन पार्टियों में देश की कई दिग्गज हस्तियां भी मौजूद थीं. इसमें केंद्रीय व राज्य मंत्री के साथ ही राजस्‍थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उनके बेटे व सांसद दुष्यंत सिंह भी मौजूद थे.

स्वास्‍थ्य मंत्री ने कहा था- होगी कार्रवाई

यूपी के स्वास्‍थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने इससे पहले कहा था कि कनिका कपूर ने विदेश से आने के बाद प्रोटोकॉल तोड़ा है. वह बिना किसी को सूचित किए कई जगह पर गई हैं. ऐसे में उन पर जरूर कार्रवाई की जाएगी. दरअसल विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोना वायरस को महामारी घोषित किये जाने के बाद यह सभी नागरिकों की जिम्मेदारी है कि वे प्रोटोकॉल का पालन करें और विदेश से आने के बाद खुद को क्वारंटाइन करने के साथ ही किसी भी तरह के लक्षण मिलने पर स्वास्‍थ्य विभाग से संपर्क करें. लेकिन कनिका ने ऐसा नहीं किया. वहीं स्वास्‍थ्य विभाग के सचिव ने भी कनिका के खिलाफ कार्रवाई के संकेत दिए हैं.

तीन किलोमीटर का इलाका करवाया खाली

यह मामला सामने आने के बाद जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने आदेश दिया है कि कनिका कपूर के घर महानगर से तीन किलोमीटर के इलाके को खाली करवा दिया जाए. इसके मद्देनजर विकास नगर, खुर्रमनगर और अलीगंज के कुछ इलाकों को खाली करवाया जा रहा है.

 

 

Continue Reading
MUZAFFARPUR2 hours ago

कोरोना वायरस से मुकाबले को आज घरों से बाहर नहीं निकलेंगे जिलावासी

BIHAR2 hours ago

रेल यात्र तिथि से 45 दिन आगे तक वापस कर सकते काउंटर टिकट

INDIA2 hours ago

आज जनता कफ्यरू, देश तैयार

corona-ghar-par-raho-na
BIHAR14 hours ago

जानिए कल आपके बीच कौन-कौन रहेंगे लाइव मुजफ्फरपुर नाउ पर

BIHAR16 hours ago

CoronaVirus: बिहार सरकार का बड़ा फैसला, 31 मार्च तक सभी बस सेवाएं, होटल-रेस्टोरेंट किए गए बंद

MUZAFFARPUR19 hours ago

बैंक लूट के पैसे के बटवारे के विवाद को लेकर हुई शिवम कि निर्मम हत्या

INDIA21 hours ago

Coronavirus को लेकर सरकार अब और सख्त, नियम तोड़ने पर 6 महीने की जेल और जुर्माने की सजा

BIHAR21 hours ago

कनिका कपूर के खिलाफ मुजफ्फरपुर के कोर्ट में याचिका दर्ज, 31 मार्च को सुनवाई

MUZAFFARPUR23 hours ago

मुजफ्फरपुर में अपराधी बेलगाम ; हत्या के बाद बर्बरता पूर्वक निकाला आंत

BIHAR1 day ago

पीएम नरेंद्र मोदी ने किया बिहार की जनता को नमन, कहा- अभी से कर ली ‘जनता कर्फ्यू’ की तैयारी

BIHAR4 weeks ago

बिहार में 6 लोगों का म’र्डर, 24 घंटे के अंदर अ’पराधियों ने 12 लोगों को मा’री गो’ली

cheating-on-first-day-of-haryana-board-exam
INDIA2 weeks ago

बिहार तो बेवजह बदनाम है… हरियाणा बोर्ड परीक्षा में शिखर पर नकल

BIHAR6 days ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

INDIA4 weeks ago

दं’गा’ईयों को दे’खते ही गो’ली मा’रने के आ’देश, ला’उडस्प’कर से पु’लिस कर रही ऐ’लान

MUZAFFARPUR4 weeks ago

बदहाली के दिनों में मुजफ्फरपुर रहते थे, महान फ़िल्म निर्माता और अभिनेता – राज कपूर

INDIA4 weeks ago

दिल्ली हिं’सा के दौरान फाय’रिंग करने वाले उप’द्रवी शा’हरुख को पु’लिस ने किया गिर’फ्तार

BIHAR4 weeks ago

आम्रपाली दुबे को होली में लग रहा है देवर से डर, र‍िलीज होते ही छाया गाना

BIHAR4 weeks ago

पहले दिन से हीं दरभंगा में एम्स और एयरपोर्ट की स्थापना मेरी ज़िद : सीएम नितीश कुमार

BIHAR4 days ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

BIHAR3 weeks ago

बड़ी खुशखबरी: बिहार में घरेलू गैस की अब नहीं होगी किल्लत, बांका में नया प्लांट शुरू

Trending